Connect with us
leaderboard image

HEALTH

तुलसी का पौधा है काफी फायदेमंद, जानें इसके 10 फायदे

Avatar

Published

on

भारत में कई घरों में तुलसी का पौधा पाया जाता है। वहीं, हिन्दू परिवारों में इस पौधे की पूजा भी की जाती है। इसके पीछे की एक वजह यह भी है कि तुलसी एक औषधीय पौधा माना जाता है, जिसका इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। आयुर्वेद के मुताबिक तुलसी के पौधे का हर भाग आपकी सेहत के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। तुलसी की जड़, उसकी शाखाएं, पत्ती और बीज सभी का अपना-अपना महत्व है, तो आइए इस गुणकारी पौधे के स्वास्थ्यवर्धक फायदों के बारे में जानते हैं।

  • खांसी अथवा गला बैठने पर तुलसी की जड़ सुपारी की तरह चूसी जाती है।
  • श्वांस रोगों में तुलसी के पत्ते काले नमक के साथ सुपारी की तरह मुंह में रखने से आराम मिलता है।
  • तुलसी की हरी पत्तियों को आग पर सेंक कर नमक के साथ खाने से खांसी तथा गला बैठना ठीक हो जाता है।
  • तुलसी के पत्तों के साथ 4 भुनी लौंग चबाने से खांसी जाती है।
  • तुलसी के कोमल पत्तों को चबाने से खांसी और नजले से राहत मिलती है।
  • खांसी-जुकाम में – तुलसी के पत्ते, अदरक और काली मिर्च से तैयार की हुई चाय पीने से तुरंत लाभ पहुंचता है।
  • 10-12 तुलसी के पत्ते तथा 8-10 काली मिर्च के चाय बनाकर पीने से खांसी जुकाम, बुखार ठीक होता है।
  • फेफड़ों में खरखराहट की आवाज़ आने व खांसी होने पर तुलसी की सूखी पत्तियां 4 ग्राम मिश्री के साथ देते हैं।
  • काली तुलसी का स्वरस लगभग डेढ़ चम्मच काली मिर्च के साथ देने से खाँसी का वेग एकदम शान्त होता है।
  • 10 ग्राम तुलसी के रस को 5 ग्राम शहद के साथ सेवन करने से हिचकी, अस्थमा एवं श्वांस रोगों को ठीक किया जा सकता है।

 

HEALTH

मधुमेह रोगी ज़रूर पढ़ें और एक-दूसरे को भी पढ़वायें

Avatar

Published

on

डाइबिटीज़ अर्थात मधुमेह से आजकल हर तीसरा व्यक्ति पीड़ित है। भोजन के शौक़ीन लोगों के लिये यह रोग किसी मृत्युदंड से कम नहीं। इस रोग को ‘परहेज का रोग’ भी कहा गया है।

आज हम मधुमेह के रोगियों के लिए एक ख़ास उपाय बताने जा रहे हैं। शायद आप में से कई लोग इस उपाय से परिचित होंगे। फिर भी, जो लोग इससे परिचित नहीं हैं वो इसे ज़रूर पढ़ें। मधुमेह के रोगियों के लिये जामुन अमृत के समान है। इसके बीजों में पाया जाने वाला जम्बोलिन हमारे शरीर में पहुंचकर भोजन के साथ ग्रहण किए गए स्टार्च को शुगर में नहीं बदलने देता है जिसके फलस्वरूप रक्त में शुगर की मात्रा सामान्य से अधिक नहीं हो पाती। जामुन की गुठली के चूर्ण की दो−दो ग्राम मात्रा दिन में दो बार पानी के साथ लेने से रक्त में शुगर सामान्य स्तर पर आ जाता है। पेशाब में शक्कर पाए जाने पर जामुन के बीज और गुड़मार की पत्तियों के चूर्ण को ठंडे पानी के साथ लेना चाहिए।

 

आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो ज़रूर शेयर करें। कमेंट करके बतायें कि अगली बार आप किस फल के औषधीय गुण जानना चाहेंगे।

Continue Reading

HEALTH

आम खाने वालों के लिये अच्छी ख़बर

Avatar

Published

on

आम को यूँ ही नहीं फलों का राजा कहा जाता है। शायद ही कोई व्यक्ति हो जिसे आम ना पसंद हो। बच्चों को तो यह ख़ास तौर पर पसंद होता है। आम को सीधे फल के रूप में ही नहीं बल्कि मैंगो शेक बनाकर, चटनी के रूप में, अमावट की तरह, आम पन्ना और अचार बनाकर भी खाना लोग खूब पसंद करते हैं। यह सिर्फ़ स्वाद से भरपूर ही नहीं बल्कि हमारे सेहत के लिये भी बहुत फायदेमंद है।

आइये जानते हैं कैसे : 

आम में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कोलोन कैंसर, ल्यूकेमिया और प्रोस्टेट कैंसर से हमारी रक्षा करता है। शरीर की रोग-प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाने के साथ-साथ यह भोजन को पचाने में भी सहायक है। आम के गूदे में खूब रेशे पाए जाते हैं जो पेट साफ़ रखने में मददगार हैं, साथ ही गूदे का फ़ेस-पैक लगाने से चेहरा चमकदार रहता है।

आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो ज़रूर शेयर करें। कमेंट करके बतायें कि अगली बार आप किस फल के औषधीय गुण जानना चाहेंगे।

Continue Reading

HEALTH

पीपल एक- इलाज अनेक, आयुर्वेद का खज़ाना है ये पेड़

Avatar

Published

on

हिन्दू धर्म में पीपल के पेड़ का बहुत महत्व होता है। इसे न केवल धर्म संसार से जोड़ा गया है, बल्कि वनस्पति विज्ञान और आयुर्वेद के अनुसार भी पीपल का पेड़ कई तरह से फायदेमंद माना गया है। यानी भारतीय उपमहद्वीप में पाये जाने वाला पीपल का पेड़ आयुर्वेद का खज़ाना है। इससे कई बीमारियों का उपचार हो जाता है। गोनोरिया, डायरिया, पेचिश, नसों का दर्द, नसों में सूजन के साथ झुर्रियों की समस्‍या से निजात पाने के लिए इस पेड़ का प्रयोग हो सकता है।  हम बता रहे हैं, पीपल के पेड़ से होने वाले ऐसे ही कुछ स्वास्थ्य लाभ।

आइए जानते हैं, पीपल के पेड़ के 10 बड़े फायदे…सांस की तकलीफ- सांस संबंधी किसी भी प्रकार की समस्या में पीपल का पेड़ आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए पीपल के पेड़ की छाल का अंदरूनी हिस्सा निकालकर सुखा लें। सूखे हुए इस भाग का चूर्ण बनाकर खाने से सांस संबंधी सभी समस्याएं दूर हो जाती है।

दमा में फायदेमंद- पीपल की छाल के अन्दर का भाग निकालकर इसे सुखा लीजिए, और इसे महीन पीसकर इसका चूर्ण बना लें, इस चूर्ण को दमा रोगी को देने से दमा में आराम मिलता है।

नज़ला-जुकाम- पीपल के कोमल पत्तों को छाया में सुखाकर उसे अच्‍छे से पीस लीजिए, इसे आधा लीटर पानी में एक चम्मच चूर्ण डालकर काढ़ा बना लें। काढ़े में पीसी हुई मिश्री मिलाकर कुनकुना करके पीने से नजला-जुकाम से राहत मिलती है।

झुर्रियों से बचाव- पीपल की जड़ों में एंटीऑक्सीडेंट सबसे ज्यादा पाए जाते हैं। इसके इसी गुण के कारण यह वृद्धावस्था की तरफ ले जाने वाले कारकों को दूर भगाता है। इसकी जड़ों के सिरों को काटकर पानी में भिगोकर पीस लीजिए, इसका पेस्‍ट चेहरे पर लगाने से झुर्रियां से झुटकारा मिलता है।

दातों का हिलना सड़ना बंद- पीपल की 10 ग्राम छाल, कत्था और 2 ग्राम काली मिर्च को बारीक पीसकर पाउडर बना लीजिए, नियमित रूप से इसका मंजन करने से दांतों का हिलना, दांतों में सड़न, बदबू आदि की समस्‍या नहीं होती है।

फटी एडि़यों के लिए- पैरों की फटी पड़ी एड़ियों पर पीपल के पत्‍ते से दूध निकालकर लगाने से कुछ ही दिनों फटी एड़ियां सामान्य हो जाती हैं और तालु नरम पड़ जाते हैं।

दाद-खाज खुजली में उपयोग- पीपल के 4-5 कोमल, नरम पत्ते खूब चबा-चबाकर खाने से, इसकी छाल का काढ़ा बनाकर आधा कप मात्रा में पीने से दाद, खाज, खुजली जैसे चर्म रोगों में आराम होता है।

घावों को भरने के लिए- पीपल के ताजे पत्तों को गर्म करके घावों पर लेप किया जाए तो घाव जल्द सूख जाते हैं। अधिक गहरा घाव होने पर ताजी पत्तियों को गर्म करके थोडा ठंडा होने पर इन पत्तियों को घाव में भर देने से कुछ दिनों में घाव भर जाते हैं।

पेट रोगों का निदान- पीपल को पित्‍त नाशक माना जाता है, यानी यह पेट की समस्‍या जैसे गैस और कब्‍ज से राहत दिलाता है। पित्‍त बढ़ने के कारण पेट में गैस और कब्‍ज होने लगता है। ऐसे में इसके ताजे पत्‍तों के रस एक चम्‍मच सुबह-शाम लेने से पित्‍त का नाश होता है।

नकसीर फूटने का इलाज- नकसीर की समस्‍या होने पर पीपल के ताजे पत्तों का रस नाक में टपकायें, इससे नकसीर की समस्‍या से आराम मिलता है।

 

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
MUZAFFARPUR2 hours ago

मुजफ्फरपुरः AES को लेकर डीएम ने की सभी अधिकारियों की छुट्टी रद्द, गांवों में कैंप करने का निर्देश

BIHAR2 hours ago

बिहार में 8 हजार सहायक प्रोफेसर की होगी बहाली, जुलाई महीने से शुरू होगी प्रक्रिया

BIHAR2 hours ago

बिहार में चमकी बुखार का कहर, इससे घबराने की जरूरत नहीं, जानिए

BIHAR2 hours ago

तेजस्वी को खोजिये मत, शायद वर्ल्ड कप देखेने गये हैं…रघुवंश बाबू तो यही कह रहे हैं

MUZAFFARPUR18 hours ago

बिहार में AES से 143 की मौत: SC में जनहित याचिका दायर, CM नीतीश व डॉ. हर्षवर्धन पर भी मुकदमा

MUZAFFARPUR19 hours ago

Bigg Boss के घर से शुरू हुई लड़ाई पहुंची थाने, दीपक ठाकुर के मजाक पर भड़कीं जसलीन मथारू ने दर्ज कराई शिकायत

BIHAR23 hours ago

बिहार में चमकी बुखार से 112 की मौत, सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को होगी सुनवाई

BIHAR1 day ago

बिहार में चमकी बुखार से म-र रहे हैं बच्चे, गोवा में पार्टी कर रहे है चिराग पासवान, फोटो वायरल

SPORTS1 day ago

संन्यास के बाद अपनी नई पारी के लिए फिर बीसीसीआई के पास पहुंचे युवराज

BIHAR1 day ago

सीएम नीतीश की घोषणा: 2500 बेड का होगा SKMCH, अगले वर्ष तक 100 बेड की होगी PICU

TRENDING2 weeks ago

पिता बनना चाहते थे IAS लेकिन बन नहीं पाए, फिर बेटी पढ लिखकर IAS बनी और पूरा किया पिता का सपना

RELIGION4 weeks ago

इसी जगह पर हुई थी भगवान शिव और देवी पार्वती की शादी, आज भी मौजूद हैं 6 निशानियां

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुज़फ़्फ़रपुर में फिर दहेजलोभी ससुरालवालों ने ली एक विवाहिता की जान

BIHAR2 weeks ago

बिहार में दरोगा बनने का सपना देख रहे अभ्यर्थियों का सपना होगा पूूरा , 3500 पदों पर भर्ती शुरू

INDIA3 weeks ago

गर्मी से राहत के लिए सरकार उपलब्‍ध कराएगी सस्‍ता AC, बिजली का बिल भी आएगा कम

BIHAR1 week ago

बिहार में माता-पिता की सेवा नहीं करने वालों को होगी जेल

BIHAR3 weeks ago

बिहार में भी बसा है छोटा सा कश्मीर

INDIA2 weeks ago

प्राइवेट नौकरी वालों की हालत मजदूरों से भी बदतर, NSSO के रिपोर्ट में हुआ खुलासा

BIHAR3 weeks ago

PM मोदी सरकार से JDU का किनारा, बिहार में गरमाई सियासत; HAM बोला- हमारे साथ आइए

BIHAR3 weeks ago

बिहार की बेटी बनी जेट फाइटर प्लेन MiG-21 उडा़ने वाली देश की पहली महिला पायलट

Trending