Connect with us

HEALTH

तेजी से लोकप्रिय हो रही घी कॉफी, जानिए इसके फायदे

Santosh Chaudhary

Published

on

इस साल ऑस्कर के विजेताओं को ट्रॉफी के साथ में एक बैग भी दिया गया था। क्या आप जानते हैं कि इस बैग में तमाम लक्झरी चीजों के साथ 250 ग्राम घी का एक जार भी था? घी के गुणों को देखते हुए हॉलीवुड सेलिब्रिटिज के बीच यह बांटा गया। अब घी का एक और अनूठा प्रयोग आजकल लोकप्रिय हो रहा है। यह है – घी कॉफी। जी हां। कॉफी दुनिया का सबसे लोकप्रिय पेय है। साथ ही कॉफी पर कई तरह से प्रयोग भी किए जाते हैं। मसलन- किटो डाइट वालों में बुलेट प्रूफ कॉफी बहुत लोकप्रिय है। कुछ ऐसा ही अब घी कॉफी के साथ हो रहा है।

Image result for ghee-coffee"

प्राचीन काल से घी का उपयोग भारतीय व्यंजनों और आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। कॉफी में घी डालने से इसके गुण कई गुना बढ़ जाते हैं। जैसे – यह वजन घटाने में मदद करता हैं। बटर कॉफी की तुलना में घी कॉफी बहुत अधिक पौष्टिक और मीठी मानी जाती है।

जानिए घी कॉफी के फायदे

एसिडिटी से राहत: बहुत से लोगों को खाली पेट कॉफी पीना मुश्किल हो जाता है क्योंकि इससे एसिडिटी होती है, लेकिन इसमें थोड़ा-सा घी डालने से एसिडिटी और जलन से राहत मिलती है। घी मिलाने से कॉफी ब्यूटिरिक एसिड और ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर हो जाती है जो स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं और हेल्दी मेटाबॉलिज्म में मदद करता है।

Image result for ghee-coffee"

वजन घटाने में सहायक: अगर आप कीटो डाइट पर हैं तो सुबह घी कॉफी पीने से वजन घटाने में मदद मिल सकती है। यदि आपका शरीर कीटोसिस में नहीं है और आप घी कॉफी पी रहे हैं, तो वजन बढ़ेगा। यानी जो लोग वजन बढ़ाना चाहते हैं, वो इस तरह लाभ ले सकते हैं। कॉफी संतुष्टि प्रदान करती है और घी में शून्य कार्बोहाइड्रेट होता है। साथ हीओमेगा 3 और ओमेगा 6 फैटी एसिड वजन कम करने के लिए उपयोगी हो सकते हैं।

मूड में सुधार: घी में मौजूद ओमेगा 3 फैटी एसिड तंत्रिका ऊतक (नर्व टिश्यू) की वृद्धि और कार्य के लिए फायदेमंद होता है। यह हार्मोन उत्पादन में सुधार करती है, जिससे मूड स्थिर और खुश रहता है।

लैक्टोज का विकल्प: घी उन लोगों के लिए शानदार विकल्प है जो लैक्टोज का सेवन नहीं कर पाते हैं, क्योंकि घी में दूध के ठोस पदार्थ और प्रोटीन होता है। यह मक्खन की तुलना में आसानी से पचता है।

अधिक ऊर्जा : वैसे भी कॉफी ऊर्जा बढ़ाती है और फोकस (ध्यान) में मदद मिलती है। घी के कारण इसकी ऊर्जा बढ़ाने वाले गुण दोगुना हो जाते हैं। कॉफी में कैफीन होता है, जो ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार है।

Image result for ghee-coffee"

ऐसे बनती है घी कॉफी

घी कॉफी बनाना बहुत आसान है। आप जिस भी ब्रांड की और जैसे भी (लाइट या डार्क) कॉपी पीते हैं, उसमें एक या दो चम्मच शुद्ध घी मिलाएं। घी की यह मात्रा कॉफी की मात्रा पर निर्भर करती है। स्वस्थ आहार के साथ इसे पीएं।

एक चम्मच घी में क्या-क्या होता है

(यूएस डिपार्टमेंट ऑफ एग्रिकल्चर (यूएसडीए) के अनुसार एक चम्मच घी में निम्न  न्यूट्रिशन होते हैं।)

  • कैलोरी: 150
  • वसा: 17 ग्राम
  • संतृप्त वसा: 10 ग्राम
  • असंतृप्त वसा: 7 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट: 0 ग्राम
  • सोडियम: 90 मिलीग्राम
  • चीनी: 0 ग्राम
  • फाइबर: 0 ग्राम
  • प्रोटीन: 0 ग्राम
  • कोलेस्ट्रॉल: 25 मिलीग्राम

डायटिशियन और न्यूट्रिशन एक्सपर्ट कारा हर्बस्ट्रीन ने अपने एक लेख में लिखा है कि घी में अन्य खाद्य पदार्थों की तुलना में संतृप्त वसा अधिक होती है। इसलिए सुबह घी कॉफी का सेवन दिनभर की एनर्जी के लिए अच्छा होता है। इसके बाद यदि आप सुबह का नाश्ता नहीं ले पाते हैं तो भी एनर्जी बनी रहेगी। बटर की तुलना में घी सेहतमंद होता है। ध्यान रखने वाली बात यह है कि घी में कैलोरी ज्यादा होती हैं। सेवन करते समय इस लिहाज से भी ध्यान रखा जाना जरूरी है।

अधिक जानकारी के लिए देखें: https://www.myupchar.com/en/tips/cow-ghee-benefits-and-side-effects-in-hindi
स्वास्थ्य आलेख www.myUpchar.com द्वारा लिखे गए हैं।

Input : Hindustan

HEALTH

Covid-19: बिना लक्षण वाले मरीजों के लिए साइलेंट किलर है कोरोना, ऐसे लेता है जान- स्टडी

Muzaffarpur Now

Published

on

नई दिल्ली. भारत समेत दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है. भारत में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus Infected) की संख्या 7 लाख के करीब है. वहीं, कोविड-19 के बिना लक्षण वाले यानी एसिम्प्टोमैटिक (Asymptomatic) मरीजों के बारे में आम राय है कि इन्हें खतरा बहुत कम होता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है. नेचर मैगजीन में प्रकाशित एक स्टडी के मुताबिक, कोरोना वायरस बिना लक्षणों वाले मरीजों में ‘साइलेंट किलर’ की तरह अटैक करता है. ऐसे मरीजों के फेफड़े धीरे-धीरे खराब होते हैं और निमोनिया का खतरा बढ़ जाता है. फिर अचानक मरीज की मौत हो जाती है.

Navy develops Rs 1K temperature guns for Covid-19 screening ...

एक आंकड़े के मुताबिक, भारत में करीब 80 प्रतिशत मरीज एसिम्प्टोमिक हैं, यानी उनमें पहले से कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि दुनिया में ऐसे मरीजों की संख्या 6 से 41 फीसदी तक हो सकती है. इस स्टडी में 37 बिना लक्षण वाले मरीजों का डेटा लिया गया, जो चीन के सेंटर फॉर डिजीज एंड प्रीवेंशन संस्थान द्वारा जुटाया गया था.

COVID19: Initial lessons and opportunities for development ...

मरीजों के सिटी स्कैन से पता लगा कि 57 प्रतिशत मरीजों के फेफड़ों में लाइनिंग शैडो थी, जो फेफड़ों में सूजन या इन्फ्लेमेशन का लक्षण है. इस स्थिति में फेफड़े अपनी स्वाभाविक क्षमता से काम करना बंद कर देते हैं. जिसके बाद मरीज को सांस की दिक्कत होती है और ऑक्सीजन नहीं मिलने से मौत हो जाती है.

इस स्टडी में शामिल वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि पहली बार बिना लक्षणों वाले मरीजों के क्लीनिकल पैटर्न से इस तरह की बात सामने आई है. पता चला की इन मरीजों के फेफड़ों को नुकसान हुआ तो इनमें खांसी, सांस लेने में परेशानी जैसे लक्षण नहीं दिखे. ये आमतौर पर कोरोना संक्रमण के लक्षण होते हैं. ऐसे मरीजों की अचानक मौत होने का खतरा भी अधिक है.

नसों में खून के थक्के जमने से दूसरे अंगों के फेल होने का खतरा
दरअसल, देशभर से आ रहे डाटा बताते हैं कि ऐसे कोरोना रोगी जिन्हें डायबिटीज, बीपी, हार्ट या किडनी आदि की बीमारी है, लेकिन कोरोना के कोई लक्षण नहीं है अगर उन्हें सांस फूलने की दिक्कत आती है तो उनका ऑक्सीजन लेवल लगातार चेक करने की जरूरत है.

ऐसे मरीजों में ऑक्सीजन का स्तर नीचे आने से अचानक उनकी मौत होने की संभावना बन जाती है, क्योंकि उनके शरीर में छोटे-छोटे खून के थक्के जमा होने लगते हैं, जो कि आर्टरी को ब्लॉक कर देते हैं. इससे दूसरे ऑर्गन फेल हो जाते हैं और देखते ही देखते उनकी मौत हो जाती है. इसे मेडिकल भाषा में हैप्पी हाइपोक्सिया कहते है.

देश में अभी कोरोना के कितने केस?
देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 6 लाख 97 हजार 413 हो गई है. 24 घंटे में कोरोना के फिर 24 हजार से ज्यादा केस आए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा अपडेट के मुताबिक, रविवार को कोरोना के 24 हजार 248 नए केस आए और 425 मरीजों की जान गई. देश में अभी कोरोना के 2 लाख 53 हजार 287 एक्टिव केस हैं, कोरोना से अब तक 19 हजार 693 मरीजों की मौत हुई है. राहत की बात ये है कि इस महामारी से अब तक 4 लाख 24 हजार 433 लोग रिकवर हो चुके हैं.

Input : News18

Continue Reading

HEALTH

Covid-19: देश में जल्द लॉन्च हो सकती है COVAXIN, 7 जुलाई से होगा ह्यूमन ट्रायल

Muzaffarpur Now

Published

on

नई दिल्ली. देश में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के बीच अच्छी खबर आ रही है. सूत्रों के मुताबिक, देश में बहुत जल्द कोवैक्सीन (COVAXIN) लॉन्च हो सकती है. इस वैक्सीन को फार्मास्यूटिकल कंपनी भारत बायोटेक तैयार कर रही है. ICMR ने भारत बायोटेक को भेजे एक आंतरिक पत्र में कहा है कि क्लिनिकल ट्रायल की प्रक्रिया को तेज किया जाए. इसके सभी अप्रूवल जल्दी ले लिए जाएं और 7 जुलाई से ट्रायल के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू कर दें. हालांकि, भारत बायोटेक ने इस पर कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया है.

Covid-19: देश में जल्द लॉन्च हो सकती है COVAXIN, 7 जुलाई से होगा ह्यूमन ट्रायल

ICMR के प्रवक्ता ने इस पत्र की पुष्टि की है, लेकिन उनके मुताबिक भारत बायोटेक को भेजा गया यह पत्र आंतरिक प्रक्रिया का हिस्सा है और इसे वैक्सीन ट्रायल की प्रक्रिया को तेज करने के लिए लिखा गया है.

Know All About Covaxin, the 1st India-Made COVID-19 Vaccine ...

आईसीएमआर की ओर से इस पत्र में कहा गया है कि सभी तैयारियां पूरी करते हुए 7 जुलाई से इस वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू किया जाए, जिससे इसे जल्द से जल्द लॉन्च किया जा सके. News18 को ये लेटर मिला है. इस लेटर को आईसीएमआर और सभी स्टेकहोल्डर (जिसमें एम्स के डॉक्टर भी शामिल हैं) ने जारी किया है.

COVAXIN: India's First COVID-19 Vaccine Candidate Set For Phase I ...

लेटर के मुताबिक, ICMR के डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव ने कहा-‘अगर ट्रायल हर चरण में सफल हुआ तो सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए इस 15 अगस्त तक कोरोना की वैक्सीन कोवैक्सीन मार्केट में आ सकती है. इसके लिए BBIL लक्ष्यों को पूरा करने में जुटी है. हालांकि, फाइनल रिजल्ट सभी तरह के क्लिनिकल ट्रायल पर निर्भर करते हैं.’ आईसीएमआर की ओर से फिलहाल यह अनुमान लगाया गया है.

बीते दिनों ही हैदराबाद की फार्मा कंपनी भारत बायोटेक ने दावा किया था कि उसे कोवैक्सीन के फेज-1 और फेज-2 के ह्यूमन ट्रायल के लिए डीसीजीआई से हरी झंडी भी मिल गई है. कंपनी ने यह भी कहा है कि ट्रायल का काम जुलाई के पहले हफ्ते में शुरू किया जाएगा.

कई बड़ी बीमारियों की वैक्सीन तैयार कर चुकी है भारत बायोटेक

भारत बायोटेक की ओर से बनाई गई पहले की वैक्सीन दुनियाभर के देशों में जाती हैं. भारत बायोटेक कंपनी ने इससे पहले पोलियो, रेबीज, चिकनगुनिया, जापानी इनसेफ्लाइटिस, रोटावायरसऔर जिका वायरस के लिए भी वैक्सीन बनाई है.

Input : News18

Continue Reading

HEALTH

बेस्ट इम्युनिटी बूस्टर है लीची, गर्मी में स्किन का भी रखती है ख्याल

Muzaffarpur Now

Published

on

लीची (Lychee) गर्मियों के सीजन में आने वाला एक प्रमुख फल है. ये सेहत के लिहाज से बहुत फायदेमंद है. लीची में कार्बोहाइड्रेट, विटामिन सी, विटामिन ए और बी कॉम्प्लेक्स काफी मात्रा में पाया जाता है. इसके अलावा लीची में पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और आयरन जैसे मिनरल्स पाये जाते हैं. लीची स्वादिष्ट फल होने के साथ ही शरीर में ऊर्जा के लिए आवश्यक स्टेरॉयड हार्मोन और हीमोग्लोबिन का निर्माण करने का काम करती है.

इम्युनिटी बढ़ाती है

द हेल्थ साइट की खबर के अनुसार लीची में विटामिन-सी की प्रचुरता होती है इसके कारण यह प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट्स का स्त्रोत है. ऐसे में यह तत्त्व रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर संक्रमण से बचाता है. साथ ही बढ़ती उम्र के प्रभाव को कम करता है. इससे स्किन चमकदार रहती है. लीची का प्रयोग अस्‍थमा से बचाव के लिए भी किया जाता है.

न्यूट्रीशन इंडेक्स 100 ग्राम लीची में 72मिलीग्राम विटामिन-सी होता है. साथ ही इसमें 66 कैलौरी ऊर्जा, 5मिग्रा कैल्शियम, 10 मिग्रा मैग्नीशियम आदि विभिन्न तत्त्व होते हैं. इसमें कार्बोहाइड्रेट, विटामिन-ए, सी व बी कॉम्प्लेक्स, पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, लौह जैसे खनिज लवण भी होते हैं. इसमें सैचुरेटेड फैट और सोडियम की मात्रा बेहद कम होती है.

कितनी मात्रा खाएं

लीची ऊर्जा के बेहतर स्त्रोतों में से एक है. रोजाना 4-5 लीची खा सकते हैं. बेस्ट टाइम-गर्मियों में लीची शरीर में तरावट बनाए रखती हैं. घर से बाहर कहीं निकल रहे हैं तो बीच-बीच में लीची खा सकते हैं. शाम को या भोजन के बाद खा सकते हैं.

ये लोग न करे सेवन

डायबिटीज के मरीजों को इसकी कम ही मात्रा खानी चाहिए क्योंकि इसमें शुगर का स्तर ज्यादा होता है.

Continue Reading
BOLLYWOOD19 mins ago

रेखा का मुंबई का बंगला हुआ सील, सिक्यॉररिटी गार्ड निकला कोरोना पॉजिटिव

BOLLYWOOD50 mins ago

अमिताभ बच्चन हुए कोरोना पॉजिटिव, खुद ट्वीट कर दी जानकारी, मुंबई के नानावती अस्पताल में भर्ती

INDIA2 hours ago

कांग्रेस विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में 3 निर्दलीय विधायकों के खिलाफ शिकायत, 2 भाजपा नेता हिरासत में

SPORTS3 hours ago

पैसों की कमी के कारण कोरोना संकट में BMW बेचने को मजबूर एथलीट दुती चंद

INDIA4 hours ago

लॉकडाउन में खोल ली स्टेट बैंक की फर्जी ब्रांच, तीन गिरफ्तार

BIHAR5 hours ago

विकास दुबे एनकाउंटर के बाद पप्पू यादव भड़के हुए हैं, योगी राज में 600 ब्राम्हणों की हत्या का लगाया आरोप

INDIA5 hours ago

दिवाली 2020 से पहले लॉन्च होगी सेकंड जनरेशन फोर्स गोरखा, अपकमिंग नई महिंद्रा थार को चुनौती देगी

MUZAFFARPUR5 hours ago

मुजफ्फरपुर में खतरे के निशान से ऊपर बह रही बागमती, NDRF-SDRF को किया गया अलर्ट

BIHAR5 hours ago

ड्राइविंग के वक़्त भी मास्क लगाइये, वरना कट जाएगा चालान

BIHAR5 hours ago

विक्रमशिला सेतु के समानांतर बनेगा नया पुल, केंद्र सरकार ने दी हरी झंडी

BIHAR4 weeks ago

सुशांत के परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़, सदमा नहीं झेल पाईं भाभी, तोड़ा दम

ENTERTAINMENT2 weeks ago

सामने आया चंद्रचूड़ सिंह के फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने का असली रीजन

BIHAR4 weeks ago

प्रिय सुशांत – एक ख़त तुम्हारे नाम, पढ़ना और सहेज कर रखना

INDIA4 weeks ago

सुशांत स‍िंह राजपूत की सुसाइड पर बोले मुकेश भट्ट, ‘मुझे पता था ऐसा होने वाला है…’

MUZAFFARPUR1 week ago

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत खुदकुशी मामले में सलमान के अधिवक्ता मुजफ्फरपुर कोर्ट में हुए हाजिर

INDIA6 days ago

महिला सब इंस्पेक्टर गिरफ्तार, रेप के आरोपी को बचाने के लिए 35 लाख रुपए लिया रिश्वत

BIHAR2 weeks ago

बिहार में नहीं चलेंगी सलमान खान, आलिया भट्ट, करण जौहर की फिल्में

MUZAFFARPUR3 weeks ago

सुशांत सिंह राजपूत की मौत पर एकता कपूर ने तोड़ी चुप्पी, कहा- मेरे खिलाफ मुकदमा करने के लिए शुक्रिया

INDIA3 weeks ago

सुशांत के व्हॉट्सऐप चैट आये सामने, उनको फिल्म करने में हो रही थी परेशानी

BOLLYWOOD1 week ago

निधन से पहले सरोज खान ने सुशांत सिंह राजपूत को लेकर शेयर की थी आखिरी पोस्ट

Trending