Connect with us

BUSINESS

लागत दो लाख, कमाई तीन से चार लाख तक

Published

on

बेरोजगार युवाओं को रोजगारोन्मुख बनाने के लिए सरकार द्वारा चलाया जा रहा कार्यक्रम अब लोगों की जिंदगी में मिठास घोलने के साथ खुशहाली लाने का भी काम कर रहा है। कम लागत में अधिक आमदनी बेरोजगारों का मुख्य ध्येय बनने लगा है।

शायद यही कारण रहा कि कल तक सरकारी एवं प्राइवेट कंपनियों में नौकरी पाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे पढ़े-लिखे लोग भी अब छोटे-छोटे कार्यों के माध्यम से अपनी बेरोजगारी दूरी कर खुशहाल जीवन जीने लगे हैं। पिछले तीन माह से खेतों में खिले सरसों के बाद सूर्यमुखी फूल के चलते व्यापक पैमाने पर मधु का उत्पादन हो रहा है। बहरहाल मधुमक्खी पालन, मुर्गी पालन, बकरी पालन, गाय पालन समेत अन्य स्वरोजगारपरक कार्य बेरोजगारी दूर करने में वरदान साबित होने लगे हैं।

Advertisement

मधु हब के रूप में दिख रहा आम का बगीचा

प्रखंड के आम के बगीचे में कई जगहों पर इन दिनों मधुमक्खी पालन एवं मधु संग्रह हब में रूप में दिख रहा है। जिसमें सरसों एवं सूर्यमुखी की फसल सहायक साबित हो रही है। प्रखंड के अभुआर गांव स्थित आदर्श मध्य विद्यालय के आगे किसनपुर-गणपतगंज रोड के बगल में इन दिनों मधुमक्खी पालन हो रहा है। जो इस रास्ते से गुजरने वाले यात्रियों के लिए भी नजीर पेश कर रहा है।

Advertisement

मधुमक्खी पालक रणवीर कुमार कहते हैं कि पिछले एक माह से क्षेत्र में सरसों के बाद सूर्यमुखी के खिले फूल मधु संग्रह में काफी सहायक हुए है। वैसे तो अब सरसों के फसल का समय बीत चुका है। फिर भी अन्य फसलों में लगे फूल से अब भी कुछ मधु का उत्पादन हो रहा है। मधुमक्खी पालन को ले सर्टिफिकेट, कोर्स एवं डिग्री की तो व्यवस्था है जो बड़े प्लांटों में काम आता है।

कम लागत में मिलती है अधिक आमदनी

Advertisement

कृषि से जुड़े युवा, जो कम लागत का व्यवसाय करने की इच्छा रखते हैं। उनके लिए मधुमक्खी पालन फायदेमंद साबित हो रहा है। पिछले कुछ वर्षों से न केवल लोगों का रुझान इसकी तरफ बढ़ा है। बल्कि खादी ग्रामोद्योग भी अपनी तरफ से कई सुविधाएं मुहैया करा रहा है। यह एक ऐसा व्यवसाय है। जो ग्रामीण क्षेत्रों के विकास का पर्याय बनता जा रहा है। चार प्रकार का मधुमक्खी पालन किया जाता है। जिसमें एपिस मेलीफेरा, एपिस इंडिका, एपिस डोरसाला एवं एपिस फ्लोरिया शामिल है। इसके उत्पादन से कम लागत में अधिक आय होती है।

शांत स्वभाव की होती हैं एपिस मेलीफेरा मधुमक्खी

Advertisement

एपिस मेलीफेरा मधुमक्खी अधिक शहद उत्पादन करने एवं शांत स्वभाव की होती हैं। इन्हें डिब्बों में आसानी से पाला जा सकता है। इस प्रजाति की रानी मक्खी में अंडे देने की क्षमता भी अधिक होती है। मधुमक्खी पालन के लिए लकड़ी का बॉक्स, बॉक्स फ्रेम, मुंह पर ढंकने के लिए जालीदार कवर, दास्तानें, चाकू, शहद, रिमूविंग मशीन, शहद इकट्ठा करने के ड्रम का इंतजाम जरूरी है। जहां मधुमक्खियां पाली जाएं, उसके आसपास की जमीन साफ-सुथरी होनी चाहिए। बड़ी चींटी, मोमभझी कीड़े, छिपकली, चूहे, गिरगिट मधुमक्खियों के दुश्मन हैं।

Input : Dainik Bhaskar

Advertisement

Advertisement

BUSINESS

पैसों की जरूरत हो तो लोन की जगह लें ये सुविधा; होगा बड़ा फायदा

Published

on

अक्सर जब पैसों की जरूरत होती है तो हम सब या तो दोस्तों या रिश्तेदारों से कर्ज लेते हैं या फिर बैंक के पास लोन के लिए अप्लाई करते हैं। लेकिन क्या आपने कभी ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी (overdraft facility) के बारे में सुना है। अगर नहीं तो ये जान लीजिए कि ये ऐसी सुविधा है जिसके तहत आप अपने खाते में मौजूद रकम से ज्यादा पैसा निकाल सकते हैं। रह गए न हैरान ! आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है ! लेकिन यह बिल्कुल संभव है। आपको बस कुछ जरूरी शर्तें फॉलो करनी होंगी। हम आपको बताते हैं कि क्या है ये ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी और यह आपको कैसे मिलेगी।

Genius-Classes

क्या है Overdraft Facility

Advertisement

आमतौर पर हम सोचते हैं कि हम अपने बैंक अकाउंट से उतना ही पैसा निकाल सकते हैं, जितना उसमें जमा है। लेकिन, कई बैंक और नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां (NBFC) अपने ग्राहकों को मौैजूद रकम से ज्यादा पैसे निकालने की सुविधा देती हैं। इसे ही ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी कहते हैं। इसका फायदा तब मिलता है जब आपको पैसे की अचानक जरूरत पड़ जाए। दरअसल, यह एक तरह का लोन ही है। इसके तहत आप बैंक अकाउंट में मौजूद बैलेंस से ज्यादा पैसे निकाल सकते हैं।

कब तक वापस करना होगा पैसा

Advertisement

आप जितना अमाउंट निकालते है, उसे एक निश्चित अवधि के भीतर चुकाना होता है। ऐसा न करने पर ब्याज भी लगता है। यह ब्याज रोजमर्रा आधार पर कैलकुलेट होता है। आपको कितना ओवरड्राफ्ट मिलेगा यानी इसकी लिमिट क्या रहेगी, यह बैंक या NBFCs तय करते है। अलग-अलग बैंकों और नॉन बैंकिंग कंपनियों में यह लिमिट अलग-अलग हो सकती है।

कैसे मिलती है यह फैसिलिटी

Advertisement

बैंक और नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियां अपने कुछ कस्‍टमर्स को यह सुविधा प्री-अप्रूव्ड देते हैं। जबकि कुछ ग्राहकों को इसके लिए अलग से आवेदन करना होता है। आप बैंक की ब्रांच या इंटरनेट बैंकिंग के जरिए भी अप्‍लाई कर सकते हैं। कुछ बैंक इस सर्विस के लिए फीस भी लेते हैं। इसलिए बेहतर है कि ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के लिए अप्‍लाई करने से पहले प्रोसेसिंग फीस के बारे में जानकारी प्राप्त कर लें। आमतौर पर बैंक सैलरी अकाउंट के बदले भी ओवरड्राफ्ट देते हैं। आपकी ओवरड्राफ्ट लिमिट सैलरी का 2 से 3 गुना हो सकती है। इस तरह के ओवरड्राफ्ट सुविधा के लिए आपका सैलरी अकाउंट उसी बैंक में होना चाहिए. जिससे आप ओवरड्राफ्ट लेना चाहते हैं।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

कितने तरह की होती है फैसिलिटी

Advertisement

ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी दो तरह की होती है, एक सिक्योर्ड और दूसरी नॉन अनसिक्योर्ड। सिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट वह है, जिसमें सिक्योरिटी के तौर पर कुछ गिरवी रखा जाता है, जैसे FD, शेयर, घर, सैलरी, इंश्योरेंस पॉलिसी आदि। अगर आपके पास कुछ भी सिक्योरिटी के तौर पर देने के लिए नहीं है तो भी आप ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी ले सकते हैं, लेकिन इसका तरीका अलग है। क्रेडिट कार्ड से पैसा निकालना अनसिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट का उदाहरण है। पर्सनल लोन के मुकाबले ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी अच्छा विकल्प है। तय अवधि से पहले भी बिना कोई चार्ज दिए आप बैंक को पैसे वापस कर सकते हैं। ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी में आपको ब्याज भी केवल उतने ही समय का देना होता है, जितने वक्त तक आपने ओवरड्राफ्ट अमाउंट अपने पास रखा है।

Source : Dainik Jagran

Advertisement

nps-builders

Continue Reading

BUSINESS

मटके में भी मशरूम उगा कर किसान कमा सकते हैं बंपर मुनाफा

Published

on

मशरूम की खेती से कई किसान बंपर मुनाफा कमा रहे हैं. इससे प्रेरित होकर अन्य किसानों भी इसकी खेती की तरफ रुख करना शुरू कर दिया है. मशरूम की खेती की सबसे खास बात है कि बाजार में ये हाथों-हाथ बिक जाता है. साथ ही इससे बिस्किट, नमकीन जैसे कई अन्य तरह के प्रोडक्ट बनाकर बढ़िया मुनाफा कमा सकते हैं.

बता दें कि मशरूम की खेती करने में पहले लोग हिचकते थे. उनका मानना था कि इसकी खेती करना बेहद खर्चीला है. इसके लिए बकायदे सेटअप तैयार किया जाता है. लेकिन हम आपको बता रहे हैं कि कैसे कम खर्च में अपने घर पर मटके में ऑयस्टर मशरूम ( ढींगरी मशरूम) को उगा सकते हैं.

Advertisement

साल में कभी भी करें ऑयस्टर मशरूम की खेती

हरियाणा के हिसार जिला के सलेमगढ़ गांव के रहने वाले 24 वर्षीय विकास वर्मा बड़े पैमाने पर मशरूम की खेती करते हैं. वह अपने फार्म में सबसे ज्यादा ऑयस्टर मशरूम की खेती करते हैं. उनके मुताबिक इस मशरूम की खेती साल भर की जा सकती है. अन्य प्रकार के मशरूमों की खेती के मुकाबले इसमें नुकसान भी कम होता है.

Advertisement

मटके में ऐसे करें मशरूम की खेती

विकास बताते हैं कि ज्यादातर लोग मशरूम की खेती करने के लिए आयताकार सांचे बनाते हैं. यह प्रकिया थोड़ी खर्चीली है. ऐसे में किसान मटके में भी मशरूम उगा सकते हैं. इसके लिए सबसे पहले आपको एक मटका लेना होगा. मटके में चारों तरफ छोटे-छोटे छेद कर दें. इसके बाद, उस मटके के अंदर नमी युक्त भूसा भरें. इस दौरान मटके के अंदर मशरूम का बीज भी डाल दें. इसके बाद, उन छेदों को रूई की मदद से बंद कर दें. मटके का मुंह किसी मोटे कपड़े से बांध दें, ताकि नमी मटके के बाहर न निकल सके.

Advertisement

इसके बाद उस मटके को अंधेरे कमरे में 12 से 15 दिन के लिए रख दीजिए. करीब 15 दिनों में मशरूम के स्पॉन बीज, पूरी तरह से फैलकर विकसित हो जाएंगे.लगभग 3 हफ्ते बाद कपड़े को हटाकर मटके को देखें.आपको छेद में से मशरूम के छोटे-छोटे सफेद बड दिखाई देंगे. जब बड गुच्छे में तब्दील होकर ऊपर की तरफ मुड़ने लगे तो इसकी तुड़ाई करना शुरू कर दें.

कम हो जाएगी किसानों की लागत

Advertisement

इस तकनीक का इस्तेमाल करने के दौरान किसानों को एक तो खर्च कम आएगा. दूसरा मटके के अंदर का तापमान हमेशा ठंडा रहता है. ऐसे में मशरूम के विकास के लिए ये काफी फायदेमंद साबित हो सकता है, जिससे किसान बढ़िया मुनाफा हासिल कर सकता है.

Source : Aaj Tak

Advertisement

Genius-Classes

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Continue Reading

BUSINESS

क्रेडिट कार्ड यूजर्स के लिए अच्छी खबर, अब UPI के जरिए भी कर सकेंगे पेमेंट

Published

on

अब क्रेडिट कार्ड यूजर्स भी डेबिट कार्ड की तरह UPI से पेमेंट कर सकेंगे. भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार को इसका ऐलान किया है. आरबीआई यूपीआई के काम करने के तरीके में एक बड़ा बदलाव करने जा रही है.

इस सुविधा के तहत सबसे पहले स्वदेशी रुपे क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से लिंक किया जा सकेगा. इसके बाद वीजा  और मास्टरकार्ड जैसे अन्य कार्ड होल्डर इसफा फायदा उठा पाएंगे. अब तक, ग्राहक केवल अपने डेबिट कार्ड को UPI से लिंक कर सकते थे.

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

ऑनलाइन पेमेंट का नया जरिया मिलेगा

यह ऐलान करते हुए आरबीआई गवर्नर ने कहा, “अब तक सिर्फ डेबिट कार्ड के जरिए सेविंग्स /करेंट अकाउंट्स को UPI ट्रांजेक्शन के लिए लिंक किया जा सकता था. अब यूपीआई प्लेटफॉर्म पर क्रेडिट कार्ड को जोड़ने का प्रस्ताव है. शुरुआत में रुपे क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से जोड़ा जा सकेगा” उन्होंने कहा कि इस सुविधा से कस्टमर्स को यूपीआई प्लेटफॉर्म के जरिए पेमेंट के लिहाज से दूसरे विकल्प भी उपलब्ध होंगे. कस्टमर जल्द ही इस सुविधा का लाभ उठा पाएंगे.

Advertisement

nps-builders

कई कस्टमर को मिलेगा फायदा

यूपीआई देश में पेमेंट करने का सबसे लोकप्रिय जरिया बन गया है. आज देश में करीब 26 करोड़ लोग यूपीआई का इस्तेमाल करते हैं. वहीं, 5 करोड़ से ज्यादा व्यापारी इसका इस्तेमाल कर रहे हैं.  एक्सपर्ट्स का मानना है कि क्रेडिट कार्ड को यूपीआई से लिंक करने से कस्टमर को पेमेंट का नया ऑप्शन मिलेगा. देश में क्रेडिट कार्ड यूजर्स की संख्या लगातार बढ़ रही है. देश में अब कई छोटी-बड़ी दुकानों पर यूपीआई का इस्तेमाल किया जा रहा है.

Advertisement

आरबीआई ने बढ़ाई रेपो रेट

आरबीआई गवर्नर ने आज रेपो रेट बढ़ाकर अब 4.90 फीसदी करने की घोषणा की है. केंद्रीय बैंक ने वित्त वर्ष 2023 में खुदरा महंगाई दर 7.5 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. हालांकि, अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके किए गए UPI लेनदेन के लिए मर्चेंट डिस्काउंट रेट (MDR) कैसे लागू होगा, क्योंकि प्रत्येक लेन-देन के लिए व्यापारी लेन-देन की राशि का एक निश्चित भुगतान करता है, जिसे बाद में बैंकों और पेमेंट सर्विस प्रोवाइडरों के बीच बांटी जाती है.

Advertisement

Source : News18

Advertisement
Continue Reading
BIHAR12 hours ago

नीतीश कुमार की विदाई तय, बांध लें बोरिया-बिस्तर; कृषि मंत्री के इस्तीफे के बाद बीजेपी का बड़ा बयान

BIHAR15 hours ago

कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने तेजस्वी को भेजा इस्तीफा, जगदानंद सिंह ने की पुष्टि

BIHAR17 hours ago

बिहार : बहन ने किया प्रेम विवाह तो गुस्साये भाई ने जीजा की मां को घर में घुसकर मारी गोली

MUZAFFARPUR18 hours ago

एमएलसी दिनेश सिंह की बेटी कोमल सिंह को हत्या की धमकी

MUZAFFARPUR18 hours ago

स्वच्छता रैंकिंग में मुजफ्फरपुर तीन पायदान चढ़ा, देश में 247वां स्थान

INDIA1 day ago

8वीं की छात्रा से 8 लोगों ने किया गैंगरप, ब्लैकमेल करके ऐंठे 50 हजार, फिर वायरल कर दिया रेप का वीडियो

BIHAR1 day ago

रात को गर्लफ्रेंड से मिलने पहुंचा प्रेमी, लोगों ने पकड़कर दोनों की शादी करा दी

BIHAR1 day ago

2 मिनट में पलटते हैं नीतीश, 7 बार पलटे तो आठवीं बार क्यों नहीं : सुशील मोदी

BIHAR2 days ago

बिहार में आज से शुरू होगा बालू का खनन; लोगों को राहत

MUZAFFARPUR2 days ago

मुजफ्फरपुर के कई ट्रैफिक रूट में बदलाव, दशहरा तक कई मार्ग किए गए वन – वे

TRENDING4 days ago

लिप्स्टिक-परफ्यूम ने बना दी जोड़ी! 60 साल के शख्स को दिल दे बैठी 20 साल की लड़की

INDIA5 days ago

युवक के पेट से निकलीं 62 चम्‍मचें, दो घंटे तक चला ऑपरेशन, आईसीयू में भर्ती

DHARM6 days ago

शारदीय नवरात्रि में जपें दुर्गा सप्तशती के ये प्रभावशाली मंत्र, मिलेगा धन, सौभाग्य और सफलता

BIHAR1 day ago

रात को गर्लफ्रेंड से मिलने पहुंचा प्रेमी, लोगों ने पकड़कर दोनों की शादी करा दी

INDIA1 day ago

8वीं की छात्रा से 8 लोगों ने किया गैंगरप, ब्लैकमेल करके ऐंठे 50 हजार, फिर वायरल कर दिया रेप का वीडियो

INDIA1 week ago

यूपी : निकाह में आए बारातियों का लड़की वालों ने चेक किया आधार कार्ड, कारण जानकर पेट पकड़कर हंसेंगे

BIHAR1 week ago

बिहार के लड़के ने जीता एक करोड़ रुपये, इंडिया-ऑस्ट्रेलिया मैच में ड्रीम इलेवन ऐप पर लगाए थे पैसे

INDIA5 days ago

मुफ्त राशन की स्कीम तीन महीने के लिए फिर बढ़ी, केंद्रीय कर्मचारियों को भी दिवाली गिफ्ट

BIHAR6 days ago

सोनिया गांधी ने लालू यादव-नीतीश कुमार को बतायी औकात, मात्र 20 मिनट में निपटाया : मोदी

BIHAR4 weeks ago

कौन बनेगा करोड़पति की हॉट सीट पर पहुंची बिहार की रजनी

Trending