Connect with us

BIHAR

गया / कसौटी पत्थर से बना विष्णुपद मंदिर, यहां श्राद्ध करने से पितरों को मिलती है तृप्ति

Published

on

बिहार के गया में भगवान विष्णु के पदचिह्नों पर मंदिर बना है। जिसे विष्णुपद मंदिर कहा जाता है। पितृपक्ष के अवसर पर यहां श्रद्धालुओं की काफी भीड़ जुटती है। इसे धर्मशिला के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी भी मान्यता है कि पितरों के तर्पण के पश्चात इस मंदिर में भगवान विष्णु के चरणों के दर्शन करने से समस्त दुखों का नाश होता है एवं पूर्वज पुण्यलोक को प्राप्त करते हैं। इन पदचिह्नों का श्रृंगार रक्त चंदन से किया जाता है। इस पर गदा, चक्र, शंख आदि अंकित किए जाते हैं। यह परंपरा भी काफी पुरानी बताई जाती है जो कि मंदिर में अनेक वर्षों से की जा रही है। फल्गु नदी के पश्चिमी किनारे पर स्थित यह मंदिर श्रद्धालुओं के अलावा पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है।

Vishnupad Mandir, Gaya Vishnupad Temple is made by touchstone The ancestors get satisfaction by shraadh here

  • भगवान विष्णु ने अपने पैरों से दबाया था शिला को

विष्णुपद मंदिर में भगवान विष्णु का चरण चिह्न ऋषि मरीची की पत्नी माता धर्मवत्ता की शिला पर है। राक्षस गयासुर को स्थिर करने के लिए धर्मपुरी से माता धर्मवत्ता शिला को लाया गया था, जिसे गयासुर पर रख भगवान विष्णु ने अपने पैरों से दबाया। इसके बाद शिला पर भगवान के चरण चिह्न है। माना जाता है कि विश्व में विष्णुपद ही एक ऐसा स्थान है, जहां भगवान विष्णु के चरण का साक्षात दर्शन कर सकते हैं।

  • कसौटी पत्थर से बना मंदिर

विष्णुपद मंदिर सोने को कसने वाला पत्थर कसौटी से बना है, जिसे जिले के अतरी प्रखंड के पत्थरकट्‌टी से लाया गया था। इस मंदिर की ऊंचाई करीब सौ फीट है। सभा मंडप में 44 पीलर हैं। 54 वेदियों में से 19 वेदी विष्णपुद में ही हैं, जहां पर पितरों के मुक्ति के लिए पिंडदान होता है। यहां सालों भर पिंडदान होता है। यहां भगवान विष्णु के चरण चिन्ह के स्पर्श से ही मनुष्य समस्त पापों से मुक्त हो जाते हैं।

  • अरण्य वन बना सीताकुंड

विष्णुपद मंदिर के ठीक सामने फल्गु नदी के पूर्वी तट पर स्थित है सीताकुंड। यहां स्वयं माता सीता ने महाराज दशरथ का पिंडदान किया था। प्रबंधकारिणी समिति के सचिव गजाधरलाल पाठक ने बताया कि पौराणिक काल में यह स्थल अरण्य वन जंगल के नाम से प्रसिद्ध था। भगवान श्रीराम, माता सीता के साथ महाराज दशरथ का पिंडदान करने आए थे, जहां माता सीता ने महाराज दशरथ को बालू फल्गु जल से पिंड अर्पित किया था, जिसके बाद से यहां बालू से बने पिंड देने का महत्व है।

  • 18वीं शताब्दी में हुआ था जीर्णोद्वार

विष्णुपद मंदिर के शीर्ष पर 50 किलो सोने का कलश और 50 किलो सोने की ध्वजा लगी है। गर्भगृह में 50 किलो चांदी का छत्र और 50 किलो चांदी का अष्टपहल है, जिसके अंदर भगवान विष्णु की चरण पादुका विराजमान है। इसके अलावे गर्भगृह का पूर्वी द्वार चांदी से बना है। वहीं भगवान विष्णु के चरण की लंबाई करीब 40 सेंटीमीटर है। बता दें कि 18 वीं शताब्दी में महारानी अहिल्याबाई ने मंदिर का जीर्णोद्वार कराया था, लेकिन यहां भगवान विष्णु का चरण सतयुग काल से ही है।

  • विष्णुपद की कथा

गया तीर्थ में पितरों का श्राद्ध और तर्पण किए जाने का उल्लेख पुराणों में भी मिलता है। पुराणों के अनुसार, गयासुर नाम के एक असुर ने घोर तपस्या करके भगवान से आशीर्वाद प्राप्त कर लिया। भगवान से मिले आशीर्वाद का दुरुपयोग करके गयासुर ने देवताओं को ही परेशान करना शुरू कर दिया। गयासुर के अत्याचार से दु:खी देवताओं ने भगवान विष्णु की शरण ली और उनसे प्रार्थना की कि वह गयासुर से देवताओं की रक्षा करें। इस पर विष्णु ने अपनी गदा से गयासुर का वध कर दिया। बाद में भगवान विष्णु ने गयासुर के सिर पर एक पत्थर रख कर उसे मोक्ष प्रदान किया।

BIHAR

बिहारवासियों के लिए खुशखबरी! पहला लिफ्ट वाला ओवरब्रिज बनकर तैयार

Published

on

बिहारवासियों के लिए खुशखबरी है. दरअसल, बिहार का पहला लिफ्ट वाला ओवरब्रिज बनकर तैयार हो चुका है, जिसके बाद 29 सितंबर को ओवरब्रिज के विधिवत उद्घाटन की संभावना है. बता दें कि अटल पथ पर बना ये फुटओवर ब्रिज काफी आकर्षक है. इसके अलावा यहां चार और ऐसे फुटओवर ब्रिज बन रहे हैं, जिनमें से दो बनकर तैयार भी हो चुके हैं.

6.5 KM लंबे अटल पथ को क्रॉस करने के लिए बन रहा ब्रिज

बता दें कि साढ़े 6 किलोमीटर लंबे अटल पथ को क्रॉस करने के लिए बिहार स्टेट रोड डेवलपमेंट कारपोरेशन  फुटओवर ब्रिज का निर्माण करा रहा है. अटल पथ पर ऐसे चार फुटओवर ब्रिज का निर्माण होना है, जिनमें से दो ब्रिज का निर्माण पूरा हो चुका है. दो पुलों के निर्माण के बाद महेश नगर, पटेल नगर, इन्द्रपुरी समेत आसपास के मोहल्लों से पैदल आना-जाना बेहद आसान हो जाएगा. राजीव नगर के पास भी पुल बनकर तैयार हो चुका है. दीघा फ्लाईओवर और एमएलए फ्लैट के पास ब्रिज बनाने का काम जारी है.

बुजुर्ग-लाचार लोगों को मिलेगी मदद

इन फुटओवर ब्रिज की खास बात ये है कि इसके दोनों ओर लिफ्ट लगाई गई हैं. बुजुर्ग लाचार लोगों के लिए ये लिफ्ट काफी मददगार साबित होंगी. लिफ्ट को ऑपरेट और मेंटेन करने के लिए यहां एक कर्मचारी भी तैनात रहेगा. फुटओवर ब्रिज का सुपर स्ट्रक्चर 40 मीटर का है और सड़क से ब्रिज को जोड़ने के लिए 38 मीटर लंबा दूसरा सुपर स्ट्रक्चर भी बनाया गया है.

लगभग 379 करोड़ की लगी है लागत

जानकारी के अनुसार, बिहार सरकार ने लगभग 379 करोड़ की लागत से अटल पथ बनाया है. ये पथ आर ब्लाक से दीघा होते हुए गंगा पथ तक जाएगा. पुल का निर्माण कई स्तरों पर पूरा हो चुका है लेकिन गंगा पथ के पास भूमि अधिग्रहण में हो रहे विलंब के कारण अटल पथ पर आवागमन अभी पूरी तरह चालू नहीं हो सका है. अटल पथ खुद में काफी आकर्षक बनाया गया है. साढे़ 6 किलोमीटर लंबे अटल पथ को क्रॉस करने के लिए भी उसी तरह के शानदार फुटओवर ब्रिज का निर्माण कराया जा रहा, जो आने वाले समय में पटना के लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र बनेगा.

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर के पताही से विमान सेवा शुरू करने की कोशिश तेज

Published

on

मुजफ्फरपुर के पताही अथवा माेतीपुर में हवाई अड्डे की जमीन के लिए अगले सप्ताह केंद्रीय उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया सीएम नीतीश कुमार से बात करेंगे। केंद्रीय मंत्री ने सांसद अजय निषाद काे आश्वासन  दिया है कि जल्द ही वे राज्य सरकार से जमीन की मांग करेंगे।

गुरुवार काे दिल्ली में केन्द्रीय मंत्री से मिलकर लाैटने के बाद सांसद अजय निषाद ने शनिवार काे बताया कि जमीन अधिग्रहण नहीं हाेने से मुजफ्फरपुर में हवाई सेवा चालू नहीं हाे पा रही है। केंद्रीय मंत्री 2-4 दिन में सीएम से बात करेंगे। सांसद ने केंद्रीय मंत्री काे बताया कि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) का मुजफ्फरपुर स्थित हवाई अड्डा एक गैर-प्रचालनिक हवाई अड्डा है।

इसका मौजूदा विमानपट्टी एवं टर्मिनल भवन जीर्ण-शीर्ण हाल में है। इसका मसौदा मास्टरप्लान बनाकर राज्य सरकार को भेजा गया है। प्रस्तावित विकास योजना के तहत हवाई अड्डे के लिए कुल 475 एकड़ भूमि की दरकार है। बताया कि मुजफ्फरपुर उत्तर बिहार का व्यावसायिक केंद्र है। यह बुद्ध सर्किट से जुड़ा है। प्रजातंत्र की जननी, आम्रपाली की रंगभूमि, महात्मा बुद्ध की कर्मभूमि व भगवान महावीर की जन्मभूमि वैशाली यहां से मात्र 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नेपाल सीमा क्षेत्र भी काफी नजदीक है।

Source : Dainik Bhaskar

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading

BIHAR

हाेटल पनाश में एंकर से सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज, आरोपी फरार

Published

on

काेलकाता की इवेंट एंकर के साथ पटना स्थित हाेटल पनाश में गैंग रेप हुआ। यह घटना 2 जुलाई की देर रात की हाेटल के कमरा नंबर 512 में हुई। गैंग रेप करने का आरोप मुजफ्फरपुर के हर्ष रंजन और उसके सहयाेगी विक्रांत केजरीवाल पर है। दाेनाें पर यह भी आरोप है कि दाेनाें ने 3 जुलाई काे हाेटल से पटना जंक्शन छाेड़ने के दाैरान कार में जबरन गर्भनिराेधक गाेलियां भी खिलाईं। उसने 4 जुलाई काे जाधवपुर थाना में इन दाेनाें के खिलाफ रेप का केस दर्ज करा दिया। बंगाल पुलिस ने जीराे FIR करने के बाद इसे गांधी मैदान थाना काे भेज दिया। 29 जुलाई काे पटना पहुंची पीड़िता का 164 के तहत काेर्ट में बयान दर्ज किया गया। इधर, गांधी मैदान थानेदार रंजीत वत्स ने बताया कि आरोपितों  काे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस मुजफ्फरपुर गई थी। दाेनाें फरार है। दोनों के मोबाइल बंद हैं।

पेमेंट के बहाने आया  फिर गलत काम किया

पीड़िता के अनुसार, हर्ष किंग मीडिया इंटरटेंमेंट नाम से संस्था चलाता है। इससे पहले हर्ष के लिए दाे बार काम कर चुकी हूं। उसने इस साल हमसे संपर्क किया और  कहा कि 30 जून से 2 जुलाई तक काम करना है। प्राेग्राम हाेटल पनाश में हुआ था पर मुझे इस हाेटल से कुछ किलाेमीटर दूर हाेटल के- स्क्वाॅयर में ठहराया गया था। मुझे 2 जुलाई की रात काे हाेटल पनाश में शिफ्ट कर दिया गया। 2 जुलाई की रात काे हर्ष मेरे कमरे में पेमेंट देेने के बहाने आया। उसने कहा मेरी पत्नी प्रेगनेंट है। मुझे संतुष्ट कर दाे। मैंने इनकार किया तो हर्ष ने मेरे साथ रूम में रेप किया। फिर विक्रांत ने भी संबंध बनाए।

Source : Dainik Bhaskar

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading
INDIA9 mins ago

देश की न्याय व्यवस्था पर CJI एनवी रमना का बड़ा बयान, कहा – अदालतों में अब भी गुलामी के दौर वाला अंग्रेजी सिस्टम जारी

BIHAR1 hour ago

बिहारवासियों के लिए खुशखबरी! पहला लिफ्ट वाला ओवरब्रिज बनकर तैयार

DHARM3 hours ago

पितृ पक्ष कल से, श्रद्ध कर्म से पूरे होते मनोरथ

MUZAFFARPUR3 hours ago

मुजफ्फरपुर के पताही से विमान सेवा शुरू करने की कोशिश तेज

BIHAR3 hours ago

हाेटल पनाश में एंकर से सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज, आरोपी फरार

BIHAR13 hours ago

राजद सरकार में मंत्री रहे ददन पहलवान की 68 लाख की संपत्ति जब्त

BIHAR15 hours ago

विवादों में बिहार का वैक्सीनेशन रिकॉर्ड, मृतक के नाम सर्टिफिकेट जारी करने का दावा

BIHAR16 hours ago

बिहार में फिर से चलाने जा रही 12 जोड़ी पैसेंजर ट्रेन, देखिए यहां लिस्ट

BIHAR17 hours ago

PM मोदी भगवान का दूसरा रूप, वे ही भारत के ‘भाग्य विधाता’ : केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस

BIHAR17 hours ago

पटना में बेखौफ बदमाश, जिम ट्रेनर को मारी गोली, हथियार लहराते अपराधी फरार

INDIA2 weeks ago

सिद्धार्थ शुक्ला पंचतत्व में विलीन, कांपते हाथों से मां ने दी जिगर के टुकड़े को मुखाग्नि

TRENDING4 weeks ago

सूप बनाने के लिए काटा था कोबरा, 20 मिनट बाद कटे फन ने डसा, शेफ की मौत

BIHAR4 weeks ago

बिहार : 12 साल की बुआ को 13 साल के भतीजे से हुआ प्यार, छह साल इंतजार के बाद मंदिर में रचाई शादी

VIRAL3 weeks ago

जिधर देखो उधर 500-2000 रुपये… रेलवे ट्रैक पर मिले नोटों के बंडल

BIHAR4 weeks ago

बिहार; बेटी से इश्क करने पर प्रेमी को काट कर बोरे में भरा, परिजनों ने अपनी लड़की को भी नहीं छोड़ा

BIHAR1 day ago

बिहार : भांजी पर आया मामा का दिल, पत्नी और बेटे को छोड़कर हुआ फरार, दो सालों से चल रहा था प्रेम प्रसंग

TRENDING4 weeks ago

सेक्स के दौरान युवक ने प्राइवेट पार्ट पर लगाया फेविक्विक, हुई मौत

BIHAR3 weeks ago

SMA बीमारी से जूझ रहे अयांश के मामले में नया मोड़, पिता आलोक सिंह पहुंचे सलाखों के पीछे

INDIA4 days ago

अगर इन 3 बैंकों में है आपका भी अकाउंट तो 1 अक्टूबर से नहीं चलेगी पुरानी चेकबुक

INDIA4 days ago

रिवॉल्वर लेकर वीडियो बनाने वाली लेडी कांस्टेबल को विभाग को देने होंगे 1.82 लाख रुपए

Trending