Connect with us

INDIA

24 घंटे में ‘फर्जी’ निकला गैंगरेप का केस, जानें युवती ने क्यों गढ़ी युवक को फंसाने के लिए झूठी कहानी?

Muzaffarpur Now

Published

on

मध्य प्रदेश के इंदौर शहर के बाणगंगा थाना क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया था, जिसमें एक युवती ने पांच युवकों पर गैंगरेप का आरोप लगाया था। लेकिन अब रेलवे ट्रैक पर मंगलवार रात 19 वर्षीय छात्रा से गैंगरेप की बात झूठी निकली है। आरोप लगाने के 24 घंटे बाद ही बुधवार शाम युवती ने जुर्म कबूल कर लिया है। युवती ने पुलिस को बताया कि, वह कुछ पुरानी घटनाओं से परेशान थी और सुसाइड करने रेलवे ट्रैक पर गई थी। वहां पर उसने युवक को फंसाने का प्लान बनाया और झूठी कहानी गढ़ी।

पुलिस ने बताया कि इस केस में जांच के दौरान हमें बुधवार को सुबह रेलवे कॉलोनी के पास से जो वीडियो फुटेज मिले थे, उसे देख युवती कंफ्यूज हो गई थी। वहीं, पुलिस को इस केस में युवती को लेकर पहले ही शक हो गया था। साथ ही पूछताछ में भी युवती लगातार अपने बयान से पलट रही थी। इससे पुलिस को समझ आ गया था कि, युवती उन्हें गुमराह कर रही है।

बुधवार दोपहर में जांच के दौरान पुलिस ने अपहरण के घटना स्थल के साथ कई अन्य जगहों के फुटेज निकाले थे। जिसमें साफ हो गया था कि, युवती ने जिस युवक को आरोपी बनाया था, वह युवक तो घटनास्थल के आसपास भी नहीं गया था। उसके बयानों के मुताबिक घर से लेकर हनुमान मंदिर तक उसकी बताई पूरी घटना कैमरे में कैद हुई थी। अब पुलिस ऑफिसर युवती से ये मालूम कर रहे हैं कि इस घटना के पीछे उसका मकसद क्या था।

वह अक्षय को ही क्यों फंसाना चाह रही थी। पुलिस की मानें तो अक्षय के पास युवती के कुछ विडियो हैं। पीड़िता भी कई बार अपने बयान में इस बात का जिक्र कर चुकी है। साथ ही पीड़िता घर से भागीरथपुरा किस रास्ते से गई, इस बिंदु पर जांच की जा रही है।

यह था मामला
बीते मंगलवार की रात को शहर के बाणगंगा थाना क्षेत्र में सामूहिक दुष्कर्म का सनसनीखेज मामला सामने आया था, जिसमें एक युवती ने पांच युवकों पर गैंगरेप का आरोप लगाया था। युवती का आरोप था कि, वह पाटनीपुरा क्षेत्र में कोचिंग पढ़ने जाती है। उसने कहा कि, वह मंगलवार शाम को कोचिंग से लौट रही थी तभी उसे अक्षय नामक दोस्त मिला। उसके साथ एक युवक और था। युवती का आरोप है कि, दोनों ने बातों-बातों में उसे कुछ सुंघाया और बाइक पर बैठाकर भागीरथपुरा रेलवे ट्रैक के पास ले गए। रेलवे ट्रैक पर पहले से तीन लोग मौजूद थे, जो उनका इंतजार कर रहे थे। सभी ने मिलकर युवती के साथ जबरदस्ती करने की कोशिश की थी। आरोपियों ने उसे चाकू मारने की कोशिश की और बोरे में भरकर पटरी किनारे फेंककर चले गए थे। वहीं, इस मामले में पुलिस जांच कर रही थी।

Input: Live Hindustan

rama-hardware-muzaffarpur

INDIA

ई-कॉमर्स कंपनी को BSc के छात्र ने लगाया चूना: ऑनलाइन ऑर्डर कैंसिल कर डमी प्रॉडक्ट करता था वापस, कमाता था लाखों रुपए

Muzaffarpur Now

Published

on

ONLINE ऑर्डर कैंसिल कर ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन और फ्लिपकार्ट से लाखों रुपए की ठगी करने वाले शातिर ठग को गोविंदपुरी से साइबर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसके घर से 23 लाख रुपए का सामान भी मिला है। वर्ष 2019 से यह ठगी कर रहा है। ऑर्डर की बुकिंग और कैंसिल करने के लिए हर बार नई सिम, मोबाइल और आधार कार्ड का उपयोग करता था। अमेजन की शिकायत पर साइबर थाने में मामले में FIR दर्ज की गई थी। आरोपी खुद का गेमिंग सर्वर बनाना चाहता था। फिलहाल पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

एसपी राज्य साइबर जोन ग्वालियर सुधीर कुमार अग्रवाल ने बताया, कुछ समय पूर्व अमेजन ऑनलाइन एप की तरफ से शिकायत आई थी कि कोई शख्स मध्य प्रदेश के ग्वालियर और आसपास के शहरों से ऑनलाइन ऑर्डर बुक करता है। बाद में प्रॉडक्ट में फॉल्ट बताकर ओरिजिनल प्रॉडक्ट डमी प्रॉडक्ट वापस कर देता था। पिछले कुछ महीने में इस जालसाज ने कंपनी को करीब 17 लाख रुपए का चूना लगाया है। इस पर राज्य साइबर जोन थाना में तत्काल जांच के बाद FIR दर्ज की गई। अभी तक कैंसिल किए गए ऑर्डर की लिस्ट लेकर नंबर की जांच की गई, तो हर बार नया नंबर और आधार कार्ड का उपयोग हुआ। कुछ मामलों में आरोपी ने मोबाइल नहीं बदला। इससे टीम को कुछ सुराग मिले। रविवार को आरोपी तक पुलिस पहुंच गई। आरोपी को शहर के गोविंदपुरी इलाके से गिरफ्तार किया है। शातिर दिमाग आरोपी की पहचान 22 वर्षीय देवांशु उर्फ सन्नी चौहान पुत्र उमाशंकर चौहान निवासी गोपाल बाग ठाकुरबाबा रोड डबरा हाल निवासी ए-90 गोविंदपुरी के रूप में हुई है।

ऐसे करता था ठगी

देवांशु उर्फ सन्नी ने पुलिस को बताया, वह अमेजन से ऑनलाइन ऑर्डर बुक करता था। जैसे एक SONY कंपनी की LED TV मंगाई। ऑर्डर आने के बाद चंद घंटों बाद प्रॉडक्ट में फॉल्ट बताकर उसे कैंसिल कर देता था। कोरियर ब्वॉय प्रॉडक्ट वापस ले जाता था। वापस करते समय वह SONY की डमी TV रख देता था। इसके बाद वह असली माल को ऑफलाइन मार्केट में कम कीमत पर बेच देता था। ऑर्डर कैंसिल होने पर पैसा वापस आ जाता था। वहीं ठगे गए सामान के रुपए अलग मिलते थे।

खुद का गेमिंग सर्वर बनाने की थी चाह

पकड़ा गया आरोपी सिर्फ 22 साल का है। अभी बीएससी सेकंड ईयर का छात्र है, लेकिन उसका सपना खुद का गेमिंग सर्वर बनाना है। इसके लिए वह लगातार ठगी कर सामान एकत्रित कर रहा था। गेमिंग सर्वर बनने के बाद उसकी लाखों में कमाई होनी थी। इस पर लोग ऑनलाइन सब्सक्राइब कर पैसे देकर गेम्स खेलते हैं। इसके लिए वह कुछ अमेरिका, जापान व ऑस्ट्रेलिया के लोगों के संपर्क में भी था।

23 लाख का माल मिला

आरोपी के घर से पुलिस को 23 लाख का सामान मिला है। इसमें 15 मोबाइल, 30 सिम कार्ड, 17 आधार कार्ड, एक KTM बाइक, स्कूटी, 4 बैंक खाते, 6 डेबिट-क्रेडिट कार्ड, लैपटॉप, 2 कम्प्यूटर, 3 CPU, 3 मदरबोर्ड, 4 प्रोसेसर, 3 डमी आईफोन, 13 आईफोन वॉच, 40 आईफोन वॉच बॉक्स, 13 हार्डडिस्क, 5 आईसी चिप, 3 सामान पैकिंग मशीन, 1 हॉटगन, दो SAMSUNG कंपनी की LED TV, एक माइक्रोमैक्स कंपनी की LED TV, 2 सोनी कंपनी के कैमरा, 13 नग गेमिंग कंट्रोलर, 06 रेम, 10 PS4 गेम्स की सीडी, JBL कंपनी का ब्लूटूथ, स्पीकर, 2 कॉस्मो वाइट हेड सेट, इलेक्ट्रिक वेट मशीन, आईपॉट,10 पैकेट USB केबल, 360 CONSOLE गेमिंग, डीवीडी राइडर आदि सामान मिला है।

Input:Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

मुंबई में चीन ने कराई थी बत्ती गुल, पूरे भारत में ब्लैकआउट कराने की थी तैयारी, जानें कैसे

Muzaffarpur Now

Published

on

बीते साल गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों से झड़प में मात खाने के बाद चीन ने भारत में साइबर अटैक की कोशिश की थी। यही नहीं उसके इस साइबर अटैक की वजह से देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में एक दिन के लिए ब्लैक आउट हो गया था। पूरे शहर में बत्ती गुल हो गई थी और कोरोना काल में अस्पतालों में जनरेटर से काम चलाना पड़ा था। अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में चीन की इस हिमाकत का दावा किया गया है।

गलवान हिंसा के चार महीने बाद मुंबई में अचानक बिजली गुल होने की वजह से ट्रेनें बंद हो गई थीं और स्टॉक मार्केट भी ठप हो गया था। बत्ती गुल होने से शहर के 2 करोड़ लोग अंधेरे में डूब गए थे। अस्पतालों में इमरजेंसी जनरेटर चालू करने पड़े थे ताकि वेंटिलेटरों चलते रहें। यह वही दौर था जब भारत में कोरोना अपने चरम पर जा रहा था। बीते साल 12 अक्टूबर को मुंबई में ब्लैकआउट हुआ था। अब एक नए अध्ययन से यह पता लगा है कि ये सब घटनाएं आपस में जुड़ी थीं।

उस समय की न्यूज रिपोर्ट्स में भी भारतीय अधिकारियों के हवाले से यह दावा किया गया था कि मुंबई में साइबर हमले के पीछे चीनी साइबर अटैक हो सकता है।

न्यू यॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, यह सब घटनाएं चीन के एक बड़े साइबर अभियान का हिस्सा था, जिसका मकसद भारत के पावर ग्रिड को ठप करना था। इतना ही नहीं चीन ने तो यहां तक योजना बना ली थी कि अगर गलवान में भारत दबाव बनाता है तो वह पूरे देश को अंधेरे में डूबा देगा।

स्टडी से यह खुलासा हुआ है कि हिमालय में जारी गतिरोध के बीच चीनी मैलवेयर भारत में बिजली सप्लाई के कंट्रोल सिस्टम में घुस चुके थे। इसमें हाई वोल्टेज ट्रांसमिशन सबस्टेशन और थर्मल पावर प्लांट भी शामिल थे।

चीनी साइबर अटैक का खुलासा अमेरिकी साइबर फर्म Recorded Future ने किया। हालांकि, कंपनी ने यह भी पाया कि अधिकतर मैलवेयर कभी ऐक्टिवेट नहीं हुए। कंपनी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर स्टुअर्ट सोलोमन ने बताया कि कैसे चीन की कंपनी Red Echo ने साइबर हमले की एडवांस तकनीक का सहारा लेकर भारत के करीब एक दर्जन पावर ग्रिड को गुपचुप तरीके से कंट्रोल करने की कोशिश की।

मुंबई में हुई थी बिजली गुल, जहां-तहां खड़ी रही लोकल ट्रेनें
बीते साल मुंबई में गंभीर बिजली संकट पैदा हो गया था। मुंबई महानगरीय क्षेत्र में ग्रिड फेल हो गई थी। मुंबई टाउनशिप में बिजली की आपूर्ति करने वाली कंपनी बेस्ट (BEST) ने कहा था कि बिजली की आपूर्ति करने वाले प्लांट से ग्रिड फेल हो गए थे। मुंबई के पूर्वी, पश्चिमी, उपनगर और ठाणे के कुछ हिस्से में बिजली गुल हो गई थी। इसकी वजह से लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। ग्रिड फेल होने का असर  मुंबई की लाइफलाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेन पर भी पड़ा था और जहां-तहां ट्रेनें खड़ी हो गई थीं।

Input: Live Hindustan

Continue Reading

INDIA

पीएम मोदी ने ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज, एम्स में सुबह-सुबह लगवाया टीका

Muzaffarpur Now

Published

on

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने सोमवार (1 मार्च) को कोरोना वायरस वैक्सीन की पहली डोज दिल्ली के एम्स (AIIMS) में लगवाई. इस बात की जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट कर दी. बता दें कि 1 मार्च से कोरोना वैक्सीनेशन अभियान (Corona Vaccination Drive) का दूसरा चरण शुरू हो रहा है और इसके तहत अब 60 साल की उम्र के लोगों को वैक्सीन की डोज दी जाएगी. इसके अलावा 45 साल की उम्र वाले उन लोगों का भी वैक्सीनेशन किया जाएगा, जिन्हें पहले से कोई बड़ी बीमारी है.

सभी योग्य व्यक्ति टीका लगवाएं: पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने ट्वीट कर कहा, ‘एम्स (AIIMS) में कोविड-19 वैक्सीन (Covid-19 वैक्सीन) की मेरी पहली डोज ली. उल्लेखनीय है कि कैसे हमारे डॉक्टरों और वैज्ञानिकों ने कोविड-19 के खिलाफ वैश्विक लड़ाई को मजबूत करने के लिए त्वरित समय में काम किया है. मैं उन सभी से टीका लगवाने की अपील करता हूं, जो वैक्सीन लेने के लिए योग्य हैं. साथ आएं और भारत को कोरोना वायरस से मुक्त बनाएं.’

लगातार बढ़ रहे हैं कोरोना केस

गौरतलब है कि देश में बुधवार को 6 दिनों में तीसरी बार संक्रमण के 13 हजार से ज्यादा मामले आए. वहीं केंद्र ने महाराष्ट्र, केरल, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक और जम्मू-कश्मीर सहित कई राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर स्थिति से निपटने में मदद के लिए अपने उच्च स्तरीय दल भेजे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में कोविड-19 टीकाकरण के अगले चरण के अभियान को लेकर निर्णय किया गया.

देश में 164511 एक्टिव केस मौजूद

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार, भारत में अब तक 1 करोड़ 10 लाख 96 हजार 731 लोग कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित हो चुके हैं, जिसमें से 1 लाख 57 हजार 51 लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि देशभर में अब तक 10775169 लोग ठीक भी हो चुके हैं और सिर्फ 164511 एक्टिव केस मौजूद हैं. मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, भारत में कोविड-19 (Covid-19) से ठीक होने वाले लोगों की दर 97.1 प्रतिशत है, जबकि मृत्यु दर 1.42 प्रतिशत है.

Input: Zee News

Continue Reading
INDIA1 hour ago

ई-कॉमर्स कंपनी को BSc के छात्र ने लगाया चूना: ऑनलाइन ऑर्डर कैंसिल कर डमी प्रॉडक्ट करता था वापस, कमाता था लाखों रुपए

BIHAR1 hour ago

बिहार में पुलिस जीप के चालक व दारोगा बीच सड़क पर उलझे, ऐसी-ऐसी गालियां दी कि लोग सन्‍न रह गए

BIHAR3 hours ago

नीतीश कुमार बर्थडे: इन 10 फैसलों की वजह से नीतीश कुमार बने बिहार की सियासत के ‘हीरो’

INDIA3 hours ago

मुंबई में चीन ने कराई थी बत्ती गुल, पूरे भारत में ब्लैकआउट कराने की थी तैयारी, जानें कैसे

BIHAR3 hours ago

मुजफ्फरपुर सेंट्रल जेल में कारा प्रशासन की रेड, शौचालय के पास मिले तीन मोबाइल फोन

BIHAR3 hours ago

ट्रेन के बाद अब बस का सफर भी होगा महंगा, बिहार में होली से पहले 25 प्रतिशत यात्री किराया बढ़ेगा

BIHAR4 hours ago

बिहार पंचायत चुनाव के लिए मुखिया और सरपंच समेत अन्य प्रत्याशियों को कानूनी मदद देगी भाजपा

INDIA5 hours ago

पीएम मोदी ने ली कोरोना वैक्सीन की पहली डोज, एम्स में सुबह-सुबह लगवाया टीका

BIHAR6 hours ago

कोरोना वैक्सीन लेकर CM नीतीश आज मनाएंगे अपना जन्मदिन, दोनों डिप्टी CM भी लेंगे टीका

SMART-CITY-MUZAFFARP
MUZAFFARPUR6 hours ago

मुजफ्फरपुर की जनता का सहयोग मिला तो स्वच्छता रैंकिग में मिलेगा बेहतर परिणाम: नगर आयुक्त

INDIA4 days ago

सरकारी नौकरी के चयन में योग्यता को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया अहम आदेश

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर के गायघाट का युवक उत्तराखंड के चमोली त्रासदी में लापता

MUZAFFARPUR4 weeks ago

सरकारी जमीन पर कब्जा : मुजफ्फरपुर में नहर को बंदकर उसकी जमीन पर बना दिया पक्का मकान

INDIA4 days ago

कल भारत बंद, इन मांगों को लेकर 8 करोड़ व्यापारी करेंगे हड़ताल

BIHAR2 weeks ago

हजार रुपये बकाया होगा तो भी बिजली कटेगी, बकाएदारों पर बड़ी कार्रवाई शुरू

MUZAFFARPUR3 weeks ago

मुजफ्फरपुर में मिला सात फीट का अजगर, भेजा जाएगा पटना चिडिय़ाघर

TRENDING4 weeks ago

ईमानदारी की पेश की नयी मिसाल, ऑटोड्राइवर ने लौटाए सवारी के 20 लाख के सोने के गहने

BIHAR5 days ago

बिहार पुलिस में नौकरी का सुनहरा मौका, 69 हजार तक की सैलरी पाने के लिए 24 फरवरी से करें आवेदन

INDIA2 weeks ago

50-200 रुपए के नकली नोट फैले हैं मार्केट में, RBI ने किया अलर्ट

BIHAR2 weeks ago

21 से 27 मार्च तक बिहार में क्रिकेट का महाकुंभ, दिखेंगे जयसूर्या, आरपी सिंह जैसे स्टार

Trending