Connect with us

OMG

साइबेरिया में -45 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचा तापमान, हवा में ही जम गये अंडे और नूडल्स, वायरल हो रही तस्वीर

Published

on

सर्दी के मौसम में तापमान में गिरावट लाजिमी है. ऐसे में बर्फीले इलाकों में रहनेवालों को ठंड और शीतलहर के साथ-साथ बर्फानी तूफान का सामना करना पड़े, तो लोगों का जीना दुश्वार हो जाता है. ऐसे में बाहर निकलनेवाले लोगों का जीवनयापन करना मुश्किल हो सकता है, अंदाज लगाया जा सकता है. उत्तरी एशिया के साइबेरिया के मौसम की ऐसी ही तस्वीर वायरल हो रही है. साइबेरिया में जमे हुए नूडल्स और अंडे की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.

साइबेरिया में जमे हुए नूडल्स और अंडे की वायरल हो तस्वीर देख कर अंदाजा लगाया जा सकता है कि वहां सर्दी में कितनी ठंडी होती है. सोशल मीडिया के माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्वीटर पर एक यूजर ने जमे हुए नूडल्स और अंडे की तस्वीर साझा की है, जो ठंड के कारण हवा में ही जमे हुए हैं.

Advertisement

साइबेरिया के नोवोसिबिर्स्क शहर के यूजर ने तस्वीर को सोशल मीडिया में साझा किया है. तस्वीर के साथ उन्होंने लिखा है कि यह उससमय ली गयी है, जब तापमान शून्य से 45 डिग्री सेल्सियस नीचे था. अंडे और नूडल्स के अंदर का तरल जम गया है.

यूजर ने लिखा है कि आज मेरे गृहनगर नोवोसिबिर्स्क शहर, जो साइबेरिया में है, में -45 डिग्री सेल्सियस तापमान है. साथ ही उन्होंने कहा है कि जब मैं सेना में था, तो रात का तापमान -57 डिग्री सेल्सियस तक गिर गया था. हम गैसोलीन (पेट्रोलियम पदार्थ) को नजरंदाज नहीं कर सकते थे. साथ ही उन्होंने कहा है कि पश्चिमी साइबेरिया में आग जलाना काफी कठिन है. या दी है.

Advertisement

साथ ही उन्होंने ठंड से बचने के लिए लकड़ी की बाड़ जला कर जीवन बचाने के बारे में भी जानकारी दी है. वायरल तस्वीर को सोशल मीडिया 33.5k से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं. वहीं, 9.8k लोगों ने इसे री-ट्वीट किया है. जबकि, करीब एक हजार लोगों ने ठंड को लेकर अपनी-अपनी प्रतिक्रि

rama-hardware-muzaffarpur

Advertisement
Advertisement

OMG

गाय से शादी करके बोली महिला- ये मेरे पति हैं, मुझसे प्यार भी करते हैं

Published

on

भारत ही नहीं, दुनिया के कई देशों में लोग पुनर्जन्म को मानते हैं. लेकिन वैज्ञानिकों ने अब तक इस पर अपनी मुहर नहीं लगाई है. खैर, ये एक अलग विषय है. लेकिन कुछ लोगों ने पुनर्जन्म को लेकर ऐसे-ऐसे दावे किए हैं, जिसके बारे में जानने के बाद शायद आपको सदमा ही लग जाए. इन दिनों कंबोडिया में कुछ ऐसे ही मामले को लेकर एक महिला चर्चा में बनी हुई है. दरअसल, इस महिला का मानना है कि उसके स्वर्गवासी पति ने गाय के रूप में जन्म लिया है. अब इस महिला ने उसे ही अपना पति मानते हुए उससे शादी भी कर ली है.

ये अजीबोगरीब मामला कंडोबिया के क्रेटी प्रांत का है. जहां 74 साल की खिम हैंग नाम की एक महिला ने एक गाय से शादी रचा ली है. इस बुजुर्ग महिला का कहना है कि इस गाय की सारी विशेषताएं उसके मरे हुए पति जैसी ही हैं. हालांकि, इस बात को साबित करने के लिए किसी तरह का कोई वीडियो सामने नहीं आया है. लेकिन स्थानीयों का दावा है कि उन्होंने इस अजीबोगरीब शादी के बारे न केवल सुना है, बल्कि उसमें शामिल भी हुए हैं.

Advertisement

Haldiram Bhujiawala, Muzaffarpur - Restaurant

ऐसे में आपके मन में भी यह सवाल उठ रहा होगा कि आखिर ऐसी क्या समानताएं थीं, जो महिला को गाय में उसका पति नजर आया. महिला का कहना है कि गाय के जन्म के बाद से वह उसके साथ सबसे ज्यादा समय बिताती थी. महिला की मानें, तो यह गाय न केवल उसके हाथ और चेहरे को चाटती थी, बल्कि कई बार उसके मुंह पर किस भी कर लेती थी. खिम हैंग का कहना है कि गाय उसे वैसे ही दुलार करती थी, जैसे उनके पति उन्हें किया करते थे. इसलिए उन्हें लगा कि उनके पति पुनर्जन्म लेकर गाय के रूप में लौट आए हैं.

hondwing in Muzaffarpur

सुनने में अजीब लगे, लेकिन अब खिम हैंग इस गाय को ही अपना पति मान बैठी हैं. महिला ने अब इस गाय को सोने के लिए कमरा और अपने पति की तकिया दे दी है. दोनों अब कमरे में ही साथ-साथ रहते हैं. यही नहीं, इस महिला ने अपने बच्चों को भी भरोसे में ले लिया है. उनके बेटे भी अब यही मानने लगे हैं कि यह गाय उनके पति हैं और उनकी वे सेवा भी करते हैं. खिम ने अपने बेटों से यह भी कहा है कि उनके मरने के बाद भी वे इस गाय को अपने पिता की तरह ही प्यार करें. उसे कभी किसी को न बेचें. इसके अलावा गाय की अंत्येष्ठि भी इंसानों की ही तरह करें.

Advertisement

Source: Live Hindustan

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Advertisement

Continue Reading

OMG

पुष्कर मेले में पहुंचा 24 करोड़ का भैंसा, वजन 1500 KG, हर माह 2 लाख का खर्चा

Published

on

अजमेर. राजस्थान  के जोधपुर के अरविंद जांगिड़ 24 करोड़ कीमत का भैंसा भीम को लेकर पुष्कर मेले में पहुंचे. मेले में भैंसे को मोतीसर रोड पर प्रदर्शन के लिए रखा गया है. मंगलवार को भीम को देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी रही. अरविंद के मुताबिक कुछ महीनों पहले जोधपुर आए अफगानिस्तान के एक शेख परिवार ने इस भैंसे की 24 करोड़ रुपए बोली लगाई थी, लेकिन वे भीम को बेचना नहीं चाहते. उन्होंने कहा कि मेले में भी भैंसे को बेचने के लिए नहीं लाए हैं, बल्कि मुर्रा नस्ल के संरक्षण के उद्देश्य से केवल प्रदर्शन के लिए लेकर आए हैं.

Rajasthan bhainsa Bheem: 14 फीट लंबे और 6 फीट ऊंचे भीमकाय भैंसे का वजन करीब 1500 किलो है.

उन्होंने बताया कि वे इससे पहले 2018 और 2019 में भी भीम को पुष्कर मेले में प्रदर्शन के लिए लेकर आए थे. इसके अलावा बालोतरा, नागौर, देहरादून समेत कई मेलों में इसका प्रदर्शन कर चुके हैं. अरविंद ने मेलों में आयोजित पशु प्रतियोगिता में भाग लेकर पुरस्कार भी जीते हैं. वे इच्छुक पशुपालकों को भीम का सीमन उपलब्ध कराते हैं. मुर्रा नस्ल के इस भैंसे के सीमन की देश में बड़ी डिमांड है.

Advertisement

सबसे बड़ी वजह है इसकी नस्‍ल और रखरखाव का खर्च. भीम मुर्रा नस्‍ल का भैसा है. इस नस्‍ल से पैदा होने वाली भैंसे करीब 20 से 30 लीटर रोजाना दूध देती हैं. इसलिए इसके सीमेन की दुनियाभर में मांग रहती है. 14 फीट लम्‍बे और 6 फीट ऊंचे भीम का वजन 1500 किलो है. इसके रखरखाव पर हर माह करीब 2 लाख रुपए पर खर्च होता है.

भीम भैंसे को देखने के लिए उमड़े लोग

14 फीट लंबे और 6 फीट ऊंचे भीमकाय भैंसे का वजन करीब 1500 किलो है. इसके रखरखाव और खुराक पर प्रतिमाह डेढ़ से दो लाख रुपए का खर्च हो रहा है. अरविंद ने बताया कि भैंसे को प्रतिदिन एक किलो घी, आधा किलो मक्खन, 200 ग्राम शहद, 25 लीटर दूध, एक किलो काजू-बादाम खिलाया जाता है.

Advertisement

मालिक अरविंद के मुताबिक, 2019 में जब भीम को पुष्‍कर मेले में लाया गया था तो इसका वजन 1300 किलो था जो अब बढ़कर 1500 किलो हो गया है. 2019 में इसकी बोली 21 करोड़ रुपए लगाई गई थी, लेकिन अब तक हमें 24 करोड़ देने की बात कही जा चुकी है. इतनी कीमत पर भी हम इसे बेचने को तैयार नहीं हैं.

दो साल में बढ़ी 3 करोड़ कीमत

भीम का वजन दो साल में 200 किलो और कीमत तीन करोड़ बढ़ गई. पुष्कर मेले में जब भीम को दूसरी बार 2019 में लाया गया था, तब इसका वजन 1300 किलो था. जबकि अब इसका वजन बढ़कर 1500 किलो तक पहुंच गया. इसी प्रकार पिछली बार इसकी बोली 21 करोड़ तक लगाई गई थी. अब 24 करोड़ रुपए का ऑफर मिल चुका है, मगर मालिक इस कीमत में भी बेचने के लिए तैयार नहीं है.

Advertisement

अरविंद का कहना है, हम मुर्रा नस्‍ल को संरक्षित करना चाहते हैं, इसलिए इसे पशु मेले में प्रदर्शन के लिए लाए हैं. अरविंद पुष्‍कर के अलावा नागौर, देहरादून समेत कई पशु मेले में भीम का प्रदर्शन कर चुके हैं. भीम पशु प्रत‍ि‍योगिता से जुड़े कई पुरस्‍कार जीत चुका है.

सीमन की वजह से रहती है डिमांड

मुर्रा नस्ल के भैंसे की दुनियाभर में काफी डिमांड रहती है. इसके सीमन से होने होने वाली  भैंसा का पैदा होते ही 40 से 50 किलो वजन रहता है. जो वयस्क होने के साथ ही एक बार में 20 से 30 लीटर तक दूध देती है. इसके .25 ml सीमन की कीमत करीब 500 रुपए है. .25 ml सीमन एक पेन की रीफिल जैसी स्ट्रॉ में भरा जाता है. भीम भैंसे के मालिक साल भर में ऐसी 10 हजार स्ट्रॉ बेच देते हैं. एक बार में 4 से 5 ML सीमन इकट्ठा होता है.

Advertisement

Source : News18

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Advertisement

Haldiram Bhujiawala, Muzaffarpur - Restaurant

KRISHNA-HONA-MUZAFFARPUR

Continue Reading

OMG

दुनिया का सबसे महंगा आम, जो दुकान पर नहीं मिलता, लगती है बोली

Published

on

पाकिस्तान लगातार अपनी तंगहाली को लेकर चर्चा में है. किसी समय में मित्र रह चुके देश भी अब उससे किनारा कर रहे हैं. इस बीच ही विदेशी राजनयिकों से अपने संबंध बेहतर करने के लिए पाकिस्तान से आमों की पेटियां भेजी गईं, लेकिन कई देशों ने उन्हें स्वीकार ही नहीं किया. यहां तक कि मित्र राष्ट्र चीन ने भी आम लेने से मना कर दिया. एक तरफ तो पाकिस्तान की मैंगो डिप्लोमेसी फेल हो रही है, वहीं आम के इस मौसम में इसकी चर्चा भी है कि आखिर कौन-सा आम दुनिया में सबसे स्वादिष्ट और महंगा है.

जापानी आम की ये किस्म अब तक वहीं पर तैयार होती रही लेकिन अब इस बारे में भी नई-नई खबरें आ रही हैं. जैसे मध्यप्रदेश के जबलपुर में इस आम की खेती की बात हो रही है. एक निजी किसान ने अपने खेत में प्रयोग के तौर पर इसे लगाया था और उसका दावा है कि आम फलने भी लगे हैं. कथित तौर पर बीते 3 साल ये आम फलने लगे हैं और इंटरनेशनल मार्केट में जा रहे हैं. सांकेतिक फोटो (flickr)

भारत के सबसे महंगे आम की बात करें तो अल्फांसो या हापुस आम सबसे महंगा है. इसे इतना स्वादिष्ट मानते हैं कि स्वर्गबूटी भी कहते हैं. लगभग 300 ग्राम तक वजनी ये आम काफी मीठा और शानदार सुगंध लिए होता है. इसे जीआई टैग भी मिल चुका है और इंटरनेशनल मार्केट में इसकी भारी मांग है. यूरोप और जापान में हमेशा से इसकी डिमांड रही तो अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में अलफांसो की पूछ बढ़ने लगी है.

Advertisement

इसकी कीमत भी इसके स्वाद जितनी बढ़ी-चढ़ी है. ये मार्केट में फलों की दुकानों पर नहीं मिलता, बल्कि इसकी बोली लगती है. नीलामी में सबसे ज्यादा कीमत देने वाले के हाथ ये फल लगता है. जैसे साल 2017 में दो आमों की कीमत लगभग 2 लाख 72 हजार रुपए थी. यहां ये भी जान लें कि एक आम लगभग 350 ग्राम का होता है. यानी एक किलो से भी कम आम के लिए पौने 3 लाख रुपए दिए गए. सांकेतिक फोटो (pixabay)

दुनिया के सबसे महंगे आम का दर्जा जापानी आम की एक किस्म को मिला हुआ है. ताईयो नो तामागो (taiyo no tamago) नाम का ये आम वहां के मियाजारी प्रांत में पैदा होता है. इस आम में मिठास के साथ अन्नास और नारियल का हल्का सा स्वाद भी आता है. इसे एक खास तरीके से तैयार करते हैं. इसके तहत आम के पेड़ पर फल आते ही एक-एक फल को जालीदार कपड़े से बांध दिया जाता है. ये इस तरह होता है कि फल पर पूरी तरह से धूप पड़े, जबकि जाली वाले हिस्से बचे रहें. इससे आम की रंगत ही अलग होती है.

ताईयो नो तामागो आम को जापानी कल्चर में भी खूब मान्यता मिली हुई है. इसे एग ऑफ द सन कहते हैं क्योंकि ये सूरज की रोशनी में तैयार होता है. साथ ही लोग इसे तोहफे में देते हैं. माना जाता है कि इससे तोहफा पाने वाले की किस्मत सूरज जैसी ही रोशन हो जाती है. यही कारण है कि जापान में त्योहार या खास मौकों पर ये आम भी दिया जाता है. लेकिन लेने वाले इसे खाते नहीं, बल्कि किसी तरीके से संरक्षित करके सजा देते हैं. सांकेतिक फोटो (pixabay)

पकने के बाद फल जाली में ही गिरकर लटकते हैं, तब जाकर उन्हें निकाला और बेचा जाता है. पेड़ पर लगे आम को किसान नहीं तोड़ते. वे मानते हैं कि इससे फल का स्वाद और पौष्टिकता चली जाती है. यानी जापानी किसानों की नजरों से देखें तो ताईयो नो तामागो पूरी तरह से पका हुआ फल है. और ऐसा है भी. ये खाने में बेहद स्वादिष्ट और सुगंधित होता है.

Advertisement

दुनिया के सबसे महंगे आम का दर्जा जापानी आम की एक किस्म को मिला हुआ है. ताईयो नो तामागो (taiyo no tamago) नाम का ये आम वहां के मियाजारी प्रांत में पैदा होता है. इस आम में मिठास के साथ अन्नास और नारियल का हल्का सा स्वाद भी आता है. इसे एक खास तरीके से तैयार करते हैं. इसके तहत आम के पेड़ पर फल आते ही एक-एक फल को जालीदार कपड़े से बांध दिया जाता है. ये इस तरह होता है कि फल पर पूरी तरह से धूप पड़े, जबकि जाली वाले हिस्से बचे रहें. इससे आम की रंगत ही अलग होती है. सांकेतिक फोटो (flickr)

इसकी कीमत भी इसके स्वाद जितनी बढ़ी-चढ़ी है. ये मार्केट में फलों की दुकानों पर नहीं मिलता, बल्कि इसकी बोली लगती है. नीलामी में सबसे ज्यादा कीमत देने वाले के हाथ ये फल लगता है. जैसे साल 2017 में दो आमों की कीमत लगभग 2 लाख 72 हजार रुपए थी. यहां ये भी जान लें कि एक आम लगभग 350 ग्राम का होता है. यानी एक किलो से भी कम आम के लिए पौने 3 लाख रुपए दिए गए.

Pair of mangoes goes for record $4,488 yen at first auction

ताईयो नो तामागो आम को जापानी कल्चर में भी खूब मान्यता मिली हुई है. इसे एग ऑफ द सन कहते हैं क्योंकि ये सूरज की रोशनी में तैयार होता है. साथ ही लोग इसे तोहफे में देते हैं. माना जाता है कि इससे तोहफा पाने वाले की किस्मत सूरज जैसी ही रोशन हो जाती है. यही कारण है कि जापान में त्योहार या खास मौकों पर ये आम भी दिया जाता है. लेकिन लेने वाले इसे खाते नहीं, बल्कि किसी तरीके से संरक्षित करके सजा देते हैं.

Advertisement

Mangoes sell for record US$4,500

जापानी आम की ये किस्म अब तक वहीं पर तैयार होती रही लेकिन अब इस बारे में भी नई-नई खबरें आ रही हैं. जैसे मध्यप्रदेश के जबलपुर में इस आम की खेती की बात हो रही है. एक निजी किसान ने अपने खेत में प्रयोग के तौर पर इसे लगाया था और उसका दावा है कि आम फलने भी लगे हैं. कथित तौर पर बीते 3 साल ये आम फलने लगे हैं और इंटरनेशनल मार्केट में जा रहे हैं.

Source : News18

Advertisement

Continue Reading
BIHAR1 hour ago

नींबू, भैंस और बकरी चोरी के मामले को लेकर नीतीश कुमार के जनता दरबार में पहुंची महिला

BIHAR1 hour ago

गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजा झाझा-पटना मेमू, महिला समेत तीन यात्री घायल, PMCH रेफर

BIHAR4 hours ago

पटना व मुजफ्फपुर में गाड़ियों के मनचाहे नंबर के लिए मारामारी, 2 लाख तक बोली लगा रहे लोग

BIHAR6 hours ago

वैशाली में 3 लोगों की संदेहास्पद मौत पर मचा हड़कंप, जहरीली शराब की जांच में जुटा प्रशासन

BIHAR7 hours ago

बिहार के पूर्व मंत्री बोले- बच्चों का भविष्य संवारने के लिए शराबबंदी कानून को हटाये सरकार

WORLD7 hours ago

ट्विटर-फेसबुक बैन झेल रहे डोनाल्ड ट्रंप बना रहे अपनी सोशल मीडिया कंपनी, 75 अरब रुपये की पूंजी खड़ी!

INDIA9 hours ago

तबादले के लिए ‘सिफारिश कल्चर’ पर सरकार की सख्ती! राजनीतिक मदद से ट्रांसफर मांगने वाले IAS अधिकारियों को चेताया

MUZAFFARPUR10 hours ago

मुजफ्फरपुर जंक्शन को मिला आईएसओ सर्टिफिकेट

MUZAFFARPUR10 hours ago

मुजफ्फरपुर : दादर से जीरोमाइल तक कब्जा वाली दुकानों पर चला प्रशासन का बुल्डोजर

BIHAR10 hours ago

बिहार : जीपीएस ई-लॉक लगे टैंकर से ही अल्कोहलिक उत्पादों की ढुलाई

VIRAL6 days ago

वीडियो : JCB पर बैठ शादी में मारी एंट्री, अचानक औंधे मुंह गिरे दूल्हा-दुल्हन

BIHAR3 weeks ago

बिहार : जो काम पुलिस नहीं कर पायी अब वह बच्चे करेंगे, शराबबंदी को सफल बनाएंगे स्कूली बच्चे

BIHAR2 weeks ago

बिहार के 38 जिलों में 28 से गुजरेंगे 4 एक्सप्रेसवे, देखें नाम और रूट प्लान

BIHAR1 day ago

बिहार : न बैंड न बारात, कोर्ट की पहल पर जेल में बंद प्रेमी से प्रेमिका ने रचाई शादी

BIHAR2 weeks ago

हिंदुस्‍तानी छोरे पर आ गया फ्रांसीसी मैम का दिल, सात समंदर पार से आकर बिहार में रचाई शादी

BIHAR2 weeks ago

बिहार में दिल दहलाने वाली वारदात, ट्रेन रोक युवती को खींचकर उतारा, सामूहिक दुष्‍कर्म के बाद की हत्‍या

BIHAR2 days ago

कोचिंग सेंटर में खेसारी लाल के गाने दिखा पढ़ाते हैं गुरूजी, मिला ‘बेस्ट टीचर ऑफ ईयर’ का अवार्ड

OMG1 week ago

गाय से शादी करके बोली महिला- ये मेरे पति हैं, मुझसे प्यार भी करते हैं

MUZAFFARPUR2 weeks ago

साइकिल से जा रही मुजफ्फरपुर की छात्रा ने बजाई शादीशुदा मर्द के दिल की घंटी

INDIA5 days ago

आज से मोबाइल रिचार्ज और LPG सिलिंडर हुआ महंगा, बैंकिंग, पेंशन से जुड़े कई बदलाव लागू

Trending