गुजरात में बिहारी मजदूरों पर हो रहे हमले, कई तीन दिनों से भूखे

0
14132

गुजरात में बीते पांच दिनों से स्थानीय लोग बिहारी मजदूरों को अपना निशाना बना रहे हैं। लोगों के आक्रोश को देखते हुए कई मजदूर वहां से बिहार लौटने लगे हैं। वहां फंसे मजदूरों में अधिकतर तिरहुत प्रमंडल स्थित पश्चिम चंपारण के बगहा, नरकटियांगज, बेतिया, रामनगर समेत अन्य शहरों के हैं।शुक्रवार को सूचना मिलने के बाद प्रशासनिक और राजनीतिक सरगर्मी बढ़ गई।

मजदूरों ने बगहा एसडीएम घनश्याम मीना और ऑल इंडिया महिला फुटबॉल फेडरेशन की चेयरमैन अपर्णा सिंह उर्फ बहुरानी से संपर्क साधा है। इसके बाद बगहा से लेकर पटना तक मजदूरों की सकुशल वापसी को लेकर कवायद शुरू हो गई है।

मासूम के साथ घिनौनी वारदात के बाद फूटा आक्रोश 

उल्लेखनीय है कि गुजरात के साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर गाभांई में 14 महीने की मासूम के साथ घिनौनी वारदात के सामने आने के बाद बिहारियों पर लगातार हमले हो रहे हैं। कई बिहारियों के आवास तोड़ दिए गए हैं और उनके साथ मारपीट की जा रही है। तीन दिनों से इन्हें खाना नहीं मिला है।

CLICK ON IMAGE FOR MORE INFO

भोजन और किराए के लिए पैसे नहीं

मेहसाना जिले के राजपुर में फंसे बगहा, नरकटियांगज, बेतिया, रामनगर समेत अन्य शहरों के मजदूरों ने एसडीएम समेत अन्य से संपर्क साधा और अपनी सकुशल घर वापसी की गुहार लगाई। मजदूरों ने कहा कि उनके पास भोजन और किराये के लिए पैसे नहीं हैं। कॉलोनी से बाहर निकलने पर हमले हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री से लगाई गुहार 

उधर, मजदूरों ने मुख्यमंत्री कार्यालय से भी संपर्क कर घर वापसी की गुहार लगाई। एसडीएम घनश्याम मीना ने बताया कि गुजरात के जिला प्रशासन से संपर्क साधा गया है। मजदूरों की सकुशल वापसी की व्यवस्था की जा रही है।

Input : Dainik Jagran