Fast Food जेनेटिक बीमारियों को दे रहे बढ़ावा, Indian Food दाल-चावल है सबसे बेस्ट
Connect with us
leaderboard image

INDIA

Fast Food जेनेटिक बीमारियों को दे रहे बढ़ावा, Indian Food दाल-चावल है सबसे बेस्ट

Santosh Chaudhary

Published

on

भारतीय संस्कृति में खान-पान को विशेष महत्व दिया गया है। हमारे यहां भोजन को अन्न देवता जैसा सम्मान दिया जाता है। शोधकर्ताओं ने अब इसका वैज्ञानिक आधार खोज निकाला है। वैज्ञानिकों का मानना है कि भारतीय भोजनों मे ऐसे कई गुण छिपे हैं, जो अनुवांशिक बीमारियों को भी मात दे सकते हैं। शोध में पश्चिमी देशों के प्रचलित फास्ड फूड से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर के बारे में भी विस्तार से बताया गया है।

जर्मनी की ल्यूबेक यूनिवर्सिटी में हुए शोध में पता चला है कि दाल-चावल जैसे साधारण भारतीय भोजन गुणों का भंडार हैं। इन भारतीय भोजनों में कई बड़ी बीमारियों से लड़ने की क्षमता है। इतना ही नहीं, ये भारतीय भोजन अनुवांशिक बीमारियों से लड़ने में बहुत कारगर हैं। गंभीर बीमारियों पर पड़ने वाले भारतीय भोजनों के असर को लेकर किया गया इस तरह का ये पहला शोध है।

गंभीर बीमारियों के DNA ही जिम्मेदार नहीं

शोधकर्ताओं के अनुसार गंभीर या अनुवांशिक बीमारियों के लिए केवल डीएनए की गड़बड़ी ही जिम्मेदार नहीं है। हमारी भोजन शैली भी इसमें काफी अहम रोल रखती है। इसकी वजह से बीमारियां पैदा हो सकती हैं और उन पर लगाम भी लगाया जा सकता है। ल्यूबेक यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर रॉल्फ लुडविज के नेतृत्व में तीन वैज्ञानिकों द्वारा किया गया ये शोध नेचर मैग्जीन के ताजा अध्ययन में प्रकाशित हुआ। भारतीय भोजन पर शोध करने वाले रिसर्चर्स के दल में रूस के डॉ अर्तेम वोरोवयेव, इजरायल के डॉ यास्का शेजिन और भारत की डॉ तान्या गुप्ता शामिल थे।

रोगों से लड़ते हैं भारतीय भोजन

भारतीय भोजन और पश्चिमी भोजनों पर दो साल तक किए गए शोध में पता चला है कि फास्ड फूड के उच्च कैलोरी आहार अनुवांशिक बीमारियों को बढ़ावा देते हैं। इसके विपरीत भारतीय भोजन में कैलोरी बहुत कम होती है (लो कैलोरी), जो रोगों से लड़ने में अहम भूमिका अदा करते हैं। नेचर मैग्जीन में प्रकाशित शोध में बताया गया है कि अभी तक तमाम अनुवांशिक रोगों के पीछे केवल डीएनए को ही जिम्मेदार माना जाता था, जो हमें हमारे पूर्वजों और माता-पिता से मिलता है। इस शोध में इन बीमारियों को उन भोजन पर केंद्रित किया गया, जो रोजमर्रा की जिंदगी में इस्तेमाल होते हैं।

दो साल तक चूहों पर हुआ शोध

दो साल तक चूहों पर शोध करने के बाद वैज्ञानिक इस नतीजे पर पहुंचे हैं। ये शोध एक खास किस्म के चूहों पर किया गया, जो ल्यूपस नामक रोग से ग्रसित थे। ऐसा इसलिए किया गया, क्योंकि ल्यूपस रोग का सीधा संबंध डीएनए से है। ल्यूपस, ऑटोइम्यून (प्रतिरोधक क्षमता) को प्रभावित करने वाले रोग की श्रेणी में आता है। इसमें शरीर का प्रतिरोधक तंत्र अपने ही अंगों पर हमला करने लगता है। नतीजतन शरीर के विभिन्न अंग जैसे जोड़, किड़नी, दिल, फेफड़े, ब्रेन और रक्त नमूने नष्ट हो जाते हैं। साथ ही शरीर की विभिन्न प्रणालियां काम करना बंद कर देती हैं।

चूहों पर हुए शोध के नतीजे

शोधकर्ताओं ने चूहों को दो समूह में बांटा गया था। इनमें से एक समूह को पश्चिमी देशों में प्रयोग किया जाने वाला ज्यादा सूक्रोज युक्त आहार दिया गया। चूहों के दूसरे ग्रुप को भारत में प्रयोग किया जाने वाला लो कैलोरी भोजन दिया गाय। ज्यादा सूक्रोज वाला भोजन खाने वाले चूहे ल्यूपस रोग की चपेट में आ गए और उनकी हालत बिगड़ गई। वहीं भारतीय भोजन खाने वाले चूहे ल्यूपस रोग की चपेट में आने से बच गए।

Fast Food vs Indian Food

शोधकर्ता वैज्ञानिकों के अनुसार अध्ययन के नतीजों से साबित होता है कि पश्चिम देशों में आहार के तौर पर प्रयोग किए जाने वाले फास्ट फूड जैसे पिज्जा, बर्गर आदि अनुवांशिक रोगों को बढावा देते हैं। इसके विपरीत भारत के शाकाहारी भोजन में शामिल स्टार्च, सोयाबीन तेल, दाल, चावल, सब्जी आदि का इस्तेमाल शरीर को रोगों से लड़ने में मदद करता है। इसमें भी भारतीय भोजन में प्रयोग होने वाली हल्दी का महत्वपूर्ण योगदान होता है, जो प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर कई तरह की बीमारियों से शरीर की रक्षा करती है।

Input : Dainik Jagran

INDIA

मां के लिए फ्रिज खरीदने 35 किलो सिक्के लेकर गया, दो हजार रु. कम निकले तो शोरूम ने छूट दी

Santosh Chaudhary

Published

on

जोधपुर (मनोज कुमार पुरोहित). जोधपुर के सहारन नगर निवासी 17 साल के रामसिंह ने सुबह अखबार में फ्रिज का विज्ञापन देखा तो शोरूम में फोन किया। कहा- उसकी मां पप्पूदेवी का जन्मदिन है और वह उन्हें फ्रिज गिफ्ट करना चाहता है, लेकिन वह सिर्फ सिक्कों में ही भुगतान कर पाएगा। शोरूम संचालक हरिकिशन खत्री ने सिक्के स्वीकार करने की हामी भर दी। इसके बाद रामसिंह एक बोरे में करीब 35 किलो के सिक्के लेकर शोरूम पहुंच गया। इन सिक्कों में एक, दो, पांच व दस के सिक्के शामिल थे

मां के साथ रामसिंह।

शोरूम संचालक ने नकदी गिनवाई तो 2 हजार रुपए कम निकले। इस पर किशोर की भावनाओं का ख्याल करते हुए हरिकिशन ने न केवल 2 हजार का डिस्काउंट दिया, बल्कि एक गिफ्ट भी रामसिंह को दिया।

12 साल में 13500 रुपए के सिक्के

रामसिंह को बचपन से ही गुल्लक में पैसे जमा करने का शौक है। गुल्लक भर जाता तो नोट निकालकर मां पप्पूदेवी को दे देता, लेकिन सिक्के संभालकर रखता। करीब 12 साल में उसने 13,500 रुपए के सिक्के एकत्र कर दिए। इन्हीं सिक्कों को लेकर वह शिव शक्ति नगर स्थित इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान में फ्रिज लेने पहुंचा था।

मां से अपने पैसों से फ्रिज दिलाने का वादा किया था

उसने मां से वादा किया था कि वह अपने पैसों से फ्रिज लाकर देगा। रामसिंह का गिफ्ट देखकर मां व पिता पप्पूराम भी खुश हुए। शोरूम की तरफ से रामसिंह को एक गिफ्ट भी दिया। रामसिंह बीएससी प्रथम वर्ष का छात्र है। पिता प्रोपर्टी डीलर हैं।

Input : Dainik Bhaskar

 

Continue Reading

INDIA

जन्मदिन विशेष: भारत में तकनीकी विकास में अभूतपूर्व योगदान देने वाले सबके प्रिय इंसान थे एपीजे कलाम

Ravi Pratap

Published

on

उनका प्रारंभिक जीवन बहुत ही गरीबी में गुजरा था, लेकिन उन्होंने अपने शिक्षक इयादुराई सोलोमन की कही गई एक बात को गांठ बांध लिया था और उसी के सहारे उन्होंने दुनियाभर में अपने काम और नाम का डंका बजवाया। उनके शिक्षक ने कहा था ‘जीवन में सफलता और अनुकूल परिणाम प्राप्त करने के लिए तीव्र इच्छा, आस्था, अपेक्षा इन तीन शक्तियों को भलीभांति समझ लेना और उन पर प्रभुत्व स्थापित करना चाहिए।’

कलाम ने वर्ष 1950 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक किया था। स्नातक करने के बाद उन्होंने हावरक्राफ्ट परियोजना पर काम करने के लिये भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) में प्रवेश किया। उसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और एक के बाद कई मुकाम हासिल करते गए।

साल 1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) से जुड़े, जहां उन्होंने सफलतापूर्वक कई उपग्रह प्रक्षेपण परियोजनाओं में अपनी भूमिका निभाई। उन्हीं के निर्देशन में भारत ने अपना स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपण यान एसएलवी-3 बनाया था। अग्नि और पृथ्वी जैसी मिसाइलों के निर्माण के सूत्रधार भी वही थे।

इसके बाद साल 1998 में भारत ने रूस के साथ मिलकर सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल बनाने का काम शुरू किया और ब्रह्मोस प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की गई। ब्रह्मोस मिसाइल धरती, आकाश और समुद्र कहीं से भी हमला करने में सक्षम है। मिसाइलों के क्षेत्र में भारत को मिली इस अद्भुत सफलता के बाद ही अब्दुल कलाम को मिसाइल मैन के नाम से जाना जाने लगा।

भारत के मिसाइलमैन डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को दुनिया से रूख्सत हुए आज तीन साल हो गए हैं। वर्ष 2015 में आज (27 जुलाई) ही के दिन भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) शिलौंग में ‘रहने योग्य ग्रह’ विषय पर एक व्याख्यान के दौरान दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। वह एक जाने-माने वैज्ञानिक, अभियंता (इंजीनियर) और शिक्षक थे। उन्होंने 1974 में भारत द्वारा पहले मूल परमाणु परीक्षण के बाद से दूसरी बार 1998 में पोखरण में किए गए परमाणु परीक्षण में एक निर्णायक, संगठनात्मक, तकनीकी और राजनैतिक भूमिका निभाई थी।

भारत रत्न से हो चुके हैं सम्मानित

देश के प्रति उनके समर्पण और भारत में तकनीकी के विकास में उनके अभूतपूर्व योगदान के लिए साल 1997 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। हालांकि इससे पहले वो साल 1981 में देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण और साल 1990 में पद्म विभूषण पा चुके थे। बता दें कि भारत का राष्ट्रपति बनने से पहले भारत रत्न पाने वाले अब्दुल कलाम देश के तीसरे राष्ट्रपति हैं। उनसे पहले यह सम्मान सर्वपल्ली राधाकृष्णन और जाकिर हुसैन ने हासिल किया था।

(हम ज्यादा दिन WhatsApp पर आपके साथ नहीं रह पाएंगे. ये सर्विस अब बंद होने वाली है. लेकिन हम आपको आगे भी नए प्लेटफॉर्म Telegram पर न्यूज अपडेट भेजते रहेंगे. इसलिए अब हमारे Telegram चैनल को सब्सक्राइब कीजिए)

Continue Reading

INDIA

तेजस एक्सप्रेस में आप भी बैंड बाजे के साथ धूमधाम से ले जा सकेंगे बारात, बस करना होगा ये एक काम

Ravi Pratap

Published

on

देश की पहली कारपोरेट ट्रेन तेजस एक्सप्रेस में बरात ले जाने के लिए आसानी से पूरा कोच बुक करा सकते हैं। रेलवे की ट्रेनों की तरह कोच बुक कराने के लिए एक सप्ताह का समय नहीं लगेगा। न ही लंबी कागजी प्रक्रिया पूरी करनी होगी।

सिर्फ 48 घंटे पहले आईआरसीटीसी के प्रतिनिधि से संपर्क करें और मिनटों में उस दिन के किराये के हिसाब से कोच में बुक सीटों का किराया जमा कर कोच बुक करा लें। दो माह पहले बुकिंग कराने पर प्रति सीट सामान्य किराया ही अदा करना होगा। कानपुर से दिल्ली तक चेयर कार का सामान्य किराया 1000 और एग्जीक्यूटिव का 2015 रुपये है। तेजस के यात्रियों की तरह ट्रेन से जा रहे बरातियों को नाश्ता, पानी और खाने का इंतजाम भी होगा।

एक साथ छह कोच भी बुक करा सकते हैं, तेजस एक्सप्रेस में लखनऊ और कानपुर से गाजियाबाद और दिल्ली और दिल्ली व गाजियाबाद से कानपुर और लखनऊ तक कोच बुक कराया जा सकता है। इस ट्रेन में छह कोच बुक कराए जा सकते हैं। इस ट्रेन में मौजूदा समय में 12 कोच लगे हैं। इसमें नौ चेयरकार, एक एक्जीक्यूटिव कार कोच और दो पॉवर कार (जनरेटर यान) हैं। एक से लेकर छह कोच तक बुकिंग लखनऊ और कानपुर दोनों जगहों से हो सकती है।

कैसे बुक कराएं तेजस के कोच
आईआरसीटीसी के लखनऊ या कानपुर सेंट्रल स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर बने कार्यालय से सीधे जाकर कोच बुक करा सकते हैं। जिस दिन के लिए कोच बुक कराने हैं, उसके 48 घंटे पहले बुकिंग करानी होगी। सेंट्रल स्टेशन पर आईआरसीटीसी के स्टेशन ऑफिसर अमित सिन्हा और वरुण गोयल से संपर्क करें।

जिस दिन के लिए कोच लेना हो, उस दिन का आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर प्रदर्शित किराये के आधार पर सीटें बुक होंगी। पांच चेयरकार और एक एक्जीक्यूटिव कार की बुकिंग हो सकती है। अभी ट्रेन में नौ चेयरकार और एक एक्जीक्यूटिव क्लास है।

तेजस एक्सप्रेस में कोच बुक कर ले जाएं बरात
अलग से कोच लेने के लिए 80 प्रतिशत सीटें कम से कम बुक करानी होंगी। चेयरकार में कुल 78 सीटों में 64 सीटें लेनी होंगी। बाकी 14 सीटें दूसरे यात्रियों को दे दी जाएंगी। चाहें तो पूरी 78 सीटें भी ले सकते हैं। यही व्यवस्था एक्जीक्यूटिव कार की 56 सीटों के लिए भी है। बिना कोच बुक कराए ग्रुप बुकिंग भी कराई जा सकती है। जैसे आप एक कोच में 40 सीटें बुक कराते हैं, तो बाकी की सीटें आईआरसीटीसी अन्य यात्रियों के लिए बुक कर देगा।

कोच बुकिंग मे रेलवे से आसानी
अगर कोई यात्री रेलवे की ट्रेनों में कोच बुक कराना चाहे तो कुछ दिक्कतें आती हैं। मसलन संबंधित अधिकारी (कानपुर में डिप्टी सीटीएम स्तर के अधिकारी) को आवेदन देना होगा। इस पर बुकिंग वाले दिन ट्रेन में सीटों की उपलब्धता देखी जाएगी। यह भी देखा जाएगा कि किस ट्रेन में अलग से कोच लगाया जा सकता है। अनुमति मिलने पर कम से कम एक सप्ताह का समय लगता है। इसलिए एक सप्ताह पहले ही संपर्क करना होती है। इसमें एक्स्ट्रा कोच ट्रेन में सबसे पीछे लगता है।

Input : Amar Ujala

(हम ज्यादा दिन WhatsApp पर आपके साथ नहीं रह पाएंगे. ये सर्विस अब बंद होने वाली है. लेकिन हम आपको आगे भी नए प्लेटफॉर्म Telegram पर न्यूज अपडेट भेजते रहेंगे. इसलिए अब हमारे Telegram चैनल को सब्सक्राइब कीजिए)

Continue Reading
Advertisement
INDIA10 mins ago

मां के लिए फ्रिज खरीदने 35 किलो सिक्के लेकर गया, दो हजार रु. कम निकले तो शोरूम ने छूट दी

BIHAR22 mins ago

चैतन्य प्रसाद और आनंद किशोर की छुट्टी, बिहार में 8 IAS अधिकारियों का तबादला

TECH2 hours ago

साइबर क्राइम : कोई कर रहा है ब्लैकमे’ल तो बचने के लिए तुरंत करे ये 5 काम

BIHAR3 hours ago

उत्कृष्ट पुलिस सेवा के लिए बिहार के लाल को मिला एपीजे अब्दुल कलाम अवार्ड

RELIGION4 hours ago

17 अक्टूबर को है करवा चौथ, जानिए व्रत से जुड़ी बातें और पूजा विधि

SPORTS4 hours ago

सौरव गांगुली बने BCCI के नए अध्यक्ष 23 अक्टूबर को संभालेंगे पद

BIHAR5 hours ago

रेलवे ने फिर बढ़ाई स्पेशल ट्रेनों की संख्या, दिवाली-छठ के लिए अभी इन ट्रेनों में बुक करा सकते हैं टिकट

MUZAFFARPUR6 hours ago

मुजफ्फरपुर सूतापट्टी में पति ने धो’खा दिया तो महिला ने चोर-चोर बोल कर पि’टवाया

MUZAFFARPUR8 hours ago

अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के उपेक्षा के कारण काँटी – मरवण का 570 किलोमीटर पक्की सड़क हुआ जर्जर : ई0 अजीत

BIHAR8 hours ago

पटना: डें’गू म’रीजों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर फेंकी गई स्याही

BIHAR1 day ago

63वीं परीक्षा का रिजल्ट जारी, श्रीयांश तिवारी बने टॉपर, यहां देखें लिस्ट

BIHAR4 days ago

पटना पहुंची प्रीति जिंटा, एक झलक पाने को बेताब दिखी भीड़

BIHAR2 weeks ago

KBC 11: वैज्ञानिक के नाम से जुड़े सवाल पर अटकी बिहार की साइंस टीचर संगीता, गेम छोड़ने का लिया निर्णय

BIHAR2 days ago

संभावना सेठ के साथ रॉयल फुलार ने मनाया अपना प्रथम वर्षगाँठ

INDIA6 days ago

Reliance Jio यूजर्स को लगा बड़ा झटका, अन्‍य मोबाइल नेटवर्क पर कॉल करने के लिए देना होगा पैसा

MUZAFFARPUR6 days ago

मुजफ्फरपुर से दिल्ली के लिए चलेगी सुविधा स्पेशल

BIHAR4 days ago

पटना: IIT मुंबई ने सबसे कम उम्र के प्रोफेसर तथागत तुलसी को नौकरी से निकाला, जानिए कारण

BIHAR3 weeks ago

हाई वोल्‍टेज फैमिली ड्रामा: प्रेमी के घर के सामने धरना पर बैठी प्रेमिका, बोली- चल कर शादी

BUSINESS3 days ago

Paytm इस्तेमाल करने वालों के लिए बुरी ख़बर

MUZAFFARPUR3 weeks ago

बिहार में 28 नवंबर से 12 दिसंबर के बीच आठ जिलों की सेना बहाली, ये कागजात लाना होगा जरूरी

Trending

0Shares