क्या है दशहरे का महत्व और मान्यता? ऐसे करें प्रभु राम की आराधना
Connect with us
leaderboard image

RELIGION

क्या है दशहरे का महत्व और मान्यता? ऐसे करें प्रभु राम की आराधना

Santosh Chaudhary

Published

on

दशहरे के दिन ही भगवान राम ने रावण पर विजय प्राप्त की थी. इसी दिन नवरात्रि की समाप्ति भी होती है और इसी दिन देवी की प्रतिमा का विसर्जन भी होता है. इस दिन अस्त्र शस्त्रों की पूजा की जाती है और विजय पर्व मनाया जाता है. इस दिन अगर कुछ विशेष प्रयोग किए जाएं तो अपार धन की प्राप्ति हो सकती है.

दशहरे पर करें किसकी पूजा और क्या मिलेगा लाभ?

– इस दिन महिषासुर मर्दिनी मां दुर्गा और भगवान राम की पूजा करनी चाहिए

– इससे सम्पूर्ण बाधाओं का नाश होगा और जीवन में विजय श्री प्राप्त होगी

– आज अस्त्र शस्त्र की पूजा करने से उस अस्त्र-शस्त्र से नुकसान नहीं होता

– आज के दिन मां की पूजा करके आप किसी भी नए कार्य की शुरुआत कर सकते हैं

– नवग्रहों को नियंत्रित करने के लिए भी दशहरे की पूजा अदभुत होती है

विजय प्राप्ति के लिए किस मंत्र का जाप करें?

“श्रियं रामं , जयं रामं, द्विर्जयम राममीरयेत।

त्रयोदशाक्षरो मन्त्रः, सर्वसिद्धिकरः स्थितः।।”

नवरात्रि समापन के साथ मनाएं दशहरा

– आज दोपहर बाद पहले देवी की फिर श्रीराम की पूजा करें

– देवी और श्री राम के मन्त्रों का जाप करें

– अगर कलश की स्थापना की है तो नारियल हटा लें और उसको प्रसाद रूप में ग्रहण करें

– कलश का जल पूरे घर में छिड़क दें ताकि घर की नकारात्मकता समाप्त हो

– जिस स्थान पर पूरी नवरात्रि पूजा की है उस स्थान पर रात्रि भर दीपक जलाएं

– अगर आप शस्त्र पूजा करना चाहते हैं तो शस्त्र पर तिलक लगाकर रक्षा सूत्र बांधें

धन प्राप्ति के लिए दशहरे के दिन क्या करें

– दशहरे के दिन शमी का पौधा लगाएं

– और नियमित रूप से उसमे जल डालते रहें

– पौधे के निकट हर शनिवार को संध्या काल में दीपक जलाएं

– आपको धन का अभाव कभी नहीं होगा

RELIGION

17 अक्टूबर को है करवा चौथ, जानिए व्रत से जुड़ी बातें और पूजा विधि

Ravi Pratap

Published

on

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को हर साल करवा चौथ मनाया जाता है। इस साल ये तिथि 17 अक्टूबर को पड़ रही है। करवा चौथ को कर्क चतुर्थी भी कहते हैं। इस दिन को सुहागिनों के लिए महत्वपूर्ण दिन माना गया है। इस साल करवा चौथ पर 4 अद्भुत संयोग पड़ रहे हैं। ऐसा संयोग 70 सालों बाद पड़ रहा है।

करवा चौथ का व्रत कठिन होता है क्योंकि व्रत अवधि में जल ग्रहण भी नहीं किया जाता है। शादीशुदा महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना से इस व्रत को रखतीं हैं। व्रत वाले दिन शाम के समय विवाहित महिलाएं भगवान शिव, माता पर्वती, गणेश और कार्तिकेय की विधिवत पूजा करती हैं। पूजन के बाद चंद्रमा को देखने और अर्घ्य देने के बाद ही व्रत खोलती हैं

करवा चौथ का शुभ मुहूर्त (Karwa Chauth shubh Muhurt)

तिथि: कार्तिक कृष्ण पक्ष चतुर्थी
तारीख: 17 अक्टूबर
दिन: गुरुवार
पूजा मुहूर्त: शाम 5.50 से 07.05 बजे तक
पूजा मुहूर्त की कुल अवधि: 01 घंटा 15 मिनट
करवा चौथ व्रत समय: सुबह 06.23 बजे से रात 08.16 तक

व्रत की कुल अवधि: 13 घंटे 53 मिनट
करवा चौथ के दिन चंद्रोदय का समय: रात 8.16 बजे
चतुर्थी तिथि: करवा चौथ के दिन चतुर्थी तिथि की शुरुआत सुबह 06 बजकर 48 मिनट से
चतुर्थी तिथि का समापन: 18 अक्टूबर सुबह 07 बजकर 29 मिनट पर

करवा चौथ को देश के अन्य भागों में करक चतुर्थी के नाम से भी पुकारा जाता है। करवा यानि मिट्टी का एक प्रकार का बर्तन होता है जिसके द्वारा चंद्रमा को अर्घ्य दिया जाता है। अर्घ्य से मतलब चंद्रमा को जल देने से है। करवा चौथ की पूजा के दौरान करवा आवश्यक पूजन सामग्री में आता है। जिसे पूजा के बाद किसी ब्राह्मण या योग्य महिला को दान स्वरूप भेंट कर दिया जाता है।

Input : Jansatta

(हम ज्यादा दिन WhatsApp पर आपके साथ नहीं रह पाएंगे. ये सर्विस अब बंद होने वाली है. लेकिन हम आपको आगे भी नए प्लेटफॉर्म Telegram पर न्यूज अपडेट भेजते रहेंगे. इसलिए अब हमारे Telegram चैनल को सब्सक्राइब कीजिए)

Continue Reading

RELIGION

शरद पूर्णिमा आज, मां कोजागरा की होगी पूजा

Santosh Chaudhary

Published

on

आश्विन महीने की शरद पूर्णिमा बेहद खास होती है। इस दिन चंद्रमा की दूधिया रोशनी के साथ अमृत की बूंदें भी छलकेंगी। खीर की भीनी खुशबू से देवालय महकेंगे। रविवार को शरद पूर्णिमा मनाई जाएगी। इसे कोजगरा व्रत के रूप में भी मनाया जाता है। कहा जाता है कि इस दिन रात को खीर खुले आसमान में रखी जाती है।

प्रसाद ग्रहण करने से अनेक प्रकार के रोगों से मिलता छुटकारा

इसके बाद उसे प्रसाद के रूप में खाया जाता है। पूर्णिमा को चांद 16 कलाओं से संपन्न होकर अमृत वर्षा करता है जो स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। कहते हैं ये दिन इतना शुभ और सकारात्मक होता है कि छोटे से उपाय से बड़ी-बड़ी विपत्तियां टल जाती हैं। इस दिन कोजगरा माता के रूप में मां लक्ष्मी की विशेष पूजा की जाती है और रात में खीर बनाकर उसे रात में आसमान के नीचे रखा जाता है। इस दिन चंद्रमा की चांदनी का प्रकाश खीर पर पड़ना चाहिए। वहीं दूसरे दिन सुबह स्नान करके खीर का भोग अपने घर के मंदिर में लगाकर ब्राह्मणों को खीर प्रसाद के रूप में देकर परिवार में बांटी जाती है। इस प्रसाद को ग्रहण करने से अनेक प्रकार के रोगों से छुटकारा मिलता है। मंदिरों में भगवान को विशेष तौर पर खीर का भोग लगाया जाएगा। मां मनोकामना मंदिर के पुजारी पं. रमेशमिश्र ने बताया कि कोजगरा व्रत मिथिलांचल का पर्व है।

नए जोड़े सौभाग्य की रक्षा के लिए कोजगरा माता की पूजा करते हैं। चतुर्भुजनाथ मंदिर के महंथ नवलकिशोर मिश्र ने बताया कि शालीग्राम देवता, लक्ष्मी- गणेश आदि को रात में ओस में रखकर खीर, मखाना व नारियल का भोग लगाया जाएगा। सुबह 11 बजे से 24 घंटे का रामायण पाठ शुरू होगा।

Image result for मां कोजागरा

प्रतिमा स्थापित कर करेंगे कोजगरा लक्ष्मी पूजा: बंगाली समुदाय की ओर से रविवार को कोजागरा लक्ष्मी पूजा की जाएगी। महिलाएं उपवास रखेंगी। हरिसभा स्कूल परिसर में हरिसभा दुर्गा पूजा कमेटी की ओर से 118वें साल प्रतिमा स्थापित कर कोजागरा लक्ष्मी पूजा की जाएगी। कमेटी के उपाध्यक्ष देवाशीष गुहाने बताया कि करीब छह फीट की प्रतिमा बनाई गई है। मां लक्ष्मी को नारियल की मिठाई, खीर की बनी पुरी, खीर आदि का भोग लगाया जाएगा।

Continue Reading

RELIGION

इस दिवाली घर की सफाई में बाहर फेंके ये 5 चीजें, मां लक्ष्मी होंगी खुश

Santosh Chaudhary

Published

on

दिवाली पर प्रत्येक घर में मां लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है. इस दिन धन-संपदा और शांति के लिए लक्ष्मी जी की विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है. यही कारण है कि दिवाली आने से पहले ही घर की साफ-सफाई का काम शुरू हो जाता है. सफाई के दौरान आपको अपने घर या ऑफिस से उन चीजों को बिल्कुल हटा देना चाहिए जिनका आपने लंबे समय तक कोई उपयोग न किया हो. ऐसे में काम में आने लायक चीजें किसी जरूरतमंद इंसान को दे दें और बिना काम की चीजों को कबाड़ में फेंक दें. अक्सर ऐसा देखने को मिलता है कि हम चीजों से जुड़े लगाव के कारण उसे नहीं हटाते हैं और घर में लंबे समय तक पड़ा रहने देते हैं. हालांकि हमें ऐसा नहीं करना चाहिए. बिना काम में आने वाली चीजों को घर में रखने से नकारात्मकता बढ़ती है. आइए जानते हैं कि दिवाली पर लक्ष्मी पूजा से पहले किन चीजों को घर से बाहर कर देना चाहिए.

टूटे-फूटे फर्नीचर को घर से करें बाहर

घर के मुख्य दरवाजे पर विशेष ध्यान रखना चाहिए. अगर दरवाजा टूटा हो, आवाज करता हो या उसमें कोई दरार हो तो उसे तुरंत सही कराएं. वास्तुशास्त्र के मुताबिक दरवाजे में टूट-फूट अशुभ माना जाता है. घर के किसी भी फर्नीचर में टूट-फूट हो तो उसे सही करा लें अन्यथा हटा दें. टूटे-फूटे फर्नीचर घर में नकारात्मकता की वजह बनते हैं.

टूटा शीशा कबाड़ में फेंके

घर में अगर कोई शीशा टूटा हो तो उसे एकदम हटा दें. वास्तुशास्त्र के अनुसार टूटे हुए शीशे से निकलने वाली ऊर्जा हमेशा नकारात्मक होती है जो घर में कई बाधाओं को जन्म देती है. घर में टूटा हुआ शीशा रखने से परिवार के सदस्यों के बीच दूरियां बढ़ने लगती है. साथ ही रिश्तों में तनाव आ जाता है. इसके अलावा टूटे शीशे में चेहरा देखने से स्वास्थ्य को भी नुकसान पहुंचता है. दिवाली से पहले टूटे शीशे को कबाड़ में फेंक दें.

बंद पड़ी घड़ियों को चालू करें

अगर आपके घर में बंद पड़ी घड़ी हो तो उसे तुरंत चालू कर लें. अगर कोई घड़ी चलने लायक न हो तो उसे घर में कभी न रखें. ऐसी घड़ी भी वास्तुदोष का कारण बनती है. घड़ियों की स्थिति से हमारे घर-परिवार की उन्नति जुड़ी होती है. अगर घर में घड़ी ही नहीं सही होगी तो कोई भी काम सही तरीके नहीं हो पाएगा. इन घड़ियों के कारण हर काम में रुकावट आती रहेगी. इसलिए दिवाली से पहले घड़ी को सही जरूर करवा लें.

फोटो फ्रेम और सजावटी सामान पर दें ध्यान

वास्तु के अनुसार अगर घर में कोई टूटा हुआ फ्रेम, फोटो या सजावटी सामान हो तो दिवाली से पहले उसे तुरंत हटा दें. इसके साथ ही अगर घर में कोई खराब पड़ा इलेक्ट्रॉनिक का सामान हो तो उसे भी हटा दें. यह खराब पड़े समान घर में नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाते हैं.

 

नए दीये ही जलाएं

दिवाली पर घर में हमेशा नए दीपक ही जलाएं. अगर घर पर पिछले साल का कोई दीया पड़ा हो तो उसे बिल्कुल न जलाएं. पुराने दीये से नकारात्मकता फैलती है. दिवाली पर पूजा के बाद नए दीये ही जलाएं.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. मुजफ्फरपुर नाउ  इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

Continue Reading
Advertisement
INDIA1 hour ago

मां के लिए फ्रिज खरीदने 35 किलो सिक्के लेकर गया, दो हजार रु. कम निकले तो शोरूम ने छूट दी

BIHAR1 hour ago

चैतन्य प्रसाद और आनंद किशोर की छुट्टी, बिहार में 8 IAS अधिकारियों का तबादला

TECH3 hours ago

साइबर क्राइम : कोई कर रहा है ब्लैकमे’ल तो बचने के लिए तुरंत करे ये 5 काम

BIHAR4 hours ago

उत्कृष्ट पुलिस सेवा के लिए बिहार के लाल को मिला एपीजे अब्दुल कलाम अवार्ड

RELIGION5 hours ago

17 अक्टूबर को है करवा चौथ, जानिए व्रत से जुड़ी बातें और पूजा विधि

SPORTS5 hours ago

सौरव गांगुली बने BCCI के नए अध्यक्ष 23 अक्टूबर को संभालेंगे पद

BIHAR6 hours ago

रेलवे ने फिर बढ़ाई स्पेशल ट्रेनों की संख्या, दिवाली-छठ के लिए अभी इन ट्रेनों में बुक करा सकते हैं टिकट

MUZAFFARPUR7 hours ago

मुजफ्फरपुर सूतापट्टी में पति ने धो’खा दिया तो महिला ने चोर-चोर बोल कर पि’टवाया

MUZAFFARPUR9 hours ago

अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों के उपेक्षा के कारण काँटी – मरवण का 570 किलोमीटर पक्की सड़क हुआ जर्जर : ई0 अजीत

BIHAR9 hours ago

पटना: डें’गू म’रीजों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर फेंकी गई स्याही

BIHAR1 day ago

63वीं परीक्षा का रिजल्ट जारी, श्रीयांश तिवारी बने टॉपर, यहां देखें लिस्ट

BIHAR4 days ago

पटना पहुंची प्रीति जिंटा, एक झलक पाने को बेताब दिखी भीड़

BIHAR2 weeks ago

KBC 11: वैज्ञानिक के नाम से जुड़े सवाल पर अटकी बिहार की साइंस टीचर संगीता, गेम छोड़ने का लिया निर्णय

BIHAR2 days ago

संभावना सेठ के साथ रॉयल फुलार ने मनाया अपना प्रथम वर्षगाँठ

INDIA6 days ago

Reliance Jio यूजर्स को लगा बड़ा झटका, अन्‍य मोबाइल नेटवर्क पर कॉल करने के लिए देना होगा पैसा

MUZAFFARPUR6 days ago

मुजफ्फरपुर से दिल्ली के लिए चलेगी सुविधा स्पेशल

BIHAR4 days ago

पटना: IIT मुंबई ने सबसे कम उम्र के प्रोफेसर तथागत तुलसी को नौकरी से निकाला, जानिए कारण

BIHAR3 weeks ago

हाई वोल्‍टेज फैमिली ड्रामा: प्रेमी के घर के सामने धरना पर बैठी प्रेमिका, बोली- चल कर शादी

BUSINESS4 days ago

Paytm इस्तेमाल करने वालों के लिए बुरी ख़बर

MUZAFFARPUR3 weeks ago

बिहार में 28 नवंबर से 12 दिसंबर के बीच आठ जिलों की सेना बहाली, ये कागजात लाना होगा जरूरी

Trending

0Shares