मैं सिटी पार्क; हाकिमों से मेरा सवाल- 9 वर्षों से आश्वासन की घुटी पिलाई जा रही, आखिर कब खत्म हाेगा वनवास?
Connect with us
leaderboard image

MUZAFFARPUR

मैं सिटी पार्क; हाकिमों से मेरा सवाल- 9 वर्षों से आश्वासन की घुटी पिलाई जा रही, आखिर कब खत्म हाेगा वनवास?

Santosh Chaudhary

Published

on

city-park-muzaffarpur

कंपनीबाग के समीप 2010 में मेरा निर्माण शुरू हुआ।  बनकर लगभग तैयार भी हाे गया था। मेरे ऊपर सरकार के 2.86 CR रुपए खर्च हुए थे। बस साैंदर्यीकरण के कुछ काम शेष थे। शहरवासियाें काे लगने लगा था कि उनके लिए यह बेहतर पार्क हाेगा। मुझे भी यह वहम हाे गया था कि आनेवाले  समय में पार्क के रूप में यहां सर्वाधिक मेरे नाम की चर्चा हाेगी। मेरे उद्घाटन की भी जाेर-शाेर से चर्चा शुरू हाे गई थी। लेकिन, अचानक कागजी बाधाओं  के कारण काम रुक गया। फिर ताे एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर हाेते हुए मेरी फाइलें पटना तक घूमने लगीं। मामला न्यायालय तक पहुंच गया। वैसे इन 9 वर्षाें में एक बात जरूर हुई कि दाे नए साल के अवसर पर जंगल से घिरे इस पार्क काे प्रशासनिक स्तर पर खाेल कर मेरा मजाक उड़ाया गया। वाे भी तब जबकि, शहर की करीब 4.85 लाख की आबादी  के लिए अब तक सिर्फ एक जुब्बा सहनी पार्क है। उसकी भी हालत अधिकतर खराब ही रहती है। सिटी पार्क बन जाने से शहरवासियाें काे सुकून के लिए एक अच्छी जगह मिल सकती है।

  • 2010 में मुख्यमंत्री शहरी विकास योजना के तहत बनना शुरू हुआ
  • 2.86 करोड़ रुपए अब तक इस पार्क पर सरकार के हाे चुके खर्च
  • 4.85 लाख शहर की आबादी  पर अभी एकमात्र है जुब्बा सहनी पार्क

…और करीब 9 वर्ष बाद भी एक ताे लाेग इस पार्क में आते  नहीं। जाे कुछेक लाेग सुबह में आते  भी ताे दाे बात सुना जाते हैं कि यह कैसा पार्क है, जाे आमलोगों  के लिए पूरी तरह उपलब्ध हाेने के पहले जीर्ण-शीर्ण हाे गया। वैसे भी मुझे सुबह में कुछेक घंटे के लिए ही खाेला जाता है। उस समय मार्निंग वाक करनेवाले कुछ लाेग जरूर आ  जाते हैं। इसके अलावा अधिकतर समय मेन गेट पर बड़ा-सा ताला ही लटका रहता है। इसे देख कर लाेग यह भी कहते हैं कि न जाने इस पार्क काे किसकी नजर लग गई। कुछ लाेग कहते कि इसके फाइल की अटैची ही काेई साहब ले गए। बता दें कि मेरा निर्माण शुरू हाेने से अब तक चार डीएम बदल गए। पार्क की फाइल हाकिमाें के टेबल पर पड़ी रही। लाेगाें काे अब तक शीघ्र पार्क खाेले जाने का आश्वासन  ही मिलता रहा है। लेकिन, अब ताे पार्क में बच्चाें के मनाेरंजन के लिए बनाई गई बाघ-शेर-डायनासाेर की आकृतियां  टूटने लगी हैं। किसी का धर ताे किसी का सिर बचा है। हमेशा ताला लगे रहने व अनदेखी से फूल-पत्ते भी सूखने लगे हैं। अब हाकिमाें से मेरा सवाल है कि 9 वर्षाें से मैंने यातनाएं झेली हैं, मुझे अब तक सिर्फ अस्वासन  की घुटी पिलाई गई है, आखिर  मेरा वनवास कब खत्म हाेगा?

इस तरह झेलता रहा उपेक्षा का दंश

  • 2010 में मेरा निर्माण शुरू हुआ,उद्घाटन के करीब पहुंचा ताे काम ही रोक दिया गया
  • फिर दफ्तर-दर-दफ्तर फाइल घूमने लगी, मामला अदालत तक पहुंच गया
  • टूटने लगी हैं बच्चाें के मनाेरंजन के लिए बनाई गईं बाघ और शेर की आकृतियां
  • हमेशा ताला लगा रहता है अनदेखी के कारण अब ताे फूल-पत्ते भी सूखने लगे हैं
  • एक ताे कुछेक लाेग ही यहां पर आते, वाे भी सुना जाते दाे बात
  • कहते- यह कैसा पार्क है, जाे बनने के पहले जीर्ण-शीर्ण हाे गया

होनी थी ये व्यवस्था, जिनमें अधिकतर हो चुके थे काम

  • म्यूजिकल फाउंटेन
  • सुंदर रनिंग रीवर
  • मिनी चिड़ियाघर
  • सुविधायुक्त कैंटीन
  • ओपेन थिएटर
  • भूल-भुलैया
  • पाथ वे और  बेंच
  • विभिन्न तरह के झूले
  • पार्क के भीतर रोड

डीएम ने जगाई आस, कहा-दाे माह में लोग उठा सकेंगे लाभ

सिटी पार्क काे लेकर न्यायिक प्रकिया समाप्त हाे गई है। पूरे प्राेजेक्ट की फाइल देखने के बाद, मैं पार्क पहुंच कर जायजा भी ले चुका हूं। दाे माह में रेनाेवेशन के साथ सिटी पार्क शहरवासियाें के लिए खाेल दिया  जाएगा। -अलोक  रंजन घाेष, डीएम।

Input : Dainik Bhaskar 

Report by Lalitanshu

 

 

 

MUZAFFARPUR

शानू हत्या’कांड में पुलिस ने खंगाले संदिग्ध ठिकाने, कई से की गई पूछताछ

Md Sameer Hussain

Published

on

मुजफ्फरपुर,अहियापुर – अखाड़ाघाट रोड में 17 जनवरी की रात हुई साधुगाछी शेखपुर निवासी पेशकार अरविंद शरण के पुत्र विनीत कुमार उर्फ शानू हत्याकांड में पुलिस की टीम ने सोमवार को कई संदिग्ध ठिकानों को खंगाला। इस दौरान कई से पूछताछ की गई। नगर पुलिस उपाधीक्षक रामनरेश पासवान के नेतृत्व में चल रही छापेमारी के दौरान कई लोग हिरासत में लिए गए हैैं। जिनका सत्यापन किया जा रहा है। डीएसपी ने बताया कि आरोपितों की खोज की जा रही है। जल्द ही सभी हत्यारे गिरफ्तार कर लिए जाएंगे।

याद रहे कि विनीत कुमार उर्फ शानू को 17 जनवरी की रात करीब 10 बजे बाइक सवार नकाबपोश बदमाशों ने जीरो माइल-अखाड़ाघाट मार्ग में गोली मार दी थी। घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश जीरोमाइल की ओर भाग निकले थे। स्थानीय लोगों के सहयोग से उसे एसकेएमसीएच लाया गया। जहां चिकित्सकों ने देखने के साथ उसे मृत घोषित कर दिया। वह सीतामढ़ी के नानपुर का मूल निवासी था। उसके पिता रोसड़ा कोर्ट में पेशकार हैं। घटना की बाबत शानू की मां रेखा शरण के बयान पर पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की है।

पर्यवेक्षण गृह में पुलिस टीम ने की जांच, खंगाली गईं सूचनाएं

अहियापुर थानाक्षेत्र में 17 जनवरी की रात हुई साधुगाछी शेखपुर निवासी पेशकार अरविंद शरण के पुत्र विनीत कुमार उर्फ शानू हत्याकांड की जांच में जुटी पुलिस टीम सोमवार को स्थानीय पर्यवेक्षण गृह भी पहुंची। टीम के अधिकारियों ने घंटे भर से ज्यादा यहां रुककर विभिन्न पहलुओं की जांच की। इस दौरान पता लगाया गया कि पर्यवेक्षण गृह में कुल कितने बच्चे हैैं। उनमें से कौन-कौन अवकाश पर हैैं? कब अवकाश पर गए हैैं? साथ ही यह भी जानकारी जुटाई गई कि कौन किस तरह के अपराध में लिप्त है।


बताते हैं कि पुलिस इस घटना को अंजाम देने में लिप्त शूटर की खोज कर रही है। घटना के तार जेल भी जुड़े होने की बात सामने आई है। ऐसे में सभी बिंदुओं की पड़ताल चल रही है। नगर डीएसपी रामनरेश पासवान ने बताया कि पर्यवेक्षण गृह में सामान्य जानकारी ली गई। जांच से जुड़ी बातें सार्वजनिक नहीं की जा सकती।

Input : Dainik jagran

Continue Reading

MUZAFFARPUR

किसी फिल्मी पटकथा से कम नहीं मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांड, ध्‍वस्‍त हो गया ब्रजेश का साम्राज्‍य

Santosh Chaudhary

Published

on

बालिका गृहकांड की कहानी किसी फिल्मी पटकथा से कम नहीं है। तकरीबन दो साल पहले यह मामला सामने आया था। प्रशासनिक लापरवाही की वजह से किस तरह लड़कियों का शोषण किया गया, यह हैरान करने वाला था। समाज कल्याण विभाग भी कठघरे में रहा । मामला संसद में गूंजा, इसके बाद जांच की जिम्मेदारी सीबीआइ को सौंपी गई थी। राज्य सरकार में समाज कल्याण मंत्री रहीं मंजू वर्मा के पति पर भी संलिप्तता के आरोप लगे थे।

44 में से 33 से यौन शोषण की बात आई थी सामने

टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की एजेंसी कोशिश ने फरवरी 2018 में साहू रोड स्थित ब्रजेश ठाकुर के बालिका गृह का ऑडिट शुरू किया था। 26 मई को उसकी रिपोर्ट आई। उस दौरान 44 लड़कियों में 33 से यौन शोषण की बात सामने आई थी। पहले तो मामले को दबाने की कोशिश की गई। इसी के चलते चार दिन बाद बाल संरक्षण इकाई के तत्कालीन सहायक निदेशक दिवेश कुमार शर्मा ने महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसमें सेवा संकल्प व विकास समिति की ओर से संचालित बालिका गृह प्रबंधन को आरोपित बनाया गया था। यहां से लड़कियों को पटना, मोकामा और मधुबनी बालिका गृह भेज दिया गया था। जांच तत्कालीन महिला थानाध्यक्ष ज्योति कुमारी ने शुरू की। मामले में मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर, जिला बाल संरक्षण पदाधिकारी रवि कुमार रोशन, बाल कल्याण समिति का अध्यक्ष दिलीप कुमार वर्मा, बाल संरक्षण इकाई की सहायक निदेशक रोजी रानी, ब्रजेश ठाकुर की खास साइस्ता परवीन उर्फ मधु के अलावा बालिका गृह की महिला कर्मचारियों सहित 22 अन्य की गिरफ्तारी हुई थी।

अब तक विपक्ष बना हुआ है हमलावर

मामला सामने आने के बाद विपक्षी दल हमलावर हुए थे। कांग्रेस और राजद के सांसदों ने यह मामला संसद में उठाया था। बिहार सरकार की सिफारिश पर 28 जुलाई को सीबीआइ ने जांच शुरू की थी। कुछ लड़कियों की हत्या की बात सामने आने पर पुलिस ने साक्ष्य जुटाने के लिए 23 जुलाई 2018 को बालिका गृह परिसर की खोदाई कराई। वहां कुछ नहीं मिला। उसी साल तीन अक्टूबर को सिकंदरपुर श्मशान घाट की खोदाई सीबीआइ ने कराई थी। वहां दो मानव कंकाल मिले थे। पटना हाईकोर्ट ने जांच की जानकारी लीक होने पर मीडिया की रिपोर्टिंग पर प्रतिबंध लगा दिया था, जिसे 21 सितंबर को हटा दिया गया था।

नशीली दवा की मदद से यौन हिंसा

बालिका गृह की लड़कियों को हर रात नशीली दवा देने और पिटाई की बात सामने आई थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर लड़कियों के बयान दर्ज करने के लिए बेंगलुरु के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल एंड न्यूरो साइंस के बाल मनोवैज्ञानिक व पेशेवर काउंसलरों की मदद ली गई थी।

ब्रजेश पटियाला जेल स्थानांतरित

ब्रजेश ठाकुर की ऊंची पहुंच के कारण जांच में परेशानी की सीबीआइ की शिकायत पर 10 अक्टूबर 2018 को मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर को मुजफ्फरपुर केंद्रीय कारा से भागलपुर जेल भेज दिया गया था। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पटियाला जेल में शिफ्ट किया गया था।

 

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सुनवाई साकेत कोर्ट में

पिछले साल सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मामले की सुनवाई दिल्ली के साकेत कोर्ट में होने लगी थी। यहां सीबीआइ ने आठ जनवरी को बताया कि बालिका गृहकांड में किसी लड़की की हत्या नहीं हुई। उसकी इस रिपोर्ट पर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे। हत्या नहीं हुई तो खोदाई में मिले कंकाल किनके हैं?

ध्वस्त हो गया साम्राज्य

ब्रजेश ठाकुर का पूरा साम्राज्य बालिका गृह मामला सामने आने के बाद ध्वस्त हो गया। उसके होटल को सील करने के साथ करोड़ों की संपत्ति जब्त की गई। अवैध निर्माण के चलते बालिका गृह के कुछ हिस्से को ध्वस्त करने की कार्रवाई हुई। सेवा संकल्प व विकास समिति के विरुद्ध 8.32 करोड़ आयकर बकाया का नोटिस आयकर विभाग ने दिया। उसके खाते सीज कर दिए गए।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर शे’ल्टर हो’म पर फै’सले के बाद बोले तेजस्वी, मूंछ और तोंद वाले अंकल का क्या हुआ

Santosh Chaudhary

Published

on

बिहार के ब’हुच’र्चित मुजफ्फरपुर शे’ल्टर हो’म कां’ड में दिल्ली की साकेत को’र्ट ने फै’सला सुना दिया है. 20 आ’रोपियों में से 19 को दो’षी भी करार दे दिया गया है. स’जा को लेकर अब 28 जनवरी को सुबह 11 बजे से साकेत को’र्ट में बहस होगी. मुजफ्फरपुर बा’लिका गृ’ह कां’ड को लेकर लगातार बिहार सरकार पर नि’शाना साधने वाले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी एक बार फिर से सरकार पर हम’ला बोला है.

मामले में फैसला आने के बाद तेजस्वी ने ट्वीट कर एक बार फिर से सीएम नीतीश कुमार और बिहार सरकार को आड़े हाथ लिया है. उन्होंने सवाल पूछा है कि ब्रजेश ठाकुर को तो दोषी करार दे दिया गया लेकिन वो मूंछ और तोंद वाले अंकल कहां गए.

तोंद और मूंछ वाले का क्या हुआ

तेजस्वी यादव ने अपने ट्वीट के माध्यम से नीतीश कुमार से सवाल पूछा है कि पेट-तोंद वाले और मूंछ वाले अंकल को कहा छुपा दिया गया. अपने ट्वीट में तेजस्वी लिखते हैं कि “आख़िरकार नीतीश कुमार जी के परम शिष्य ब्रजेश ठाकुर को मुज़फ़्फ़रपुर बालिका गृह बलात्कार कांड में दोषी पाया गया. लेकिन वो मूंछ और पेट-तोंद वाले अंकल कहां छुपा दिए गए? फिर तत्कालीन मंत्री मंजू वर्मा को क्यों बर्खास्त किया गया था? बाक़ी NGO संचालकों का क्या हुआ? नीतीश जी जवाब दें.”

राबड़ी देवी ने भी उठाया सवाल
तेजस्वी ने पूछा है कि बाकी NGO संचालकों का क्या हुआ. सीएम नीतीश से उन्होंने जवाब मांगते हुए कहा है कि तत्कालीन मंत्री मंजू वर्मा को क्यों बर्खास्त किया गया था. वहीं बिहार की पूर्व सीएम और तेजस्वी की मां राबड़ी देवी ने भी इस मामले को लेकर यही सवाल बिहार सरकार और सीएम नीतीश से किया है. राबड़ी देवी ने भोजपुरी में ट्वीट करते हुए लिखा है कि “बालिका गृह कांड की लईकी सब तोंद अउर मोंछ वाले अंकल का नाम लेत रहीस पर सजा में नाम ना आइल! नीतीश सरकार के चाहीं कि बालिका गृह की इन मासूमों पीड़ितों के साथ भइल बलात्कार पर बिहार के बेटियों से माफ़ी मांगे!”

राबड़ी देवी ने भी कहा है कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह में रेप कांड में सजा पाने वालों की लिस्ट में उन तोंद और मूंछ वाले अंकल का नाम नहीं आया है जिसका नाम बच्चियों ने लिया था. साथ ही उन्होंने कहा है कि बिहार सरकार और नीतीश कुमार को बच्चियों के साथ हुए बलात्कार पर माफी मांगनी चाहिए.

Input : Live Cities

Continue Reading
Advertisement
BIHAR5 hours ago

पीएम ने दिया छात्रों को गुरुमंत्र, बिहार के छात्रों ने कहा-वाह मोदी जी

MUZAFFARPUR6 hours ago

शानू हत्या’कांड में पुलिस ने खंगाले संदिग्ध ठिकाने, कई से की गई पूछताछ

SPORTS8 hours ago

175 KM की रफ्तार से गेंद फेंक इस गेंदबाज ने मचाई सनसनी!

BIHAR8 hours ago

प्रशांत व पवन को JDU का झटका, नहीं बनाए गए स्‍टार प्रचारक

INDIA8 hours ago

दुबई में 25 लाख रुपए का सैलरी पैकेज छोड़ सरपंच चुनाव लड़ने पहुंचीं गांव ‘बहू’

INDIA9 hours ago

महज 3.80 लाख रुपये में मिल रही है Maruti Suzuki की 7 सीटर कार

MUZAFFARPUR9 hours ago

किसी फिल्मी पटकथा से कम नहीं मुजफ्फरपुर बालिका गृहकांड, ध्‍वस्‍त हो गया ब्रजेश का साम्राज्‍य

INDIA9 hours ago

तीनों सेना प्रमुखों ने साथ में देखी ‘तानाजी’, अजय देवगन बोले- आपका साथ मिलना मेरे लिए बड़ा सम्मान

BIHAR9 hours ago

सीएम नीतीश को है आनंद मोहन की चिंता, बाहुबली को बताया अपना पुराना साथी

shame-on-citi-bank
INDIA11 hours ago

सीटी बैंक के भारतीय सेना विरोधी मंसूबे उजागर, मुजफ्फरपुर के बेटे स्वेताभ ने किया पर्दाफाश

MUZAFFARPUR3 days ago

मुजफ्फरपुर में युवक की गो’ली मा’रकर ह’त्या, फेसबुक लाइव होकर बिहार पु’लिस से मांगी थी सु’र’क्षा

BIHAR2 weeks ago

लंबे समय बाद नए लुक में नजर आए तेज प्रताप, पत्‍नी ऐश्‍वर्या के मायके जाने के बाद कटवाए बाल

INDIA1 week ago

बिहार के लोगों ने दीपिका पादुकोन को नकारा, पटना में छपाक देखने पहुंचे मात्र तीन लोग

INDIA2 weeks ago

निर्भया के चारों दो’षियों को 22 जनवरी की सुबह दी जाएगी फां’सी, डे’थ वा’रंट जारी

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर के एक साधारण किसान का पुत्र बना Air Force में Flying Officer, ग्रामीण युवाओं के सपनों को लगे पंख

MUZAFFARPUR2 weeks ago

गाय ने दो मुंह व चार आंख वाली बछिया को जन्म दिया

BIHAR2 weeks ago

BPSC Civil Services की परीक्षा देनी है तो ध्‍यान दें, अब पहले से कठिन हो जाएगा पाठ्यक्रम

BIHAR2 weeks ago

दुखद : वर्ष 2019 की इंटर स्टेट टाॅपर रोहिणी की दिल्ली में ट्रेन से क’ट कर मौ’त

MUZAFFARPUR1 week ago

मुजफ्फरपुर में दम्पति की ह’त्या मामला, साहेबगंज थाना इलाके से पकड़ा गया ह’त्यारा

INDIA2 weeks ago

बेटे की जा’न की भीख मांगती रही दो’षी की मां, पी’ड़िता की मां बोलीं- मेरी भी बेटी थी

Trending

0Shares