राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र में अब बनेगा अंतरराष्ट्रीय मॉडल पैक हाउस

0
59
Sahi lItchi, Litchi, Bihar, Muzaffarpur
Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश ही नहीं दुनिया को बेहतर किस्म की शाही लीची का स्वाद चखाने वाले जिले के लीची उत्पादकों को जल्द ही इसको रखने व पैकिंग की व्यवस्था करने की सुविधा उपलब्ध होगी। देश में लीची के कुल उत्पादन का 50 फीसदी उत्पादन करने वाले किसानों को वर्तमान में पैकिंग व रखरखाव की व्यवस्था नहीं होने से लीची की उचित कीमत नहीं मिल रही है। इसको देखते हुए राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र में जल्द ही 60 टन लीची रखने व पैकिंग की सुविधा वाले मॉडल पैक हाउस का निर्माण होगा। राज्य सरकार ने इस पर अपनी सहमति दे दी है। केंद्र सरकार के सहयोग से पैक हाउस का निर्माण करने के लिए डीपीआर बनाने का काम शुरू हो गया है। इसके निर्माण पर लगभग चार करोड़ रुपए का खर्च आएगा। अगले माह इसका निर्माण शुरू हो जाने की उम्मीद है। किसानों को लीची की उचित कीमत दिलाने के साथ ही लीची को देश-विदेश में पहुंचाने के लिए यह विशेष व्यवस्था की जा रही है। लीची का फल जल्द खराब होने के कारण उसकी बेहतर पैकिंग व अधिक दिनों तक बचाए रखने की विशेष चिंता किसानों को रहती है। इसको देखते हुए किसान लीची को बर्बादी से बचाने के लिए उसे औने-पौने कीमत पर बेचने को मजबूर रहते हैं।

यहां लीची के प्रसंस्करण, पैकिंग और मार्केटिंग की सुविधा उपलब्ध होगी: डॉ. विशाल 

राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र मुशहरी के निदेशक डॉ. विशाल नाथ ने कहा कि लीची फल के उचित रखरखाव की व्यवस्था कर किसानों की आमदनी को दोगुना करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसके तहत बिहार राज्य के राज्य बागवानी मिशन के सहयोग से राष्ट्रीय लीची अनुसंधान केंद्र परिसर में मॉडल पैक हाउस का निर्माण किया जाएगा। एपीडा द्वारा मान्यता प्राप्त यह राज्य का पहला मॉडल पैक हाउस होगा। यहां लीची के प्रसंस्करण, पैकिंग और मार्केटिंग की सुविधा उपलब्ध होगी। इस पैक हाऊस के निर्माण के लिए केंद्र सरकार के साथ ही राज्य सरकार को सहमति दी है। भारत सरकार की कंसल्टेंसी एजेंसी आईएफएलएस द्वारा राज्य बागवानी मिशन के सहयोग से पैक हाउस निर्माण के लिए डीपीआर बनाया जा रहा है। इसका निर्माण होने से किसानों को काफी लाभ होगा। इससे लीची उत्पादकों के साथ ही बाकी सीजन में मौसमी फलों में केला, आम, अमरूद, पपीता समेत फलों के साथ सब्जियों का उत्पादन करने वाले किसानों को लाभ होगा।

Source : Dainik Jagran

Sahi lItchi, Litchi, Bihar, Muzaffarpur

यह भी पढ़ें -» बिहार की इस बेटी ने मॉस्को में लहराया तिरंगाबनीं ‘राइजनिंग स्टार

यह भी पढ़ें -» यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिरजानिए क्यों है इतनाखास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशानकभी सोचा है आपने ?

यह भी पढ़ें -» गांधी सेतु पर ओवरटेक किया तो देना पड़ेगा 600 रुपये जुर्माना

यह भी पढ़ें -» अब बिहार के बदमाशों से निपटेगी सांसद आरसीपी सिंह की बेटी IPS लिपि सिंह

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

 

(मुज़फ़्फ़रपुर नाउ के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहांक्लिक कर सकते हैंआपहमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •