बिहार का देवघर है बाबा गरीबनाथ का मंदिर, सावन में यहां पूरी होती है हर मुराद

0
160
baba-garibnath-dham-muzaffarpur
Pic by Aman

सावन का महीना शुरू हो गया है. इसके साथ ही बाबा गरीबनाथ धाम की महत्‍ता भी बढ़ गई है. है. सावन के महीने में बाबा गरीबनाथ की पूजा-अर्चना के लिए दूद-दूर से श्रद्धालु आते हैं.

 

सावन का महीना शुरू हो गया है. इसके साथ ही बाबा गरीबनाथ धाम की महत्‍ता भी बढ़ गई है. है. सावन के महीने में बाबा गरीबनाथ की पूजा-अर्चना के लिए दूद-दूर से श्रद्धालु आते हैं.

baba-garibnath-dham-muzaffarpur
Pic by Aman

इस पावन महीने के हर सोमवार को सोनपुर के पहलेजा घाट से गंगा जल लाकर कांवड़िए बाबा की पूजा अर्चना करते हैं. झारखंड के बिहार से अलग होने के बाद बाबा गरीबनाथ मंदिर में देवघर के बाद सबसे अधिक श्रद्धालु आते हैं.

हर साल बढ़ती जा रही है गरीबनाथ की प्रसिद्धि

मुजफ्फरपुर स्थित बाबा गरीबनाथ धाम वर्षों से श्रद्धालुओं के आस्था और श्रद्धा का केन्द्र रहा है. मनोकामना लिंग के रूप में भक्तों के बीच ख्याति पाए बाबा की महिमा की प्रसिद्धि हर साल बढ़ती ही जा रही है.

सावन के महीने में विशेषकर सोमवार को सोनपुर के पहलेजा घाट से 70 किलोमीटर की दूरी तय कर कांवड़ियों का जत्था लाखों की संख्या में पवित्र गंगा जल से बाबा का जलाभिषेक करते हैं.

देवघर की तर्ज पर बाबा गरीबनाथ धाम में भी डाक बम गंगा जल लेकर महज 12 घंटे में बाबा का जलाभिषेक करने की परंपरा रही है. भक्तों की बीच बाबा की प्रसिद्धि ऐसी कि हर साल 10 से 15 फीसदी कांवड़ियों की संख्या बाबा को जलाभिषेक करने के लिए बढ़ते चले जा रहे हैं.

Baba Garibnath dham, Muzaffarpur, Bihar, Relegious Center

तीन सौ साल पुराना है बाबा गरीबनाथ का इतिहास

ऐतिहासिक और धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बाबा गरीबनाथ धाम का तीन सौ साल पुराना इतिहास रहा है. लेकिन मिले दस्तावेज के अनुसार 1812 ई. में इस स्थान पर छोटे मंदिर में बाबा की पूजा-अर्चना होती रही थी. मान्यता है कि सात पीपल का पेड़ यहां के घने जंगल में थे. पेड़ की कटा के समय अचानक खून जैसे लाल पदार्थ निकलने और विशालकाय शिवलिंग के बाद जमीन मालिक को रात में बाबा ने स्वप्न दिया, जिसके बाद विधिवत पूजा-अर्चना की जाने लगी.

मान्यता है कि बेहद ही गरीब आदमी के बेटी के विवाह के लिए घर में कुछ भी नहीं था, लेकिन बाबा के दर्शन के बाद सारे सामानों की आपूर्ति अपने-आप हो गई तबसे से लोगों के बीच गरीबनाथ धा्म के रूप में बाबा की प्रसिद्धि हुई.

सावन के हर सोमवार को जुटने वाली श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए मंदिर प्रबंधन के साथ ही जिला प्रशासन ने भी तैयारी पूरी कर ली है.

भक्‍तों के लिए है विशेष इंतजाम

500 स्वयंसेवकों के साथ ही सीसीटीवी कैमरे और भारी संख्या में पुलिस बलों की तैनाती श्रावणी मेले के लिए की गई है. साल 2006 में मंदिर न्यास समिति द्वारा बाबा गरीबनाथ मंदिर के देखरेख और प्रबंधन का जिम्मा लेने के बाद लगातार बाबा गरीबनाथ मंदिर समिति की आय बढ़ती चली रही है.

यही वजह है कि आय के मामले में बिहार में तीसरे स्थान पर पहुंचने वाले बाबा गरीबनाथ धाम मंदिर अब समाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने लगा है.

Input : News18

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?