बिहार: सुशील मोदी ने पेश किया दो लाख करोड़ का बजट, शिक्षा पर सबसे ज्यादा खर्च

0
808

बिहार का बजट सत्र सोमवार से शुरू हो चुका है। आज उपमुख्यमंत्री सह वित्तमंत्री सुशील मोदी ने सदन में दो लाख करोड़ का बिहार का बजट पेश किया। सबसे ज्यादा खर्च शिक्षा मद में किया गया है। बजट में कुल पूंजीगत व्यय 45 हज़ार 270 करोड़ रुपए का है। वेतन पेंशन एवं ब्याज भुगतान पर 88 हज़ार 188 करोड़ व्यय किए जाएंगे।

कुल पूंजीगत व्यय 45 हज़ार 270 करोड़ रुपए हैं। वेतन पेंशन एवं ब्याज भुगतान पर 88 हज़ार 188 करोड़ व्यय किए जाएंगे। सूखाग्रस्त इलाके के किसानों के लिए 1420 करोड़ का अनुदान और 18 लाख 66 हजार किसानों को डीजल अनुदान दिया जाएगा।

बजट के प्रमुख बिंदु….

-पंचायती राज विभाग का बजट 12206.31 करोड़

-नगर विकास एवं आवास का बजट 5158.79 करोड़

-बिहार में पोशाक राशि 1000 से बढ़ाकर 1500, सैनिटरी नैपकिन के लिए दी जाने वाली राशि को बढ़ाकर 300 रुपये किया गया

-स्थापना और प्रतिबद्ध व्यय राशि 98962 करोड़

-ग्रामीण विकास का कुल बजट 15669.04 करोड़

-PHED विभाग को योजना मद में 3225.34 करोड़

-बिहार गृह विभाग का कुल बजट 10968.58 करोड़

-जल संसाधन विभाग  का कुल बजट 9652.30 करोड़

-कृषि विभाग को योजना मद में 2259.8 करोड़

-राष्ट्रीय कृषि विकास मिशन के तहत 252 करोड़

-पथ निर्माण को योजना मद में 5936.92 करोड़

-ग्रामीण कार्य को योजना मद में 9896.97 करोड़

-वेतन, पेंशन, ब्याज पर 88157.65 करोड़ खर्च

-ग्राम सड़क योजना के तहत 2815 करोड़ खर्च

-ऊर्जा विभाग को योजना मद में 4583.13 करोड़

-शिक्षा विभाग को योजना मद में 20309.03 करोड़

-स्वास्थ्य विभाग को योजना मद में 5138.50 करोड

पहले से ही कहा जा रहा था कि इस बार बजट आकार में सात गुना तक की वृद्धि हुई है और इसीलिए उम्मीद की जा रही है कि वर्ष 2019-2020 के दौरान बजट आकार आठ गुना से अधिक हो सकता है।

Input : Daink Jagran

billions-spice-food-courtpreastaurant-muzaffarpur-grand-mall