आठ लेन का बनेगा नया गांधी सेतु, मोदी सरकार से समानांतर पुल को मिली मंजूरी

0
51
patna, Bypass, Traffic, Bihar, CM, Nitish Kumar
Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

केन्द्रीयवित्त मंत्रालय ने नए गांधी सेतु (पुराने गांधी सेतु के समानांतर) के निर्माण की मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही गांधी सेतु के आठ लेन चौड़ा होने का रास्ता भी साफ हो गया है। इसके बाद गांधी सेतु राज्य में किसी भी नदी पर आठ लेन चौड़ाई वाला पहला महासेतु बन जाएगा। केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने इंडियन एकेडमी ऑफ हाइवे इंजीनियर्स (आईएएचई) की सहायता से करीब 5000 करोड़ की लागत वाले इस नए सेतु के डीपीआर को मंजूरी दे दी है।

राज्य की यह पहली पुल परियोजना है जिसके टेंडर में जमीन को लेकर किसी भी तरह की समस्या नहीं है। पहले से ही परियोजना में उपयोग में आने वाली 90 फीसदी जमीन उपलब्ध है। वर्तमान गांधी सेतु के एप्रोच को ही चौड़ा कर नए सेतु का एप्रोच बनाया जाना है। कुल 13 किलोमीटर एलिवेटेड निर्माण वाले इस महासेतु के पटना की तरफ कंकड़बाग ओल्ड बाइपास से एलिवेटेड निर्माण शुरू होगा। इससे ओल्ड बाइपास से गायघाट तक अतिरिक्त जमीन की जरूरत नहीं पड़ेगी।

सेतु बनाने में लगे 87 करोड़, अब लगेंगे 1372 करोड़ 

सेतुको 1982 में बनाने पर 87 करोड़ की लागत आई थी, पर ऊपरी सतह (सुपर स्ट्रक्चर) को बदलने पर अब 1372 करोड़ खर्च हो रहे हैं। सुपर स्ट्रक्चर इतना जर्जर हो चुका है कि सेतु पर भारी वाहनों के चलने पर रोक है। आधे पुल पर पूर्वी लेन से ही गाड़ियां आ-जा रही हैं। 6 साल से पश्चिमी लेन के अधिकांश हिस्से में बड़ी गाड़ियों के चलने पर रोक है।

वर्ष 2020 तक बदल देना है सुपर स्ट्रक्चर 

पुरानेसेतु के सुपर स्ट्रक्चर को तोड़ने की कार्रवाई हाजीपुर की तरफ से निर्माण एजेंसी एफकॉन्स ने शुरू कर दी है। दरअसल गांधी सेतु के सुपर स्ट्रक्चर को बदलने पर 1372 करोड़ रुपए खर्च हो रहे हैं। सेतु के पश्चिमी लेन को 24 महीने में और पूर्वी लेन को 18 महीने में यानी कुल 42 महीने में पूरे गांधी सेतु का पुनर्निर्माण (सुपर स्ट्रक्चर) कर देना है।

वर्तमान सेतु के पश्चिम में बनेगा यह नया सेतु 

वर्तमानगांधी सेतु के पश्चिम की तरफ बनने वाले इस नए सेतु के पुल हिस्से के निर्माण में कोई बाधा नहीं है। बिहार के लिए पीएम पैकेज के तहत बनने वाले इस नए महासेतु की निर्माण प्रक्रिया मार्च के पहले शुरू कर देने का लक्ष्य है। अगमकुआं में रेलवे लाइन के ऊपर से महासेतु बनना है इसलिए रेल मंत्रालय को भी अवगत करा दिया गया है।

Source : Live Bihar

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगा, बनीं ‘राइजनिंग स्टार’

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिर, जानिए क्यों है इतना खास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशान, कभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

                                                                                      

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •