Connect with us

BIHAR

‘मूर्खता के इस गणराज्य में वशिष्ठ बाबू को पागल होना ही बदा था’

Santosh Chaudhary

Published

on

इस देश में कोई नेता मरता है तो हम तुरंत गूगल कर के उसके किए काम और पद देखते हैं. कोई लेखक मरता है तो हम तुरंत उसकी लिखी किताबों के नाम खोजते हैं. कोई अभिनेता गुज़र जाए तो हम उसकी क्लासिक फिल्मों को गिनवाते हैं. कोई वैज्ञानिक नहीं रहता तो हम उसे मिले पुरस्कारों के नाम खोजते हैं. किसी शख्सियत के निधन पर कुछ न कुछ मिल ही जाता है हमें लिखने को. यह दिखाने को, कि हम भी उसके बारे में थोड़ा-बहुत जानते थे.

वशिष्ठ नारायण सिंह की मौत पर महज एक विशेषण और दो किंवदंतियों के अलावा किसी को अब तक कुछ भी नहीं मिला, कि श्रद्धांजलि लिखने में दूसरों से थोड़ा आगे बढ़ सके. उस रचना को सराह सके जिसका पर्याय यह गणितज्ञ रहा. थोड़ा पढ़े, लिखे, समझे और विवेक व करुणा दोनों के साथ लोगों को समझा सके कि जिस शख्स के शव को एंबुलेंस तक मयस्सर नहीं हुई, आखिर वह “महान” क्यों था.

कवि अपनी कविता के बगैर क्या है? रचनाकार अपनी रचना के बगैर क्या है? वैज्ञानिक अपनी खोज के बगैर क्या है? इतिहासकार, इतिहास के बगैर क्या है? मनुष्य अपने काम से महान बनता है. अगर समाज को उसका काम ही समझ में न आवे, समाज में एक भी शख्स उसके काम को जानने-समझने की असफल कोशिश तक न करे और उसके मरने पर एक स्वर में महान-महान चिल्लाने लगे, तो यह श्रद्धांजलि नहीं बेइज्जती कही जाएगी.

वे जिंदा रहे तब भी यही किंवदंतियां उन्हें घेरे हुए थीं. मरने पर भी उतना ही मसाला है लोगों के पास लिखने को. मानवीय स्तर पर उन्हें कुछ लोगों से मिली सेवा, मदद, इलाज को छोड़ दें तो सच यही है कि वशिष्ठ नारायण सिंह बहुत पहले गुज़र चुके थे. बस औपचारिक घोषणा आज हुई है. किसी भी रचनाकार की तब मौत हो जाती है जब उसकी रचना समाज के लिए कारगर नहीं रह जाती. वशिष्ठ नारायण सिंह की रचना को लेकर यह किंवदंती-प्रेमी समाज कब जागरूक था, मुझे गंभीर संदेह है.

vashishtha-narayan-singh

क्या आइंस्टीन की थियरी को चुनौती देना या नासा में काम करना “महान” होने की कसौटी है? बार-बार इन अपुष्ट बातों को जिस तरीके से श्रद्धांजलियों में लिखा गया है, वह इस समाज के पेशेवर और गैर-पेशेवर स्मृति-लेखकों की बौद्धिक दरिद्रता व आलस्य को दिखाता है. कुछ लोग अब कह रहे हैं कि समाज ने इस प्रतिभा को नहीं पहचाना. यह बात सरासर गलत है. पलट सवाल है कि क्या ऐसा कहने वालों ने उनके काम को पहचानने की कोशिश की? दरअसल, हमारे समाज को अपनी “प्रतिभाओं” की रचनाओं से कोई सरोकार नहीं है. वरना यह समाज तो प्रतिभाहीनों को भी सिर पर बैठाने का आदी रहा है!

यह सच है कि सिंह ने जो शोध बर्कले में किया था, वह सामान्य आदमी की समझ में आने लायक चीज़ नहीं है. यह बात हालांकि सीवी रमन, रामानुजम, जेसी बसु के साथ भी लागू होगी, पर हमने इन्हें तो पर्याप्त तवज्जो दी? कहीं हमने इन्हें भी तो बिना पढ़े-समझे महान नहीं बना दिया? कहीं ऐसा तो नहीं कि जिन्हें यह समाज याद रखता है और जिन्हें भूल जाता है, दोनों को महान बनाने के पीछे की मानसिकता एक ही है?

आइये, वशिष्ठ जी को एक बार शांत छोड़कर थोड़ा दूसरी दिशाओं में चलते हैं. कल जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन था. ट्विटर पर अंग्रेज़ी और हिंदी में ‘ठरकी दिवस’ हैशटैग ट्रेंड करता रहा दिन भर. नेहरू को तो हम लोग बचपन से ही पर्याप्त पढ़ते, समझते और जानते हैं. फिर ऐसा क्यों हुआ? क्यों होने दिया गया? महात्मा गांधी को लीजिए. आज उनके हत्यारे नाथूराम गोडसे की पुण्यतिथि तमाम जगहों पर बड़ी धूमधाम से मनायी जा रही है. गांधीजी को तो हम सब अच्छे से जानते हैं. फिर इस समाज में उनके हत्यारे का महिमामंडन क्यों हो रहा है? उसकी स्वीकार्यता क्यों बढ़ती जा रही है? कल ही स्वामी विवेकानंद की अनावृत्त प्रतिमा के साथ जेएनयू में छेड़छाड़ की घटना सामने आयी. इसकी प्रतिक्रिया में ‘जेएनयू बंद करो’ का नारा कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर उछाल दिया. मामला केवल प्रतिमा के अनादृत होने का है क्या? स्वामी विवेकानंद ने जो कुछ कहा और लिखा, उससे किसी को मतलब है भी या नहीं?

ये तीनों उदाहरण पहली नज़र में राजनीतिक सत्ता और उसके बनाये माहौल से जाकर जुड़ते लगते हैं. थोड़ा भीतर उतरकर देखें तो गांधी और नेहरू के प्रति बढ़ती नफ़रत, गोडसे से बढ़ता प्रेम और मूर्तियों का मोह जो इस बीच उभर कर सामने आ रहा है वह हमारे समाज के अतीत के बारे में आखिर क्या बताता है? अगर किसी राजनीतिक गिरोह का दुष्प्रचार इतना ही ताकतवर होता तो सभी पर समान रूप से असर क्यों नहीं करता? क्यों कुछ मुट्ठी भर लोग- जिन्हें तंज की लोकप्रिय भाषा में आजकल “बुद्धिजीवी” कहा जाता है- अब भी इससे अप्रभावित हैं, जबकि व्यापक समाज अपनी चुनी सरकारों के गढ़े नये नायकों और खलनायकों की ओर झुकता जा रहा है? आप वशिष्ठ नारायण सिंह की मौत पर गिनकर पहचान करें कि किन लोगों ने उनके बारे में सोशल मीडिया या दूसरे मंचों पर सहानुभूति से लिखा है. मोटे तौर पर ये वही लोग हैं जो लगातार गांधी, नेहरू को भी सहानुभूतिपूर्वक डिफेंड करते हैं.

इसका मोटा सा मतलब यह निकलता है कि आज़ादी के बाद हमने जो समाज बनाया, उसने “महान” लोगों के कहे-लिखे का ज्यादा लोड नहीं लिया. उन्हें सुना नहीं, पढ़ा नहीं. पीढ़ी दर पीढ़ी बताया जाता रहा कि फलाने “महान” हैं और अगली पीढ़ी मानती रही. जिन्हें खलनायक बताया गया, वे इस समाज के खलनायक बने रहे. यह श्रुति परंपरा का समाज था जो पढ़ता-लिखता नहीं है. जहां सबसे लोकप्रिय साहित्य रामचरितमानस है, जिसे रटकर बिना समझे गाया जा सकता है. ऐसा समाज मूर्तियां गढ़ता है. जीते जी और मरने के बाद बस माला पहनाता है. महान बनाता है. फ़र्क इतना है कि कोई जीते जी महानता को प्राप्त हो जाता है, कोई मरने के बाद. निज़ाम बदलता है, पीढ़ी बदलती है तो इस कहा-सुनी में समाज के नायक भी बदल जाते हैं, जैसा हमारे यहां आज हो रहा है. एक चीज़ बस नहीं बदलती है- अपढ़ रहने की सामूहिक क्षमता.

ऐसे एक समाज में वशिष्ठ नारायण सिंह का भुला दिया जाना अपने आप में कुछ खास अफ़सोस की बात नहीं होना चाहिए. जिन्हें निजी स्तर पर उनकी सुध लेना थी, उन्होंने ली ही. हां, मरने के बाद उन्हें महान बताया जाना और महानता के पीछे की वजह को नासा और आइंस्टीन से जुड़ती (संदिग्ध) किंवदंतियों में छुपा लिया जाना हमारे समाज के एक अतिरिक्त लक्षण को बताता है- कि यह समाज आलसी भी है. जिस समाज में मनुष्य अपढ़ हो और आलसी भी, वहां विवेक नहीं फलता. ज्ञान-विज्ञान उसे दूर से देखकर भागते हैं. इसीलिए देश का मुखिया साइंस कांग्रेस में इंसान को हाथी की सूंड़ लगा देने को पहली सर्जरी बताता है और जनता अश-अश कर उठती है. वह बादलों में राडार को छुपा लेता है, लोग अभिनंदन करते हैं. मूर्खता के इस गणराज्य में वशिष्ठ बाबू को पागल होना ही बदा था.

इस संकट को आप दो परिघटनाओं में देख सकते हैं, वेरिफाइ कर सकते हैं- विज्ञान के विद्यार्थियों में अवैज्ञानिक विचारों का आकर्षण और गणित शिक्षण के कारण विद्यार्थियों के बीच खुदकुशी की दर. एक परिघटना कुपढ़ता की निशानी है और दूसरी आलस्य की. विज्ञान और मानविकी के छात्रों के अलहदा वैचारिक रुझानों पर काफी शाेध हो चुका है. मेरा एक सहपाठी नासा में बरसों से काम कर रहा है, लेकिन वह महान नहीं है. वह स्थानीय विश्व हिंदू परिषद का संगठकर्ता है. अपवाद हो सकते हैं. हर जगह होते हैं. गणित की स्थिति ज्यादा त्रासद है. वशिष्ठ बाबू स्वस्थ और जीवित होते तो गणित की दरिद्रता से जूझ रहे इस मुल्क का दुख ही मनाते, कुछ कर नहीं पाते. शायद, फिर पागल हो जाते.

एक बार गूगल पर लिखिए “गणित खुदकुशी”. उसके बाद एक के बाद एक ख़बर देखते जाइए. तेलंगाना में इस साल जब दसवीं और बारहवीं की परीक्षा के नतीजे आए तो 18 छात्रों ने गणित में फेल होने के चलते अपनी जान दे दी. प्रतियोगी परीक्षाओं के कोचिंग केंद्रों की राजधानी कोटा में खुदकुशी की लहलहाती कहानियों से हम सब वाकिफ़ हैं. हर गर्मी में वहां लाशों की नयी फसल कमरों के पंखे से उगती है.

छात्र ही क्यों, दुनिया भर में अब तक कुल 22 गणितज्ञों ने खुदकुशी की है. कम लोग जानते हैं कि हमारे महान गणितज्ञ रामानुजम ने भी 37 साल की अवस्था में आत्महत्या की थी. एक गणितज्ञ की आत्महत्या हालांकि एक गणित-भीरू समाज की आत्महत्याओं से गुणात्मक रूप से उलट होती है. गणितज्ञ प्रचुर संख्या में पागल भी हो जाते हैं. रूस के ग्रेगरी पेरेलमैन इसका ताज़ा उदाहरण हैं. वशिष्ठ बाबू भी पागल हो गए थे.

पागल हो जाना तीक्ष्ण प्रतिभा का द्योतक नहीं है, जैसा कि यह समाज समझता है. आदमी पागल इसलिए हो जाता है क्योंकि उसे समझने वाला समाज में उसे कोई नहीं दिखता. विज्ञान पढ़कर अवैज्ञानिकता की सेवा करने वाला और गणित पढ़ने के नाम पर पेट में दर्द के बहाने बनाने वाला समाज अपढ़, कुपढ़ और आलसी और ज्ञानभीरू समाज है. इस समाज में अपने बच्चे का वशिष्ठ नारायण सिंह होना किसी को स्वीकार्य नहीं है. यह सामान्य से एक विचलन है.

इसीलिए उन्हें जीते जी इस समाज की स्वीकार्यता नहीं मिली- वेक्टर स्पेस, हिलबर्ट स्पेस या केर्नल जैसी गणितीय अवधारणाओं को पढ़कर समझना तो इस समाज के लिए माउंट एवरेस्ट चढ़ने से भी घातक काम है, इसलिए वशिष्ठ बाबू की बहुउद्धृत थीसिस को तो भूल ही जाएं. उसके शीर्षक का एक-एक शब्द इस देश के नागरिकों के लिए हिब्रू से कम नहीं है.

वशिष्ठ नारायण सिंह का जाना तो फिर भी एक खास हलके में नोटिस लिया गया. एंबुलेंस के लिए निशाने पर आये प्रशासन और सरकार ने नीतिश कुमार के लिए मैयत में लाल कालीन बिछाकर बेशर्म खानापूर्ति भी कर दी. हो सकता है कल को उनके नाम पर कोई कॉलेज आदि बना दिया जाए. मूर्ति भी लगवा दी जाए. वशिष्ठ बाबू अमर हो जाएंगे. कुछ साल बाद वे लोग भी काल कवलित हो जाएंगे जिन्होंने उन्हें साबुत देखा था. उनकी रचना मने थीसिस शायद इस देश के खत्म होने तक इस समाज को समझ न आवे. महान बनाने के कारखाने में क्या फ़र्क पड़ता है किसी को? जब महान ही बनाना राष्ट्रीय धर्म है तो कल को गोडसे भी महान हो जाएगा!

वैसे, क्या आपने देश के उन 11 न्यूक्लियर वैज्ञानिकों का नाम सुना है जो रहस्यमय परिस्थितियों में 2009 से 2013 के बीच अपनी लैब में मारे गये? परमाणु ऊर्जा विभाग से एक आरटीआइ के जवाब में यह आंकड़ा किसी को मिला था. अब सोचिये, कौन ज्यादा सौभाग्यशाली निकला?

क्या आप अलेक्जेंडर ग्रोथेनडीक को जानते हैं? जिस दौरान वशिष्ठ बाबू बर्कले में जॉन केली के निर्देशन में पीएचडी कर रहे थे, उसी दौरान 1966 में अलेक्जेंडर ग्रोथेनडीक नाम के एक गणितज्ञ को गणित का सबसे बड़ा पुरस्कार फील्ड्स मेडल दिया गया था, लेकिन रूसी सरकार की तानाशाही कार्रवाइयों का विरोध करते हुए उन्होंने मेडल लेने के लिए मॉस्को जाने से इनकार कर दिया. अगले साल जब अमेरिका ने वियतनाम पर हमला किया, तो अमेरिका के इस कृत्य के विरोध में अलेक्जेंडर जबरन हनोई में एक लेक्चर देने बमबारी के बीच चले गए थे. रिटायर होने के बाद यह आदमी भी 1988 में अपने गांव चला गया था. 2014 में अपनी मौत तक यह गणितज्ञ अपने गांव के घर में अकेले पड़ा रहा. लाश उठाने वाला भी कोई नहीं मिला इसे. एंबुलेंस यहां भी नहीं आयी थी.

ग्रेगरी पेरेलमैन, जिनका नाम मैंने पहले लिया, उन्होंने 2006 का फील्ड्स मेडल ठुकरा दिया था. गणित के छह अनसुलझे ऐतिहासिक सवालों में से एक पोआंकरे कंजेक्चर को सुलझाने वाला यह शख्स बरसों से अपने कमरे में बंद पड़ा है. किसी पत्रकार ने कुछ साल पहले उन्हें अपनी मां के साथ टहलते हुए देख लिया था. वह आखिरी बार था. इसके बाद वे नहीं दिखे.

गणित पढ़ने और इसमें रमने वालों की त्रासदी दुनिया की शायद सबसे प्राचीन और सर्वाधिक मानवीय त्रासदियों में एक है. इसकी वजह बस इतनी सी है कि हमारा समाज गणित का मतलब लाभ, हानि और ब्याज मापने तक ही समझना चाहता है. भारत जैसे देश में, जिसके मुखिया के खून में व्यापार दौड़ता है, वशिष्ठ नारायण सिंह का सौभाग्य कहें कि उन्हें याद करने वाले मुट्ठी भर लोग अब भी बचे हुए थे, जिनकी आंख में पानी शेष है. विडम्बना कहेंगे कि यही उनका दुर्भाग्य भी है. उन्हें याद तो किया गया, लेकिन उनकी रचना को याद किए बगैर. केवल किंवदंतियों में. एक घिस चुके विशेषण के साथ.

जीते जी किंवदंती बन चुके इस गणितज्ञ की मौत अपने आप में यह बताने के लिए काफी है कि भारतीय समाज अज्ञानता, तर्कहीनता, मूर्खता, अहंकार, आलस्य और महत्वाकांक्षा के जिस अंधेरे गड्ढे में स्वेच्छा से जा रहा है, उसके ठोस कारण क्या हैं.

मीडिया विजिल  से  साभार 

Courtesy : News Laundry

BIHAR

बिहारी परिवारों को उल्टा- सीधा और नीच सोच का कहने वाली ज्योति यादव जैसी पत्रकार को हम कब जवाब देंगे

Abhishek Ranjan Garg

Published

on

ज्योति यादव एक साधारण वेबसाइट में मामूली सी पत्रकार है, जो हमेशा उल्टा- सीधा और लोगो के ध्यान खींचने के लिये अनर्गल बात करते रहती है. सुशांत मामले में लोगो का ध्यान अपनी तरफ लाने के लिये ज्योति ने नीचता की सारी हद पार कर दी और बिहार के परिवारों के ख़िलाफ़ अपने लेख से भड़ास निकालने लगी उन्होंने एक लेख निकाला जिसमें वो सुशांत के मौत का जिम्मेदार उसके परिवार को ही ठहराने के लिये ढ़ेरो तरह का अनर्गल विलाप किया.

ज्योति ने अपने बकवास लेख में कई अनपढ़ वाले तथ्य दिए है जिसमें वो कहती है कि बिहारी परिवार अपने बच्चों को मॉडर्न श्रवण कुमार बनने का दबाव डालते रहते है और हर गलती का आरोप अपने बेटे के महिला मित्र पर लगाते है. इतना कहते हुये ज्योति यादव अपनी घटिया मानसिकता का परिचय देंते हुये बिहार को पितृसत्तात्मक बता देती है. ज्योति यादव शायद नहीं जानती की जितनी इज्जत बिहार में महिलाओं को परिवार में दी जाती है शायद ही कही हो. ज्योति छोटी मानसिकता की एक ऐसी पत्रकार है जिनकी बिहारियों से नफ़रत उनके लेख से साफ झलकती है. उनके लेख को पढ़कर यह साफ होता है कि बिहारियों के प्रति नफ़रत और घृणा फैलाना इनके एजेंडा में है.

Image may contain: 1 person, close-up, text that says "Prant Off The"

ज्योति यादव अपने लेख में कहती है कि बिहार की पितृसत्तात्मक है ऐसा शायद वो इसलिये सोचती है क्योंकि उन्हें एक ख़ास एजेंडा को फैलाना है और सुशांत के आरोपियों को बचाना है. ज्योति यादव शायद कभी बिहार नहीं आयी है उन्होंने मन ही मन बिहार के प्रति अपने नफरत को इस लेख में जाहिर कर दिया है. बिहार के परिवार वाले अपने बच्चों से प्यार नही करते ऐसा कहने वाली ज्योति को शायद उनके घर मे प्यार और सही शिक्षा नही मिला है तभी वो ऐसी घृणित सोच को समाज मे फ़ैला रही है.

ज्योति यादव का बिहार के प्रति नफ़रत किस बात का यह तो नहीं मालूम लेक़िन ज्योति ने अपने लेख के माध्यम से बिहार के लोगो को नीचा दिखाने का पूरा प्रयास किया है और सुशांत मामले में एक अनर्गल विलाप शुरू करने का प्रयास किया है. ऐसे लेखों के माध्यम से ज्योति यादव जैसी पत्रकार सुशांत मामले को भटकाने का प्रयास में लगी है.

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर : दो साल से सैंकड़ो ग़रीब बच्चों को मुफ़्त में पढ़ा रहे- अभिषेक रंजन और उज्जवल कुमार

Muzaffarpur Now

Published

on

शिक्षा ही गरीबी से बाहर निकलने का सबसे बड़ा हथियार है. जबतक ग़रीब और दलित परिवार के बच्चों को शिक्षा नहीं दिया जायेगा तबतक समाज की ग़रीबी समाप्त नहीं हो सकती और मुजफ्फरपुर निवासी अभिषेक रंजन और उज्जवल कुमार ने इस बात को बखूबी समझा.

मुजफ्फरपुर में कन्हौली विष्णुदत्त स्थित मोहन सहनी टोला में अभिषेक रंजन और उज्जवल कुमार पिछले दो वर्षों से निःशुल्क स्कूल चला रहे है. इन दोनों दोस्तों ने अपने पैसों से गांव में स्मार्ट क्लास का निर्माण भी कराया है. गांव के बच्चों को स्मार्ट टीवी के माध्यम से ये दोनों साथी मुफ्त में आधुनिक शिक्षा दे रहे है.

फ्री स्मार्ट स्कूल चलाने और देशहित के कामों के लिये अभिषेक रंजन और उज्जवल कुमार ने जर्नलिस्ट फॉर सोशल रिफॉर्म (जे.एस.आर) नाम से संस्था भी बनाया है. अब इसी जे.एस आर के बैनर तले दोनों तक़रीबन 110 बच्चों को रोज़ाना फ्री में पढ़ा रहे है.

संस्था के तहत इन्होंने फ्री स्कूल की शुरुआत 2018 में की तबसे वहां एक नियमित शिक्षक उपलब्ध करा रोजाना बच्चों की पढ़ाई चल रही है. जिस इलाके में इन्होंने स्कूल बनाया है वह मूलतः दलित बस्ती है जहाँ बच्चों के साफ-सफाई और रहन सहन में ढ़ेरो परेशानी थी. फ्री स्कूल के माध्यम से बच्चो को सफाई का भी पाठ पढ़ाया जाता है. नियमित हाथ धोना, नहाना और नाखून सही समय पर काटने के लिये भी बच्चों को प्रेरित किया जाता है.

अभिषेक रंजन और उज्जवल ने जब कन्हौली के मोहन सहनी टोला में फ्री स्कूल की शुरुआत की थी तब वहां 20-25 बच्चें ही आते थे. अब धीरे- धीरे संख्या बढ़कर 110 बच्चों तक पहुँच गया है. स्मार्ट टीवी से पढ़ाई होने के कारण बच्चों को पढ़ने में भी अधिक मन लगने लगा है. जे.एस.आर के माध्यम से समय-समय पर बच्चों का मुफ़्त स्वास्थ जांच भी कराया जाता है और अन्य एक्स्ट्रा एक्टिविटी भी कराई जाती है.

स्कूल के संस्थापक अभिषेक रंजन और उज्जवल कुमार बताते है कि कोरोना के मद्देनजर अभी स्कूल बंद है, लेकिन खुलते ही बच्चों को मास्क और सेनिटाइजर दिया जाएगा और समाजिक अनुशासन पर विशेष बल दिया जायेगा. संस्थापक ने बताया कि जे.एस.आर फ़्री स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों का पूर्व में भी स्वास्थ जांच होता रहा है अब इन चीजों पर और विशेष ध्यान दिया जाएगा.

समाज में शिक्षा का अलख जगाने के लिये इन दोनों दोस्तों का यह कदम सराहनीय है. इनसे प्रेरणा लेकर और भी लोगों को ऐसा क़दम उठा देश निर्माण मे योगदान करना चाहिए.

Continue Reading

BIHAR

सुशांत के भाई संजय राउत पर करेंगे मानहानि का केस, पिता पर दूसरी शादी करने का लगाया था आरोप

Munna Kumar

Published

on

सुशांत सिंह राजपूत के भाई और बीजेपी विधायक नीरज कुमार बब्लू ने कहा कि वह शिवसेना और संजय राउत के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज कराएंगे. संजय राउत मेरे परिवार को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं. नीरज ने कहा कि जो संजय राउत ने बयान दिया है कि सुशांत के पिता केके सिंह ने दो शादी की थी यह बात गलत है.

सुशांत सिंह राजपूत का बिहार कनेक्शन ...

सुशांत के पिता पर दूसरी शादी करने का लगाया था आरोप

शिवसेना सांसद संजय राउत रिया चक्रवर्ती से भी गंदी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं. संजय राउत ने कहा कि सुशांत के पिता केके सिंह ने दूसरी शादी कर ली थी. जिसके कारण ही सुशांत और उनके पिता के रिश्ते खराब हो गए हैं. संजय रावत ने कहा है कि सुशांत के पिता पटना में रहते है. संजय रावत ने कहा कि दूसरी शादी करने कारण ही सुशांत सिंह का पिता से कोई भावनात्मक लगाव नहीं था.केके सिंह को किसी ने गुमराह किया है. गुमराह के कारण ही वह पटना में रिया चक्रवर्ती के खिलाफ केस दर्ज कराया है.

Sushant Singh Rajput Death News: Actor Sushant Singh Rajput Passes ...

अंकिता ने क्यों छोड़ा साथ

संजय रावत ने बिहार पुलिस के साथ दे रही अंकिता लोखंडे पर भी निशाना साधा है. कहा कि सुशांत  की जिंदगी में दो लड़की आई अंकिता लोखंडे और और रिया चक्रवर्ती की आई. लेकिन अंकिता ने तो साथ छोड़ दिया था. लेकिन रिया तो उनकी साथ में थी. संजय रावत ने कहा कि आखिर अंकिता लोखंडे सुशांत सिंह राजपूत से अलग क्यों हुई इसकी भी जांच होनी चाहिए. अब सवाल उठ रहा है कि आखिर शिवसेना सांसद संजय रावत को आखिर सीबीआई जांच से क्यों परेशानी हो रही है कि कभी वह नीतीश कुमार तो कभी बिहार के डीजीपी गुप्तेशवर पांडेय तो कभी सुशांत के परिवार पर बोल रहे हैं.

Input : First Bihar

Continue Reading
INDIA14 mins ago

रिया चक्रवर्ती ने CBI जांच का विरोध किया, सुप्रीम कोर्ट में दिया हलफनामा

BIHAR2 hours ago

बिहारी परिवारों को उल्टा- सीधा और नीच सोच का कहने वाली ज्योति यादव जैसी पत्रकार को हम कब जवाब देंगे

MUZAFFARPUR3 hours ago

मुजफ्फरपुर : दो साल से सैंकड़ो ग़रीब बच्चों को मुफ़्त में पढ़ा रहे- अभिषेक रंजन और उज्जवल कुमार

BIHAR3 hours ago

सुशांत के भाई संजय राउत पर करेंगे मानहानि का केस, पिता पर दूसरी शादी करने का लगाया था आरोप

INDIA3 hours ago

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजीटिव, ट्वीट कर दी जानकारी

INDIA3 hours ago

Chinese Troops ने पाकिस्तानी सैनिकों को जमकर पीटा, जानें आपस में क्यों भिड़े ‘जिगरी यार’

INDIA4 hours ago

रिया चक्रवर्ती फिर से पहुंची ईडी दफ्तर, नए सवालों का जवाब देने में छूटेगा पसीना

INDIA5 hours ago

‘जय श्रीराम’ और मोदी जिंदाबाद ना बोलने पर बुजुर्ग ऑटो रिक्शा ड्राइवर के साथ मारपीट

BIHAR5 hours ago

IPS विनय तिवारी को CBI में भेजने वाले अटकलों को उन्होंने खुद बताया गलत, निराश हुए लोग-

HEALTH6 hours ago

WHO की चेतावनी- वैक्सीन कोई जादुई गोली नहीं होगी, जो पलक झपकते ही खत्म कर देगी वायरस

BIHAR3 days ago

भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने की खुदकुशी, मरने से पहले किया फेसबुक लाइव

INDIA4 weeks ago

सलमान खान ने शेयर की किसानी करने की ऐसी तस्वीर, लोगों ने जमकर सुनाई खरीखोटी

INDIA4 weeks ago

एक दूल्हे के संग दो दुल्हनों ने लिए फेरे : एक गर्लफ्रेंड, दूसरी मम्मी-पापा की पसंद, Video देखें

INDIA3 weeks ago

वाहनों में अतिरिक्त टायर या स्टेपनी रखने की जरूरत नहीं: सरकार

BIHAR6 days ago

UPSC में छाए बिहार के लाल, जानिए कितने बच्चों का हुआ चयन

BIHAR4 weeks ago

बिहार लॉकडाउन: इमरजेंसी हो तभी निकलें घर से बाहर, नहीं तो जब्त हो जाएगी गाड़ी

MUZAFFARPUR5 days ago

उत्तर बिहार में भीषण बिजली संकट, कांटी थर्मल पावर ठप्प

BIHAR1 week ago

पप्पू यादव का खतरनाक स्टंट: नियमों की धज्जियां उड़ा रेल पुल पर ट्रैक के बीच चलाई बुलेट, देखें VIDEO

MUZAFFARPUR2 days ago

बिहार के प्रमुख शक्तिपीठों में प्रशिद्ध राज-राजेश्वरी देवी मंदिर की स्थापना 1941 में हुई थी

BIHAR21 hours ago

IPS विनय तिवारी शामिल हो सकते है, सुशांत केस की CBI जांच टीम में…

Trending