KBC में दरभंगा की बेटी आरती ने जीते 6.40 लाख, अमिताभ ने कैंसर पीडि़ता के जज्बे को सराहा
Connect with us
leaderboard image

BIHAR

KBC में दरभंगा की बेटी आरती ने जीते 6.40 लाख, अमिताभ ने कैंसर पीडि़ता के जज्बे को सराहा

Santosh Chaudhary

Published

on

कौन बनेगा करोड़पति (केबीसी) के 11 वें सीजन में मंगलवार को दरभंगा की बेटी आरती झा ने 6.40 लाख रुपये जीते। कैंसर पीडि़त आरती की खेल भावना के अमिताभ बच्चन भी मुरीद हो गए। हालांकि, 12 वें प्रश्न के दौरान आरती उलझ गईं और उन्होंने खेल को बीच में ही छोडऩा उचित समझा। आरती इस दौरान अपनी सभी लाइफ लाइन यूज कर चुकी थीं। इसलिए उनके पास गेम छोडऩे के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचा था। इस राशि को पाकर वह काफी खुश दिख रही थीं।

गौरतलब है कि इसी सीजन में जहानाबाद के सनोज राज ने एक करोड़ की धनराशि जीती थी। आरती मूल रूप से दरभंगा जिले के बहादुरपुर प्रखंड के डरहार गांव की निवासी हैं। उनकी शादी घनश्याम कुमार झा के साथ वर्ष 2011 में बहेड़ा थाने के महिनाम गांव में हुई थी। आरती इन दिनों वाराणसी में इंडियन ओवरसीज बैंक में कार्यरत हैं।

ब्रेस्ट कैंसर से जूझ रही आरती का इलाज वाराणसी के टाटा मेमोरियल कैंसर हॉस्पिटल में चल रहा है। चार बहनों में दूसरे नंबर की आरती की प्रारंभिक शिक्षा दरभंगा से हुई। उन्होंने कॉमर्स में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। इसके बाद इंडियन ओवरसीज बैंक में उनका चयन हुआ। आरती की सफलता को लेकर माता-पिता भी काफी खुश हैं। मां लीला देवी ने बताया की आरती शुरू से ही मेधावी रही हैं। आरती के पिता सेवानिवृत्त सब इंस्पेक्टर हैं। आरती के पति घनश्याम कुमार झा प्रोफेसर हैं।

Input : Dainik Jagran

MUZAFFARPUR

ईमानदारी की दुकान चला रहे बच्चे

Ravi Pratap

Published

on

कॉपी 10 रुपये, पेंसिल 5 रुपये, कटर 3 रुपये, इरेजर 3 रुपये…। बरामदे में टेबल पर सजी इस दुकान पर कोई दुकानदार नहीं है। सामान के ऊपर गांधीजी की तस्वीर वाला एक पोस्टर और उस पर नाम लिखा है ‘ईमानदारी की दुकान।

बच्चे अपनी जरूरत के अनुसार सामान लेने आते हैं और इसी पोस्टर पर लिखा दाम देख टेबल पर रखे गुल्लक में पैसा डाल देते हैं। ईमानदारी का पाठ किताबों में नहीं बल्कि रोजमर्रा के जीवन में सीखाने के लिए यह अनोखी दुकान कांटी के उत्क्रमित मध्य विद्यालय ढेमहां के बच्चे चला रहे हैं।

जिले का यह स्कूल इन बच्चों की इस अनोखी दुकानदारी की वजह से चर्चा का विषय बना हुआ है। न कोई सामान देने वाला और न कोई रुपये लेने वाला। यहां बच्चों के ईमान पर सामान बिकता है। इस ईमानदारी की दुकान की वजह से बच्चे किताबों से रटकर नहीं बल्कि जीवन में ईमान लाना सीख रहे हैं। बच्चे जितना सामान लेते हैं, खुद ईमानदारी से उसका दाम गुल्लक में डाल देते हैं। पिछले आठ महीने से चल रही ईमानदारी की इस दुकान ने पूरे स्कूल की सूरत बदल दी है।

बाल संसद और मीना मंच के बच्चे करते हैं मॉनिटरिंग

स्कूल में बने बाल संसद और मीना मंच के बच्चे इसे संचालित कर रहे हैं। पहली बार में शिक्षकों ने सहयोग दिया मगर अब सबकुछ खुद बच्चे देख रहे हैं। आरती, कुमकुम, चुलबुल, रोहित, रिमझिम आदि बच्चे कहते हैं कि सामान बिकने से जितने रुपये गुल्लक में आते हैं, उन्हीं से फिर आगे का सामान लाते हैं। कांटी स्थित इस स्कूल के प्रधानाध्यापक गोपाल फलक कहते हैं कि पहले बच्चों को सामान के लिए भटकना पड़ता था। इस दुकान का उद्देश्य बच्चों में स्वाबलंबन, नैतिक शिक्षा और ईमानदारी को जीवन में उतारना है। इन बच्चों की वजह से स्कूल आज मॉडल बन गया है।

Input : Live Hindustan

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर में 45 साल के बूढ़े आदमी के साथ लड़की का अ’श्लील वीडियो वायरल

Ravi Pratap

Published

on

इस वक्त एक बड़ी खबर आ रही है मुजफ्फरपुर से, जहां समाज को श’र्मशार करने वाली घटना सामने आई है. सोशल मीडिया पर 45 साल के एक बुजुर्ग के साथ लड़की का अ’श्लील वीडियो वायरल हो रहा है. बदमाशों ने खेत में अ’श्लील वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाला है. मामला सामने आने के बाद पुलिस कार्रवाई में जुटी हुई है.

 

वारदात जिले के सरैया थाना इलाके के जैतपुर ओपी की है. जहां सोशल मीडिया पर 45 साल के एक बुजुर्ग के साथ लड़की का अश्लील वीडियो वायरल हो रहा है. वायरल वीडियो में दिख रहे दोनों लोग खुद को चाचा-भतीजी बता रहे हैं. वीडियो में देखा जा रहा है कि लगभग 18 से 20 साल की एक लड़की 45 साल के एक बूढ़े आदमी के साथ देखी जा रही है. वीडियो बनाने वाले बदमाशों की भी आवाज़ वीडियो में सुनाई दे रही है. जब बदमाशों ने कैमरा ऑन कर उनके रिश्ते के बारे में पूछा तो उन्होंने चाचा-भतीजी होने की बात कही.

सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है. वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद मुजफ्फरपुर पुलिस हरकत में आई है. एसएसपी जयंत कांत ने वायरल वीडियो की पुष्टि करने की बात कहते हुए बताया कि जांच की जा रही है. आरोपियों को चिन्हित कर उनके ऊपर कार्रवाई की जाएगी.

Input : Ajay Deep (First Bihar jh)

Continue Reading

BIHAR

श्रद्धांजलि: 31 कंप्यूटर्स से भी तेज चलता था गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का दिमाग

Santosh Chaudhary

Published

on

vashishtha-narayan-singh

आइंस्टीन के सापेक्ष सिद्धांत को चुनौती देने वाले महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का गुरुवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वे 74 साल के थे। अपनी ज़िंदगी में 44 साल तक वे मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया से पीड़ित रहे। इस महान गणितज्ञ का जीवन दुखों से भरा रहा।

vashishtha-narayan-singh

31 कंप्यूटर्स जैसा चलता था वशिष्ठ का दिमाग

कहा जाता है कि वशिष्ठ नारायण सिंह ने महान वैज्ञानिक आंइस्टीन के सापेक्षता के सिद्धांत को चुनौती दी थी।उनके बारे में कहा जाता है कि उनका दिमाग कंप्यूटर से भी तेज चलता था। ये तब साबित हुआ जब नासा द्वारा अपोलो की लॉन्चिंग से पहले जब 31 कंप्यूटर्स कुछ समय के लिए बंद हो गए थे। कंप्यूटर के ठीक होने तक वशिष्ठ नारायण सिंह ने जो गणना की थी वो कंप्यूटर ठीक होने पर पता चला कि दोनों का कैलकुलेशन एक था।

वशिष्ठ नारायण सिंह का जन्म बिहार के बसंतपुर गांव में 2 अप्रैल 1942 में हुआ था और वे अपने परिजनों के साथ पटना के कुल्हरिया कॉम्प्लेक्स में रहते थे।

गलत पढाने पर प्रोफेसर को ही टोक देते थे

बीबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार जब वशिष्ठ नारायण सिंह पटना साइंस कॉलेज में पढ़ते थे, उस दौरान वे गलत पढ़ाने पर अपने गणित के प्रोफेसर को टोक देते थे। इसकी जानकारी जब कॉलेज के प्रिंसिपल को मिली तो उन्होंने वशिष्ठ नारायण सिंह की प्रतिभा को देखने के लिए उनकी अलग से परीक्षा ली। इस परीक्षा में उन्होंने सारे एकेडमिक रिकॉर्ड तोड़ दिए।

कैलीफोर्निया यूनिवर्सिटी से की पीएचडी

वशिष्ठ नारायण सिंह पटना साइंस कॉलेज में पढ़ते थे तो उस दौरान कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जॉन कैली की नजर उन पर पड़ी। कैली ने उनकी प्रतिभा को पहचाना और उन्हें बरकली आ कर रिसर्च करने का निमंत्रण दिया। 1965 में वशिष्ठ नारायण कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में रिसर्च के लिए चले गए थे।

नासा में किया था काम, वापस लौट आए भारत

साल 1969 में उन्होंने कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से पीएचडी की और वॉशिंगटन विश्वविद्यालय में एसोसिएट प्रोफेसर बन गए। उन्होंने नासा में एक गणितज्ञ के रूप में काम किया था, बाद में उनका वहां मन नहीं लगा और वे 1971 में वापस भारत लौट आए। इसके बाद उन्होंने पहले IIT कानपुर, बॉम्बे, और फिर ISI कोलकाता में नौकरी की।

वैवाहिक जीवन नहीं रहा सफल 

उनका विवाह साल 1973 में वंदना रानी सिंह के साथ हुआ. अपनी शादी के कुछ समय बाद ही वे मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया से पीड़ित हो गए और कुछ समय बाद उनकी पत्नी ने उनसे तलाक ले लिया था। आपको बता दें, उन्हें ये बीमारी पिछले 40 सालों से थी।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
Advertisement
MUZAFFARPUR13 mins ago

ईमानदारी की दुकान चला रहे बच्चे

MUZAFFARPUR27 mins ago

मुजफ्फरपुर में 45 साल के बूढ़े आदमी के साथ लड़की का अ’श्लील वीडियो वायरल

vashishtha-narayan-singh
BIHAR2 hours ago

श्रद्धांजलि: 31 कंप्यूटर्स से भी तेज चलता था गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का दिमाग

INDIA4 hours ago

झारखंड में BJP को बड़ा झटका दे सकती है JDU-LJP, साथ चुनाव लड़ने के दिए संकेत

BIHAR6 hours ago

गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह के नाम पर सरकार खोलेगी इंजीनियरिंग कॉलेज, CM ने परिजनों को दिया भरोसा

BIHAR6 hours ago

वशिष्ठ नारायण सिंह के पार्थिव शरीर को एम्बुलेंस नहीं मिला, मुख्यमंत्री आने को हुए तो अधिकारियों ने रेड कारपेट बिछा दी

INDIA6 hours ago

तेज प्रताप यादव ने BMW कार की आटो से ट’क्कर के बाद मांगा 1,80,00 ह’र्जा’ना, चालक को पी’टा

MUZAFFARPUR7 hours ago

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड की सुनवाई टली, वकीलों के स्ट्राइक के कारण महापापियों को आज नहीं मिली सजा

INDIA7 hours ago

Children’s Day: गुरुग्राम की दिव्यांशी सिंघल को इस तस्वीर के लिए Google देगा 7 लाख की स्कॉलरशिप

BIHAR8 hours ago

वशिष्ठ नारायण सिंह को CM नीतीश ने दी श्रद्धांजलि, लेकिन PMCH नहीं दे सका एंबुलेंस

INDIA4 weeks ago

तेजस एक्सप्रेस की रेल होस्टेस को कैसे परेशान कर रहे लोग?

BIHAR3 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

BIHAR2 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के नदीम का भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम में चयन, जश्न का माहौल

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के लाल शाहबाज नदीम का क्रिकेट देखेगा पूरा विश्‍व, भारतीय टीम में शामिल होने पर पिता ने कही बड़ी बात

BIHAR2 weeks ago

मदीना पर आस्‍था तो छठी मइया पर भी यकीन, 20 साल से व्रत कर रही ये मुस्लिम महिला

BIHAR2 weeks ago

प्रत्यक्ष देवता की अनूठी अराधना का पर्व है छठ व्रत, जानें अनूठी परंपरा के बारे में कुछ खास बातें

MUZAFFARPUR3 weeks ago

धौनी ने नदीम से मिलकर कहा, गेंदबाजी एक्शन ही तुम्हारी पहचान

BIHAR4 weeks ago

अगले 10 दिनों तक भगवानपुर – घोसवर रेल मार्ग रहेगी बाधित, जाने कौन कौन सी ट्रेनें रहेंगी रद्द

RELIGION4 weeks ago

कब से शुरू हुई छठ महापर्व मनाने की परंपरा, जानिए पौराणिक बातें

Trending