अब इंसेफलोपैथी के नाम से जानी जाएगी एईएस
Connect with us
leaderboard image

MUZAFFARPUR

अब इंसेफलोपैथी के नाम से जानी जाएगी एईएस

Santosh Chaudhary

Published

on

मुजफ्फरपुर व आसपास के जिलों में बच्चों के लिए कहर बनी एईएस (एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम) अब इंसेफलोपैथी के नाम से जानी जाएगी। दिल्ली से आई स्वास्थ्य मंत्रलय की टीम ने माना कि बच्चों को बीमारी गर्मी में हो रही है। ज्यादा कुपोषित बच्चे इसकी चपेट में आ रहे हैं। इसपर अगले साल भी शोध जारी रहेगा। शोध का प्रथम आधार होगा गर्मी व कुपोषण। इंडियन कांउसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने इंसेफलोपैथी को लेकर नए साल के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है।

दिल्ली की कार्यशाला में शोधपत्र की प्रस्तुति : बीमारी को लेकर 19 जुलाई 2019 को दिल्ली आइसीएमआर मुख्यालय में रिसर्च एवं आगामी लाइन ऑफ एक्शन पर कार्यशाला हुई। इसमें आइसीएमआर के निदेशक डॉ.एमवी मुरेकर, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोलॉजी यानी निमहांस के डॉ. वी रवि, सेंट्रल टीम लीडर एम्स दिल्ली के डॉ.अरुण कुमार सिंह, सीएमसी वेल्लोर के डॉ. टी जैकब जॉन, एनसीडीसी दिल्ली के डॉ.आकाश श्रीवास्तव, एसकेएमसीएच के शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ.गोपाल शंकर साहनी, एम्स पटना के डॉ.लोकेश कुमार तिवारी शामिल हुए। सभी ने इस बीमारी पर अपने शोध पत्र को प्रस्तुत किया। कार्यशाला में शामिल देश के करीब 60 चिकित्सकों ने अपनी राय दी।

अगले साल के लिए एडवाइजरी

’ बिहार सरकार एसकेएमसीएच के शिशु विभाग के चिकित्सकों को आइसीयू का विशेष प्रशिक्षण दिलाएगी। प्रशिक्षणएम्स पटना व दिल्ली और सीएमसी यानी क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर की टीम देगी।

’ पीआइसीयू में विशेष जांच की व्यवस्था हो ताकि पैथोलॉजिकल जांच के लिए बाहर नहीं जाना पड़े।

’ ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल में भी जरूरी बदलाव हो। जागरूकता अभियान में यूनिसेफ जैसी संस्थाओं से समन्वय बने।

’ इलाज व जागरूकता के लिए स्वास्थ्य विभाग एजेंसियों से समन्वय बनाए

बीमारी की जड़ गर्मी और कुपोषण पर किया जाएगा शोध, कुपोषण को लेकर सालों भर चलेगा जागरूकता अभियान

दिल्ली कार्यशाला में शामिल सभी विशेषज्ञ चिकित्सकों ने माना कि यह बीमारी संक्रमण वाली नहीं है। इसलिए यह एईएस नहीं कहलाएगी। बल्कि इंसेफलोपैथी के नाम से जानी जाएगी। इसके बाद इंडियन कांउसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च की ओर से नई एडवाइजरी जारी हुई है। डॉ.गोपाल शंकर साहनी, विभागाध्यक्ष, शिशु रोग, एसकेएमसीएच

Input : Dainik Jagran

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर प्लेटफार्म एक पर चलना दुश्वार, हर तरफ कब्जा

Ravi Pratap

Published

on

मुजफ्फरपुर जंक्शन ए वन ग्रेड होने के बावजूद यात्री सुविधाओं में फिसड्डी है। जंक्शन के सभी प्लेटफार्म पर अव्यवस्था का आलम है। प्लेटफार्म संख्या एक भी इससे अछूता नहीं है। यात्रियों की सुविधाओं का ख्याल न करते हुए रेलवे के अलग-अलग विभागों ने अपने फायदे के लिए प्लेटफार्म संख्या एक पर कब्जा जमा रखा है। इस कारण इस प्लेटफार्म पर यात्रियों का चलना भी दुश्वार हो गया है।

600 मीटर लंबे इस प्लेटफार्म पर कहीं भी ऐसी जगह नहीं बची है, जहां यात्री बेफ्रिक होकर आराम से चल सके। विभागों ने अपना सामान भारी मात्रा में प्लेटफार्म पर जमा लिया है। प्लेटफार्म के एक हिस्से में आरएमएस के हजारों पैकेट पड़े हैं तो दूसरे हिस्से में रेलवे के पार्सल का ढेर लगा है। बचे हिस्से में बॉक्स पोर्टल के सैकड़ों बॉक्स प्लेटफार्म पर पड़े हैं। इसके बाद भी बची-खुची जगहों पर रेलवे ने स्टॉल खुलवा दिया है। अमूमन डाउन लाइन की सभी महत्वपूर्ण ट्रेनें प्लेटफार्म संख्या एक पर ही आती हैं। ट्रेनों पर सवार होने के लिए हर दिन प्लेटफार्म पर अफरातफरी मची रहती है। इस स्थिति में हर तरफ सामान बिखरे होने से दर्जनों यात्री गिरकर चोटिल होते हैं।

पिछले हफ्ते हुई थी मौत

बीते आठ नवंबर को भी प्लेटफार्म एक पर हर तरह का सामान बिखरा पड़ा था। यात्रियों की संख्या भी काफी थी। ट्रेन में चढ़ने के लिए हुई धक्का-मुक्की के क्रम में समस्तीपुर के सुशील झा ट्रैक पर गिर पड़े व ट्रेन से कट गए। दो महीना पहले भी हुई इस तरह की घटना में एक अन्य यात्री की मौत हुई थी। चोटिल होने की घटनाएं अक्सर होती हैं।

प्लेटफार्म पर लगतीं बाइकें

रेलकर्मियों की मनमानी इस तरह चल रही है कि वे अपनी बाइकें प्लेटफार्म पर ही लगाते हैं। कुछ दिन पहले बाइक हटाने के लिए जीआरपी ने अभियान चलाया था। अभियान खत्म होते सैकड़ों की संख्या में बाइकें फिर से लगने लगी हैं। प्लेटफार्म के जिस हिस्से में बाइकें लगाई जाती हैं, वह प्लेटफार्म एक को प्लेटफार्म पांच व छह से जोड़ता है।

रखी जाती निर्माण सामग्री

प्लेटफार्म संख्या तीन व चार का हाल भी कमोबेश एक की तरह ही है। यहां पिछले एक साल से निर्माण काम चल रहा है। इसको लेकर प्लेटफार्म के एक बड़े हिस्से को घेर दिया गया है। निर्माण सामग्री रख दी गई है। इंजीनियरिंग विभाग की लापरवाही के कारण तीन महीने का फुटओवर ब्रिज का कार्य पिछले एक साल से चल रहा है।

प्लेटफार्म संख्या एक पर विभागों का कब्जा कर वहां सामान रख देना गंभीर मामला है। यह यात्रियों के लिए जानलेवा साबित होगा। स्थानीय अधिकारियों ने इस मामले की जानकारी नहीं दी है। मामले की जांच कराई जाएगी। सभी विभागों को सामान हटाने का आदेश दिया जाएगा।

-सीएस प्रसाद, सीनियर डीसीएम, सोनपुर मंडल

Input : Live Hindustan

Continue Reading

MUZAFFARPUR

ईमानदारी की दुकान चला रहे बच्चे

Ravi Pratap

Published

on

कॉपी 10 रुपये, पेंसिल 5 रुपये, कटर 3 रुपये, इरेजर 3 रुपये…। बरामदे में टेबल पर सजी इस दुकान पर कोई दुकानदार नहीं है। सामान के ऊपर गांधीजी की तस्वीर वाला एक पोस्टर और उस पर नाम लिखा है ‘ईमानदारी की दुकान।

बच्चे अपनी जरूरत के अनुसार सामान लेने आते हैं और इसी पोस्टर पर लिखा दाम देख टेबल पर रखे गुल्लक में पैसा डाल देते हैं। ईमानदारी का पाठ किताबों में नहीं बल्कि रोजमर्रा के जीवन में सीखाने के लिए यह अनोखी दुकान कांटी के उत्क्रमित मध्य विद्यालय ढेमहां के बच्चे चला रहे हैं।

जिले का यह स्कूल इन बच्चों की इस अनोखी दुकानदारी की वजह से चर्चा का विषय बना हुआ है। न कोई सामान देने वाला और न कोई रुपये लेने वाला। यहां बच्चों के ईमान पर सामान बिकता है। इस ईमानदारी की दुकान की वजह से बच्चे किताबों से रटकर नहीं बल्कि जीवन में ईमान लाना सीख रहे हैं। बच्चे जितना सामान लेते हैं, खुद ईमानदारी से उसका दाम गुल्लक में डाल देते हैं। पिछले आठ महीने से चल रही ईमानदारी की इस दुकान ने पूरे स्कूल की सूरत बदल दी है।

बाल संसद और मीना मंच के बच्चे करते हैं मॉनिटरिंग

स्कूल में बने बाल संसद और मीना मंच के बच्चे इसे संचालित कर रहे हैं। पहली बार में शिक्षकों ने सहयोग दिया मगर अब सबकुछ खुद बच्चे देख रहे हैं। आरती, कुमकुम, चुलबुल, रोहित, रिमझिम आदि बच्चे कहते हैं कि सामान बिकने से जितने रुपये गुल्लक में आते हैं, उन्हीं से फिर आगे का सामान लाते हैं। कांटी स्थित इस स्कूल के प्रधानाध्यापक गोपाल फलक कहते हैं कि पहले बच्चों को सामान के लिए भटकना पड़ता था। इस दुकान का उद्देश्य बच्चों में स्वाबलंबन, नैतिक शिक्षा और ईमानदारी को जीवन में उतारना है। इन बच्चों की वजह से स्कूल आज मॉडल बन गया है।

Input : Live Hindustan

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर में 45 साल के बूढ़े आदमी के साथ लड़की का अ’श्लील वीडियो वायरल

Ravi Pratap

Published

on

इस वक्त एक बड़ी खबर आ रही है मुजफ्फरपुर से, जहां समाज को श’र्मशार करने वाली घटना सामने आई है. सोशल मीडिया पर 45 साल के एक बुजुर्ग के साथ लड़की का अ’श्लील वीडियो वायरल हो रहा है. बदमाशों ने खेत में अ’श्लील वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाला है. मामला सामने आने के बाद पुलिस कार्रवाई में जुटी हुई है.

 

वारदात जिले के सरैया थाना इलाके के जैतपुर ओपी की है. जहां सोशल मीडिया पर 45 साल के एक बुजुर्ग के साथ लड़की का अश्लील वीडियो वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में दिख रहे दोनों लोग खुद को चाचा-भतीजी बता रहे हैं. वीडियो में देखा जा रहा है कि लगभग 18 से 20 साल की एक लड़की 45 साल के एक बूढ़े आदमी के साथ देखी जा रही है. वीडियो बनाने वाले बदमाशों की भी आवाज़ वीडियो में सुनाई दे रही है. जब बदमाशों ने कैमरा ऑन कर उनके रिश्ते के बारे में पूछा तो उन्होंने चाचा-भतीजी होने की बात कही.

सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मुजफ्फरपुर पुलिस हरकत में आई है. एसएसपी जयंत कांत ने वायरल वीडियो की पुष्टि करने की बात कहते हुए बताया कि जांच की जा रही है. आरोपियों को चिन्हित कर उनके ऊपर कार्रवाई की जाएगी.

Input : Ajay Deep (First Bihar jh)

Continue Reading
Advertisement
BIHAR9 hours ago

डॉ. वशिष्ठ नारायण के निधन पर PM मोदी ने जताया शोक, कहा- देश ने खो दी विलक्षण प्रतिभा

TRENDING9 hours ago

लता मंगेशकर चौथे दिन भी आईसीयू में, हालत स्थिर; परिजन ने कहा-दुआओं के लिए शुक्रिया

BIHAR10 hours ago

रेड मारने गई बिहार पुलिस को उतारनी पड़ गई पैंट

MUZAFFARPUR10 hours ago

मुजफ्फरपुर प्लेटफार्म एक पर चलना दुश्वार, हर तरफ कब्जा

MUZAFFARPUR11 hours ago

ईमानदारी की दुकान चला रहे बच्चे

MUZAFFARPUR11 hours ago

मुजफ्फरपुर में 45 साल के बूढ़े आदमी के साथ लड़की का अ’श्लील वीडियो वायरल

vashishtha-narayan-singh
BIHAR13 hours ago

श्रद्धांजलि: 31 कंप्यूटर्स से भी तेज चलता था गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का दिमाग

INDIA14 hours ago

झारखंड में BJP को बड़ा झटका दे सकती है JDU-LJP, साथ चुनाव लड़ने के दिए संकेत

BIHAR16 hours ago

गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर सरकार खोलेगी इंजीनियरिंग कॉलेज, CM ने परिजनों को दिया भरोसा

BIHAR17 hours ago

वशिष्ठ नारायण सिंह के पार्थिव शरीर को एम्बुलेंस नहीं मिला, मुख्यमंत्री आने को हुए तो अधिकारियों ने रेड कारपेट बिछा दी

INDIA4 weeks ago

तेजस एक्सप्रेस की रेल होस्टेस को कैसे परेशान कर रहे लोग?

BIHAR3 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

BIHAR3 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के नदीम का भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम में चयन, जश्न का माहौल

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के लाल शाहबाज नदीम का क्रिकेट देखेगा पूरा विश्‍व, भारतीय टीम में शामिल होने पर पिता ने कही बड़ी बात

BIHAR2 weeks ago

मदीना पर आस्‍था तो छठी मइया पर भी यकीन, 20 साल से व्रत कर रही ये मुस्लिम महिला

BIHAR2 weeks ago

प्रत्यक्ष देवता की अनूठी अराधना का पर्व है छठ व्रत, जानें अनूठी परंपरा के बारे में कुछ खास बातें

MUZAFFARPUR3 weeks ago

धौनी ने नदीम से मिलकर कहा, गेंदबाजी एक्शन ही तुम्हारी पहचान

BIHAR4 weeks ago

अगले 10 दिनों तक भगवानपुर – घोसवर रेल मार्ग रहेगी बाधित, जाने कौन कौन सी ट्रेनें रहेंगी रद्द

INDIA2 weeks ago

छठ पूजा के दौरान दिखी यमुना की ख’तरनाक तस्वीर, सोशल मीडिया पर यूरोप की नदियों से की गई तुलना

Trending

0Shares