Connect with us

MUZAFFARPUR

मैं सिटी पार्क; हाकिमों से मेरा सवाल- 9 वर्षों से आश्वासन की घुटी पिलाई जा रही, आखिर कब खत्म हाेगा वनवास?

Santosh Chaudhary

Published

on

city-park-muzaffarpur

कंपनीबाग के समीप 2010 में मेरा निर्माण शुरू हुआ।  बनकर लगभग तैयार भी हाे गया था। मेरे ऊपर सरकार के 2.86 CR रुपए खर्च हुए थे। बस साैंदर्यीकरण के कुछ काम शेष थे। शहरवासियाें काे लगने लगा था कि उनके लिए यह बेहतर पार्क हाेगा। मुझे भी यह वहम हाे गया था कि आनेवाले  समय में पार्क के रूप में यहां सर्वाधिक मेरे नाम की चर्चा हाेगी। मेरे उद्घाटन की भी जाेर-शाेर से चर्चा शुरू हाे गई थी। लेकिन, अचानक कागजी बाधाओं  के कारण काम रुक गया। फिर ताे एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर हाेते हुए मेरी फाइलें पटना तक घूमने लगीं। मामला न्यायालय तक पहुंच गया। वैसे इन 9 वर्षाें में एक बात जरूर हुई कि दाे नए साल के अवसर पर जंगल से घिरे इस पार्क काे प्रशासनिक स्तर पर खाेल कर मेरा मजाक उड़ाया गया। वाे भी तब जबकि, शहर की करीब 4.85 लाख की आबादी  के लिए अब तक सिर्फ एक जुब्बा सहनी पार्क है। उसकी भी हालत अधिकतर खराब ही रहती है। सिटी पार्क बन जाने से शहरवासियाें काे सुकून के लिए एक अच्छी जगह मिल सकती है।

  • 2010 में मुख्यमंत्री शहरी विकास योजना के तहत बनना शुरू हुआ
  • 2.86 करोड़ रुपए अब तक इस पार्क पर सरकार के हाे चुके खर्च
  • 4.85 लाख शहर की आबादी  पर अभी एकमात्र है जुब्बा सहनी पार्क

…और करीब 9 वर्ष बाद भी एक ताे लाेग इस पार्क में आते  नहीं। जाे कुछेक लाेग सुबह में आते  भी ताे दाे बात सुना जाते हैं कि यह कैसा पार्क है, जाे आमलोगों  के लिए पूरी तरह उपलब्ध हाेने के पहले जीर्ण-शीर्ण हाे गया। वैसे भी मुझे सुबह में कुछेक घंटे के लिए ही खाेला जाता है। उस समय मार्निंग वाक करनेवाले कुछ लाेग जरूर आ  जाते हैं। इसके अलावा अधिकतर समय मेन गेट पर बड़ा-सा ताला ही लटका रहता है। इसे देख कर लाेग यह भी कहते हैं कि न जाने इस पार्क काे किसकी नजर लग गई। कुछ लाेग कहते कि इसके फाइल की अटैची ही काेई साहब ले गए। बता दें कि मेरा निर्माण शुरू हाेने से अब तक चार डीएम बदल गए। पार्क की फाइल हाकिमाें के टेबल पर पड़ी रही। लाेगाें काे अब तक शीघ्र पार्क खाेले जाने का आश्वासन  ही मिलता रहा है। लेकिन, अब ताे पार्क में बच्चाें के मनाेरंजन के लिए बनाई गई बाघ-शेर-डायनासाेर की आकृतियां  टूटने लगी हैं। किसी का धर ताे किसी का सिर बचा है। हमेशा ताला लगे रहने व अनदेखी से फूल-पत्ते भी सूखने लगे हैं। अब हाकिमाें से मेरा सवाल है कि 9 वर्षाें से मैंने यातनाएं झेली हैं, मुझे अब तक सिर्फ अस्वासन  की घुटी पिलाई गई है, आखिर  मेरा वनवास कब खत्म हाेगा?

इस तरह झेलता रहा उपेक्षा का दंश

  • 2010 में मेरा निर्माण शुरू हुआ,उद्घाटन के करीब पहुंचा ताे काम ही रोक दिया गया
  • फिर दफ्तर-दर-दफ्तर फाइल घूमने लगी, मामला अदालत तक पहुंच गया
  • टूटने लगी हैं बच्चाें के मनाेरंजन के लिए बनाई गईं बाघ और शेर की आकृतियां
  • हमेशा ताला लगा रहता है अनदेखी के कारण अब ताे फूल-पत्ते भी सूखने लगे हैं
  • एक ताे कुछेक लाेग ही यहां पर आते, वाे भी सुना जाते दाे बात
  • कहते- यह कैसा पार्क है, जाे बनने के पहले जीर्ण-शीर्ण हाे गया

होनी थी ये व्यवस्था, जिनमें अधिकतर हो चुके थे काम

  • म्यूजिकल फाउंटेन
  • सुंदर रनिंग रीवर
  • मिनी चिड़ियाघर
  • सुविधायुक्त कैंटीन
  • ओपेन थिएटर
  • भूल-भुलैया
  • पाथ वे और  बेंच
  • विभिन्न तरह के झूले
  • पार्क के भीतर रोड

डीएम ने जगाई आस, कहा-दाे माह में लोग उठा सकेंगे लाभ

सिटी पार्क काे लेकर न्यायिक प्रकिया समाप्त हाे गई है। पूरे प्राेजेक्ट की फाइल देखने के बाद, मैं पार्क पहुंच कर जायजा भी ले चुका हूं। दाे माह में रेनाेवेशन के साथ सिटी पार्क शहरवासियाें के लिए खाेल दिया  जाएगा। -अलोक  रंजन घाेष, डीएम।

Input : Dainik Bhaskar 

Report by Lalitanshu

 

 

 

MUZAFFARPUR

नाले के अवरोधों को साफ़ कर किसी भी सूरत में जलनिकासी सुनिश्चित करें निगम – मंत्रीसुरेश शर्मा

Muzaffarpur Now

Published

on

शहर के नालों के जल निकासी में जहाँ भी अवरोध है उसे किसी भी सूरत पर साफ़ करें नगर निगम। कूड़ा डंपिंग प्वाइंट के सुव्यवस्थित निर्धारण के साथ-साथ मोहल्ले के नालों का मुख्य नालों से जुड़ाव एवं जल निकासी में जहाँ भी बाधा आए उससे सख़्ती से निपटें नगर निगम। यह बातें नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने पंकज मार्केट,बालूघाट एवं कमरा मोहल्ले के निरीक्षण कार्यक्रम में नगर निगम अधिकारियों को कही। मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि नाले की उगाही का ठीक से न होने के कारण भी स्थिति भयावह रूप धारण की हुई है तथा जगह-जगह अतिक्रमण भी जल निकासी में बाधा उत्पन्न कर रही हैं।

कुछ अतिक्रमणकारियों के कारण पूरे मोहल्ले को जलजमाव का सामना करना पड़े यह सर्वथा अनुचित है।मंत्री श्री शर्मा ने निगम अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वार्ड नंबर 15,16,17, 18,19,20 के नालों की उगाही एवं अतिक्रमण को निगम अधिकारी अविलंब साफ़ एवं ख़ाली करवाए और जल जमाव से इन क्षेत्रों को मुक्त करवाए। कमरा मोहल्ला स्थित सम्प हाउस के पास भी अत्याधिक मलबा जमा है कि उसकी भी सफ़ाई करवाने का निर्देश मंत्री श्री शर्मा ने दिया है।

इस आशय की जानकारी मंत्री के आप्त सचिव संजीव कुमार सिंह ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर दी।मंत्री श्री शर्मा के निरीक्षण कार्यक्रम में अपर नगर आयुक्त विशाल आनंद,नगर निगम के कार्यपालक अभियंता अशोक कुमार सिन्हा, वार्ड पार्षद के.पी. पप्पू,भोला चौधरी,रामू सहनी,सुबोध कुमार, अमन राज सहित अन्य निगम के अधिकारी मौजूद थे।

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर का युवक निकला साइबर क्रिमिनल पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के नाम पर करता था फर्जीवाड़ा

Ravi Pratap

Published

on

बिहार पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने साइबर क्राइम के एक बड़े मामले का खुलासा किया है. सॉइल साइंटिस्ट की पढ़ाई कर रहा एक स्टूडेंट देश के पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के नाम पर ठगी कर रहा था. इंस्टाग्राम ग्राम पर ऑफिस ऑफ डॉ मनमोहन सिंह के नाम से एक प्रोफाइल बनाकर उसे फॉलो कर रहे लोगों के साथ फर्जीवाड़ा कर रहा था. फॉलो कर रहे लोगों से पे टीम के जरिए डोनेशन की उगाही कर रहा था. रुपए मंगाने के लिए वो पे टीएम का इस्तेमाल कर रहा था. इस फर्जी इंस्टाग्राम प्रोफ़ाइल को 90 हजार लोग फॉलो कर रहे थे.

इस मामले की जानकारी आर्थिक अपराध शाखा के एडीजी जितेंद्र सिंह गंगवार को हुई. फिर साइबर सेल की टीम को जांच के लिए एक्टिव किया गया. पूर्व प्रधानमंत्री के नाम पर बनाये गए फर्जी इंस्टाग्राम प्रोफाइल को खंगाला गया. जांच के क्रम में प्रोफ़ाइल के एडमिन का मोबाइल नम्बर 8210039492 मिला. जब इस नम्बर का डिटेल निकाला गया तो वो मुजफ्फरपुर के पैगम्बरपुर कोल्हुआ के पुलिस लाइन चौक की रहने वाली पूनम सिंह के नाम से मिली.

फिर आर्थिक अपराध शाखा की टीम ने पे टीएम के नोडल ऑफिसर से कॉन्टैक्ट किया. जो डिटेल पे टीएम के अधिकारी से मिला, उसके अनुसार इंस्टाग्राम से लिंक्ड पे टीएम वॉलेट का इस्तेमाल सोमू नाम का कोई व्यक्ति कर रहा है. वॉलेट से लिंक्ड बैंक अकाउंट मुजफ्फरपुर के पुलिस लाइन चौक के रहने वाले सोमेश्वर सिंह के नाम पर है. इसके बाद आर्थिक अपराध शाखा की तरफ से पूरे मामले की जानकारी मुजफ्फरपुर के एसएसपी जयंतकांत को दी गई. इसके बाद मुजफ्फरपुर की एक स्पेशल टीम ने छापेमारी कर 22 साल के सोमेश्वर सिंह को अपने कब्जे में लिया. उससे पूछताछ की. उसके पास से एक मोबाइल बरामद किया.

इसी मोबाइल में 8210039492 का सिमकार्ड लगा हुआ मिला. इसके साथ ही उस मोबाइल में दूसरी सिमकार्ड भी मिली. जिसका नम्बर 8375835574 है. इसी मोबाइल में पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के नाम से बनाई गई फर्जी इंस्टाग्राम प्रोफाइल मिली. पुलिस की जांच में पता चला कि पूनम सिंह सोमेश्वर की मां का नाम है. यह शातिर देहरादून के दून बिजनेस कॉलेज से सॉइल साइंटिस्ट की पढ़ाई कर रहा है. इसके पास से कोटक महिंद्रा बैंक का पासबुक मिला है. यह वही अकाउंट है, जो पे टीएम से लिंक है. गलत तरीके से मंगाए जा रहे डोनेशन के रुपए इसी अकाउंट में आये हैं. अब पुलिस टीम अकाउंट के डिटेल्स को खंगाल रही है. उसमें कितने रुपए आये हैं, इसका पता लगाया जा रहा है. साइबर क्राइम के तहत पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है.

Input : Live Cities

Continue Reading

MUZAFFARPUR

अखाड़ाघाट : कोचिंग संचालक से विवाद होने के बाद नदी में कूदी छात्रा

Abhay Raj

Published

on

कोचिंग संचालक से विवाद होने के बाद अखाड़ाघाट पुल से गुरुवार की शाम सात बजे स्नातक की छात्रा मोनिका कुमारी (20 वर्ष) ने बूढ़ी गंडक नदी में छलांग लगा दी. उसके पीछे जब तक दौड़ते हुए परिवार के लोग पहुंचते वह नदी में डूब चुकी थी. पिता ने बच्ची की तलाशी को लेकर सिकंदरपुर ओपी और अहियापुर पुलिस दोनों से गुहार लगायी . लेकिन, सिकंदरपुर ओपी प्रभारी हरेंद्र कुमार ने मामला अहियापुर थाना क्षेत्र की होने की बात कह पल्ला झाड़ लिया.

अहियापुर पुलिस ने सुबह में आकर देखने की बात कह फोन कट कर दिया. पुलिस की अनदेखी से आक्रोशित लोगों ने टायर जला पुल को जाम कर दिया. परिजन अपनी बच्ची की जल्द से जल्द नदी में तलाशी की मांग कर रहे थे. इस दौरान भीड़ में शामिल कुछ असामाजिक तत्वों ने बाइक, ऑटो समेत आधा दर्जन से अधिक गाड़ियों में तोड़फोड़ शुरू कर दी. एम्बुलेंस को जाने से रोके दिया. कई राहगीरों को मारपीट कर जख्मी कर दिया.

हंगामा बढ़ने के बाद नगर थानेदार ओमप्रकाश पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे, उन्हें भारी आक्रोश का सामना करना पड़ा. रात 10 बजे एनडीआरएफ की टीम सीढ़ी घाट से होते हुए बूढ़ी गंडक में छात्रा की तलाश करने उतरी. पुलिस के समझाने के बावजूद लोग जाम नहीं हटा रहे थे, इसके बाद नगर थाने की पुलिस क्यूआरटी के साथ लाठी चार्ज कर सभी को खदेड़ दिया.

बताया जाता है कि अहियापुर थाना क्षेत्र के शेखपुर असीम हेल्थकेयर के समीप के रहनेवाले बलिराम साह की चार बेटी ही है. उनकी बड़ी बेटी मोनिका कुमारी राधा कृष्ण केडिया स्कूल से इंटर पास के बाद स्नातक में एडमिशन करायी थी. परिजनों के अनुसार मोनिका घर से पांच बजे कोचिंग को निकली थी. इस दौरान कोचिंग संचालक से कुछ बात को लेकर विवाद हुआ.

कोचिंग संचालक से विवाद के बाद उसकी बेटी भागकर नदी पर आयी और छलांग लगा दी. छात्रा की मां ने बताया कि एक होजियरी दुकान के पीछे कोचिंग चलानेवाले एक व्यक्ति से मोबाइल पर कुछ बात हुई. इसके बाद वह नदी में कूद गयी. कोचिंग संचालक के कारण ही उसकी बेटी नदी में कूदी है.

Continue Reading
INDIA10 mins ago

सुशांत के परिवार पर विवादित बयान के बाद शिवसेना सांसद संजय राउत का यू-टर्न

MUZAFFARPUR15 mins ago

नाले के अवरोधों को साफ़ कर किसी भी सूरत में जलनिकासी सुनिश्चित करें निगम – मंत्रीसुरेश शर्मा

MUZAFFARPUR21 mins ago

मुजफ्फरपुर का युवक निकला साइबर क्रिमिनल पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के नाम पर करता था फर्जीवाड़ा

BIHAR1 hour ago

फोन कर माफी मांग रहा नेपाल, भारतीयों को पीटने वाले पुलिस के दो जवान हटाए गए

BIHAR1 hour ago

बिहार पुलिस में निकली बंपर वैकेंसी, दारोगा व सार्जेंट नियुक्ति के लिए आवेदन 16 अगस्त से

BIHAR2 hours ago

गांव की गलियों में खेलने वाला बिहार का लाल आकाशदीप अब खेलेगा IPL

MUZAFFARPUR3 hours ago

अखाड़ाघाट : कोचिंग संचालक से विवाद होने के बाद नदी में कूदी छात्रा

INDIA3 hours ago

गैंगरेप के आरोपियों को मिली फांसी की सजा, दुल्हन की तरह सजा पुलिस स्टेशन

BIHAR3 hours ago

बिहार में सामने आए कोरोना के 3911 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 98 हजार के पार

BOLLYWOOD4 hours ago

‘बिग बॉस 14’ के सेट से सामने आई सलमान खान की पहली तस्वीर, हो रही है वायरल

BIHAR1 week ago

भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने की खुदकुशी, मरने से पहले किया फेसबुक लाइव

INDIA3 days ago

बाइक पर पत्नी के अलावा अन्य को बैठाया तो कार्रवाई: हाई कोर्ट

INDIA3 weeks ago

वाहनों में अतिरिक्त टायर या स्टेपनी रखने की जरूरत नहीं: सरकार

INDIA3 days ago

सुप्रीम कोर्ट का फैसला – पिता की प्रॉपर्टी में बेटी का हर हाल में आधा हिस्सा होगा

BIHAR1 week ago

UPSC में छाए बिहार के लाल, जानिए कितने बच्चों का हुआ चयन

BIHAR4 weeks ago

बिहार लॉकडाउन: इमरजेंसी हो तभी निकलें घर से बाहर, नहीं तो जब्त हो जाएगी गाड़ी

MUZAFFARPUR1 week ago

उत्तर बिहार में भीषण बिजली संकट, कांटी थर्मल पावर ठप्प

BIHAR2 weeks ago

पप्पू यादव का खतरनाक स्टंट: नियमों की धज्जियां उड़ा रेल पुल पर ट्रैक के बीच चलाई बुलेट, देखें VIDEO

BIHAR5 days ago

IPS विनय तिवारी शामिल हो सकते है, सुशांत केस की CBI जांच टीम में…

MUZAFFARPUR7 days ago

बिहार के प्रमुख शक्तिपीठों में प्रशिद्ध राज-राजेश्वरी देवी मंदिर की स्थापना 1941 में हुई थी

Trending