बिहार में फिर लगेगा बिजली का झटका, जानिए कितनी बढ़ने जा रहीं दरें

0
32

बिहार स्टेट पावर होल्डिंग कपनी और उसकी अनुषंगी कंपनियों ने बिजली की नई दरों से संबंधित प्रस्ताव बिहार राज्य विद्युत नियामक आयोग को सौंप दिया है। मालूम हो कि अगले वर्ष 30 अप्रैल के बाद से बिजली की नयी टैरिफ लागू होनी है। नियामक आयोग को बिजली कंपनी ने जो प्रस्ताव सौंपा है, उसके अनुसार उपभोक्ताओं पर दो से पांच प्रतिशत तक का बोझ बढ़ सकता है। औद्योगिक यूनिटों की बिजली और मंहगी हो सकती है।

दो नई श्रेणी के लिए भी टैरिफ

बिजली कंपनी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बार बिजली कंपनी ने नियामक आयोग को जो प्रस्ताव दिया है, उसमें दो नई श्रेणी की भी जिक्र है। गांव में लगी स्ट्रीट लाइट के लिए भी अब बिजली बिल देना होगा। अभी तक केवल शहरी क्षेत्रों में ही इसका प्रावधान है। पंचायतों से इसकी राशि ली जा सकती है। दूसरी श्रेणी ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर नल के जल तहत लगे पंप सेट चलाने लिए आने वाले बिजली बिल की बनाई गई है। वैसे, इसके लिए बिजली दर को काफी कम रखे जाने की बात है।

अगले माह से जन सुनवाई आरंभ करेगा नियामक आयोग

नियामक आयोग द्वारा बिजली के नये टैरिफ के प्रस्ताव पर अगले माह से जन सुनवाई संभव है। जल्द ही इसकी तारीख तय होगी। सुनवाई प्रमंडलवार होगी। वहीं औद्योगिक और व्यवसायिक संगठनों के साथ पटना में सुनवाई होगी।

बगैर सब्सिडी के जमा किया गया है टैरिफ प्रस्ताव

बिजली कंपनी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बार भी बगैर सब्सिडी के टैरिफ प्रस्ताव को जमा किया गया है। विगत दो वर्षों से बिजली कंपनी इसी सिस्टम के तहत अपना टैरिफ प्रस्ताव बनाती हैै। उपभोक्ताओं को मिलने वाली सब्सिडी राशि का एलान राज्य सरकार द्वारा बाद में किया जाता है।