Connect with us
leaderboard image

BIHAR

माँ की बदौलत पंजाब की बेटी बिहार में बनी IPS ‘लेडी सिंघम’

Avatar

Published

on

एक छोटे से गांव की युवती ने आई.पी.एस. बनकर अपने माता-पिता के साथ-साथ पंजाब का नाम भी रोशन किया। हम बात कर रहें है आई.पी.एस. अधिकारी हरप्रीत कौर की जो बिहार के समस्तीपुर में एस.एस.पी. हैं। उनका जन्म बरनाला के गांव अलकड़ा का है जबकि शादी अमृतसर के छहर्टा में हुई है। सरकारी स्कूल व कालेज में पढ़ी हरप्रीत कौर के पिता जोगिन्द्र सिंह अध्यापक थे। मां जसमेल कौर ने कुशल गृहिणी व आदर्श मां का दायित्व निभाया।

मदर्स-डे पर इस मां को सैल्यूट जिसने इतनी बहादुर बेटी को जन्म दिया।मां अक्सर बचपन में बेटी के भविष्य को लेकर आंसू बहाया करती थीं। जब हरप्रीत कौर एस.एस.पी. बनकर मां से मिली तो मां गले लगाकर खुशी में आंसू बहाती रही। 2009 बैच की हरप्रीत कौर ने बिहार के 5 जिलों में पोस्टिंग के दौरान जो काम किया उससे बिहार की जनता उन्हें ‘लेडी सिंघम’ कहने लगी। प्रसिद्धी इतनी मिली की बॉलीवुड के बड़े निर्माता-निर्देशक प्रकाश झा ने उन पर फिल्म “जय गंगा जल’ बनाई” और लीड रोल “प्रियंका चोपड़ा’ को दिया गया। आई.पी.एस. हरप्रीत कौर एस.पी.जहानाबाद, एस.पी. बेगूसराय, एस.पी. (सी.आई.डी.) एस.एस.पी. मुजफ्फरपुर व मौजदा एस.एस.पी. समस्तीपुर हैं।

बेटी को SSP बनाने के लिए पिता दिखाता था ‘कविता चौधरी’ के सीरियल

बेटी हरप्रीत कौर के आई.पी.एस. बनने की कहानी पर पिता जोगिन्द्र सिंह बताते हैं कि वह बेटी को किरण बेदी की चचेरी बहन कविता चौधरी द्वारा बनाए गए टी.वी. धारावाहिक ‘कल्याणी’ दिखाया करते थे। बेटी एस.एस.पी. बने यह मेरी भी इच्छा थी, आज देश-दुनिया उन्हें उनके नाम से जानती है यह बख्शीश बस वाहेगुरु ने हमारे परिवार को दी है। बेटा सुखचैन मोहाली में रहता है। पंजाब की बेटी बिहार की ‘लेडी सिंघम’ हो इससे ज्यादा एक बाप को जिंदगी में और क्या चाहिए।

 

‘पंजाब केसरी’ को आई.पी.एस. हरप्रीत कौर ने सुनाई कहानी अपनी जुबानी

‘पंजाब केसरी’ ने मदर्स-डे पर फोन पर आई.पी.एस. हरप्रीत कौर के साथ खास बातचीत की जिससे आज का युवा जहां सीख ले सकता है वहीं पंजाब में कोख में बेटियों को मारने वालों के गाल पर करारा तमाचा है। पेश है आई.पी.एस. हरप्रीत कौर की कहानी उसकी जुबानी। मेरा जन्म बरनाला के अलकड़ा गांव में हुआ। पिता टीचर थे और मां गृहिणी। बड़े भाई सुखचैन सिंह के साथ हरप्रीत कौर भी स्कूल जाने लगी। पिता सरकारी टीचर थे ऐसे में उन्होंने हरप्रीत कौर को सरकारी स्कूल में ही शिक्षा दिलाई। समय के साथ पढ़ाई आगे बढ़ती रही। सरकारी स्कूल तलवड़ी के बाद हरप्रीत कौर ने मोहाली में पंजाब शिक्षा बोर्ड से 10वीं व 12वीं में टॉप किया। इसी बीच भाई सुखचैन की पत्नी कर्मजीत कौर ने उन्हें आई.पी.एस. की तैयारी के लिए सलाह दी और दिल्ली जाकर कोचिंग करने के लिए परिवार के साथ बातचीत करके भिजवाया। दिल्ली में रहते हरप्रीत कौर ने अंग्रेजी को और मजबूत किया और आई.पी.एस. की तैयारी में जुट गई। 2 बार निराशा हाथ लगी लेकिन हिम्मत नहीं हारी। तीसरी बार आई.पी.एस. बनी तो गांव में लड्डू बांटे गए।

मदर्स-डे हर दिन है, मैं बहुत मिस करती हूं मां को

एस.एस.पी. हरप्रीत कौर कहती हैं कि मदर्स-डे आज है लेकिन मैं रोज सुबह मां को फोन करती हूं, मां ने ही मुझे जन्म दिया। मैं मां की बदौलत ही सब कुछ हूं। मेरी मां बहुत भोली है, मैं मां को बहुत मिस करती हूं। उनके दिल में केवल मोहब्बत है। दिल यही चाहता है कि कब समय मिले और मां से लिपट कर कहूं कि ‘मम्मी अज तेरे हत्था दी खीर खाणी हैगी’।

Input : Punjab Kesari

BIHAR

चमकी बुखार ने छीन ली इस गांव के 11 मासूमों की जिंदगी, जानें…

Avatar

Published

on

बिहार में चमकी बुखार का कहर जारी है. अबतक बिहार में चमकी बुखार से मरने वालों की संख्या 146 बच्चों की मौत हो चुकी है. केवल बिहार के मुजफ्फरपुर में 119 मासूमों की जिंदगी जा चुकी है. इसके साथ ही लू और गर्मी से भी बिहार में हाल बेहाल है. लू और गर्मी से करीब 100 के आसपास लोगों की जान जा चुकी है.

बिहार में यमराज बनकर दस्तक देनेवाली बीमारी AES का सबसे ज्यादा कहर वैशाली जिले पर टूटा है. जिले के भगवानपुर के हरिवंशपुर गांव में एक ही बस्ती के कुल 11 मासूमों की मौत हो गई जिससे कई लोग खौफजदा हैं. आलम यह है कि लोग गांव छोड़कर पलायन कर रहे हैं और घरों में ताला लटका है.

किलकारी की जगह मातमी सन्नाटा
गांव में मातमी सन्नाटा पसरा है और बच्चों की किलकारियां कहीं गुम हो गयी है. सभी मृतक बच्चे मांझी और सहनी परिवार के थे. मजदूरी कर जीवन यापन करनेवाला परिवार हमेशा के लिए उजड़ गया और सिस्टम तमाशा देखती रह गयी. आंकड़ों की मानें तो अब तक 250 से ज्यादा बच्चे गांव से पलायन कर गए हैं क्योंकि चमकी का असर लोगों ने देख लिया है.

जब मीडिया हरिवंशपुर गांव पहुंची तो मंजर बदला बदला सा था और अधिकतर घरों में ताले जड़े थे और सन्नाटा छाया था. मृतक के परिजनों और ग्रामीणों ने कई आरोप भी लगाए कि बीमारी के बाद संसाधन मुहैया नहीं हो सका तो जागरूकता अभियान नहीं चलाये गए. गांव में जल संकट भी है जिससे लोग परेशान हैं. हैरानी की बात तो ये है कि सत्ताधारी पार्टी के एक भी नेता, जनप्रतिनिधि और अधिकारी अब तक इस गांव में हाल जानने भी नहीं पहुंचे हैं. आरजेडी कार्यकर्ता पीड़ित बस्ती में सरकार का पुतला फूंकते जरूर नजर आए.

अकेले मुजफ्फरपुर में 119 मौत
बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (Acute Encephalitis Syndrome) यानी चमकी बुखार का सबसे ज्यादा कहर है. इस जानलेवा बुखार से आधारिक रूप से यहां मरनेवालों का आंकड़ा बढ़कर 119 हो गया है. अस्पताल में अभी तक 500 से अधिक बच्चे भर्ती हो चुके हैं.

Input : Live Cities

Continue Reading

MUZAFFARPUR

रिसर्च के नाम पर बिहार की शाही लीची बदनाम हो गई

Avatar

Published

on

लीची और बीमारी का रिश्ता लंदन के एक मेडिकल जर्नल ‘द लैन्सेट’ में प्रकाशित शोध के बाद कायम हुआ। कहा गया कि लीची में प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले पदार्थ हाइपोग्लाइसीन-ए और मिथाइल इनसाइक्लोप्रोपीलग्लाईसीन (दोनों रसायन पूरे पके हुए लीची के फल में कम मात्रा में पाए जाते हैं) शरीर में फैटी एसिड मेटाबॉलिज्म बनने में रुकावट पैदा करते हैं। लिहाजा खाली पेट लीची खाने से शरीर में ब्लड शुगर एकाएक लो हो जाता है।

खासकर तब जब रात का खाना न खाने की वजह से शरीर में ब्लड शुगर का लेवल पहले से कम हो और सुबह खाली पेट लीची खा ली जाए तो चमकी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। सीडीसी अटलांटा, एनआईवी पुणे, इंस्टीच्यूट ऑफ टॉक्सिक रिसर्च सेंटर-लखनऊ ने भी शोध किया है। शोध जारी है। बीमारी का सही कारण पता नहीं है।

9 राज्यों में होती है लीची, बिहार में ही बीमारी क्यों

लीची बिहार ही नहीं, देश के 8 और राज्यों में पैदा होती है, वहां से ऐसी शिकायतें क्यों नहीं? सरकारी  मार्गदर्शिका भी कहती है कि लीची सावधानी के साथ खाई जा सकती है। अत्यधिक सेवन तो जानलेवा हो सकता है। ‘द लैन्सेट’ की बात ही मान ली जाए तो मूल मसला खाली पेट का है, कुपोषण का है।

लक्ष्ण में समानता :  चमकी बुखार और लीची के बीच रिश्ता तथ्यों के अधिक अवधारणा आधारित है। क्योंकि बीमारी वहीं है जहां लीची है। मूल वजह पता नहीं, लीची बदनाम हो गई। मस्तिष्क ज्वर के मरीजों में जो लक्षण पाये जाते हैं वही लक्षण चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों में भी पाये गए हैं। चमकी की चपेट में आए मरीजों में वायरस नहीं पाया गया। इनके ब्लड शुगर में कमी पाई गई।

लीची को दोष देना बेकार : 14 साल से इस बीमारी के बीमारों को देख रहा हूंं। 2005 में इस पर शोध किया। यह वस्तुत: अधिक तापमान और आर्द्रता के असर का नतीजा है। कुछ लोग इसकी वजह लीची बताते हैं। यह बेकार की बात है। मौसम, इसकी  वजह है। डॉ.गोपाल शंकर सहनी, अध्यक्ष, शिशु रोग विभाग, एसकेएमसीएच

Input : Dainik Bhaskar

Continue Reading

BIHAR

बच्चों की मौत पर सवाल पूछा तो भड़के सुशील मोदी, कहा-ये प्रेस कांफ्रेंस चमकी बुखार के लिए नहीं

Avatar

Published

on

बिहार में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से बच्चों की हो रही मौतों पर सवाल पूछे जाने पर उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी सवालों को टाल गये और कहा कि यह प्रेस वार्ता बैंकर्स समिति से संबंधित सवालों के लिए आयोजित की गयी है, ना कि चमकी बुखार पर। ये घटना बैंकर्स समिति की बैठक के बाद आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेन्स की है।

उन्होंने कहा कि ‘मैंने पहले आपको बता दिया था, ये बैंकर समिति की बैठक है। ये प्रेस कॉन्फ्रेन्स सिर्फ इसी विषय के लिए आयोजित की गयी है। बैंक से जुड़े मुद्दे पर अगर आप सवाल पूछेंगे, तो जवाब मिल पायेगा। उन्होंने यहां तक कहा कि प्रेस वार्ता बैंकिंग कमेटी को लेकर बुलायी गयी है। अगर बैंकिंग से जुड़े कोई सवाल ना हो तो प्रेस वार्ता खत्म करते हैं।

जानकारी के मुताबिक, बिहार में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से हो रही मौतों से राज्य सरकार की सवालों के घेरे में है। वहीं, बुधवार को राज्य के बैंकर्स समिति की बैठक बुलायी गयी थी। इस बैठक में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी भी शामिल हुए।

बैठक के बाद बैंकर्स समिति की बैठक से संबंधित आयोजित प्रेस वार्ता में पत्रकारों के सवाल पूछे जाने पर उप मुख्यमंत्री सवालों से बचते दिखे। पत्रकारों ने बिहार में एईएस से हो रही बच्चों की मौतों को लेकर सवाल पूछे, तो उप मुख्यमंत्री ने कहा कि यह प्रेस वार्ता बैंकर्स समिति से संबंधित सवालों के लिए आयोजित की गयी है, ना कि चमकी बुखार पर।

उन्होंने कहा कि ‘मैंने पहले आपको बता दिया था, ये बैंकर समिति की बैठक है। ये प्रेस कॉन्फ्रेन्स सिर्फ इसी विषय के लिए आयोजित की गयी है। बैंक से जुड़े मुद्दे पर अगर आप सवाल पूछेंगे, तो जवाब मिल पायेगा।’

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
BIHAR2 hours ago

चमकी बुखार ने छीन ली इस गांव के 11 मासूमों की जिंदगी, जानें…

MUZAFFARPUR5 hours ago

रिसर्च के नाम पर बिहार की शाही लीची बदनाम हो गई

BIHAR5 hours ago

बच्चों की मौत पर सवाल पूछा तो भड़के सुशील मोदी, कहा-ये प्रेस कांफ्रेंस चमकी बुखार के लिए नहीं

MUZAFFARPUR7 hours ago

मुजफ्फरपुरः AES को लेकर डीएम ने की सभी अधिकारियों की छुट्टी रद्द, गांवों में कैंप करने का निर्देश

BIHAR7 hours ago

बिहार में 8 हजार सहायक प्रोफेसर की होगी बहाली, जुलाई महीने से शुरू होगी प्रक्रिया

BIHAR7 hours ago

बिहार में चमकी बुखार का कहर, इससे घबराने की जरूरत नहीं, जानिए

BIHAR7 hours ago

तेजस्वी को खोजिये मत, शायद वर्ल्ड कप देखेने गये हैं…रघुवंश बाबू तो यही कह रहे हैं

MUZAFFARPUR23 hours ago

बिहार में AES से 143 की मौत: SC में जनहित याचिका दायर, CM नीतीश व डॉ. हर्षवर्धन पर भी मुकदमा

MUZAFFARPUR24 hours ago

Bigg Boss के घर से शुरू हुई लड़ाई पहुंची थाने, दीपक ठाकुर के मजाक पर भड़कीं जसलीन मथारू ने दर्ज कराई शिकायत

BIHAR1 day ago

बिहार में चमकी बुखार से 112 की मौत, सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को होगी सुनवाई

TRENDING2 weeks ago

पिता बनना चाहते थे IAS लेकिन बन नहीं पाए, फिर बेटी पढ लिखकर IAS बनी और पूरा किया पिता का सपना

RELIGION4 weeks ago

इसी जगह पर हुई थी भगवान शिव और देवी पार्वती की शादी, आज भी मौजूद हैं 6 निशानियां

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुज़फ़्फ़रपुर में फिर दहेजलोभी ससुरालवालों ने ली एक विवाहिता की जान

BIHAR2 weeks ago

बिहार में दरोगा बनने का सपना देख रहे अभ्यर्थियों का सपना होगा पूूरा , 3500 पदों पर भर्ती शुरू

INDIA3 weeks ago

गर्मी से राहत के लिए सरकार उपलब्‍ध कराएगी सस्‍ता AC, बिजली का बिल भी आएगा कम

BIHAR1 week ago

बिहार में माता-पिता की सेवा नहीं करने वालों को होगी जेल

BIHAR3 weeks ago

बिहार में भी बसा है छोटा सा कश्मीर

INDIA2 weeks ago

प्राइवेट नौकरी वालों की हालत मजदूरों से भी बदतर, NSSO के रिपोर्ट में हुआ खुलासा

BIHAR3 weeks ago

PM मोदी सरकार से JDU का किनारा, बिहार में गरमाई सियासत; HAM बोला- हमारे साथ आइए

BIHAR3 weeks ago

बिहार की बेटी बनी जेट फाइटर प्लेन MiG-21 उडा़ने वाली देश की पहली महिला पायलट

Trending

0Shares