Connect with us

INDIA

पिता को एक हस्ताक्षर के लिए कलेक्टर कार्यालय की ठोकरें खाता देख बेटी खुद ही बन गई IAS ऑफिसर

Published

on

आज हमने चाहे कितनी ही तरक्की क्यूँ न कर ली हो डिजिटल इंडिया में रहने के बावजूद भी आज किसी आम आदमी को सरकारी दफ़्तर में किसी काम के लिए बड़े साहब के दस्तख़त करवाने हो तो ना जाने कितने चक्कर काटने पड़ते हैं, कितने सवालों से रूबरू होना पड़ता है, कितने ही लोगों की जी हुज़ूरी करनी पड़ती है, तब जाकर कही एक दस्तख़त मिलता है। क्या करे नौकरशाही का अंदाज ही कुछ ऐसा है, बड़े अधिकारियों का रवैया तो बहुत सहज होता है परन्तु उन तक पहुँचने के लिए जिन सीढ़ियों से गुजरना पड़ता है वो बेहद ही कठिन होती है। आज हम एक ऐसी ही बच्ची की कहानी आपको बताने जा रहे हैं जिसने अपने पिता को सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटते हुए लाचार और परेशान देखा।

KenFolios में प्रकाशित आलेख के अनुसार पिता को एक हस्ताक्षर के लिए कई दिनों की जद्दोजहद करते देख उस बच्ची ने ठान लिया कि एक दिन बड़ी होकर उसे एक काबिल कलेक्टर बनना है और सभी की मुश्किलों को दूर करना है, जो परेशानी उसके पिता ने देखी वो परेशानी किसी और पिता को ना देखनी पड़े। हमारी आज की कहानी आईएएस अधिकारी रोहिणी भाजीभाकरे के इर्द-गिर्द घूम रही है।

बहुत साल पहले महाराष्ट्र के सोलापुर जिले में एक किसान सरकारी दफ्तर के नीचे से लेकर ऊपर तक अपने दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करवाने के लिए दौड़-धूप कर रहा था, तब उस किसान की बेटी ने उनसे पूछा कि “पिताजी आप क्या कर रहे हैं? आपको क्यूँ इतना परेशान होना पड़ रहा है? आम जन की परेशानी खत्म हो ये सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी किसकी है? तब उसके पिता का जवाब था, जिला कलेक्टर। इस एक शब्द ने उस बच्ची के दिलो दिमाग पर गहरी छाप छोड़ी।

उस वक़्त रोहिणी केवल 9 वर्ष की थी। गौरतलब है कि सरकार द्वारा किसानों के लिए कुछ घोषणाएँ की गयी थी और उन्हीं घोषणाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए उन्होंने अपने पिता को संघर्ष करते देखा था। रोहिणी के बाल मन ने उसी समय यह संकल्प कर लिया कि जिनके हस्ताक्षर के लिए उनके पिता को इस तरह भटकना पड़ रहा है एक दिन वो वही अधिकारी बनेंगी।

“मेरे पिता 65 वर्ष से स्वयंसेवक हैं। जब मैंने उन्हें बताया कि मैं कलेक्टर बनना चाहती हूं तो उन्होंने बोला कि मेरी सलाह है कि तुम जब एक कलेक्टर बन जाओ तो यह सुनिश्चित करना कि तुम हमेशा जरुरतमंदों की मदद करो।“

उस घटना के ठीक 23 साल बाद रोहिणी ने अपने सपने को साकर कर दिखाया और तमिलनाडु राज्य के सेलम जिले को 170 पुरुष आई.ए.एस के बाद पहली महिला कलेक्टर रोहिणी के रूप में मिली।

पिता की बात को शिरोधार्य करते हुए रोहिणी ने अपने कार्य क्षेत्र में कदम रखा। अपनी प्रशासनिक क्षमताओं के साथ–साथ उन्होंने नौकरी के दौरान अपनी बोल चाल की भाषा को भी निखारा है और अब तो वे मदुरई जिले में फ़र्राटे से तमिल भी बोल लेती हैं। 32 साल की रोहिणी का स्थानांतरण सेलम में सामाजिक योजनाओं के निदेशक के पद किया गया। इस पद पर नियुक्ति से पूर्व रोहिणी मदुरई में जिला ग्रामीण विकास एजेंसी में अतिरिक्त कलेक्टर और परियोजना अधिकारी के पद पर नियुक्त थी।

रोहिणी अपने काम और शालीन व्यवहार के चलते लोगों के बीच बेहद लोकप्रिय हैं। रोहिणी कहती हैं कि ‘मैंने सरकारी स्कूल में अध्ययन किया है और मेरी इंजीनियरिंग की पढ़ाई एक सरकारी कॉलेज से हुई, साथ ही मैंने सिविल सेवा परीक्षा में कोई निजी कोचिंग की सहायता भी नहीं ली। मेरे अनुभव ने मुझे यह यकीन दिलाया है कि हमारे सरकारी स्कूलों में भी बहुत अच्छे शिक्षक हैं और यदि कोई कमी है तो केवल बुनियादी सुविधाओं की।” रोहिणी की ख़ासियत है कि वे अपने प्रत्येक कार्य को सूझबूझ और सोच विचार के बाद ही करती हैं। यहाँ तक की कहने के पहले कुछ सेकंड रुकती हैं और अपने विचारों को पुन: एकत्रित कर अपनी बात को स्पष्ट करती हैं।

अपनी जिम्मेदारी के बारे में रोहिणी का मानना है कि “जिले की पहली महिला कलेक्टर होने के साथ-साथ कई सारी जिम्मेदारियां अपने आप ही आ जाती है। मैं अपनी जिम्मेदरियों को महिला सशक्तिकरण के संकेत के रूप में देखती हूँ।”

वर्तमान समय में रोहिणी सेलम के लोगों को और विद्यालयों में जाकर स्वछता के लिए जागरूक करने का अपना दायित्व निभा रही हैं। क्योंकि स्वछता और स्वास्थ्य संबंधी दो ऐसी समस्याएँ हैं जिनसे निपटना आवश्यक है।

रोहिणी जैसी अधिकारी जो जनता के लिए कार्य करती हैं, उनका स्थान अपने मन में जनता स्वयं निर्धारित करती है। इन अधिकारियों के पास वो शक्ति है जो आम लोगों की मुश्किलों का खात्मा कर सकती है और रोहिणी जैसी अधिकारी अपने दायित्वों को भलीभांति पूरा करते हुए समाज में मिसाल पेश कर रही हैं।

INDIA

नॉर्थ-ईस्ट में खतरनाक हुआ Corona, असम में एक हफ्ते में बढ़े 3 गुना केस

Published

on

नई दिल्ली. भारत में मंंगलवार को कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमितों की संख्या एक लाख 98 हजार पहुंच गई. इनमें 97 हजार एक्टिव केस हैं. राज्यवार देखें तो देश में सबसे अधिक संक्रमण महाराष्ट्र और गुजरात में है. नॉर्थ-ईस्ट (North East India) समेत देश के कुछ हिस्सों में इस वायरस का प्रसार कम था. लेकिन लॉकडाउन (Lockdown) के बाद देश अनलॉक (Unlock-1) होते ही यह ट्रेंड बदलने लगा है. सोमवार को देश के पूर्वोत्तर में कोविड-19 (Covid-19) के केस तेजी से बढ़े हैं.

भारत सरकार ने रोज की तरह मंंगलवार को भी कोविड-19 के आंकड़े जारी किए. पूर्वोत्तर के राज्यों में वैसे तो इससे संक्रमितों की संख्या बहुत ज्यादा नहीं है, लेकिन नए आंकड़े खतरनाक संकेत दे रहे हैं. सोमवार और मंंगलवार के बीच त्रिपुरा (Tripura) में 100 से अधिक केस सामने आए. अब इस राज्य में कुल 446 केस हो गए हैं. इसी तरह अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) में कोविड-19 के पॉजिटव केस की संख्या 4 से बढ़कर 20 पहुंच गई. मणिपुर (Manipur) में यह संख्या 78 से 85 पहुंच गई है.

पूर्वोत्तर में असम और त्रिपुरा में सबसे खराब स्थिति है. यहां 192 नए केस सामने आए. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक असम (Assam) में एक सप्ताह में तीन गुना मामले बढ़ गए हैं. यहां 25 मई को 526 केस थे, जो अब बढ़कर 1513 हो गए हैं. इसी तरह नगालैंड में 50, मेघालय में 28 और मिजोरम में 13 केस सामने आ चुके हैं. सिक्किम में अभी एक केस है.

पूरे भारत की बात करें तो सोमवार सुबह के आंकड़ों के मुताबिक देश में 1.98 लाख कोरोना के केस आ चुके हैं. देश में तीन दिन से रोज 8-8 हजार केस सामने आ रहे हैं. यानी, 24 घंटे के भीतर भारत में कुल केस 2.06 लाख पार कर जाएंगे. भारत में अब तक 5,598 लोगों की मौत हो चुकी है. भारत में अभी 97 हजार से अधिक एक्टिव केस हैं. जबकि, 95 हजार से अधिक लोग इस वायरस को मात देकर स्वस्थ हो चुके हैं.

Input : News18

Continue Reading

INDIA

राजनाथ सिंह ने कहा- चीन ने सीमा पर बड़ी संख्या में सैनिकों को भेजा, बातचीत जारी है

Published

on

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Rajnath Singh) ने चीन (China), नेपाल (Nepal) के साथ जारी सीमा विवाद (Land Dispute), पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (Pakistan Occupied Kashmir), कोरोना वायरस (Coronavirus) के अलावा तमाम मुद्दों पर बेबाक बातचीत की. राजनाथ सिंह ने कहा कि चीन के साथ हमारी बातचीत जारी है इसे लेकर फिलहाल कोई भी बात करना गलत होगा. पढ़ें राजनाथ सिंह के इस इंटरव्यू की खास बातें-

1. नेपाल के साथ जारी तनातनी को लेकर राजनाथ सिंह ने कहा कि नेपाल को हम अपने छोटे भाई की तरह मानते हैं और एक घर में दो भाइयों के बीच लड़ाई होती रहती है लेकिन इसके चलते हम किसी से भी रिश्ते नहीं तोड़ सकते हैं.

2. रक्षा मंत्री ने कहा कि हाल में जारी विवाद दोनों देशों की सीमाओं को लेकर है जिसमें कि भारत और चीन अपनी-अपनी सीमाओं को लेकर दावा कर रहे हैं. राजनाथ सिंह ने कहा कि अच्छी खासी संख्या में वहां चीन के लोग भी आ गए हैं लेकिन भारत ने भी अपनी ओर से जो कुछ भी करना चाहिए वह किया है. डोकलाम समस्या के समय पर भी भारत और चीन में सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर बात हुई थी और समस्या का समाधान किया गया था और अब भी वही रणनीति अपनाई जा रही है.

3. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पीओके को लेकर कहा कि भारत की संसद भी कई बार इस प्रस्ताव को पारित कर चुकी है कि पाक अधिकृत कश्मीर भारत में शामिल हो. पाक अधिकृत कश्मीर भारत का ही हिस्सा है. इस मामले पर हमें इंतजार करना चाहिए.

4. रक्षा मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान लगातार सीजफायर उल्लंघन कर और आतंकियों को भेजकर भारत को अस्थिर करने की कोशिशों में लगा रहता है लेकिन हम उसे हमेशा करारा जवाब देते हैं. राजनाथ सिंह ने कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत न तो भारत को अस्थिर कर सकती है न तोड़ सकती है और न ही कमजोर कर सकती है. जो भी ऐसा करने का प्रयास करेगा तो भारत उसे मुंहतोड़ जवाब देगा.

5. मौसम विभाग की ओर से गिलगिट, बाल्टिस्‍तान और मुजफ्फराबाद का मौसम अपडेट देने की बात पर रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत वहां के मौसम का अपडेट दे रहा है और इस पर किसी को कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए.

6. आत्मनिर्भर भारत से जुड़े सवाल पर रक्षा मंत्री ने कहा कि लोगों को स्वदेशी अपनाना चाहिए. हमारी कोशिश यह है कि हम सिर्फ आयात करने वाले देश न बनें बल्कि निर्यात करने वाले देश बनें.

7. कांग्रेस को लेकर राजनाथ सिंह ने कहा कि यदि कांग्रेस लोगों को हमसे मजदूरों की मदद करने के लिए कह रही है तो ऐसे में उसे खुद सोचना चाहिए कि उसने इतने सालों तक देश में सरकार चलाई तब भी देश में लोगों की इतनी खराब हालत क्यों है.

8. रक्षा मंत्री ने कहा कि नागरिकता कानून को लेकर दुनिया में कोई भी भारत के मुसलमानों की नागरिकता पर सवालिया निशान नहीं लगा सकता है.

9. राजनाथ सिंह ने कहा कि न ही लॉकडाउन को हमने जल्दी में लगाया न ही हम अनलॉक को जल्दबाजी में लाए हैं. हमने अनलॉक-1 को लेकर पूरी तैयारी की है.

10. रक्षा मंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने कोरोना वायरस के दौरान गरीबों की मदद की और उन्हें मदद और खाद्यान्न की सुविधा मुहैया कराई.

 

Input : News 18

Continue Reading

INDIA

सिर्फ एक छात्रा को परीक्षा दिलाने के लिए केरल सरकार ने चलाई 70 सीटर बोट

Published

on

केरल के अलपुझा जिले में बीते हफ्ते राज्य सरकार ने मानवता की एक अनोखी मिसाल पेश की। सरकार ने शुक्रवार और शनिवार को अलपुझा से कोट्टयम तक सिर्फ एक छात्रा को परीक्षा दिलाने के लिए एक 70 सीटर नाव का संचालन किया। छात्रा के गांव से कोट्टयम के परीक्षा केंद्र तक जाने के लिए सिर्फ नाव का ही सहारा था, जिसे देखते हुए सरकार ने यहां पर एक स्पेशल बोट का बंदोबस्त किया।

अलपुझा की रहने वाली सांद्रा बाबू नाम की छात्रा को 11वीं की परीक्षा देने के लिए कोट्टयम के कांजीराम तक जाना था। नाव की सेवाएं लॉकडाउन के कारण बंद थीं, इसलिए सांद्रा के परिवार के स्टेट वाटर ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट से इसके लिए मदद मांगी। विभाग ने तत्परता दिखाते हुए सांद्रा के लिए एक नाव का इंतजाम किया, जिसकी मदद से सांद्रा शुक्रवार को सुबह 11 बजे अपने घर से रवाना हुईं।

परीक्षा के बाद वापस घर पहुंचाया
ये खास नाव उन्हें घर से लेकर 12 बजे परीक्षा केंद्र तक पहुंची, जहां सांद्रा ने चार बजे तक अपना इम्तेहान दिया। इसके बाद नाव उन्हें लेकर वापस उनके घर पहुंची। सांद्रा के परिवार ने कहा कि अगर नाव का इंतजाम ना होता तो उन्हें परीक्षा को छोड़ना पड़ता, लेकिन विभाग ने एक खास इंतजाम करके ऐसा नहीं होने दिया।

किराए के रूप में लिए गए 18 रुपये

स्टेट वाटर ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट की अलपुझा यूनिट के अधिकारी संतोष कुमार के ए ने कहा कि जिस नाव का इंतजाम सांद्रा के लिए किया गया था, उसे एक तरफ चलाने में 4000 रुपये का खर्च आता है। लेकिन विभाग ने सांद्रा की पढ़ाई ना रुकने देने के लिए इस खास नाव का इंतजाम किया। खास बात ये की इसके लिए सांद्रा से किराए के रूप में सिर्फ 18 रुपये यानि 9 रुपये जाने के लिए और 9 रुपये आने के किराए के रूप में लिए गए।

Continue Reading
BIHAR2 hours ago

भाजपा नेता पर जानलेवा हमला, हत्या की धमकी

MUZAFFARPUR2 hours ago

अहियापुर में आपसी विवाद में देर रात गला रेत हत्या

MUZAFFARPUR3 hours ago

ऑटो टिपर खरीद घोटाला में महापौर पर चलेगा मुकदमा

INDIA3 hours ago

नॉर्थ-ईस्ट में खतरनाक हुआ Corona, असम में एक हफ्ते में बढ़े 3 गुना केस

BIHAR14 hours ago

जार्ज फर्नांडिस की जयंती पर सिटी पार्क में होगा समारोह, उनकी प्रतिमा का मुख्यमंत्री ऑनलाइन करेंगे अनावरण

BIHAR14 hours ago

निर्वाचन आयोग ने शुरू की बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारी, वोटर लिस्ट अपडेट करने के निर्देश जारी

INDIA14 hours ago

राजनाथ सिंह ने कहा- चीन ने सीमा पर बड़ी संख्या में सैनिकों को भेजा, बातचीत जारी है

BIHAR14 hours ago

उपलब्धियों भरा रहा है मोदी सरकार 2.0 का प्रथम वर्ष,भाजपा नेताओं ने गिनाई उपलब्धियां

BIHAR19 hours ago

बिहार में फिर मिले 104 और कोरोना मरीज, सूबे में आंकड़ा पहुंचा 4049

BIHAR21 hours ago

बिहार में कोरोना संकट के बीच मौसम का कहर, आंधी-बारिश और वज्रपात से 8 लोगों की मौत

BIHAR3 weeks ago

जानिए- बिहार के एक मजदूर ने ऐसा क्या कहा कि दिल्ली के अफसर की आंखों में आ गए आंसू

WORLD4 weeks ago

इंडोनेशिया में घर के साथ पत्नी मुफ्त, एड ऑनलाइन हुआ वायरल

BIHAR4 weeks ago

बिहार के लिए हरियाणा से खुलेंगी 11 ट्रेनें, यहां देखिये गाड़ियों की पूरी लिस्ट

BIHAR3 weeks ago

बिहार के 4 जिलों के लिए मौसम विभाग का अलर्ट,वर्षा-वज्रपात और ओलावृष्टि की चेतावनी

TECH3 weeks ago

ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन

MUZAFFARPUR5 days ago

मुजफ्फरपुर आ रहें हैं सोनू सूद, कहा साइकिल से घूमेंगे पुरा मुजफ्फरपुर

BIHAR3 weeks ago

बिहार में 33916 शिक्षकों की होगी बहाली, मैथ और साइंस के होंगे 11 हजार टीचर, यहां देखिये सभी विषयों की लिस्ट

INDIA3 weeks ago

घरेलू उड़ानों के लिए बुकिंग शुरू, पर शर्तें लागू; जानें आपको फायदा मिलेगा या नहीं

INDIA2 weeks ago

भारत के 700 स्टेशनों के लिए चलेगी ट्रेन, रेल मंत्रालय ने कहा- रोज चलेंगी 300 ट्रेनें

BIHAR4 weeks ago

मौसम विभाग की चेतावनी, कई जिलों आंधी और बारिश का अलर्ट

Trending