Connect with us

BIHAR

गांव का बेटा मंत्री’ लेकिन बांस के पुल के सहारे कट रही लोगों की जिंदगी

Published

on

सुपौल. बिहार में बाढ़ (Bihar Flood) लगातार तबाही मचा रही है. एक तरफ कोसी (Kosi River) में बढ़े जलस्तर ने जहां सुपौल जिले के कई इलाकों को जलमग्न करते हुए तबाही मचाई है तो वहीं कई इलाके ऐसे है भी जहां अभी भी बाढ़ के समय चचरी यानी बांस के पुल के सहारे लोग आवाजाही करते हैं और इसी पुल को पार कर के मुख्य सड़क पर पहुंचते हैं.

3 हजार की आबादी का एकमात्र सहारा

ऐसा ही एक गांव है मोदी सरकार में मंत्री आरके सिंह का. सुपौल जिला मुख्यालय से मात्र 6 किलोमीटर दूर बासबट्टी पंचायत है जो केंद्रीय ऊर्जा मंत्री और आरा से बीजेपी के सांसद आरके सिंह का पैतृक गांव है. इसी पंचायत के मुसहरी गांव के करीब 3 हजार लोगो की जिंदगी एक चचरी पुल के सहारे चल रही है.

पैदल से लेकर बाइक सवार तक इसी रास्ते का करते हैं उपयोग

गांव से मुख्य सड़क जाने के बीच बाढ़ का पानी जमा रहता है लिहाजा गांव वालों को बाजार जाना हो या फिर अस्पताल बांस के बने चचरी के सहारे पर करना पड़ता है. इस बांस के चचरी के सहारे लोग साइकिल, मोटरसाइकल लेकर पार होते है जो बेहद खतरनाक है. थोड़ी भी चूक हुई तो बड़ा हादसा हो सकता है.

बांस से बने पुल के सहारे आते-जाते केंद्रीय मंत्री आरके सिंह के गांंव के लोग

चंदा जमा कर गांव वाले हर साल बनाते है चचरी पुल

मुसहरी गांव के लोग हर साल चचरी पुल का निर्माण करते हैं. हर साल होने वाली बारिश और बाढ़ में यह चचरी पुल टूटकर बिखर जाता है. गांव के निवासी राधेश्याम सदा का कहना है कि हर साल गांव वाले आपस मे चंदा कर चचरी पुल का निर्माण करते हैं. बारिश और बाढ़ के कारण हर साल ये पुल टूट जाता है. बासबिट्टी के मुसहरी में रहने वाले कैलाश मुखिया का कहना है कि गांव वाले कई साल से एक पुलिया बनाने की मांग कर रहे हैं पर आजतक किसी ने हमारी बात नहीं सुनी. केंद्रीय मंत्री का गांव होने के नाते हमलोगों को ये उम्मीद थी कि चचरी के पुल से छुटकारा मिलेगा पर अभी तक ऐसा नहीं हो सका है और गांव की पूरी आबादी इसी पुल के सहारे जीने को विवश है.

BIHAR

बिहार में 7 अगस्त से खुलेंगे स्कूल-कोचिंग संस्थान, सरकार ने लिया निर्णय

Published

on

बिहार में अनलॉक-5 को लेकर क्राइसिस मैनजमेंट ग्रुप की बैठक खत्म हो गयी. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में हुई आपदा प्रबंधन की बैठक में कई निर्णय लिए गए.

Continue Reading

BIHAR

वीडियो : सांप काटने से अचेत था एक साल का मासूम, अस्पताल में मोबाइल फ्लैश की रोशनी में हुआ इलाज

Published

on

सहरसा. बिहार में एक बार फिर से स्वास्थ्य महकमे की सच्चाई को उजागर करती शर्मनाक तस्वीर सामने आई है. मामला सहरसा से जुड़ा है जहां सदर अस्पताल की लापरवाही दिखी है वो भी ऐसी लापरवाही जिससे एक मासूम मरीज की जान भी जा सकती थी. अस्पताल में सांप काटने के बाद इलाज के लिए पहुंचे एक साल के छोटे बच्चे का इलाज मोबाइल फ्लैश की रोशनी में करना पड़ा. छोटे बच्चे को सांप काटने के बाद जब परिजन भागे-भागे सदर अस्पताल पहुंचे तो उसे इमरजेंसी वार्ड में इलाज के लिये लाया गया.

बच्चे को इलाज के लिए तो इमरजेंसी में भर्ती ले लिया गया लेकिन इस दौरान अस्पताल में बिजली नही थी और ना ही जेनरेटर चलाया गया. खास बात तो यह है कि जेनरेटर में डीजल ही नहीं था. लाईन कटने के बाद संविदा पर जेनरेटर कर्मी तेल लाने गया तब तक तकरीबन 45 मिनट तक बच्चे का इलाज मोबाइल के टोर्च की रोशनी के सहारे किया गया लेकिन इस दौरान प्रशासन 45 मिनट तक मुकदर्शक बना रहा.

इस दौरान मोबाईल टोर्च की रोशनी पर बच्चे का इलाज चलता रहा फिर 45 मिनट तक इलाज के बाद जेनरेटर में तेल डालने के लिए कर्मचारी पहुंचा. बच्चे का इलाज कर रहे डॉक्टर की मानें तो बच्चे की हालत सांप काटने से गंभीर थी और उसका इलाज करना जरूरी था इस कारण उन्होंने बिना वक्त गंवाए ही मोबाइल की रोशनी में इलाज शुरू कर दिया.

ऐसे में सवाल यह है कि क्या सदर अस्पताल में टॉर्च की रोशनी में इलाज करना कितना सही है. क्या बिजली गुल होने के बाद जेनरेटर के लिये डीजल लाने जाना कितना उचित है. क्या ऑपरेशन के दौरान बिजली गुल होने के बाद भी टॉरच की रोशनी में ऑपरेशन किया जाता. मामले की जानकारी जब न्यूज 18 के माध्यम से बड़े अधिकारियों तक पहुंची तो सिविल सर्जन अवधेश प्रसाद जांच के लिए सदर अस्पताल पहुंचे. उन्होंने सदर अस्पताल में अनुबंध पर जेनरेटर चला रहे संवेदक से स्पष्टीकरण मांगा है साथ ही संवेदक को काली सूची में डालने डालने की कही बात. उन्होंने इमरजेंसी में आज ही शाम पांच बजे तक इन्वर्टर लगाने का आदेश दिया है.

Source : News18

Continue Reading

BIHAR

पटना के नए बस स्‍टैंड में एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं, एसी वीआइपी लाउंज में करें इंतजार; फ्री मिलेगा इंटरनेट

Published

on

बिहार की राजधानी पटना में नवनिर्मित पाटलिपुत्र आइएसबीटी बस स्टैंड को एयरपोर्ट की तर्ज पर विकसित किया जा रहा है। मुख्य भवन के फर्श पर ग्लेज्ड टाइल्स लगा इसे एयरपोर्ट का लुक दिया जा रहा है। एयरपोर्ट की तर्ज पर ही यहां लगातार साफ-सफाई की जा रही है। अब इसे एयरपोर्ट की तर्ज पर विकसित करने के लिए यहां के मुख्य भवन में ही दूसरे तल्ले पर अत्याधुनिक सुख-सुविधाओं से लैस वीआइपी लाउंज का निर्माण किया जा रहा है। लाउंज की फर्श बनकर तैयार है। शीघ्र ही यहां सारी अत्याधुनिक सुविधाएं मुहैया करा दी जाएंगी।

पूरी तरह वातानुकूलित, फ्री में मिलेगा इंटरनेट

आधिकारिक सूत्रों की मानें तो नवनिर्मित पाटलिपुत्र बस स्टैंड पर वीआइपी यात्रियों के लिए एयरपोर्ट की तर्ज पर वीआइपी लाउंज विकसित किया जा रहा है। वीआइपी लाउंज लगभग बनकर तैयार हो चुका है। इस लाउंज में लक्जरी सोफा, लक्जरी सेंटर टेबल के साथ ही इसे पूरी तरह वातानुकूलित बनाया जाएगा। वर्तमान परिवेश में इंटरनेट की सुविधा अनिवार्य हो चुकी है। इस लाउंज में बस का इंतजार करने वाले यात्रियों के लिए मुफ्त हाई स्पीड वाईफाई की सुविधा मुहैया कराया जाएगा। यात्रियों को आधे घंटे तक यह सुविधा मुफ्त मिलेगी, इसके बाद के समय के लिए उन्हें भुगतान करना होगा।

40 से 50 लोगों के बैठने की सुविधा

इस लाउंज में 40 से 50 लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। लाउंज में अत्याधुनिक सुविधाओं वाला शौचालय भी बनाया जा रहा है। लाउज की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। प्रबंधन की ओर से अभी यह निर्धारित नहीं किया गया है कि यहां आने वालों से कितना शुल्क लिया जाएगा या यात्रियों को कोई शुल्क नहीं देना होगा। इस लाउंज में आकर यात्री अपने बस का इंतजार कर सकते हैं। यहां विमान व ट्रेनों की तरह बसों की सूचनाएं भी प्रसारित करने की सुविधा होगी, ताकि यात्रियों को उनकी बसों की जानकारी मिलती रहे।

Source : Dainik Jagran

Continue Reading
TECH2 hours ago

यू-ट्यूब दे रहा हर महीने 7 लाख रुपये से ज्‍यादा कमाई करने का मौका

BIHAR4 hours ago

बिहार में 7 अगस्त से खुलेंगे स्कूल-कोचिंग संस्थान, सरकार ने लिया निर्णय

DHARM5 hours ago

राम भक्तों के लिए बड़ी खबर, दिसंबर 2023 से कर सकेंगे राम लला के दर्शन

BIHAR9 hours ago

वीडियो : सांप काटने से अचेत था एक साल का मासूम, अस्पताल में मोबाइल फ्लैश की रोशनी में हुआ इलाज

BIHAR10 hours ago

पटना के नए बस स्‍टैंड में एयरपोर्ट जैसी सुविधाएं, एसी वीआइपी लाउंज में करें इंतजार; फ्री मिलेगा इंटरनेट

BIHAR10 hours ago

बिहार पंचायत चुनाव: वोट के लिए नोट लुटाया तो जायेगी उम्मीदवारी

MUZAFFARPUR15 hours ago

किराए के विवाद में कंडक्टर ने चलती बस से यात्री काे फेंका, कुचल कर माैत

MUZAFFARPUR23 hours ago

स्‍मार्ट स‍िटी : म्युनिसिपल शापिंग मार्ट निर्माण के ल‍िए मुजफ्फरपुर में ध्वस्त होगा जर्जर भवन

WORLD23 hours ago

सऊदी अरब में तोड़ा ट्रैवल नियम तो हो सकता है बैंक अकाउंट खाली! लगेगा एक करोड़ रुपये का जुर्माना

BIHAR1 day ago

बिहार की एसडीपीओ ने अपने पति को रातों-रात बना दिया आइपीएस, पीएमओ ने बैठाई जांच

BIHAR3 days ago

बूढ़ी गंडक पर दूसरे पुल की बाधा दूर:अप्राेच पथ के लिए होगा 7.98 एकड़ जमीन अधिग्रहण, अधिसूचना जारी

MUZAFFARPUR15 hours ago

किराए के विवाद में कंडक्टर ने चलती बस से यात्री काे फेंका, कुचल कर माैत

BIHAR3 days ago

पटना में मीठापुर बस स्टैंड की जमीन पर बनेंगी 3 नई यूनिवर्सिटी

BIHAR1 day ago

बिहार की एसडीपीओ ने अपने पति को रातों-रात बना दिया आइपीएस, पीएमओ ने बैठाई जांच

BIHAR1 week ago

मुजफ्फरपुर: अगर सात घंटे पेट दबाकर शौच रोक सकते हों तभी भारतीय रेल के इस ट्रेन से करें सफर

BIHAR2 days ago

अयांश: बिहार का बेटा नहीं खोए इसलिए पटना, मुजफ्फरपुर से लेकर हर जिले से बढ़ रहे मदद के हाथ

BIHAR3 days ago

बिहार: जिस बहन को रायपुर में इंजीनियरिंग करने भेजा उसी ने करवा दिया भाई को गिरफ्तार

TRENDING2 days ago

लखनऊ में ‘उछल-उछलकर’ थप्पड़ बरसाने वाली लड़की पर केस, सीसीटीवी फुटेज से खुली पोल

BIHAR4 hours ago

बिहार में 7 अगस्त से खुलेंगे स्कूल-कोचिंग संस्थान, सरकार ने लिया निर्णय

BIHAR2 days ago

फरियाद सुनकर चौंके CM नीतीश कुमार, तुरंत चीफ सेक्रेटरी को बुलाकर कही ये बात

Trending