बॉलीवुड के मशहूर एक्टर और लेखक टॉम ऑल्टर का निधन

0
47
Tom Alter, Dies
Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जानेमाने फिल्म अभिनेता और लेखक टॉम अल्टर का शुक्रवार को निधन हो गया। वह पिछले काफी समय से कैंसर से लड़ रहे थे। टॉम अल्टर का 67 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। वह स्किन कैंसर की चौथी स्टेज से जूझ रहे थे। टॉम अल्टर को उनके बेहतरीन अभिनय के लिए पद्मश्री सम्मान से भी नवाजा जा चुका है। टॉम अल्टर ने कई फिल्मों और टीवी सीरियल में काम किया है, इसके अलावा वह शुरुआती दौर में स्पोर्ट्स लेखक भी थे। टॉम अल्टर ने अपने जीवन काल में कुल 300 फिल्मों में काम किया था, इसके अलावा उन्होंने कई टीवी सीरियल में भी काम किया था। वह दूरदर्शन पर आने वाले टीवी सीरियल जुनून में गैंगस्टर केशव कल्सी की भूमिका के लिए काफी मशहूर हुए थे। यह सीरियल रिकॉर्ड पांच वर्षों तक 1990 में टीवी पर प्रसारित हुआ था।

सचिन का लिया था पहला टीवी इंटरव्यू

अभिनय के अलावा टॉम अल्टर ने डायरेक्शन में भी हाथ आजमाया था, और 1980-90 के दशक में स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट भी थे। वह पहले ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने सचिन तेंदुलकर का टीवी पर साक्षात्कार लिया था। उस वक्त सचिन ने अपने क्रिकेटिंग कैरियर की महज शुरुआत की थी। सचिन तेंदुलकर का यह इंटरव्यू काफी विख्यात हुआ था।

टॉम अल्टर ने तीन किताबें भी लिखी थी, जिसमें से एक किताब नॉन फिक्शन जबकि दो किताबें फिक्शन पर थींम। वर्ष 2008 में उन्हें पद्मश्री सम्मान से नवाजा गया था। भारत सरकार ने सिनेमा और आर्ट्स के क्षेत्र में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें इस सम्मान से नवाजा था।

परिवार ने दी जानकारी

मशहूर अभिनेता के निधन की खबर उनके परिवार ने शुक्रवार को एक प्रेस स्टेटमेंज जारी करके दी, जिसमें कहा गया कि बहुत दुख के साथ हमें इस बात को बताना पड़ रहा है कि एक्टर, डॉयरेक्टर, पद्मश्री और हमारे पिता और पति टॉम अल्टर अब नहीं रहे। टॉम का शुक्रवार की रात को उनके घर पर निधन हो गया, इस वक्त उनके परिवार के खास सदस्य और रिश्तेदार घर पर ही मौजूद थे। हम लोगों से अपील करते हैं इस दुख की घड़ी में उनकी निजता का सम्मान किया जाए।

 पुणे से ली थी अभिनय की ट्रेनिंग

टॉम अल्टर का जन्म 1950 में हुआ था, उन्होंने अपनी पढ़ाई हिमालय में वुडस्टॉक स्कूल, अमेरिका के येल विश्वविद्यालय से पूरी की थी। 1972 में भारत आने से पहले वह उन तीन व्यक्तियों में शामिल थे जिनका चयन भारत के प्रतिष्ठित फिल्म इंस्टिट्यूट एफटीआईआई पुणे में हुआ था। कुल 800 लोगों में से तीन लोगों का चयन हुआ था, जिसमें टॉम अल्टर, बेंजामिन गिलानी और फुंसुक लदाखी भी शामिल थे। टॉम ने यहां दो साल तक अभिनय की ट्रेनिंग ली और डिप्लोमा हासिल किया।

कई बड़ी फिल्मों में किया काम

टॉम अल्टर की पहली फिल्म रामानंद सागर की चरस थी, जोकि 1967 में रीलीज हुई थी, इस फिल्म में टॉम ने एक सीआईडी ऑफिसर की भूमिका निभाई थी। इसके अलावा उन्होंने 1977 में सत्यजीत रे की फिल्म शतरंज के खिलाड़ी, 1979 में श्याम बेनेगल की फिल्म जुनून, मनोज कुमार की फिल्म क्रांति, राज कपूर क फिल्म राम तेरी गंगा मैली हो गई में अहम किरदार निभाया था, जिसके लिए वह आज भी याद किए जाते हैं।

दिग्गज डायरेक्टर्स के साथ किया काम

दिग्गज डायरेक्टर्स के साथ किया काम टॉम अल्टर ने वी शांताराम, ऋषिकेश मुखर्जी, मनमोहन देसाई, सुभाष घी, साहेब बहादुर, विधु विनोद चोपड़ा जैसे निर्देशकों के साथ भी काम किया। परिंदा फिल्म में मूसा के रोल के लिए टॉम अल्टर आज भी लोगों के बीच याद किए जाते हैँ। महेश भट्ट की फिल्म आशिकी में उन्होंने अपनी भूमिका से लोगों का दिल जीत लिया था। हिंदी फिल्म जगत के अलावा उन्होंने तमिल, आसामी, बंगाली, तेलगु, कुमांवनी सिनेमा में भी काम किया।

Source : One India

 

यह भी पढ़ें  पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिर, जानिए क्यों है इतना खास

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगा, बनीं ‘राइजनिंग स्टार’

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

 

 


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •