प्रत्यक्ष देवता की अनूठी अराधना का पर्व है छठ व्रत, जानें अनूठी परंपरा के बारे में कुछ खास बातें
Connect with us
leaderboard image

BIHAR

प्रत्यक्ष देवता की अनूठी अराधना का पर्व है छठ व्रत, जानें अनूठी परंपरा के बारे में कुछ खास बातें

Dr. Shekhar Shankar Mishra

Published

on

सम्पूर्ण जगत के प्रत्यक्ष और जाग्रत देवता भगवान् भास्कर की अभ्यर्थना–उपासना का चतुर्दिवसीय अनुष्ठान, हमारी कृषि संस्कृति का महत्त्वपूर्ण लोकपर्व ‘छठ’ केवल सनातन धर्मी श्रद्धालुओं का पारंपरिक पर्व ही नहीं, बल्कि यह अकेला ऐसा पर्व है, जिसने लोक और शास्त्र की विभाजक सीमाओं का अतिक्रमण करते हुए समाज में साम्प्रदायिकता की प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष दीवार को भी तोड़ा है, इसका मुख्य कारण प्रकृति और पर्यावरण से इसकी गहरी सम्बद्धता है. सम्पूर्ण ऋतुचक्र सूर्य की गति से ही नियंत्रित होता है, इस कारण समस्त प्राणिजगत के साथ सूर्य का प्राकृतिक तथा पर्यावरणिक सम्बन्ध है. सभी प्राणियों में सूर्य अंश रूप में विद्यमान हैं. ज्योतिष-शास्त्र कहता है कि सूर्य से ही व्यक्ति में तेज, बल, पराक्रम, मेधा और ऊर्जा का संचार होता है. सूर्य के निर्बल या वक्री होने की स्थिति में ये गुण क्षीण हो जाते हैं और उनकी विधिवत अभ्यर्थना- उपासना से इन गुणों को सबलता प्राप्त होती है. स्पष्ट है कि सूर्य हमारी सनातनधर्मी परंपरा में एक प्रत्यक्ष देवता के रूप सदा से पूज्य रहे हैं साथ ही कृषि और पर्यावरण से जुड़े सूर्य के प्रत्यक्ष सम्बन्ध लोक-जीवन से उन्हें जोड़े रखने में भी सहायक हुए हैं. नयी फसल के नवान्न और खाद्य-पौधों के साथ सम्पूर्ण प्रकृति और पर्यावरण के नियंता की अभ्यर्थना, वह भी अस्ताचलगामी स्वरूप को पहला अर्घ्य इसलिए कि हम पूरी नियम-निष्ठा से रात भर उनकी प्रतीक्षा करते हुए कल के भोर में उनका स्वागत कर सकें.

Image result for chhath puja hd"

मनुष्य समेत सभी प्राणियों में अपनी कोटि-कोटि किरणों से ऊर्जा का संचार करनेवाले, सम्पूर्ण प्रकृति की गति और लय के नियामक भगवान भास्कर के असीमित दाय के प्रति आस्था और कृतज्ञता प्रकट करने के उद्देश्य से समायोजित यह चार दिवसीय पवित्र अनुष्ठान एक साथ सामान्य जन और बुद्धिजीवी दोनों के लिए अपार आस्था का केंद्र है. अपने लौकिक स्वरूप में छठ तिथि मातृका की उपासना है तो शास्त्रीय स्वरूप में प्रकृति और पर्यावरण के सूत्रधार सूर्य के दाय के कृतज्ञ- स्मरण का अनुष्ठान भी. भारतीय संस्कृति में विभिन्न ऋतुओं में अलग-अलग पर्व-त्योहार के आयोजन होते हैं, सबके पौराणिक धार्मिक आधार भी हैं मगर छठ का स्वरूप भिन्न है, इसमें पौरोहित्य परम्परा का अतिक्रमण कर धार्मिक अनुष्ठान को सर्वजन सुलभ बनाने का एक सुनियोजित उपक्रम दिखाई देता है.

परम्परा विभंजन का यह अप्रत्यक्ष दर्शन भी इसे अन्य पर्वों की तुलना में महत्वपूर्ण बनाता है छठ पर्व के लौकिक, शास्त्रीय, सांस्कृतिक और वैज्ञानिक महत्व- निरूपण के क्रम में अनेक बिंदु उजागर हो सकते हैं किन्तु इस पूरे पर्व पर केवल प्रकृति और सूर्य की केन्द्रीयता में विचार करें तो भी इस पर्व के लगातार बढ़ते प्रसार और बदलते समय में भी इसके अक्षुण्ण महत्त्व का पता चल सकता है. यह अकेला पर्व है, जिससे समाज का हरेक वर्ग ही नहीं बल्कि परंपरा को सिरे से नकारनेवाली नयी पीढ़ी भी संवेदनात्मक जुड़ाव महसूस करती है. अपने माता-पिता और दूरदराज बसनेवाले अन्य सदस्यों से वर्ष भर में कम-से-कम एक बार मिलने का एक अच्छा अवसर है यह पर्व. कुछ लोग इसे संतान की कामना से जुड़ा पर्व मानते हैं मगर उस मामले में भी एकदम अनूठा है, इस अवसर पर गाये जाने वाले लोकगीतों में बेटों का महत्त्व है तो ‘रूनकी-झुनकी बेटी’ का भी. मूलतः सूर्योपासना के इस अनुष्ठान से छठी मइया का क्या सम्बन्ध है? यह जिज्ञासा स्वाभाविक है. इस व्रत का एक नाम प्रतिहार षष्ठी भी है. यह अनुष्ठान षष्ठी तिथि को पड़ता है. इसी ‘षष्ठी’ शब्द का लोकभाषा रूपांतर ‘छठी’ है, इस चार दिवसीय अत्यन्त पवित्र और कठिन अनुष्ठान में शुचिता की संरक्षिका और अभिभाविका के रूप में तिथिमातृका छठीमइया हमें सचेत और आश्वस्त करने के उपस्थित रहती हैं.

– डॉ. शेखर शंकर मिश्र

 

BIHAR

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल को अ’रेस्ट करने का आदेश

Santosh Chaudhary

Published

on

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद डॉ संजय जायसवाल मु’श्किल में फं’स गये हैं. संजय जायसवाल को बिहार पुलिस कभी भी गि’रफ्तार कर सकती है. लोकसभा चुनाव 2019 में संजय जायसवाल पर लोगों को भ’ड़काने और मा’रपीट करने का आ’रोप लगा था जिसके बाद इस मा’मले में घोड़ासहन थाना में FI’R द’र्ज कराया गया था.

क्या है मामला

मामला लोकसभा चुनाव का है. ये घटना 12 मई 2019 को मतदान के दौरान घोड़ासहन के नगरवा स्कूल मतदान केंद्र पर हुई थी. घोड़ाहसन से जुड़े इस मामले में संजय जायसवाल सहित नौ लोगों पर आरोप लगा था. पुलिस द्वारा जांच का जिम्मा ASP शैशव यादव को सौंपा गया था.

इस दौरान जांच में संजय जायसवाल पर लगे आरोपों को सत्य पाया गया है. मामला सत्य पाये जाने के बाद ASP शैशव यादव ने सभी आरोपियों की गिरफ्तारी और कुर्की-जब्ती करने का निर्देश दिया है.

बता दें कि संजय जायसवाल बिहार बीजेपी के अध्यक्ष हैं और बिहार की ही पश्चिमी चंपारण सीट से सांसद हैं. वो इस सीट से तीसरी बार सांसद बने हैं और इसके बाद उनको प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी गई है.

Continue Reading

BIHAR

पीयू में जीत गई पप्पू यादव की पार्टी, जाप के मनीष यादव बन गए नए प्रेसिडेंट

Santosh Chaudhary

Published

on

पटना विवि छात्र संघ चुनाव से जुड़ी सबसे बड़ी ख़बर ये है कि छात्र संघ चुनाव का फैसला आ गया है. फैसला जाप प्रमुख पप्पू यादव के पक्ष में आया है. उनकी पार्टी के छात्र इकाई ने जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए यूनिवर्सिटी में दो पदों पर छात्र जाप को जीत दिलाई है. छात्र जाप को पीयू के अध्यक्ष और ज्वाइंट सेक्रेटरी के पद पर विजय हासिल हुई है.

इसके साथ ही उपाध्यक्ष पद पर छात्र राजद के निशांत यादव ने बाजी मारी है. जेनरल सेक्रेटरी के पद पर एबीवीपी की प्रियंका श्रीवास्तव ने बाजी मारी और कोषाध्यक्ष के पद पर आईसा की कोमल कुमारी ने जीत दर्ज की है.

पांचवें और अंतिम चरण की गिनती बाद छात्र जाप के मनीष यादव ने जीत दर्ज कर ली. हालांकि वो लगातार तीसरे राउंड से ही बढ़त बनाए हुए थे. अपने कैंडिडेट की जीत के बाद जाप प्रमुख पप्पू यादव भी काफी खुश दिखे. वहीं छात्र राजद के निशांत यादव ने उपाध्यक्ष पद पर जीत के बाद कहा कि सभी मिलकर रहेंगे. सबका मुख्य मुद्दा विकास ही हैं. छात्र राजद के प्रेसिडेंट पद के प्रत्याशी आयुष को कुल 2375 वोट मिले जबकि जीत दर्ज करने वाले जाप के मनीष को कुल 2815 वोट मिले हैं.

पांचवें राउंड की गिनती के बाद जीते हुए प्रत्याशी के नाम और उनके द्वारा हासिल किए गए वोटों की संख्या-

  • मनीष यादव- प्रेसिडेंट (JACP) – 2815 वोट
  • निशांत यादव- वाइस प्रेसिडेंट (CRJD)- 2910 वोट
  • प्रियंका श्रीवास्तव – जेनरल सेक्रेटरी (ABVP)- 3731 वोट
  • आमिर रज़ा – ज्वाइंट सेक्रेटरी (JACP)- 3143 वोट
  • कोमल कुमारी – कोषाध्यक्ष (AISA) – 2238 वोट

लगातार बढ़त बनाए हुए थे मनीष

पीयू के प्रेसिडेंट पद के लिए छात्र राजद के आयुष और छात्र जाप के मनीष के बीच कड़ी टक्कर चल रही थी. दोनों एक-दूसरे के करीब ही चल रहे थे. लेकिन तीसरे राउंड की गिनती के बाद जो बढ़त मनीष ने बनाई वो कभी खत्म नहीं हुई औऱ पांचवें औऱ अंतिम राउंड की मतगणना के बाद पीयू के प्रेसिडेंट घोषित कर दिए गए. सेंट्रल पैनल में छात्र जाप, छात्र राजद, एबीवीपी और आईसा ने जगह बनाई है.

Input : Live Cities

 

Continue Reading

BIHAR

प्याज के बाद लहसुन की बारी, बिहार में 64 बोरी लू’ट ले गए लु’टेरे

Santosh Chaudhary

Published

on

प्याज और लहसुन के दाम में बेतहाशा उछाल के साथ अब ये लु’टेरों के निशाने पर आने लगे हैं. कैमूर जिले के कुदरा थाना क्षेत्र में लु’टेरे एक वाहन से 64 बोरी यानी करीब 1920 किलोग्राम लहसुन लू’टकर फरा’र हो गए. इस मामले की प्रा’थमिकी कुदरा थाना में दर्ज कराई गई है. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

प्रतीकात्मक तस्वीर

कार पर सवार होकर आए 3 लुटेरे

कुदरा के थाना प्रभारी रणवीर वर्मा ने शनिवार को समाचार एजेंसी आईएएनएस को बताया कि कैमूर जिले के सोनहन थाना क्षेत्र का रहने वाला अशोक कुमार सिंह दो दिन पहले अपने पिकअप वैन से बनारस से 64 बोरी लहसुन लेकर सासाराम मंडी में पहुंचाने जा रहा था.

उन्होंने बताया कि शुक्रवार रात करीब 11 बजे कुदरा थाना क्षेत्र के पछाड़गंज के पास एक कार पर सवार होकर आए दो से तीन लुटेरे आए. उन्होंने पीड़ित की गाड़ी को रुकवाकर उसे अपनी गाड़ी में बैठा लिया और दो-तीन घंटे विभिन्न सड़कों पर घुमाने के बाद फिर से उसे पछाड़गंज के पास ही कार से उतारकर दिया. आरोपियों ने उससे कहा कि यहां से एक किलोमीटर दूर पिकअप वैन खड़ी है, उसे ले जाओ.

64 बोरियां थी गायब

इस दौरान लुटेरों ने अशोक से मोबाइल फोन और करीब 10 हजार रुपये भी छीन लिए. अशोक को एक किलोमीटर दूर अपनी पिकअप वैन तो मिल गई, लेकिन उस पर लदी लहसुन की 64 बोरियां गायब थीं सिर्फ एक बोरी छोड़ दी गई थी, जिसमें 30 किलोग्राम लहसुन था.

थाना प्रभारी वर्मा ने बताया कि पिकअप वैन मालिक अशोक के लिखित बयान पर लहसुन लूट की प्राथमिकी कुदरा थाना में दर्ज कर ली गई है. पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है. क्षेत्र में इस अजीबोगरीब घटना की चर्चा है. बिहार में लहसुन इस समय 300 से 400 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से बिक रहा है.

Continue Reading
Advertisement
BIHAR43 mins ago

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल को अ’रेस्ट करने का आदेश

BIHAR49 mins ago

पीयू में जीत गई पप्पू यादव की पार्टी, जाप के मनीष यादव बन गए नए प्रेसिडेंट

BIHAR3 hours ago

प्याज के बाद लहसुन की बारी, बिहार में 64 बोरी लू’ट ले गए लु’टेरे

BIHAR13 hours ago

बिहार के अररिया में फिर ब’ड़ी वा’रदात, दु’ष्क’र्म के बाद ब’च्ची को रे’ड लाइट एरिया में बे’चा

BIHAR15 hours ago

चुनाव से पहले हर घर में नल का जल : CM नीतीश

MUZAFFARPUR16 hours ago

मुजफ्फरपुर: ABVP के कार्यालय पर ह’मला, लाखो रुपये के लू’ट का लगाया आ’रो’प

MUZAFFARPUR17 hours ago

मुजफ्फरपुर : आप भी ऑटो से आना-जान करते हैं तो हमेशा रहें सावधान, बाद में सिर धुनने से कुछ भी हाथ नहीं लगने वाला

BIHAR17 hours ago

NEET: करना चाहते हैं रजिस्‍ट्रेशन तो देर ना करें, जारी हो गया है परीक्षा का शेड्यूल

BIHAR18 hours ago

3.75 लाख कांट्रैक्‍ट शिक्षकों को CM नीतीश का तोहफा, अब सेवा काल में तीन प्रमोशन

MUZAFFARPUR18 hours ago

मुज़फ़्फ़रपुर के निबंधन कार्यालय में निगरानी विभाग की छा’पेमारी

TRENDING1 week ago

अक्षय कुमार के गाने फिलहाल ने तोड़ा वर्ल्ड रिकॉर्ड, सबसे कम समय में 100 मिलियन व्यूज़ मिले

INDIA5 days ago

12वीं पास के लिए CISF में नौकरियां, 81,100 होगी सैलरी

OMG3 days ago

पति ने खुद की पढ़ाई रोककर पत्नी को पढ़ाया, नौकरी लगते ही पत्नी ने दूसरी शादी कर ली

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर बैंक मैनेजर की ह’त्या करने पहुचे शूट’र की लो’डेड पिस्ट’ल ने दिया धो’खा, लोगो ने जम’कर पी’टा

INDIA1 week ago

डॉक्टर गैंगरे’प: पुलिस ने बताई उस रात की है’वानियत की कहानी

MUZAFFARPUR1 week ago

मुजफ्फरपुर में 8 ब’म मिलने से ह’ड़कंप, घर में छिपाकर रखा गया था ब’म

BIHAR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर पहुंची श्रीराम जानकी विवाह बरात का शंख ध्वनि के बीच भव्य स्वागत

MUZAFFARPUR3 weeks ago

मुजफ्फरपुर का थानेदार नामी गुं’डा के साथ मनाता है जन्मदिन! केक काटते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल…खाक होगा क्रा’इम कंट्रोल?

BIHAR5 days ago

बिहार पुलिस: सब इंस्‍पेक्‍टर के 221 पदों के ल‍िये आवेदन शुरू, 1 लाख से ज्‍यादा होगी सैलरी

INDIA2 days ago

है’दरा’बाद गैं’गरे’प: एनका’उंटर पर आ’रोपी की पत्‍नी बोली- जहां पति को मा’रा, वहीं मुझे भी मा’र दो

Trending

0Shares