Connect with us
leaderboard image

HEALTH

दांत और मुंह की बी’मारियों के इ’लाज में सहायता के लिये सरकार ने शुरु किया ‘ई-दंतसेवा ऐप’

Santosh Chaudhary

Published

on

दांत और मुंह की बी’मारियों के इ’लाज में सहायता के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एम्स की मदद से ई-दंत सेवा एप लॉन्च किया है। इस एप की खासियत है कि आम लोग एप पर दांतों और मुंह से जुड़ी समस्याओं से जुड़े सवाल पूछ सकते हैं और एप पर मौजूद विशेषज्ञ इनके जवाब देंगे।

एम्स के दंत शिक्षा और शोध केंद्र के प्रमुख डॉक्टर ओपी खरबंदा का कहना है कि इस एप को इस तरह विकसित किया गया है कि आपातकालीन स्थिति में भी व्यक्ति अस्पताल पहुंचने से पहले अपनी स्थिति को बिगड़ने न दें। उदाहरण के लिए एप्लीकेशन में विस्तार से बताया गया है कि दांत टूटने पर क्या करें और क्या न करें। साथ ही दर्द को नियंत्रित करने के लिए कौन सी दवाएं लें और कौन सी दवाएं नहीं लें। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सोमवार को ई-दंत सेवा का उद्घाटन करते हुए इसे देशव्यापी स्तर पर फायदेमंद बताया। दंत चिकित्सा से जुड़ी जानकारियों पर आधारित एक पुस्तिका का ब्रेल लिपि में अनावरण भी किया। ई-दंत सेवा एप में दांतों की सुविधा वाले तमाम उन अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवा केंद्रों की सूची दी गई है, जहां डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया में पंजीकृत दंत चिकित्सक मौजूद हैं। जीपीएस सेवा के जरिए मरीज चिकित्सा केन्द्र तक पहुंच सकेंगे।

मिथक की जानकारियां मिलेंगी : एप में मुंह की बीमारियों से जुड़े मिथक और गलत जानकारियों से मरीजों को बचाने के लिए प्रामाणिक वैज्ञानिक स्रोतों से उपलब्ध कराई गई जानकारियों को मुहैया कराया गया है। यहां लोग किसी बीमारी में क्या करें और क्या न करें की जानकारी भी प्राप्त कर सकेंगे।

ई-दंत सेवा पर ऐसे पाएं बीमारी का इलाज

  • -सबसे पहले https://edantseva.gov.in पर क्लिक करें
  • -उसके बाद लेट्स टॉक टीथ (Let’s Talk Teeth) पर क्लिक करें
  • -फिर सिम्पटम चेकर ( Symptom checker) पर जायें, यहां आपको पांच अलग-अलग ऑप्शन मिलेंगे
  • -पहले ऑप्शन लक्षण का चयन (Choose symptom) पर क्लिक करके, मेल-फीमेल, उम्र और लक्षण/बीमारी का चयन करें
  • -इसके बाद लक्षण की जगह का चयन करें, जैसे अगर आपको दर्द है, तो चयन करें कि जबड़े, मुंह या गर्दन कहां दर्द है
  • -इसके बाद उस लक्षण से जुड़े जोखिम कारक का चयन करें। यहां आपको इन लक्षणों के कारण, इलाज, बचाव और जोखिम की जानकारी दी जाएगी
  • -अगर आपको डॉक्टर की जरूरत है, तो डेंटल सुविधा (Dental Facilities) पर क्लिक करें
  • -इसके बाद अपने शहर का नाम और डेंटल सुविधा का चयन करें। यहां आपके निकटतम डॉक्टरों की लिस्ट आ जाएगी।

e-Dant Seva का हेल्पलाइन नंबर

नेशनल डेंटल एंड ओरल हेल्थ आईवीआरएस हेल्पलाइन (1800-11-2032) है, जो वर्तमान में हिंदी और अंग्रेजी में उपलब्ध है। इसे लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज के डेंटल डिपार्टमेंट के सहयोग से विकसित किया गया है।

लक्षण से खुद मर्ज का पता लगा सकेंगे एप में दांतों और मुंह की बीमारी से पीड़ित लोगों को लक्षणों के आधार पर बीमारी के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकती है। एप में सिम्पटम चेकर की सुविधा है। यहां जाकर मरीज अपने मुंह के हिस्से का चयन करेगा जहां दिक्कत है। इसके बाद अपने लक्षण वहां मौजूद सूची से मिलाएगा। डॉक्टर खरबंदा ने कहा कि लोगों को इससे उनकी बीमारी के बारे में एक हल्का अंदाजा लग सकेगा और उसके बाद वे अपने नजदीकी दंत चिकित्सा केंद्र पर जाकर इसकी जांच करा सकते हैं।

Share and Enjoy !

0Shares

HEALTH

उपवास रखने के गज़ब फायदे, इनके बारे मे जान हैरान रह जाएंगे आप.

Md Sameer Hussain

Published

on

शरीर के सम्पूर्ण स्वास्थय के लिए उपवास रखना एक बेहतर विकल्प है जैसे खाना खाना जरुरी है वैसे ही उपवास रखना भी जरुरी है, हमारे शरीर के सही रीति से कार्य करने की क्षमता को बनाये रखने के लिए ये आवशयक हो जाता है की उपवास करे।

ये एक ऐसा कार्य है जिससे शरीर के विषैले पदार्थो और गन्दगी को शरीर से साफ़ होने के लिए समय मिलता है और अनावशयक फैट कम होने लगता है इसलिए जरुरी है की उपवास किया जाए। आज हम आपके साथ कुछ टिप्स शेयर करने जा रहे है जो आपको इसके फायदों के बारे में बताएँगे.

उपवास रखने के फायदे

उपवास रखने से आपका इम्यून सिस्टम यानी रोगों से लड़ने की क्षमता भी बेहतर होती है क्योंकि यह शरीर में मौजूद फ्री रैडिकल्स से होने वाले नुकसान को कम करता है, शरीर में किसी भी तरह की सूजन और जलन की समस्या को कम करता है। अब आपकी इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग रहेगी तो जाहिर सी बात है आप बीमार नहीं पड़ेंगे।

दिल से जुड़ी बीमारियों का खतरा कम

दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे से बचने का सबसे बेस्ट तरीका है अपनी डायट और लाइफस्टाइल में बदलाव करना और बहुत सी रिसर्च में यह बात साबित भी हो चुकी है कि फास्टिंग यानी उपवास रखना हार्ट हेल्थ के लिए फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, उपवास रखने से शरीर में मौजूद बैड कलेस्ट्रॉल का लेवल कम होता है, ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रहता है। ऐसे में जब बीपी और कलेस्ट्रॉल लेवल कंट्रोल में रहेगा तो जाहिर सी बात है आपके दिल को किसी तरह का कोई खतरा नहीं होगा और आप दिल की बीमारियों से दूर रहेंगे।

मेटाबॉलिज्म तेज

उपवास रखने या फास्टिंग करने का एक और फायदा ये है कि इससे आपका मेटाबॉलिज्म तेज हो जाता है। जब आपका मेटाबॉलिज्म स्लो हो जाता है तो आपके शरीर पर एजिंग के निशान नजर आने लगते हैं। ऐसे में आपका मेटाबॉलिज्म जितना फास्ट होगा बेहतर तरीके से काम करेगा आपका शरीर उतना ही जवां बना रहेगा। जब आपकी इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग होगी, बीमारियां नहीं होगी, आप कम खाएंगे तो पाचन तंत्र पर भार भी ज्यादा नहीं पड़ेगा तो ये सारी चीजें मिलकर आपकी उम्र को बढ़ा देंगी।

डायबीटीज का खतरा

जिन लोगों को डायबीटीज का खतरा है उनके लिए उपवास रखना फायदेमंद हो सकता है क्योंकि फास्टिंग करने से ब्लड शुगर कंट्रोल बेहतर तरीके से हो पाता है। इतना ही नहीं टाइप 2 डायबीटीज के मरीज अगर थोड़े समय के लिए इंटरमिटेंट फास्टिंग रखें तो उनके ब्लड शुगर लेवल में भी काफी कमी आ जाती है। साथ ही उपवास रखने से इंसुलिन रेजिस्टेंस घटता है और शरीर में इंसुलिन के प्रति सेंसिटिविटी बढ़ती है जिससे खून में मौजूद ग्लूकोज को कोशिकाओं तक पहुंचाना आसान हो जाता है।

Input : Pradesh Jagran

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0
Continue Reading

HEALTH

जामुन खाने से ठीक होगी ये घातक बीमारियां

Md Sameer Hussain

Published

on

नई दिल्ली : ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) हर इंसान की समस्या होती है, ये समस्या मानों आम हो गई है। लोग इस समस्या से छुटाकार पाने के लिए तमाम नुस्के अपना रहे है। लेकिन लोग उन नुस्कों सेल बिल्कुल संतुष्ट नजर नहीं आ रहे है। आज हम आपको कुछ ऐसे नुस्को के बारें में बताने जा रहे है जिसको अपना ने के बाद आपकी शिकायत दूर हो सकती है। जिन लोगों को ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) अनकंट्रोल होता है उन्हें जामुन (Berries) का सेवन करने की सलहा दी जाती है। डायबिटी के लिए जामुन (Berries For Diabetics) सबसे अच्छा ऑप्शन है।

Image result for jamun

क्यों असरदार हैं जामुन?

जामुन में कई तरह के पोषक तत्व और खनिज पाए जाते हैं जो इसे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करने के लिए कारगर बनाते साथ ही जामुन में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और कैल्शियम, आयरन, विटामिन और फाइबर पाया जाए जाने से यह ब्लड प्रेशर (Blood Pressure) और कैंसर जैसे रोगों से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। जामुन में ग्लूकोज (Glucose) और फ्रक्टोज भी पाया जाता है। आयुर्वेद में जामुन को औषधी (Medicine) के रूप में माना गया है। जामुन के पत्ते, फल, छिलका और गुठलियां तक कई रोगों से छुटकारा दिलाने में फायदेमंद हो सकते हैं।

Image result for jamun

जामुन डायबिटीज के लिए फायदेमंद

अगर डायबिटिज से पीड़ित आदमी जामुन को डाइट में शामिल करता है वह अपने ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रख सकते हैं। न सिर्फ जामुन का फल बल्कि जामुन के बीज भी डायबिटीज के लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं। जामुन के बीज में एल्कलॉइड होते हैं, यह रसायन शुगर को स्टॉर्च में बदलने से रोकते हैं और इसलिए यह आपके ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद कर सकता है।

जामुन बॉडी डिटॉक्स का करता है काम

लगातार जंग फूड्स खाने से हमारे शरीर में गंदगी जमा हो जाती है, जिससे हजारों बीमारी हमारें शरीर में आ जाती है। जामुन का सेवन करने से बॉडी को डिटॉक्स किया जा सकता है। जामुन के बीज में फ्लेवोनोइडनामक एंटीऑक्सिडेंट होता है, जो न केवल शरीर डिटॉक्स करता बल्कि स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है. यह कई बीमारियों से भी दूर रख सकता है।

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0
Continue Reading

HEALTH

दिमाग को चुस्त बनाए रखने के लिए डाइट में जरूर शामिल करें ये चीजें

Md Sameer Hussain

Published

on

ज्यों-ज्यों उम्र बढ़ती है, हमारा दिमाग सिकुड़ने लगता है और कोशिकाएं नष्ट होने लगती हैं। इससे याददाश्त कमजोर होने लगती है। पहले ऐसा उम्रदराज लोगों में होता था, पर अब बच्चे व जवान भी इस समस्या से अछूते नहीं हैं। इसका बुनियादी कारण है, खानपान की गड़बड़ी,पढ़ाई व काम का प्रेशर और अवसाद। हमारा दिमाग तभी अच्छी तरह से काम करता है, जब उसे प्रचुर मात्रा में जरूरी पोषण मिले।

अपने दिमाग को कैसे दें पोषण भरी खुराक, बता रही हैं दीपिका शर्मा

मेरठ कॉलेज की असिस्टेंट प्रोफेसर कनिष्का सिंह (आहार व पोषण) कहती हैं, ‘हमारा 20 प्रतिशत मस्तिष्क आवश्यक ओमेगा-3 और ओमेगा-6 जैसे फैटी एसिड्स से बना होता है। चूंकि शरीर इन्हें स्वयं नही बना सकता, इसलिए इन पोषक तत्वों को आहार के माध्यम से शरीर को प्रदान करना जरूरी होता है। तेज दिमाग के लिए इनके अलावा विटामिन-बी और कार्बोहाइड्रेट्स से भरपूर आहार लेना जरूरी है। तिलहन वाले खाद्य पदार्थ भी मस्तिष्क के लिए फायदेमंद होते हैं।’ तेज दिमाग के लिए अपनी डाइट में कौन-कौन से पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में शामिल करें, आइए जानें:

-ओमेगा 3 और 6

ओमेगा-3 व 6 एक प्रकार के वसा अम्ल (फैटी एसिड) होते हैं, जो शरीर में भोजन को ऊर्जा में बदलने के साथ मस्तिष्क के लिए भी लाभकारी होते हैं। ये डोपामाइन, सेरोटोनिन व नोरेपाइनोफ्राइन जैसे खुशी देने वाले हॉर्मोन्स का स्राव करते हैं। ये मुख्य रूप से मछली, अखरोट, काजू, बादाम, मूंगफली, पत्तेदार सब्जियों, अंडों व मांस में पाए जाते हैं।

-कार्बोहाइड्रेट

कार्बोहाइड्रेट वह शर्करा है, जिसमें फाइबर व स्टार्च शामिल रहते हैं। यह कार्बोहाइड्रेट तमाम फलों, कई तरह की सब्जियों (खासकर आलू और शकरकंद) और अनाज जैसे चावल आदि में पाया जाता है। ये खाद्य पदार्थ शरीर में धीरे-धीरे ग्लूकोज छोड़ते हैं। इससे हमें मूड को स्थिर रखने में मदद मिलती है।

-विटामिन-बी

यह विटामिन पोषण को ऊर्जा में बदलता है। यह मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी एवं नसों के कुछ तत्वों की रचना में भी सहायक है। विटामिन-बी मुख्य रूप से हरी सब्जियों, फलियों, केले व चुकंदर में पाया जाता है। विटामिन बी-6, बी-12 व फोलेट की ज्यादा मात्रा वाली डाइट लेने का मतलब है कि आप काफी हद तक डिप्रेशन यानी अवसाद से बची रहेंगी।

-एंटीऑक्सीडेंट्स

एंटीऑक्सीडेंट्स की मौजूदगी शरीर में फ्री रैडिकल्स खत्म करती है, इसलिए जिन पदार्थों में एंटी-ऑक्सीडेंट्स ज्यादा मिलता है, वे मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहतर होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट्स चमकदार हरे-लाल-नारंगी रंग के फलों-सब्जियों में मिलते हैं।

डाइट में जरूर करें शामिल-

अखरोट:

इसमें मौजूद ओमेगा-3 फैटी एसिड से तंत्रिका तंत्र ठीक तरह से काम करता है। मसूर की दाल: इसमें दिमाग के लिए बेहद लाभकारी विटामिन बी, थियामिन, विटामिन बी6 और आयरन प्रचुर मात्रा में पाए जाते है।

कद्दू के बीज:

इनमें विटामिन-बी, विटामिन ई और जिंक जैसे पोषक तत्व होते हैं। मैग्नीशियम व ओमेगा-3 भी होता है।

दालचीनी:

इसका तेल स्मरण शक्ति बढ़ाने में काफी फायदेमंद होता है। यह कोलेस्ट्रॉल कम करता है और दिमाग तेज बनाता है।

मछली:

इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड और पौष्टिक वसा भरपूर मात्रा में होते हैं, जो मस्तिष्क की कोशिकाओं को बढ़ाने का काम करते हैं और दिमाग को तेज करते हैं।

डार्क चॉकलेट:

एंटीऑक्सीडेंट्स काफी मात्रा में पाए जाते हैं।

साबुत अनाज:

गेहूं, ज्वार, बाजरा, ब्राउन राइस में जरूरी विटामिन और फाइबर होते हैं, जो कि दिमाग को तेज बनाते हैं।

अलसी:

फाइबर और प्रोटीन की मात्रा भरपूर होती है। अलसी के बीजों को दही के साथ खाने से दिमाग तेज होता है।

Input : Live Hindustan

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0
Continue Reading
Advertisement
BIHAR1 hour ago

नीतीश कुमार के 6 मास्टरस्ट्रोक… और धराशायी हो गए सब! पढ़ें, कैसे बदला सियासत का गणित

HEALTH5 hours ago

उपवास रखने के गज़ब फायदे, इनके बारे मे जान हैरान रह जाएंगे आप.

BIHAR5 hours ago

सच्चा बिहारी है यह हीरो, दौलतमंद होने के बाद भी जीता है साधारण जीवन, पत्नी भी है बेहद सिंपल

INDIA5 hours ago

मेलानिया ट्रंप को पसंद आई मधुबनी पेंटिंग

TRENDING5 hours ago

कहते हैं प्यार की कोई उम्र नहीं होती, सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ये तस्वीर

INDIA5 hours ago

ये जो आ’ग लगी है, कोई धर्म या मज़हब नहीं सिर्फ औऱ सिर्फ इंसान ज’लेगा

BIHAR6 hours ago

BJP कोटे के मंत्री विजय सिन्हा बोले.. जरूरत पड़ी तो NRC आएगा भी और लागू भी होगा

INDIA7 hours ago

सबसे ज्यादा IAS बनती है इस राज्य की लड़कियां, जानकर चौ’क जाएंगे

BIHAR7 hours ago

अब सूखी नहीं रहेगी ढाई हजार वर्ष पहले बनी अभिषेक पुष्करणी, 8.94 कराेड़ का प्रावधान

MUZAFFARPUR9 hours ago

हल्की बारिश से खुली निगम की पोल, शहर में नारकीय हालात

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर में ल’ड़की की रे’प के बाद ह’त्या, नं’गी ला’श को प’टरी पर फें’का

BIHAR2 weeks ago

बिना नेट और गेट पास भी अब इंजीनियरिंग, पॉलीटेक्निक कॉलेजों में बन सकेंगे शिक्षक

Uncategorized2 weeks ago

IAS अफसर ने वैलेंटाइन डे को बनाया यादगार, ऑफिस में ही बिहार की IPS से कर ली शादी

BIHAR3 days ago

बिहार में 6 लोगों का म’र्डर, 24 घंटे के अंदर अ’पराधियों ने 12 लोगों को मा’री गो’ली

BIHAR2 weeks ago

राम मंदिर निर्माण के लिए दस करोड़ का दान, पहली किश्त के तौर पर दिए 2 करोड़

TRENDING4 weeks ago

‘मिर्जापुर 2′ की गोलू ने शेयर किया फर्स्‍ट लुक, कहा- भौकाल के लिए तैयार’

MANTRA2 weeks ago

चाणक्य नीति : इन 4 लोगों को कभी न रखें अपने साथ

MUZAFFARPUR3 weeks ago

मुजफ्फरपुर : पुलिस लाइन में जवान ने खुद को AK-47 से मा’री गो’ली, मौके पर मौ’त

MUZAFFARPUR4 days ago

बदहाली के दिनों में मुजफ्फरपुर रहते थे, महान फ़िल्म निर्माता और अभिनेता – राज कपूर

BIHAR3 weeks ago

इंटर परीक्षा शुरू होते ही Physics का प्रश्न पत्र वायरल, मचा हड़कंप

Trending

0Shares