Connect with us

BUSINESS

लागत दो लाख, कमाई तीन से चार लाख तक

Published

on

बेरोजगार युवाओं को रोजगारोन्मुख बनाने के लिए सरकार द्वारा चलाया जा रहा कार्यक्रम अब लोगों की जिंदगी में मिठास घोलने के साथ खुशहाली लाने का भी काम कर रहा है। कम लागत में अधिक आमदनी बेरोजगारों का मुख्य ध्येय बनने लगा है।

शायद यही कारण रहा कि कल तक सरकारी एवं प्राइवेट कंपनियों में नौकरी पाने के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे पढ़े-लिखे लोग भी अब छोटे-छोटे कार्यों के माध्यम से अपनी बेरोजगारी दूरी कर खुशहाल जीवन जीने लगे हैं। पिछले तीन माह से खेतों में खिले सरसों के बाद सूर्यमुखी फूल के चलते व्यापक पैमाने पर मधु का उत्पादन हो रहा है। बहरहाल मधुमक्खी पालन, मुर्गी पालन, बकरी पालन, गाय पालन समेत अन्य स्वरोजगारपरक कार्य बेरोजगारी दूर करने में वरदान साबित होने लगे हैं।

मधु हब के रूप में दिख रहा आम का बगीचा

प्रखंड के आम के बगीचे में कई जगहों पर इन दिनों मधुमक्खी पालन एवं मधु संग्रह हब में रूप में दिख रहा है। जिसमें सरसों एवं सूर्यमुखी की फसल सहायक साबित हो रही है। प्रखंड के अभुआर गांव स्थित आदर्श मध्य विद्यालय के आगे किसनपुर-गणपतगंज रोड के बगल में इन दिनों मधुमक्खी पालन हो रहा है। जो इस रास्ते से गुजरने वाले यात्रियों के लिए भी नजीर पेश कर रहा है।

मधुमक्खी पालक रणवीर कुमार कहते हैं कि पिछले एक माह से क्षेत्र में सरसों के बाद सूर्यमुखी के खिले फूल मधु संग्रह में काफी सहायक हुए है। वैसे तो अब सरसों के फसल का समय बीत चुका है। फिर भी अन्य फसलों में लगे फूल से अब भी कुछ मधु का उत्पादन हो रहा है। मधुमक्खी पालन को ले सर्टिफिकेट, कोर्स एवं डिग्री की तो व्यवस्था है जो बड़े प्लांटों में काम आता है।

कम लागत में मिलती है अधिक आमदनी

कृषि से जुड़े युवा, जो कम लागत का व्यवसाय करने की इच्छा रखते हैं। उनके लिए मधुमक्खी पालन फायदेमंद साबित हो रहा है। पिछले कुछ वर्षों से न केवल लोगों का रुझान इसकी तरफ बढ़ा है। बल्कि खादी ग्रामोद्योग भी अपनी तरफ से कई सुविधाएं मुहैया करा रहा है। यह एक ऐसा व्यवसाय है। जो ग्रामीण क्षेत्रों के विकास का पर्याय बनता जा रहा है। चार प्रकार का मधुमक्खी पालन किया जाता है। जिसमें एपिस मेलीफेरा, एपिस इंडिका, एपिस डोरसाला एवं एपिस फ्लोरिया शामिल है। इसके उत्पादन से कम लागत में अधिक आय होती है।

शांत स्वभाव की होती हैं एपिस मेलीफेरा मधुमक्खी

एपिस मेलीफेरा मधुमक्खी अधिक शहद उत्पादन करने एवं शांत स्वभाव की होती हैं। इन्हें डिब्बों में आसानी से पाला जा सकता है। इस प्रजाति की रानी मक्खी में अंडे देने की क्षमता भी अधिक होती है। मधुमक्खी पालन के लिए लकड़ी का बॉक्स, बॉक्स फ्रेम, मुंह पर ढंकने के लिए जालीदार कवर, दास्तानें, चाकू, शहद, रिमूविंग मशीन, शहद इकट्ठा करने के ड्रम का इंतजाम जरूरी है। जहां मधुमक्खियां पाली जाएं, उसके आसपास की जमीन साफ-सुथरी होनी चाहिए। बड़ी चींटी, मोमभझी कीड़े, छिपकली, चूहे, गिरगिट मधुमक्खियों के दुश्मन हैं।

Input : Dainik Bhaskar

BUSINESS

अब गाड़ी खरीदने के लिए एक हफ्ता पहले कराना पड़ेगा बुकिंग

Published

on

अगर आप भी गाड़ी खरिदने की सोच रहे हैं तो एक हफ्ता पहले ही बुकिंग करा लें.  नहींं तो आपको तय दिन क गाड़ी नहीं मिलेगी. अब कोई भी गाड़ी खरीदने के लिए पहले बुकिंग करानी होगी. इसके बाद एजेंसी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के साथ गाड़ी देगी.

नई प्राइवेट गा़ड़ी खरीदने के लिए 7 दिन और कॉमर्शियल गाड़ी खरिदने के लिए 10 दिन पहले बुकिंग करानी होगी. इसके बाद एजेंसी हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगा कर गाड़ी आपको देगी. अब हाई सिक्योरिटी प्लेट के लिए आपको लंबे समय तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा.

इसके साथ ही अगर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट देने में देरी होती है तो डीटीओ और एजेंसी को जुर्माना भरना होगा.

Continue Reading

BUSINESS

टिकट कैंसिल कराते वक्त रहें सावधान, नहीं तो खाली हो सकता है बैंक अकाउंट

Published

on

नई दिल्ली. अगर किसी वजह से आपको ​रेलवे टिकट कैंसिल (Railway Ticket Cancellation) करना पड़ रहा है तो आपको सावधानी बरतनी चाहिए. ऐसा नहीं करने पर आपका बैंक अकाउंट खाली हो सकता है. इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (IRCTC) ने ऑनलाइन फ्रॉड से बचने के लिए अपने ग्राहकों को सावधान किया है. बीते कुछ समय में साइबर फ्रॉड के मामलों में इजाफा हुआ है. टिकट कैंसिल कराने के नाम पर ग्राहकों को साइबर ठग चूना लगा रहे हैं.

IRCTC ने ई-मेल भेजकर ग्राहकों को सावधान किया

दरअसल, टिकट कैंसिल कराने के लिए ग्राहकों से उनके बैंक डिटेल्स की अहम जानकारियां मांगने के बाद ये ठग बैंक अकाउंट में सेंध लगा रहे हैं. IRCTC ने अपने ग्राहकों को एक मेल में कहा है, ‘किसी भी कारण के लिए IRCTC आपसे आपके बैंक की कोई जानकारी नहीं मांगता है. अगर आप बैंक अकाउंट संबंधी जानकारी किसी के साथ साझा करते हैं तो आप फ्रॉड के शिकार हो सकते हैं.

किसी से न साझा करें ये जानकारी

मेल में IRCTC ने अपने ग्राहकों को सलाह दी है कि वे अपने बैंक अकाउंट नंबर, ATM कार्ड, PIN, TPIN, CVV और UPI डिटेल्स समेत अन्य जानकारियों को किसी के साथ साझा न करें. साइबर लगातार इस प्रयास में हैं कि ग्राहकों के बैंक अकांउट संबंध जानकारी पता करे उन्हें ठगा जा सके. IRCTC ने साफ किया कि हम कभी भी कोई फोन कॉल या एसएमएस के जरिए व्यक्तिगत जानकारी नहीं मांगते है.

ऐसे मे आपके लिए जरूरी है कि आप कुछ जरूरी बातों को विशेष ध्यान दें ताकि आप भी इस तरह के फ्रॉड से समय रहते बच सकें. रेलवे टिकट कैंसिल कराने की प्रक्रिया पूरी तरह से ऑटोमेटिक होती है.1. ई-टिकट कैंसिलेशन के बाद रिफंड प्रोसेस पूरी तरह से ऑटोमेटिक होता है. रिफंड प्रोसेस टिकट कैंसिल कराने के बाद ही ऑटोमेटिक तरीके से शुरू हो जाता है. रिफंड की रकम भी अपने आप ही उसी खाते में डाली जाती है, जिस खाते की मदद से रेलवे टिकट बु​क किया गया होता है. ऐसे में ग्राहक से टिकट का दाम चार्जेज काटने के बाद स्वत: ही भेज दिया जाता है.

Input : News18

 

 

Continue Reading

BUSINESS

Voda-Idea ने कहा- माली हालत खराब, सरकार की मदद के बिना बकाया चुकाना संभव नहीं

Published

on

नई दिल्ली अपनी माली हालत से जूझ रही वोडाफोन आइडिया ने दूरसंचार विभाग को पत्र लिखा है, जिसमें कंपनी ने कहा है कि सरकार की मदद के बिना समायोजित सकल आय (एजीआर) का पूरा सांविधिक बकाया चुकाना संभव नहीं है। कंपनी का कहना है कि सरकार अगर तत्काल मदद करती है तो एजीआर चुकाया जा सकता है।

कंपनी ने संचार मंत्रालय को पत्र लिखा है जिसमें उसने मांग की है कि संकट से गुजर रहे दूरसंचार उद्योग की मदद के लिए सरकार को आधार कीमत की व्यवस्था लागू करनी चाहिए और शुल्क में कटौती भी करनी चाहिए। पत्र में कंपनी ने अपने सांवधिक बकाया को किश्तों में चुकाने की अनुमति भी मांगी है। गौरतलब है कि कंपनी पर 53,000 करोड़ रुपये से अधिक का सांविधिक बकाया है। जबकि वह अभी तक इसका मुश्किल से सात फीसद ही भुगतान कर पाई है।

कंपनी ने कहा, ‘उसकी माली हालत ठीक नहीं है।’ वह अपने उत्तरदायित्व को तभी पूरा कर सकती है जब सरकार सांविधिक बकाया पर ब्याज, जुर्माना और जुर्माने पर ब्याज को किश्तों में चुकाने का विकल्प दे। साथ ही माल एवं सेवाकर (जीएसटी) व्यवस्था के तहत इकट्ठा हुए इनपुट टैक्स क्रेडिट के बकाये का भुगतान कर दे।

कंपनी ने कहा कि सरकार के जीएसटी बकाये का समायोजन करने से उसे सांविधिक बकाया चुकाने में मदद मिलेगी। कंपनी को खुद के आकलन के आधार पर सरकार से जीएसटी क्रेडिट बकाये के रूप में करीब 8,000 करोड़ रुपये चाहिए। कंपनी ने मौजूदा समय में अपने 10,000 कर्मचारियों और 30 करोड़ ग्राहकों का हवाला देखकर सरकार से समर्थन की मजबूत अपील की है।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
INDIA8 hours ago

जरा हटके है यह लव स्टोरी! सीता-नीतीश ने रचाई शादी तो बनी इलाके की सुर्खियां

INDIA8 hours ago

Maruti Suzuki की नई स्कीम, 899 रुपये EMI पर खरीदें नई कार

WORLD8 hours ago

Coronavirus का सबसे बड़ा शिकार बना अमेरिका, गईं 1 लाख जानें

MUZAFFARPUR9 hours ago

खुशखबरी : तेज़ी से ठीक हो रहे मुजफ्फरपुर में कोरोना मरीज़ आज ठीक हुये तीन मरीज़ कल होंगे डिस्चार्ज

BIHAR9 hours ago

नीतीश ने दिया जॉर्ज को सम्मान, अब राजकीय समारोह के तौर पर मनेगी जयंती

BIHAR10 hours ago

मुजफ्फरपुर में महिला की मौत पर नीतीश सरकार से जवाब तलब, दर्दनाक वीडियो का हाईकोर्ट ने लिया स्वतः संज्ञान

BIHAR11 hours ago

नीतीश कैबिनेट की बैठक खत्म, 12 एजेंडों पर लगी मुहर

MUZAFFARPUR13 hours ago

मुजफ्फरपुर में कोरोना के कोहराम में आज फिर जुड़े तीन नए कोरोना मरीज़

MUZAFFARPUR13 hours ago

मुजफ्फरपुर में एक व्यक्ति की सन्देहास्पद मौत, जांच में जुटी पुलिस

MUZAFFARPUR13 hours ago

बालाजी परिवार ने की प्रवासी मजदूरों की सहायता, आप भी आये आगे..

BIHAR2 weeks ago

जानिए- बिहार के एक मजदूर ने ऐसा क्या कहा कि दिल्ली के अफसर की आंखों में आ गए आंसू

INDIA4 weeks ago

लॉकडाउन में राशन खरीदने निकला बेटा दुल्हन लेकर लौटा, भड़की मां पहुंची थाने

BIHAR4 weeks ago

ऋषि कपूर ने उठाए थे नीतीश सरकार के फैसले पर सवाल, कहा था- कभी नहीं जाऊंगा बिहार

WORLD3 weeks ago

इंडोनेशिया में घर के साथ पत्नी मुफ्त, एड ऑनलाइन हुआ वायरल

BIHAR4 weeks ago

बिहार के किस जिले में आज से क्या-क्या होगा शुरू, देंखे-पूरी लिस्ट

INDIA4 weeks ago

Lockdown Part 3- 17 मई तक जानिए क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

BIHAR3 weeks ago

बिहार के लिए हरियाणा से खुलेंगी 11 ट्रेनें, यहां देखिये गाड़ियों की पूरी लिस्ट

BIHAR4 weeks ago

बाहर फंसे बिहारियों की वापसी का बिहार सरकार नहीं करेगी इंतजाम, सुशील मोदी बोले- हमारे पास नहीं है संसाधन

INDIA4 weeks ago

लॉकडाउन के बीच 21 हजार रुपए से कम सैलरी पाने वालों के लिए सरकार ने की 5 बड़ी घोषणाएं

Uncategorized4 weeks ago

50 फीसद यात्रियों के साथ बसों का संचालन, बढ़ सकता किराया

Trending