फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस करेगी चमत्कार?
Connect with us
leaderboard image

TRENDING

फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस करेगी चमत्कार?

Santosh Chaudhary

Published

on

देश के सबसे बड़े सियासी दंगल यानी 11 अप्रैल से लेकर 19 मई तक सात चरणों में हुए लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे आज सबके सामने आ जाएंगे। लोकसभा चुनाव के वोटों की गिनती आज यानी 23 मई 2019 को सुबह 8 बजे से शुरू होगी और धीरे-धीरे नतीजे सबके सामने आ जाएंगे। आज के नतीजों से साफ हो जाएगा कि 17वीं लोकसभा चुनाव में देश में किसकी सरकार बनेगी और कौन विपक्ष में बैठेगा। इतना ही नहीं, आज के नतीजों से यह भी साफ हो जाएगा कि एग्जिट पोल के आंकडे कितने सटीक थे और कितने गलत। लोकसभा चुनाव 2019 के निर्णायक नतीजे से इस सवाल का जवाब मिल जाएगा कि मोदी सरकार अपनी सत्ता बचाने में कामयाब होती है या राहुल गांधी की पार्टी कांग्रेस के नेतृत्व में यूपीए गठबंधन बीजेपी नीत एनडीए को मात देकर केंद्र की सत्ता हासिल करती है या फिर तीसरा मोर्चे को मौका मिलता है। इस बार के चुनाव में नजर सिर्फ भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के प्रदर्शन पर ही नहीं होंगी, बल्कि इस बार क्षेत्रीय पार्टियों के नतीजों पर भी बहुत कुछ निर्भर करेगा। लोकसभा चुनाव 2019 के सियासी दंगल में सपा, राजद, टीएमसी, वाईएसआर कांग्रेस, टीडीपी, टीआरएस, बीजेडी जैसी क्षेत्रीय पार्टियों के नतीजों पर भी सबकी निगाहें होंगी। बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए या फिर कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व वाले यूपीए को स्पष्ट बहुमत न मिल पाने की स्थिति में इन्हीं क्षेत्रीय पार्टियों के हाथ में सत्ता की कुंजी हो सकती है और ये पार्टियां ही केंद्र में सरकार बनाने के लिहाज से अहम रोल अदा कर सकती हैं। लोकसभा चुनाव के नतीजों से पहले ध्यान देने वाली बात है कि तमिलनाडु की वेल्लोर लोकसभा सीट पर मतदान नहीं हो पाने की स्थिति में इस बार 542 लोकसभा सीटों पर मतदान हुए। तो चलिए जानते हैं लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़ी दस अहम बातें…

1- लोकसभा चुनाव में बयानबाजी:
लोकसभा चुनाव 2019 में जिस तरह से राजनेताओं ने बयानबाजी की और भाषा के स्तर को गिराया, वह पूरे चुनाव में चर्चा का विषय रहा। इस लोकसभा चुनाव में प्रचार के दौरान पीएम मोदी, अमित शाह, आजम खां, मेनका गांधी, मायावती, योगी आदित्यनाथ, और साध्वी प्रज्ञा जैसे नेता अपने विवादित बयानों को लेकर भी चर्चा में रहे। पीएम मोदी के भाषणों में सर्जिकल स्ट्राइक और राजीव गांधी का जिक्र खूब किया गया। वहीं साध्वी प्रज्ञा ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताकर विवाद को खड़ा कर दिया था, हालांकि उन्हें बाद में माफी मांगनी पड़ी थी। वहीं आजम खान जयाप्रदा को लेकर अंडरवियर वाले बयान से विवादों में रहे थे। मायावती और योगी ने अली और बजरंग बली वाले बयानों से भी चर्चा में रहे थे।

2- नेताओं पर चुनाव आयोग का डंडा: 
लोकसभा चुनाव 2019 में भले ही विपक्षी पार्टियों ने चुनाव आयोग को निशाने पर लिया, मगर कई राजनेताओं के ऊपर चुनाव आयोग ने उनके बयानबाजी को लेकर डंडा भी चलाया। मायावती, सीएम योगी, मेनका गांधी, आजम खान, साध्वी प्रज्ञा समेत कई नेताओं पर चुनाव आयोग ने प्रचार से बैन लगाया था। इन नेताओं ने अपने भाषणों से आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया। हालांकि, कांग्रेस नेताओं ने पीएम मोदी और अमित शाह पर भी आचार संहिता के उल्लंघन का मामला उठाया, मगर चुनाव आयोग ने पूरी तरह से इन दोनों कद्दावर नेताओं को क्लीनचिट दे दी। इसे लेकर चुनाव आयोग विपक्षी पार्टियों के निशाने पर भी रहा।

3- लोकसभा चुनाव में चर्चा में रहे ये वीआईपी सीट:
2014 में जहां देश और मीडिया का ध्यान सिर्फ वाराणसी की सीट पर था, मगर इस चुनाव में यह परिपार्टी टूटती दिखी। इस बार वाराणसी से ज्यादा चर्चा बिहार की बेगूसराय सीट की रही। क्योंकि यहां से कन्हैया कुमार और गिरिराज सिंह के बीच मुकाबले ने पूरे देश का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया। बहरहाल, जानते हैं कि इस बार कौन-कौन सीटें वीआईपी रहीं। देश की वीआईपी सीटों में सबसे पहला नंबर आता है वाराणसी का। वाराणसी से नरेंद्र मोदी, अमेठी और वायनाड से राहुल गांधी, भोपाल से दिग्विजय सिंह और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, पटना साहिब से शत्रुघ्न सिन्हा और रविशंकर प्रसाद, बेगूसराय से कन्हैया कुमार, गिरिराज सिंह और तनवीर हसन, उत्तर पूर्वी दिल्ली से शीला दीक्षित और मनोज तिवारी, आजमगढ़ से अखिलेश यादव और निरहुआ के साथ ही रामपुर से आजम खान और जयाप्रदा शामिल हैं।

4- लोकसभा चुनाव में वीआईपी उम्मीदवार: 
इस लोकसभा चुनाव में वीआईपी उम्मीदवारों की लिस्ट थोड़ी लंबी है। इस लिस्ट में वाराणसी से नरेंद्र मोदी, बेगूसराय से कन्हैया कुमार, गिरिराज सिंह, पटना साबिह से शत्रुघ्न सिन्हा, रविशंकर प्रसाद, अमेठी और वायनाड से राहुल गांधी, रायबरेली से सोनिया गांधी, भोपाल से साध्वी प्रज्ञा और दिग्विजय सिंह, मुजफ्फरनगर से अजीत सिंह, मथुरा से हेमा मालिनी, फतेहपुर सीकरी से राज बब्बर, गाजियाबाद से जनरल वीके सिंह, आजमगढ़ से अखिलेश यादव और दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ, मैनपुरी से मुलायम सिंह, गाजीपुर से मनोज सिन्हा, कन्नौज से डिंपल यादव, लखनऊ से राजनाथ सिंह और पूनम सिन्हा, रामपुर से जयाप्रदा और आजम खान, फिरोजाबाद से शिवपाल यादव आदि शामिल हैं।

5- पश्चिम बंगाल में हर चरण में हिंसा की खबरें:
पश्चिम बंगाल में इस बार चुनाव हिंसापूर्ण माहौल में हुआ। लोकसभा चुनाव के पहले चरण को छोड़ दें तो पश्चिम बंगाल में हर चरण में हिंसा हुई। चुनाव में पश्चिम बंगाल में टीएमसी कार्यकर्ताओं और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच काफी झड़प हुई। शहरों में तोड़फोड़ और आगजनी भी हुई इसके साथ मीडिया कर्मियों के साथ भी मारपीट हुई। इतना ही नहीं, रोड शो और चुनावी प्रचार के दौरान भी आगजनी की खबर आई। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की रैली में हमला हुआ। वहीं फिर ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़ने का मामला भी सामने आया और इस मूर्ति को तोड़ने का आरोप बीजेपी कार्यकर्ताओं पर लगा।

6- 2019 लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल में फिर एक बार मोदी सरकार:
नतीजों से पहले आए एग्जिट पोल में एक बार फिर से मोदी सरकार के आने की संभावना जताई गई है। ज्यादातर एग्जिट पोल में बीजेपी की पूर्ण बहुमत से सरकार बनती दिख रही है। वहीं एक पोल एजेंसी ने बीजेपी को पूर्ण बहुमत का आंकलन नहीं दिखाया है। कई एग्जिट पोल में यह अनुमान लगाया गया है कि बीजेपी को उत्तर प्रदेश में करीब 20 से 30 सीटों का नुकसान हो सकता है। अलग-अलग टीवी चैनलों ने अलग- अलग एग्जिट पोल के नतीजे दिए हैं। इंडिया टुडे एक्सिस ने एनडीए को 352 प्लस, यूपीए को 93 प्लस और अन्य को 82 प्लस सीट दिया है। वहीं, टाइम्स नाउ ने एनडीए को 306 प्लस, यूपीए को 132 प्लस और अन्य को 104 प्लस सीट दिया है। रिपब्लिक जन की बात ने एनडीए को 305, यूपीए को 124 और अन्य को 113 सीट। चाणक्य ने एनडीए को 350 सीटें दी हैं।

7- सपा-बसपा का गठबंधन और बीजेपी को चुनौती:
इस लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा गठबंधन के रूप में वह हुआ, जो पिछले कई दशक में नहीं हुआ था। मोदी सरकार को रोकने के लिए और केंद्र में बड़ी भूमिका निभाने के दृष्टिकोण से यूपी की दो सबसे ब़ड़ी पार्टियों ने हाथ मिलाया। अखिलेश यादव और मायावती एक हुए और यूपी में बीजेपी को कड़ी टक्कर दी। यूपी में दोनों पार्टियों ने कांग्रेस के साथ जाने का फैसला नहीं किया और उन्होंने राय बरेली और अमेठी की सीट को छोड़कर सभी जगह अपने उम्मीदवार उतारे। हालांकि, उन्होंने अपने गठबंधन में आरएलडी को शामिल किया था।

8- विपक्षी दलों ने ईवीएम का मुद्दा उठाया: 
इस बार लोकसभा चुनाव के बीच विपक्षी दलों ने ईवीएम का मुद्दा जोर-शोर से उठाया। इतना ही नहीं, 21 विपक्षी दलों ने 50 फीसदी ईवीएम मशीनों में वीवीपैट होने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की। मगर सुप्रीम कोर्ट ने विपक्षी दलों की पुनर्विचार याचिका को भी खारिज कर दिया। बाद में फिर विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से पांच वीवीपीएटी से मिलान की बात कही थी, जिसे खारिज कर दिया गया। दरअसल, ईवीएम एवं वीवीपीएटी के मुद्दे पर कांग्रेस, सपा, बसपा, तृणमूल कांग्रेस सहित 22 प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग का रुख किया और उससे यह आग्रह किया कि मतगणना से पहले चुनिंदा मतदान केंद्रों पर वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान किया जाए। मगर इसे भी चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया।

9- कई दिग्गज नहीं उतरे मैदान में:
भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, वित्त मंत्री अरुण जेटली, उमा भारती, एनसीपी नेता शरद पवार और लोजपा नेता रामविलास पासवान जैसे दिग्गज नेता इस बार चुनाव मैदान में नहीं उतरे। 17वीं लोकसभा चुनाव में इन दिग्गज नेताओं की कमी खली। साथ ही चारा घोटाले में जेल की सजा काट रहे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चुनाव प्रचार में भी भाग नहीं ले पाए।

10- लोकसभा चुनाव 2019 एक नजर में:
लोकसभा चुनाव 2019 कुल सात चरणों में सपन्न हुए। देश की कुल 542 सीटों पर अलग-अलग सात चरणों में मतदान हुए। लोकसभा चुनाव के साथ ओडिशा, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव भी हुए। पहले चरण का मतदान 11 अप्रैल को 20 राज्यों की 91 सीट पर हुआ। वहीं दूसरे चरण का मतदान 18 अप्रैल को 13 राज्यों की 97 सीट पर हुआ। 23 अप्रैल को तीसरा चरण में 14 राज्यों की 115 सीटों पर मतदान हुए। चौथे चरण में 29 अप्रैल को 9 राज्यों की 71 सीट पर वोटिंग हुई। पांचवें चरण में 6 मई को 7 राज्यों की 51 सीटों पर मतदान हुआ। छठे चरण में 12 मई को 7 राज्यों की 59 सीटों पर मतदान हुआ और सातवें चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर मतदान हुए थे। आज यानी 23 मई को सभी नतीजे सामने आ जाएंगे।

2014 लोकसभा चुनाव के क्या रहे थे नतीजे:
2014 लोकसभा चुनाव में प्रचण्ड बहुमत से बीजेपी सत्ता में आई थी। 2014 में कुल 543 सीटों के लिए हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने 282 सीटें जीत कर स्पष्ट बहुमत प्राप्त किया था। भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को 336 सीटें प्राप्त हुई थीं। वहीं यूपीए को 60 सीटें मिले थे। भाजपा ने 428 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें से 282 सीटों पर कब्जा जमाया था। वहीं कांग्रेस ने 464 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे और उन्हें महज 44 सीटों पर ही जीत हासिल हो पाई थी।

Input : Hindustan

 

TRENDING

फीस जमा करने के लिए पापा ने बेच दी गांव की जमीन, बेटे ने IPS बनकर नाम कर द‍िया ऊंचा

Himanshu Raj

Published

on

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत के छोटे से गांव में पैदा हुए IPS नूरूल हसन ने कई परेशानियां झेलीं लेकिन हार नहीं मानी। मेहनत और लगन के बल पर छोटे से गांव से सिविल सेवा परीक्षा तक का सफर तय किया। एक सपने को सच कर दिखाने वाले नूरूल हसन के परिवार का सिर आज गर्व से ऊंचा है।

मूलरूप से पीलीभीत जिले के गांव हररायपुर के रहने वाले नूर ने आर्थिक हालातों से जूझकर, संसाधनों के अभाव में खुद को स्थापित किया है और 2015 में आईएएस (IAS) में उनका चयन हो गया। नूर ने बिना कोचिंग के UPSC की परीक्षा पास की। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के बेटे नूर अपनी सफलता पर बात करते हुए भावुक हो जाते हैं। वह वर्तमान में भारतीय पुल‍िस सेवा (IPS) में कार्यरत हैं और महाराष्ट्र में तैनात हैं।

आईपीएस नूर की प्रारंभिक शिक्षा वहीं हुई। पिता जी खेती करते थे। वह बेहद गरीबी में पले बढ़े। स्कूल की छत टपकती थी तो घर से बैठने के लिए कपड़ा लेकर जाते थे। माता—पिता के अलावा दो छोटे भाई हैं। उनकी परवरिश और पढ़ाई का दबाव भी उन्‍हीं पर था। उसके बाद उन्‍होंने ब्लॉक के गुरुनानक हायर सेकेंडरी स्कूल, अमरिया से 67 प्रतिशत के साथ दसवीं की और स्‍कूल टॉपर बने। उसके बाद उनके पापा की चतुर्थ श्रेणी में नियुक्ति हो गई तो वह बरेली आ गए। यहां उन्‍होंने मनोहरलाल भूषण कॉलेज से 75 प्रतिशत के साथ 12वीं की।

12वीं के बाद नूर का सलेक्शन एएमयू अलीगढ़ में बीटेक में हो गया, लेकिन फीस भरने के पैसे नहीं थे। इस पर उनके पापा ने गांव में एक एकड़ जमीन बेच दी और फीस भरी। उन्‍होंने खूब पढ़ाई की। इसके बाद गुरुग्राम की एक कंपनी में उनका प्लेसमेंट हो गया। यहां की सैलेरी से घर की जरूरतें पूरा करना मुश्किल था तो भाभा एटोमिक रिसर्च इंस्टीटयूट की परीक्षा दी और नूर का चयन तारापुर मुंबई में वैज्ञानिक के पद पर हो गया। जिस समय उनका स‍िव‍िल सेवा में चयन हुआ था, वह एटॉमिक सेंटर नरौरा में पोस्टिंग थे।

सिव‍िल सेवा की मुख्य परीक्षा में नूर ने पब्लिक एडमिनिस्टेशन को चुना। वहीं उन्‍होंने इंटरव्‍यू का अनुभव भी साझा किया। उन्‍होंने बताया, इंटरव्यू शानदार था। मेरे विषय से हटकर मुझसे सवाल पूछे गए। क्योंकि मैं न्यूक्लियर में वैज्ञानिक था तो न्यूक्लियर से संबंधित प्रश्न पूछे। इंजीनियरिंग, संविधान और क्रिकेट से संबंधित प्रश्न पूछे। इसके अलावा गुरनानक, सिखों के गुरुओ के नाम पूछे।

तैयारी कर रहे युवाओं को भी नूर ने संदेश दिया। वह कहते हैं, गरीबी को कोसें ना। जो भी संसाधन हैं उन्हीं के बीच तैयारी करें। बस अपनी मेहनत और लगन के साथ समझौता न करें। दूसरा मैं मुस्लिम युवाओं से कहूंगा कि भारत देश बहुत प्यारा है। देश की प्रगति के लिए शिक्षित बनें। मेहनत के बल पर आगे बढ़ें।

Input: Live Bihar

 

Continue Reading

TRENDING

पाकिस्तान में महंगाई से परेशान महिला ने खुद को टमाटर से सजाया, आपबीती सुनाने का Video Viral

Muzaffarpur Now

Published

on

सोने के गहनों की जगह टमाटर पहने एक दुल्हन के वीडियो ने कई लोगों को हैरान कर दिया है। पाकिस्तान के लाहौर की दुल्हन एक वायरल वीडियो में एक सुनहरे रंग के आउटफिट के साथ एक नेकलेस, झुमके, चूड़ियाँ और हेयर एक्सेसरीज पहने हुए दिखाई दे रही है – ये सभी टमाटर से बने हैं। डेली पाकिस्तान के एक रिपोर्टर से बात करते हुए, उन्होंने आभूषणों की अपनी विचित्र पसंद के कारण का खुलासा किया।

Image result for pakistan tomato bride jewellery"

दुल्हन बोलीं, ‘सोने के भाव बहुत महंगे हो रहे हैं। टमाटर और चिलगोजे भी बहुत महंगे हो रहे हैं। इसलिए मैंने अपने शादी में साने की जगह टमाटर पहने हैं।’ समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पाकिस्तान में टमाटर की कीमत आसमान छू गई है। देश के कई हिस्सों में एक किलो के भाव 300 रुपये के भी पार हो गए हैं।

Image result for pakistan tomato bride jewellery"

ट्विटर पर मंगलवार को पोस्ट किए जाने के बाद से ही यह वीडियो बहुत तेजी से देखा जा रहा है। यह दो मिनट और 20 सेकंड की लंबी क्लिप ऑनलाइन वायरल हो गई है। पाकिस्तान की पत्रकार नायला इनायत ने यह वीडियो शेयर की है। उन्होंने साझा करते हुए लिखा, ‘टमाटर के आभूषण। अगर आपको लगा कि आपने जीवन में सब कुछ देखा है।’

रिपोर्टर द्वारा लिए गए साक्षात्कार को ट्विटर पर 32,000 से अधिक बार देखा गया है और फेसबुक पर 1.3 मिलियन से अधिक बार देखा गया है। कई सोशल मीडिया यूजर्स ने दुल्हन के सेंस ऑफ ह्यूमर की तारीफ करने के लिए उस पर कमेंट किया।

 

हालांकि, कई लोगों ने इसे स्क्रिप्टेड बताया, उसके पीछे वजह दी दुल्हन के हाथों में मेहंदी का ना लगा होना।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

TRENDING

लॉन्च हुआ अजय देवगन की 100th फिल्म का ट्रेलर, जबरदस्त पॉवर पैक एक्शन ‘ताना जी’

Ravi Pratap

Published

on

अजय देवगन, काजोल और सैफ अली खान की फिल्म Tanhaji: The Unsung Warrior का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है। फैंस अजय देवगन और काजोल की इस फिल्म को लेकर काफी एक्साइटेड थे। ऐसे में सोशल मीडिया पर इस फिल्म के ट्रेलर का इंतजार किया जा रहा था।

ट्रेलर सामने आते ही अजय की Tanhaji को खूब सारे रिएक्शन मिलने शुरू हो गए हैं। फैंस को फिल्म का ट्रेलर इतना पसंद आया है कि इसे मास्टर पीस कहा जा रहा है। कुछ लोग फिल्म के ट्रेलर को देख कर ही अंदाजा लगा रहे हैं कि ट्रेलर ऐसा है तो फिल्म कितनी गजब होगी।

फिल्म में काजोल सावित्री बाई का किरदार निभा रहीं हैं। ट्रेलर में काजोल एक दम जबरदस्त मराठी लुक में नजर आ रही हैं। इससे पहले अजय देवग ने फिल्म से कई सारे पोस्टर शेयर किए थे। साथ में लिखा था- ‘ताना जी के साहस का सहारा, और उनके बल की शक्ति- सावित्री बाई। फिल्म 10 जनवरी 2020 को रिलीज हो रही है।’

 

अजय की फिल्म के ट्रेलर लॉन्च पर रोहित शेट्टी भी पहुंचे। रोहित शेट्टी जब मंच पर गए तो सबने उनसे पूछना शुरू कर दिया कि सिंघम का अगला भाग कब आ रहा है। ऐसे में रोहित ने कहा जल्दी आएगा, फिलहाल हम तानाजी के बारे में बात करने आए हैं। रोहित ने आगे कहा कि वह एक डायरेक्टर की हैसियत से नहीं, आज वह यहां एक एंप्लॉयकी हैसियत से आए हैं। रोहित शेट्टी ने ये भी बताया कि वह आज जो कुछभी हैं सिर्फ अजय की वजह से हैं। अजय देवगन और वह 30 सालों से साथ हैं।

अजय देवगन के फैंस में उनकी इस अपकमिंग भारी-भरकम एक्शन वाली फिल्म में काफी उमंगे हैं। तो वहीं अजय देवगन और काजोल को स्क्रीन पर लंबे समय के बाद साथ देखने का जोश भी दिखाई दे रहा है:-

अजय देवगन के ट्रेलर लॉन्च पर रोहित शेट्टी ने दिल से कहीं ये बातें

अजय की फिल्म के ट्रेलर लॉन्च पर रोहित शेट्टी भी पहुंचे। रोहित शेट्टी जब मंच पर गए तो सबने उनसे पूछना शुरू कर दिया कि सिंघम का अगला भाग कब आ रहा है। ऐसे में रोहित ने कहा जल्दी आएगा, फिलहाल हम तानाजी के बारे में बात करने आए हैं। रोहित ने आगे कहा कि वह एक डायरेक्टर की हैसियत से नहीं, आज वह यहां एक एंप्लॉयकी हैसियत से आए हैं। रोहित शेट्टी ने ये भी बताया कि वह आज जो कुछभी हैं सिर्फ अजय की वजह से हैं। अजय देवगन और वह 30 सालों से साथ हैं।

Continue Reading
Advertisement
INDIA2 hours ago

नहीं होगा रेलवे का निजीकरण, कुछ सेवाओं को किया गया आउटसोर्स : पीयूष गोयल

MUZAFFARPUR3 hours ago

मुजफ्फरपुर में बढ़ रहा डेंगू का प्रकोप, डॉक्टर भी बन रहे मरीज

chief-justice-ranjan-gogoi
INDIA5 hours ago

पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने रिटायरमेंट के दो दिन बाद ही खाली किया अपना लुटियंस वाला बंगला

INDIA5 hours ago

बत्ती हुई गुल तो फिक्र न करें, बिना बिजली के भी 6 घंटे तक जलेगा ये इनवर्टर बल्ब!

-shivangi-first-woman-pilot-of-navy
MUZAFFARPUR8 hours ago

मुजफ्फरपुर की बेटी शिवांगी होंगी नौसेना की पहली महिला पायलट

MUZAFFARPUR11 hours ago

ब्रजेश को सं’रक्षण देने वाले जे’ल अधी’क्षक पर गि’री गा’ज

BIHAR12 hours ago

गांधी सेतु के समानांतर पीपा पुल फिर से हुआ चालू

INDIA13 hours ago

मच्छरों की अब खैर नहीं, ड्रोन से मा’रे जायेंगे डेंगू मच्छर

BIHAR14 hours ago

बिहार में मुर्गे की ह’त्या के आ’रोप में 7 लोगों के खि’लाफ केस दर्ज, मा’मले की छा’नबीन में जुटी पुलिस

MUZAFFARPUR1 day ago

मुज़फ़्फ़रपुर : नाबालिग से सामू’हिक दु’ष्कर्म के बाद आरो’पी घूम रहे खुलेआम ; पु’लिस पर लगे गंभीर आरोप

MUZAFFARPUR6 days ago

मुजफ्फरपुर का थानेदार नामी गुं’डा के साथ मनाता है जन्मदिन! केक काटते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल…खाक होगा क्रा’इम कंट्रोल?

INDIA6 days ago

आ गया ‘मिर्ज़ापुर 2’ का टीजर, पंकज त्रिपाठी ने इंस्टाग्राम पर किया शेयर

BIHAR4 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

BIHAR2 days ago

18 प्रश्नों पर कैंडिडेट्स ने जताई थी आपत्ति, BPSC रद कर सकता है 10 प्रश्न, जानिए

tharki-proffesor
MUZAFFARPUR1 week ago

खुलासा: कोचिंग आने वाली हर छात्रा को आजमाता था मुजफ्फरपुर का ‘पा’पी प्रोफेसर’, भेजा गया जे’ल

BIHAR4 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

JOBS5 days ago

भर्ती : 12वीं पास के लिए CISF में नौकरी, 300 जीडी हेड कांस्टेबल पदों के लिए करें आवेदन

BIHAR4 days ago

जिसकी मौ’त में 23 लोग जेल में, वह जिंदा लौटा

MUZAFFARPUR5 days ago

कुंवारी मां बनी कटरा की पी’ड़िता से दु’ष्क’र्म का आ’रोपी माैलवी गि’रफ्तार

BIHAR3 days ago

तो क्या बंद हो जाएगा ‘कौन बनेगा करोड़पति’, पटना HC में शो पर रोक के लिए दर्ज हुई है याचिका

Trending

0Shares