Connect with us

BIHAR

बदले सियासी हालात में कितना असर कर पायेगा नीतीश कुमार का अपडेटेड स्लोगन

Published

on

वो 2015 का साल था जब बिहार में विधानसभा चुनाव का कैम्पेन परवान चढ़ रहा था. उसी वक़्त तत्कालीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू की तरफ से चुनावी कैम्पेन के लिए एक ऐसा स्लोगन लॉन्च किया गया. जो बिहार के बच्चे, बूढ़े, नौजवान सभी के जुबान पर बड़ी आसानी से उतर गया. तब 2015 के विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की जीत में एक बड़ा फैक्टर उस स्लोगन को भी बताया गया. स्लोगन था ‘बिहार में बहार हो, नीतीशें कुमार हों”. अब बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के मध्यनजर एक बार फिर इसी तर्ज पर नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के तरफ से स्लोगन लॉन्च किया गया है.

 

स्लोगन का तर्ज तो वही है, लेकिन इस दफा इसमें हल्का बदलाव किया गया है. और स्लोगन ‘क्यूं करें विचार, ठीके तो है नीतीश कुमार’ बन गया है. हालाँकि इस दफा सूबे के सियासी हालात अलग है. तब नीतीश कुमार ने आरजेडी+जेडीयू+कांग्रेस को मिलाकर महागठबंधन के बैनर तले लड़ा था. और इन तीन पार्टियों का वोटबैंक बीजेपी पर भारी पड़ गया था. लेकिन इस बार के चुनाव में नीतीश कुमार केंद्र में सत्तासीन एनडीए के साझेदार है. ऐसे में यह देखने वाली बात होगी कि बदली परिस्थितियों में यह नारे कितने असर दिखा पाते है.

Advertisement

गौरतलब है कि नीतीश कुमार 2015 के विधानसभा चुनाव से पहले भी एनडीए के ही साझेदार थे लेकिन नरेंद्र मोदी को पीएम पद का चेहरा बनाए जाने पर वह खफा हो गए और बीजेपी से नाता तोड़ लिया. तब लोकसभा चुनाव में तो महागठबंधन की करारी हार हुई, लेकिन विधानसभा चुनाव में महागठबंधन ने मिलकर बीजेपी के विजयी रथ को रोक दिया था.

लेकिन यह सरकार भी यह बमुश्किल डेढ़ साल तक ही चली और बाद लालू परिवार पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों पर जेडीयू और आरजेडी के बीच बढ़ते विवादों को लेकर आखिरकार नीतीश कुमार ने खुद ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली.

Advertisement

इसके बाद जब पुरे देश में लोकसभा के चुनाव हुए तो राज्य में बीजेपी और जेडीयू ने मिलकर लालू यादव की पार्टी का सूपड़ा साफ कर दिया. और उनकी पार्टी एक भी सीट नहीं जीत पाई. हालाँकि बदलते समय के साथ बीजेपी और जेडीयू के रिश्तों में तीन तलाक और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने समेत कई मुद्दे पर करवाहट देखने को मिले है. लेकिन अब केंद्र में भाजपा प्रचंड बहुमत के साथ सत्तासीन है और उसके पास 300 से अधिक सीटे हैं. जाहिर है, बीजेपी को सरकार में बने रहने के लिए किसी सहयोगी की जरूरत नहीं है और यही वजह है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में जेडीयू का एक भी मंत्री शामिल नहीं है.

उपरोक्त तमाम हालातो के बावजूद अगर बिहार में बीजेपी-जेडीयू और एलजीपी साथ मिलकर चुनाव लड़ती है तो सूबे के सियासी समीकरण उनके पक्ष में आने की पूरी संभावना है. चूँकि, चुनाव में अभी लगभग एक साल का समय बचा है, ऐसे में अभी यह कहना जल्दीबाजी होगा कि हवा किसके तरफ है.

Advertisement

BIHAR

‘सांप आपके घर घुस गया है लालू जी’, गिरिराज ने राजद सुप्रीमो को उनके पुराने ट्वीट की दिलाई याद

Published

on

नीतीश कुमार द्वारा भाजपा से गठबंधन तोड़ने के बाद से बिहार की सियासत गरमा गई है। दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच अब जुबानी जंग शुरू हो गई है। इसी क्रम में भाजपा के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह ने लालू प्रसाद यादव के पुराने ट्वीट को रीट्वीट कर नीतीश कुमार पर बड़ा हमला बोला है। गिरिराज ने लिखा कि सांप आपके घर घुस गया है लालू जी। दरअसल, 2017 में नीतीश जब आरजेडी से अलग हुए थे तब लालू ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि नीतीश सांप है जैसे सांप केंचुल छोड़ता है वैसे ही नीतीश भी केंचुल छोड़ता है और हर 2 साल में साँप की तरह नया चमड़ा धारण कर लेता है। किसी को शक?

आज शराबबंदी कानून हटेगा, कल जदयू खत्म होगा: गिरिराज सिंह

Advertisement

गिरिराज सिंह ने एक अन्य ट्वीट में शराबबंदी कानून को लेकर जेडीयू पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बिहार में शराबबंदी के बाद बिहार सरकार को मिलने वाला सारा राजस्व शराब माफिया को जाता है, जिसका इस्तेमाल जदयू अपनी पार्टी को जिंदा रखने के लिए करता है, आज शराबबंदी कानून हटेगा, कल जदयू खत्म होगा। शराबबंदी के बाद जेडीयू के चंदे के संग्रह में अभूतपूर्व इजाफा हुआ है।

हमारे साथ 15 साल से अधिक मुख्यमंत्री रहे उन्हें सांप्रदायिकता नहीं दिखी: गिरिराज सिंह

Advertisement

नीतीश कुमार 15 साल से अधिक हमारे साथ रहे। उस समय उन्हें सांप्रदायिकता नहीं दिखी। लेकिन अब ऐसा क्या हो गया जो उन्हें सांप्रदायिकता दिख रही है। ये बस बहाना है सिर्फ कुर्सी पाना है। उन्होने कहा कि रोने का मन हुआ तो आंख में खुट्टी। दरअसल, बात यह है कि नीतीश कुमार के मन में प्रधानमंत्री पद के लिए लालसा बनी हुई है।

नीतीश सिर्फ कुर्सी के हैं: गिरिराज सिंह

Advertisement

गिरिराज ने देर रात एक और ट्वीट करते हुए लिखा कि नीतीश सबके नहीं है बल्कि सिर्फ कुर्सी के हैं। बता दें कि तेजस्वी यादव भी नीतीश को पलटू चाचा कहते रहे हैं। 2019 में तेजस्वी ने उन्हें गिरगिट की तरह रंग बदलने वाला बताया। तब तेजस्वी ने भविष्य में उनके साथ किसी तरह के गठबंधन से इंकार कर दिया था।

Source : Amar Ujala

Advertisement

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading

BIHAR

नीतीश कुमार के पालाबदल पर बोले प्रशांत किशोर, 115 विधायकों वाली पार्टी अब 43 पर आ गई

Published

on

बिहार में नीतीश कुमार के पालाबदल पर उनके चुनावी रणनीतिकार रहे प्रशांत किशोर ने अहम टिप्पणी की है। प्रशांत किशोर ने कहा कि नीतीश कुमार ने 10 सालों में यह छठा प्रयोग किया है। उन्होंने कहा कि इससे उनकी राजनीतिक स्थिति पर भी असर होगा। किसी भी गठबंधन में नीतीश कुमार के ही सीएम बने रहने को उनकी विश्वसनीयता कहे जाने पर भी प्रशांत किशोर ने जवाब दिया। उन्होंने कहा कि यह संभावनाओं की भी बात है। ऐसा नहीं है कि उनका नुकसान नहीं हुआ है। 115 विधायकों वाली पार्टी अब 43 पर आ गई है। ऐसा नहीं है कि उनमें गिरावट नहीं आ रही है। यह अलग बात है कि वह किसी तरह से गठजोड़ में सीएम बन जाते हैं।

प्रशांत किशोर ने ‘आज तक’ चैनल से बातचीत में बिहार के सियासी हालातों को लेकर कहा कि 2012-13 से ही राज्य में राजनीतिक अस्थिरता का दौर बना हुआ है। यह इसी का एक अध्याय है। बीते 10 सालों में यह छठी सरकार है। नीतीश के 2017 में एनडीए में जाना क्या गलती थी। इस सवाल पर पीके ने कहा कि यह तो समय ही बताएगा। छठी सरकार है, जब नीतीश कुमार सीएम बन रहे हैं। दुखद बात यह है कि इन बदलावों के चलते भी सीएम नीतीश ही रहे हैं और काम करने के तरीके में भी कोई बदलाव नहीं आया है। लेकिन जनता की स्थिति में भी कोई बदलाव नहीं आया।

Advertisement

नीतीश के चेहरे पर अब नहीं पड़ रहा वोट, गिर रहा स्कोर

चुनावी रणनीतिकार ने कहा कि यह देखने वाली बात होगी कि शराबबंदी पर क्या फैसला होगा। आरजेडी तो इसका विरोध करती रही है। तेजस्वी यादव 10 लाख नौकरियों के वादे करते रहे हैं। देखना होगा कि अब कैसे इसे पूरा करते हैं। यदि पूरा कर दें तो अच्छी बात होगी और युवाओं का भला होगा। नीतीश कुमार की छवि पर असर के सवाल पर पीके ने कहा कि उनकी कोई ग्रोथ नहीं दिख रही है और जनता उनके चेहरे पर वोट नहीं कर रही है। वह यदि पालाबदल कर आए हैं तो निश्चित तौर पर चुनाव में भी उन पर असर दिखेगा। 2010 में उनका जो स्ट्राइक रेट था, वह लगातार कम हो रहा है। नीतीश के पीएम बनने की संभावनाओं को लेकल उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ऐसे व्यक्ति नहीं हैं।

Advertisement

नीतीश के PM बनने की संभावनाओं पर भी बोले नीतीश कुमार

प्रशांत किशोर ने कहा कि नीतीश कुमार के पालाबदल की वजह यह है कि वह असहज महसूस कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘नीतीश जब से भाजपा के साथ गए थे, तब से ही असहज थे। वह 2017 के बाद से ही पहले की तरह सहज नहीं थे और उससे बचने के लिए वह निकले हैं। बिहार के बाहर उनके इस कदम को लेकर कोई ज्यादा असर नहीं देखा जा सकता।’ पीके ने कहा कि 2015 और अब के महागठबंधन में फर्क है। मुझे नहीं लगता है कि वह कोई राष्ट्रीय रणनीति बनाकर काम कर रहे हैं, जिसका केंद्र बिहार हो।

Advertisement

Source : Hindustan

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

BIHAR

42 साल की मां और 24 साल के बेटे ने एक साथ पास की PSC परीक्षा

Published

on

आपने सफलता की कई कहानियां पढ़ीं होंगी. लेकिन मां-बेटे की सफलता की यह कहानी तमाम कहानियों से हटके है. केरल के मलप्पुरम की एक 42 वर्षीय मां बिंदू और उसके 24 वर्षीय बेटे विवेक ने लोक सेवा आयोग (PSC) की परीक्षा एक साथ पास की है, जिसके बाद इस मां-बेटे की जोड़ी मीडिया की सुर्खियों में छाई हुई है. बिंदू का बेटा जब दसवीं कक्षा में था, तब उसे पढ़ने के लिए वह प्रोत्साहित किया करती थीं. इसी दौरान उन्होंने किताबें पढ़ना शुरू किया था. इसी पढ़ाई ने उन्हें केरल लोक सेवा आयोग (पीएससी) की परीक्षा की तैयारी करने के लिए प्रेरित किया. बाद में मां-बेटे दोनों ने एक साथ कोचिंग जॉइन किया.

ANI से बात करते हुए बिंदु के बेटे विवेक ने अपनी सफलता के बारे में कहा कि हम एक साथ कोचिंग में तैयारी करने के लिए गए. गर्व से अपने माता-पिता के बारे में बताते हुए विवेक आगे कहते हैं, मेरी मां ने मुझे यहां तक पहुंचाया है. इसके साथ ही मेरे पिता ने हमारे लिए सभी सुविधाओं की व्यवस्था की. हमें अपने शिक्षकों से बहुत प्रेरणा मिली. हम दोनों ने एक साथ पढ़ाई की, लेकिन कभी नहीं सोचा था कि हम साथ क्वालिफाई करेंगे. हम दोनों बेहद खुश हैं.

Advertisement

आंगनबाड़ी शिक्षिका हैं बिंदू

बिंदू पिछले 10 वर्षों से आंगनबाड़ी शिक्षिका हैं. विवेक ने अपनी मां की पढ़ाई के बारे में बताते हुए एक टीवी चैनल से कहा कि मां हमेशा पढ़ाई नहीं कर पाती थीं. वह समय मिलने पर और आंगनबाड़ी की अपनी ड्यूटी के बाद पढ़ाई कर पाती थीं. वहीं बिंदू ने बताया कि उन्होंने ‘लास्ट ग्रेड सर्वेंट’ (एलडीएस) परीक्षा पास की है और उनकी 92वीं रैंक आई है, जबकि उनके बेटे विवेक ने अवर श्रेणी लिपिक (एलडीसी) की परीक्षा उत्तीर्ण की है और उसकी 38वीं रैंक आई है.

Advertisement

बिंदू ने बताया कि उन्होंने एलडीएस के लिए दो बार और एलडीसी के लिए एक बार कोशिश की थी. यह उनका यह चौथा प्रयास था और यह सफल रहा. उनका वास्तविक लक्ष्य आईसीडीएस पर्यवेक्षक परीक्षा थी और एलडीएस परीक्षा पास करना एक ‘बोनस’ है.

Source : News18

Advertisement

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading
BIHAR8 mins ago

‘सांप आपके घर घुस गया है लालू जी’, गिरिराज ने राजद सुप्रीमो को उनके पुराने ट्वीट की दिलाई याद

BIHAR16 mins ago

नीतीश कुमार के पालाबदल पर बोले प्रशांत किशोर, 115 विधायकों वाली पार्टी अब 43 पर आ गई

BIHAR38 mins ago

42 साल की मां और 24 साल के बेटे ने एक साथ पास की PSC परीक्षा

BIHAR10 hours ago

‘लालू बिन चालू ए बिहार न होई…’, बीजेपी-जेडीयू के ब्रेकअप पर लालू यादव की बेटी के तंज भरे ट्वीट

BIHAR10 hours ago

बिहार में फिर बनेगी चाचा-भतीजे की सरकार, आज नीतीश-तेजस्वी लेंगे शपथ

INDIA10 hours ago

सैनिक ने हाथ पर लिखा, तेरी मौत की खबर नहीं सुन सकता, मैं आ रहा हूं, फिर खुद को मार ली गोली

BIHAR14 hours ago

बिहार के झटके को अवसर के रूप में देख रही भाजपा, खुलकर उतरने का मिलेगा मौका

BIHAR15 hours ago

गठबंधन टूटते ही विपक्षी रंग में बीजेपी, रविशंकर ने नीतीश से पूछे तीन सवाल

BIHAR15 hours ago

‘प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं पलटू राम’, नीतीश के भाजपा से गठबंधन तोड़ने पर बरसे गिरिराज सिंह

BIHAR15 hours ago

कल दोपहर 2 बजे नीतीश कुमार का शपथ ग्रहण, JDU-RJD समेत 7 पार्टियों की बनेगी सरकार

BIHAR4 weeks ago

बिहार दारोगा रिजल्ट : छोटी सी दुकान चलाने वाले सख्स की दो बेटियाँ एक साथ बनी दारोगा

job-alert
BIHAR2 weeks ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

INDIA4 weeks ago

प्यार के आगे धर्म की दीवार टूटी, हिंदू लड़के से मुस्लिम लड़की ने मंदिर में की शादी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR7 days ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR4 days ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BUSINESS6 days ago

पैसों की जरूरत हो तो लोन की जगह लें ये सुविधा; होगा बड़ा फायदा

BIHAR4 days ago

ग्राहक बन रेड लाइट एरिया में पहुंची पुलिस, मिली कॉलेज की लड़किया

BIHAR3 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

INDIA1 week ago

बुढ़ापे का सहारा है यह योजना, हर दिन लगाएं बस 50 रुपये और जुटाएं ₹35 लाख फंड

Trending