Connect with us

BIHAR

प्रत्यक्ष देवता की अनूठी अराधना का पर्व है छठ व्रत, जानें अनूठी परंपरा के बारे में कुछ खास बातें

Published

on

सम्पूर्ण जगत के प्रत्यक्ष और जाग्रत देवता भगवान् भास्कर की अभ्यर्थना–उपासना का चतुर्दिवसीय अनुष्ठान, हमारी कृषि संस्कृति का महत्त्वपूर्ण लोकपर्व ‘छठ’ केवल सनातन धर्मी श्रद्धालुओं का पारंपरिक पर्व ही नहीं, बल्कि यह अकेला ऐसा पर्व है, जिसने लोक और शास्त्र की विभाजक सीमाओं का अतिक्रमण करते हुए समाज में साम्प्रदायिकता की प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष दीवार को भी तोड़ा है, इसका मुख्य कारण प्रकृति और पर्यावरण से इसकी गहरी सम्बद्धता है. सम्पूर्ण ऋतुचक्र सूर्य की गति से ही नियंत्रित होता है, इस कारण समस्त प्राणिजगत के साथ सूर्य का प्राकृतिक तथा पर्यावरणिक सम्बन्ध है. सभी प्राणियों में सूर्य अंश रूप में विद्यमान हैं. ज्योतिष-शास्त्र कहता है कि सूर्य से ही व्यक्ति में तेज, बल, पराक्रम, मेधा और ऊर्जा का संचार होता है. सूर्य के निर्बल या वक्री होने की स्थिति में ये गुण क्षीण हो जाते हैं और उनकी विधिवत अभ्यर्थना- उपासना से इन गुणों को सबलता प्राप्त होती है. स्पष्ट है कि सूर्य हमारी सनातनधर्मी परंपरा में एक प्रत्यक्ष देवता के रूप सदा से पूज्य रहे हैं साथ ही कृषि और पर्यावरण से जुड़े सूर्य के प्रत्यक्ष सम्बन्ध लोक-जीवन से उन्हें जोड़े रखने में भी सहायक हुए हैं. नयी फसल के नवान्न और खाद्य-पौधों के साथ सम्पूर्ण प्रकृति और पर्यावरण के नियंता की अभ्यर्थना, वह भी अस्ताचलगामी स्वरूप को पहला अर्घ्य इसलिए कि हम पूरी नियम-निष्ठा से रात भर उनकी प्रतीक्षा करते हुए कल के भोर में उनका स्वागत कर सकें.

Image result for chhath puja hd"

मनुष्य समेत सभी प्राणियों में अपनी कोटि-कोटि किरणों से ऊर्जा का संचार करनेवाले, सम्पूर्ण प्रकृति की गति और लय के नियामक भगवान भास्कर के असीमित दाय के प्रति आस्था और कृतज्ञता प्रकट करने के उद्देश्य से समायोजित यह चार दिवसीय पवित्र अनुष्ठान एक साथ सामान्य जन और बुद्धिजीवी दोनों के लिए अपार आस्था का केंद्र है. अपने लौकिक स्वरूप में छठ तिथि मातृका की उपासना है तो शास्त्रीय स्वरूप में प्रकृति और पर्यावरण के सूत्रधार सूर्य के दाय के कृतज्ञ- स्मरण का अनुष्ठान भी. भारतीय संस्कृति में विभिन्न ऋतुओं में अलग-अलग पर्व-त्योहार के आयोजन होते हैं, सबके पौराणिक धार्मिक आधार भी हैं मगर छठ का स्वरूप भिन्न है, इसमें पौरोहित्य परम्परा का अतिक्रमण कर धार्मिक अनुष्ठान को सर्वजन सुलभ बनाने का एक सुनियोजित उपक्रम दिखाई देता है.

परम्परा विभंजन का यह अप्रत्यक्ष दर्शन भी इसे अन्य पर्वों की तुलना में महत्वपूर्ण बनाता है छठ पर्व के लौकिक, शास्त्रीय, सांस्कृतिक और वैज्ञानिक महत्व- निरूपण के क्रम में अनेक बिंदु उजागर हो सकते हैं किन्तु इस पूरे पर्व पर केवल प्रकृति और सूर्य की केन्द्रीयता में विचार करें तो भी इस पर्व के लगातार बढ़ते प्रसार और बदलते समय में भी इसके अक्षुण्ण महत्त्व का पता चल सकता है. यह अकेला पर्व है, जिससे समाज का हरेक वर्ग ही नहीं बल्कि परंपरा को सिरे से नकारनेवाली नयी पीढ़ी भी संवेदनात्मक जुड़ाव महसूस करती है. अपने माता-पिता और दूरदराज बसनेवाले अन्य सदस्यों से वर्ष भर में कम-से-कम एक बार मिलने का एक अच्छा अवसर है यह पर्व. कुछ लोग इसे संतान की कामना से जुड़ा पर्व मानते हैं मगर उस मामले में भी एकदम अनूठा है, इस अवसर पर गाये जाने वाले लोकगीतों में बेटों का महत्त्व है तो ‘रूनकी-झुनकी बेटी’ का भी. मूलतः सूर्योपासना के इस अनुष्ठान से छठी मइया का क्या सम्बन्ध है? यह जिज्ञासा स्वाभाविक है. इस व्रत का एक नाम प्रतिहार षष्ठी भी है. यह अनुष्ठान षष्ठी तिथि को पड़ता है. इसी ‘षष्ठी’ शब्द का लोकभाषा रूपांतर ‘छठी’ है, इस चार दिवसीय अत्यन्त पवित्र और कठिन अनुष्ठान में शुचिता की संरक्षिका और अभिभाविका के रूप में तिथिमातृका छठीमइया हमें सचेत और आश्वस्त करने के उपस्थित रहती हैं.

– डॉ. शेखर शंकर मिश्र

 

MUZAFFARPUR

गायघाट में राजद विधायक ने किया नदी के कटाव स्थल का निरीक्षण, ग्रामीणों ने कहां इस बार नदी में समाएगा ‘पूरा गांव

Published

on

गायघाट । प्रखंड के जमालपुर कोदई पंचायत अंतर्गत गोसाईटोल गांव में बागमती नदी सुरक्षा तटबंध के कटाव स्थल का विधायक निरंजन राय ने निरीक्षण किया। विधायक ने कटाव स्थल पर जाकर स्थिति का जायजा लिया। इस दौरान ग्रामीणों ने शीघ्र कटाव रोकने को लेकर निर्माण करवाने व क्षतिग्रस्त तटबंध की मरम्मति कराने के लिए विधायक से आग्रह किया।

ग्रामीणों ने कहा कि गोसाईटोल गांव में तटबंध पूरी तरह से क्षतिग्रस्त है। अगर तटबंध की मरम्मति नहीं कराया गया हो इस बार के बाढ़ में पूरा गांव नदी में समां जाएगा। इसे देखते हुए उक्त जगह पर कटाव की मरम्मत बनाने की बहुत आवश्यकता है। अन्यथा आने वाले समय मे गांव पूरी तरह तबाह होकर नदी में समां जाएगा। ग्रामीणों ने कहा कि बागमती नदी का तटबंध कई जगहों पर क्षतिग्रस्त है।

वहीं विधायक निरंजन राय ने कहा कि ग्रामीणों की शिकायत पर वे बाढ़ की पूर्व तैयारी के तहत बागमती नदी के तटबंध का निरीक्षण किया है। आने वाले समय मे स्थिति भयावह हो सकती है।

इसलिए तटबंध की मरम्मति बहुत ही आवश्यक है।ग्रामीणों ने इसको लेकर जल संसाधन विभाग के मंत्री संजय झा व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ध्यान आकृष्ट कराने का मांग विधायक से की है। मौके पर राजद के प्रखंड अध्यक्ष सुनील कुमार राय, अरविंद राय, स्थानीय मुखिया समेत अन्य लोग भी मौजूद थे

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर : 5 अपराधकर्मी गिरफ्तार ; हथियार, स्मैक व चोरी की ट्रक हुआ बरामद

Published

on

मुजफ्फरपुर पुलिस ने ट्रक चोरी गिरोह के दो सक्रिय सदस्य को ट्रक समेत गिरफ्तार किया है.पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि कुछ अपराधकर्मी मोतिहारी जाने वाली NH पर एक चोरी की ट्रक लेकर भाग रहे है.सूचना के आलोक पर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में एक टीम गठित किया गया.टीम के द्वारा अहियापुर थाना क्षेत्र के बखरी पेट्रोल पंप के पास उक्त चोरी की गई ट्रक के साथ 2 अपराधियो को गिरफ्तार कर लिया.वही एक अपराधी मौके से भाग निकला.गिरफ्तार अपराधियो की पहचान इंद्रजीत सहनी व शाहनवाज अंसारी के रूप में हुई है.जिनके पास से एक देशी कट्टा,एक गोली व ट्रक जप्त किया गया है.

पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार को गुप्त सूचना मिली कि दादर पुल के समीप कुछ अपराध कर्मी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए एकत्रित हुए है.सूचना के आलोक पर टीम गठित कर छापेमारी की गई.जहाँ से सोमन सहनी, रवीश सहनी और पप्पू कुमार को गिरफ्तार किया गया.उनके पास से एक पिस्तौल,2 गोली और 15 पुड़िया स्मैक बरामद किया गया है.

सभी अपराधियो को जेल भेजा जा रहा है.

उक्त जानकारी सिटी एसपी राजेश कुमार ने प्रेस वार्ता कर जानकारी दी है.

Continue Reading

BIHAR

कोरोना की रिपोर्ट आई निगेटिव, हॉस्पिटल ने बताया पॉजिटिव, शरीर में कई जगह चीड़ फाड़ से भड़के परिजन, अंग निकालने का आरोप

Published

on

पटना के मेडिवर्सल हॉस्पिटल में भर्ती कंकड़बाग के एक मरीज की संदिग्ध मौत के बाद परिजनों ने जमकर बवाल किया। परिजनों ने आरोप लगाया है कि मरीज की रिपोर्ट कोरोना निगेटिव आई इसके बाद भी अस्पताल पॉजिटिव बताकर इलाज किया। रविवार को मौत घोषित कर दिया गया। परिजनों का आरोप है कि मरीज के शरीर पर कई जगह चीड़ फाड़ किया गया है। आशंका है कि मरीज के आर्गन निकाल लिए गए हैं। पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुटी है।

कंकड़बाग के रहने वाले 54 साल के उदय शंकर को सांस में तकलीफ हाेने पर घर वालों 9 जून को मेडिवर्सल हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। उदय के रिश्तेदार महेंद्र ने बताया कि मरीज को भर्ती कराने के बाद पहले डॉक्टरों ने बताया कि कोरोना नहीं है। जांच की रिपोर्ट भी मोबाइल पर आई कि कोरोना नहीं है। इसके बाद डॉक्टरों ने कह दिया कि कोरोना है और कोरोना का इलाज किया जा रहा है। परिजनों का आरोप है कि इस दौरान उनकी हालत ठीक थी लेकिन इलाज के दौरान लगातार हालत बिगड़ती गई। घर वालों का कहना है कि जब सेहत में सुधार नहीं होने पर वह उसे लेकर दूसरे हॉस्पिटल में ले जाना चाहते थे लेकिन इस बीच रविवार को मरीज की मौत घोषित कर दी गई।

कोरोना के इलाज में क्यों किया गया चीड़फाड़

मरीज के घर वालों का कहना है कि रविवार को बताया गया कि मरीज की मौत हो गई है। आरोप है कि मरीज के शरीर में कई जगह चीड़ फाड़ कर दिया गया है। इससे घर वालों ने आर्गन निकालने की आशंका जताई है। परिजनों का कहना है कि जब कोरोना का इलाज चल रहा था तो उसमें ऑपरेशन किस बात का किया गया है। ऑपरेशन किया गया है तो घर वालों को इसकी जानकारी क्यों नहीं दी गई है। इसे लेकर हॉस्पिटल पर तरह तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं।

पुलिस से मुकदमा दर्ज कर जांच कराने की मांग

कंकड़बाग थाना को दिए गए आवेदन में मरीज के परिजनों ने आरोप लगाया है कि मेडिवर्सल हॉस्पिटल में मरीज की ठीक तरह से इलाज नहीं किया गया है। आरोप यह लगाया गया है कि दूसरे चीज का इलाज किया गया है। परिवार के अमरनाथ ने पुलिस से मुकदमा दर्ज कर जांच कराने की मांग की है। परिजनों की मांग है कि इस मामले में पोस्टमार्टम कराया जाए और यह पता लगाया जाए कि ऑपरेशन किस चीज का किया गया है और जब कोरोना का इलाज किया जा रहा था तो ऑपरेशन क्यों किया जा रहा है।

परिजनों का आरोप है कि मरीज के शरीर में पेट से लेकर कई जगह चीड़ फाड़ किया गया है जो संदेह पैदा कर रहा है। घर वालों की शिकायत पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। मरीज के परीजन अस्पताल के बाहर बवाल मचाए हैं। वह पोस्टमार्टम की मांग कर रहे हैं।

Input: dainik bhaskar

Continue Reading
MUZAFFARPUR22 mins ago

गायघाट में राजद विधायक ने किया नदी के कटाव स्थल का निरीक्षण, ग्रामीणों ने कहां इस बार नदी में समाएगा ‘पूरा गांव

VIRAL34 mins ago

देखते ही देखते जमीन में समां गई कार, मानसून से पहले ही भयानक है मुंबई की तस्वीर

WORLD2 hours ago

चीन फिर लाया चमगादड़ थ्योरी, वैज्ञानिकों ने 24 तरह के नए नोवेल कोरोना वायरस मिलने का किया दावा

MUZAFFARPUR5 hours ago

मुजफ्फरपुर : 5 अपराधकर्मी गिरफ्तार ; हथियार, स्मैक व चोरी की ट्रक हुआ बरामद

BIHAR5 hours ago

कोरोना की रिपोर्ट आई निगेटिव, हॉस्पिटल ने बताया पॉजिटिव, शरीर में कई जगह चीड़ फाड़ से भड़के परिजन, अंग निकालने का आरोप

OMG5 hours ago

दुनिया का सबसे महंगा आम, जो दुकान पर नहीं मिलता, लगती है बोली

BIHAR8 hours ago

वीडियो: पवन सिंह का गाना बजते ही बेकाबू हुए मुखिया पति, बार बालाओं संग लगाए ठुमके

BIHAR8 hours ago

साथ काम करने वाली एक भी औरत को नहीं छोड़ा, यह अधिकारी इंसान है या…सीतामढ़ी बाल संरक्षण इकाई का मामला

BIHAR8 hours ago

शादी करना चाह रहे लोगों के लिए अच्छी खबर, जून-जुलाई में 23 लग्न; फिर करना होगा चार महीने इंतजार

BIHAR8 hours ago

बिहार में जुलाई से अनलॉक हो सकते हैं शिक्षण संस्‍थान, पटरी पर आएगी शिक्षा व्‍यवस्‍था!

BIHAR2 weeks ago

23 बैंकों के विलय की तैयारी, रिजर्व बैंक ने दी सहमति तो बिहार में पूरी तरह बदल जाएगी व्‍यवस्‍था

INDIA5 days ago

‘बाबा का ढाबा’ के मालिक वापस उसी जगह पर आए जहां से मिलीं थीं सुर्खियां, बंद हुआ नया रेस्टोरेंट

BIHAR6 days ago

बचपन में नीतीश के कार्यक्रम में दिया था भाषण, अब BPSC परीक्षा में मारी बाजी

INDIA3 days ago

आज साल का पहला सूर्य ग्रहण, जानिए किन शहरों में दिखेगा ये नज़ारा

BIHAR4 weeks ago

बिहार में आज से लागू हुई लॉकडाउन की नई गाइडलाइन, देखें पाबंदियों और सहूलियतों की सूची

BIHAR4 days ago

पांच बेटियों के पिता के पास ब्याह के लिए नहीं थे पैसे, बेटे ने किडनी बेचने की कर ली तैयारी

BIHAR1 week ago

बिहार : इन 5 जिलों में भारी वज्रपात के आसार, घरों से नहीं निकलने की चेतावनी जारी

INDIA3 weeks ago

IAS बनने के लिए HR की नौकरी छोड़ी, दो बार असफल होने के बाद डिप्रेशन में बन गई ‘कूड़ा बीनने वाली’

BIHAR2 weeks ago

बिहार में लॉकडाउन-4, यहां देखें लिस्ट 2 जून से क्या खुलेंगे और क्या रहेगा बंद

INDIA2 weeks ago

11वीं के छात्र संग फरार हुई महिला टीचर, घर पर रोज 4 घंटे पढ़ाती थी ट्यूशन

Trending