Connect with us

INDIA

मोदी सरकार ने ई-सिगरेट के उत्पादन और बिक्री पर पूरी तरह बैन लगाया

Published

on

केंद्र सरकार ने ई-सिगरेट के उत्पादन और बिक्री पर पूरी तरह से बैन लगाने का फैसला किया है. बुधवार को केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में यह निर्णय लिया गया. कैबिनेट की बैठक के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि ई-सिगरेट समाज में एक नई समस्‍या को जन्‍म दे रहा है और बच्‍चे इससे अपना रहे हैं. निर्मला सीतारमण ने कहा कि ई-सिगरेट को बनाना, आयात/निर्यात, बिक्री, वितरण, स्‍टोर करना और विज्ञापन करना सब पर प्रतिबंध होगा. वित्‍त मंत्री ने प्रेस कांफ्रेस के दौरान कहा कि ‘ई-सिगरेट ऑर्डिनेंस 2019’ को मंत्रियों के समूह ने कुछ समय पहले ही इस पर विमर्श किया था. ऑर्डिनेंस के ड्रॉफ्ट में स्‍वास्‍थ मंत्रालय ने प्रस्‍ताव दिया था कि पहली बार कानून का उल्‍लंघन करने वालों पर एक लाख रुपये का जुर्माना और एक साल की सजा का प्रावधान हो.आपको बता दें कि इससे पहले बीते अगस्त में ई-सिगरेट निषेध अध्यादेश, 2019 प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देश के बाद एक जीओएम को भेजा गया था.

अध्यादेश के मसौदे में स्वास्थ्य मंत्रालय ने पहली बार उल्लंघन करने वालों पर एक लाख रुपये के जुर्माने के साथ एक साल क की अधिकतम सजा का प्रस्ताव था. मंत्रालय ने बार-बार अपराध करने वालों के लिए पांच लाख रुपये का जुर्माना और अधिकतम तीन साल की जेल की सिफारिश की थी. मोदी सरकार के पहले 100 दिन के एजेंडे में ई-सिगरेट सहित अन्य वैकल्पिक धूम्रपान उपकरणों पर प्रतिबंध लगाना शामिल था. उधर, ई-सिगरेट का समर्थन करने वालों की दलील है कि यह धूम्रपान करने वाले तंबाकू की तुलना में कम हानिकारक है. हालांकि सरकार यह कहते हुए प्रतिबंध लगाने पर जोर दे रही है कि उसमें पारंपरिक सिगरेट के समान ही जोखिम है. शीर्ष मेडिकल शोध निकाय भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने ऐसे उपकरणों पर पूर्ण प्रतिबंध की सिफारिश की थी.

क्या है ई-सिगरेट :

ई-सिगरेट या इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट एक बैटरी-चालित डिवाइस होती है, जो तम्बाकू या गैर-तम्बाकू पदार्थों की भाप को सांस के साथ भीतर ले जाती है. आमतौर पर सिगरेट, बीड़ी या सिगार जैसे धूम्रपान के लिए प्रयोग किए जाने वाले तम्बाकू उत्पादों के विकल्प के रूप में इस्तेमाल की जाने वाली ई-सिगरेट तम्बाकू जैसा स्वाद और एहसास देती है, जबकि वास्तव में इसमें कोई धुआं नहीं होता है. ई-सिगरेट एक ट्यूब के आकार में होती है, और इनका बाहरी रूप सिगरेट और सिगार जैसा ही बनाया जाता है.

 

INDIA

प्रशांत किशोर को मिला मध्य प्रदेश में कांग्रेस की फिर से सरकार बनवाने का ठेका, MP में 24 विधानसभा क्षेत्रों में होने हैं उपचुनाव

Published

on

BHOPAL : चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर को मध्य प्रदेश में फिर से कांग्रेस की सरकार बनवाने का जिम्मा मिल गया है. कांग्रेस ने मध्य प्रदेश में होने वाले 24 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव में प्रचार अभियान की जिम्मेवारी प्रशांत किशोर को सौंपी है. अगर इस उप चुनाव में कांग्रेस जीत जाती है तो मध्य प्रदेश में फिर से उसकी सरकार बन जायेगी.

mask-up-bihar-muzaffarpur-now

प्रशांत किशोर को मिली जिम्मेवारी

दरअसल मध्य प्रदेश में सिर्फ 15 महीने में कांग्रेस की कमलमाथ सरकार की विदाई हो गयी थी. इस प्रमुख राज्य में सत्ता से हाथ धोने के कारण कांग्रेस बेहद आहत है. बीजेपी और कांग्रेसी सरकार के पतन के कारण बने ज्योतिरादित्य सिंधिया से इसका बदला लेने के लिए कांग्रेस 24 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में कड़ी टक्कर देने की तैयारी कर रही है. उपचुनाव की तैयारी में जुटी कांग्रेस ने अपने प्रचार अभियान की रणनीति बनाने का काम प्रशांत किशोर को दिया है.

कांग्रेस के सूत्र बताते हैं कि प्रचार अभियान की कमान संभालने के लिए पार्टी ने तीन कंपनियों के प्रस्ताव पर विचार किया था. लेकिन सभी प्रस्तावों पर विचार के बाद प्रशांत किशोर को ही काम देने का फैसला हुआ. कांग्रेस ने तय किया है कि इस उप चुनाव में सारी ताकत झोंक देनी है. लिहाजा बीजेपी को घेरने के लिए कांग्रेस का वॉर रूम भोपाल में न होकर ग्वालियर में होगा. कांग्रेस सिंधिया समर्थक नेताओं के खिलाफ बेहद मजबूत प्रत्याशी उतारने की रणनीति बना रही है.

गौरतलब है कि इसी साल 20 मार्च को मध्य प्रदेश में कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिर गयी थी. बहुमत जुटा पाने में असमर्थ हो गये मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा दे दिया था. उन्हें अपनी पार्टी के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के विद्रोह के कारण इस्तीफा देने पर मजबूर होना पडा था. ज्योतिरादित्य के विद्रोह और कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देने के बाद उनके समर्थक 22 विधायकों ने भी पार्टी छोड़ दी थी. सिंधिया काफी दिनों से कांग्रेस में हो रही अपनी उपेक्षा के चलते नाराज थे.

लंबे सियासी ड्रामे के बाद कमलनाथ सरकार गिर गयी थी. लेकिन ज्योतिरादित्य समर्थक 22 विधायकों के साथ साथ 2 विधायकों के निधन से खाली हुई सीट पर उपचुनाव होना है. अगर इस उप चुनाव में कांग्रेस जीतती है विधानसभा में फिर कांग्रेस का बहुमत हो जायेगा और बीजेपी की सरकार गिर सकती है. लिहाजा कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक रखी है. आपको बता दें कि भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए इन 24 में कम से कम 10 सीटें जीतनी ही होंगी. वहीं कांग्रेस को सत्ता में वापसी के लिए 24 की 24 सीटें जीतनी होंगी.

Input : First Bihar

Continue Reading

INDIA

खुशियों पर ग्रहण : बैंड-बाजा न बराती, अब घर से ही करनी होगी शादी

Published

on

न बैंड-बाजा होगा और न ही बराती। बस दूल्हा-दुल्हन और मंत्र पढ़ने को पंडित जी होंगे, इसके अलावा पांच-दस नजदीकी रिश्तेदार। फिलहाल लॉकडाउन के दौरान अगर शादी करनी है, तो इन नियमों का पालन करना होगा। शादी के लिए मैरिज या बैंक्वेट हॉल की बुकिंग कर पार्टी या डीजे की अनुमति नहीं है। हर हाल में शादी घर से ही सादे समारोह में करनी होगी।

दरअसल, लॉकडाउन के कारण अप्रैल-मई में होने वाली अधिसंख्य शादियां टल चुकी हैं। जिनकी शादी मई के आखिरी सप्ताह या जून में तय थी, वे अब असमंजस में हैं। बाजार तो खुल चुके हैं। सामान की खरीदारी भी शुरू है मगर हॉल या बैंड-बाजे की बुकिंग नहीं हो रही। इस पर रोक है।

जून के बाद सीधे नवंबर में लगन : जून में मिथिला पंचांग के अनुसार चार और बनारसी पंचांग के अनुसार आठ तिथियों को शादियों का शुभ मुहूर्त शेष है। पंडित राकेश झा के मुताबिक मिथिला पंचांग के अनुसार 7, 10, 11, 17 जून को और बनारसी पंचांग के अनुसार 14, 15, 19, 20, 25, 27, 28, 30 जून को शादी के लिए शुभ मुहूर्त है। इसके बाद फिर नवंबर-दिसंबर में ही शादी का मुहूर्त बन रहा है।

पटना सदर अनुमंडलाधिकारी तनय सुल्तानिया ने बताया कि फिलहाल मैरिज या बैंक्वेट हॉल की बुकिंग नहीं की जा सकती। अगर आप घर से सादे समारोह में पांच-दस स्वजनों की उपस्थिति में शादी करना चाहते हैं, तो इसके लिए किसी आदेश की जरूरत नहीं है। बैंड-बाजा या भीड़-भाड़ की अनुमति नहीं है। हां! शादी के लिए खरीदारी पर कोई प्रतिबंध नहीं है। शर्तो के साथ बाजार खुल चुके हैं। शादी का कार्ड पास के रूप में इस्तेमाल कर खरीदारी या आवश्यक आवागमन किया जा सकता है।

फूलों की जगह सैनिटाइजर से स्वागत

दानापुर के रहने वाले विक्रम सिंह का कहना है कि मेरी बेटी की शादी 22 जून को तय है। शादी की डेट छह माह पहले तय थी। बदलाव संभव नहीं है, लिहाजा फिजिकल डिस्टेंस और तय मानकों का पालन करते हुए विवाह होगा। पहले फूलों की माला पहनाकर बरातियों का स्वागत करते थे। इस बार सैनिटाइजर और मास्क से स्वागत होगा।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading

INDIA

भारत के 5 प्रसिद्ध महालक्ष्मी मंदिर, दर्शन के लिए उमड़ती है भक्तों की असंख्य भीड़

Published

on

हिन्दू धर्मग्रंथों और पुराणों के अनुसार धन और समृद्धि की देवी महालक्ष्मी (Mahalakshmi) पूजा करने से भक्तों को कभी भी आर्थिक (Economical) परेशानी नहीं झेलनी पड़ती. लोग प्रत्येक गुरुवार (Thursday) को अपने घरों में मां लक्ष्मी (Maa Lakshmi) की पूजा-अर्चना करते हैं. महालक्ष्मी की आराधना के लिए यूं तो पूरे देश में अनेक मंदिर (Temple) हैं लेकिन आइए आपको बताते हैं भारत के 5 ऐसे विख्यात महालक्ष्मी मंदिर (Mahalakshmi Temple) के बारे में जहां धन और समृद्धि की मन्नतें लिए पूरी दुनिया से श्रद्धालु आते हैं. हालांकि अभी ये सभी मंदिर लॉकडाउन की वजह से बंद हैं.

महालक्ष्मी मंदिर, कोल्हापुर

कोल्हापुर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर न केवल महाराष्ट्र बल्कि देश का सबसे प्रसिद्ध लक्ष्मी मंदिर माना जाता है. मान्यता है कि इस मंदिर का निर्माण 7वीं सदी चालुक्य वंश के शासक कर्णदेव ने करवाया था. प्रचलित जनश्रुति के अनुसार यहां की लक्ष्मी प्रतिमा लगभग 7,000 साल पुरानी है. इस मंदिर की विशेषता है कि यहां सूर्य भगवान अपनी किरणों से स्वयं देवी लक्ष्मी का पद-अभिषेक करते हैं. जनवरी और फरवरी के महीने में सूर्य की किरणें देवी की पैरों का वंदन करती हुई मध्य भाग से गुजरते हुए फिर देवी के मुखमंडल को रोशन करती हैं, जो कि एक अतभुत दृश्य होता है.

Mahalakshmi Temple Kolhapur - Timings, Entry Fees, Location, Facts

लक्ष्मीनारायण मंदिर, नई दिल्ली

नई दिल्ली में स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर में देवी लक्ष्मी भगवान विष्णु के साथ विराजित हैं. इस मंदिर का पुनरुद्धार सन 1938 में उद्योगपति जी. डी. बिरला द्वारा करवाया गया था, जिसे मूल रूप से सन 1622 ईस्वी में वीरसिंह देव ने बनवाया था. भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को समर्पित इस मंदिर में जन्माष्टमी और दीपावली पूजा विशेष रूप में मनाई जाती है. यहां भक्तों की हर मनोकामना पूरी होती है.

Laxminarayan Temple, Delhi - Info, Timings, Photos, History

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई

मुंबई का महालक्ष्मी मंदिर इस शहर के सर्वाधिक प्राचीन मंदिरों में से एक है. अरब सागर के किनारे स्थित यह मंदिर लाखों लोगों की आस्था का प्रमुख केंद्र है. यहां हर दिन श्रद्धालुओं की हजारों की संख्या में भीड़ उमड़ती है. महालक्ष्मी मंदिर में धन की देवी महालक्ष्मी के साथ देवी महाकाली एवं महासरस्वती की प्रतिमाएं भी एकसाथ विद्यमान हैं. भक्तों का दृढ़ विश्वास है कि यहां उनकी इच्छाएं जरूर पूरी होंगी.

Mahalaxmi Temple Mumbai - Timings, Entry Fees, Location, Facts

पद्मावती मंदिर, तिरुचुरा

आंध्र प्रदेश में तिरुपति के पास तिरुचुरा नामक एक गांव है. इस गांव में देवी पद्मावती का सुंदर मंदिर स्थित है. मान्यता है कि तिरुपति बालाजी के मंदिर में मांगी गई मन्नतें तभी पूरी होती हैं, जब श्रद्धालु बालाजी के साथ-साथ देवी पद्मावती का भी आशीर्वाद लेते हैं. पौराणिक कथाओं के अनुसार देवी पद्मावती का जन्म कमल के फूल से हुआ है, जो इस मंदिर के तालाब में खिला था.

desh ke teen prasiddh mahalakshmi mandir or inaki kahani-desh ke ...

महालक्ष्मी मंदिर, इंदौर

मध्य प्रदेश के इंदौर में स्थित श्री महालक्ष्मी मंदिर का निर्माण सन 1832 ई. में मल्हारराव होल्कर (द्वितीय) ने करवाया था. प्रतिदिन यहां हजारों की संख्या में श्रद्धालु देवी महालक्ष्मी का दर्शन करने आते हैं. पंडितों के अनुसार इंदौर के मल्हारी मार्तंड मंदिर के साथ इस प्राचीन महालक्ष्मी मंदिर में सुश्रृंगारित प्रतिमा का बहुत अधिक महत्व है.

Mahalaxmi Mandir Holkar Dynasty Indore - मंदिर में लगी ...

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. MUZAFFARPUR NOW इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

Input : News18

Continue Reading
MUZAFFARPUR2 hours ago

कोरोना काल से पहले मुजफ्फरपुर में बीते निधि सिंह के वो दिन

BIHAR2 hours ago

भारतीय रेलवे के लिए गर्व का पल, सबसे शक्तिशाली स्वदेशी AC इंजन का हुआ ट्रायल

SPORTS2 hours ago

क्रिकेट को दोबारा खड़ा करने के लिए सौरव गांगुली को ICC अध्यक्ष बनाया जाए- ग्रीम स्मिथ

BIHAR2 hours ago

वट सावित्री पूजा आज, सुहागिनें करेंगी पति की दीर्घायु की कामना

INDIA2 hours ago

प्रशांत किशोर को मिला मध्य प्रदेश में कांग्रेस की फिर से सरकार बनवाने का ठेका, MP में 24 विधानसभा क्षेत्रों में होने हैं उपचुनाव

BIHAR2 hours ago

बिहार के जर्दालू आम व शाही लीची की होगी होम डिलीवरी, वह भी बिल्‍कुल फ्री… जानें क्‍या है शर्त…

MUZAFFARPUR3 hours ago

मुजफ्फरपुर : तीन और लोगों ने जीती कोरोना से जंग, आज होंगे विदा

INDIA3 hours ago

खुशियों पर ग्रहण : बैंड-बाजा न बराती, अब घर से ही करनी होगी शादी

BIHAR3 hours ago

बिहार में 31 तक नहीं चलेंगी बसें, आदेश जारी

BIHAR14 hours ago

नाबालिग प्रेमी संग दिल्ली से आई युवती, तीन दिन क्वारंटाइन सेंटर में रही, फिर रचाई शादी

BIHAR1 week ago

जानिए- बिहार के एक मजदूर ने ऐसा क्या कहा कि दिल्ली के अफसर की आंखों में आ गए आंसू

INDIA3 weeks ago

क्या 4 मई से शुरू होगा ट्रेनों का संचालन? जानें रेलवे की आगे की रणनीति

INDIA3 weeks ago

लॉकडाउन में राशन खरीदने निकला बेटा दुल्हन लेकर लौटा, भड़की मां पहुंची थाने

BIHAR3 weeks ago

ऋषि कपूर ने उठाए थे नीतीश सरकार के फैसले पर सवाल, कहा था- कभी नहीं जाऊंगा बिहार

WORLD2 weeks ago

इंडोनेशिया में घर के साथ पत्नी मुफ्त, एड ऑनलाइन हुआ वायरल

BIHAR4 weeks ago

IIT से पढ़ाई, डॉन की गिरफ्तारी, अब बिहार के IPS बने यूट्यूब गुरु

BIHAR4 weeks ago

बिहार सरकार का बड़ा फैसला, 9 दिनों के अंदर बनेगा नया राशन कार्ड, ये होगी प्रक्रिया

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर : पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी ; 36 घंटे के अंदर बैंक लूट कांड का किया खुलासा

BIHAR4 weeks ago

मौसम विभाग ने साइक्लोन सर्किल का जारी किया अलर्ट, इन जिलों में आंधी-तूफान के साथ बारिश की संभावना

BIHAR3 weeks ago

बिहार के किस जिले में आज से क्या-क्या होगा शुरू, देंखे-पूरी लिस्ट

Trending