सीपीई स्टेटस प्राप्त एमडीडीएम में 100 सीटों पर होगी बीएड की पढ़ाई

0
44
MDDM, Muzaffarpur
Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सूबे के एकमात्र सीपीई (कॉलेज विथ पोटेंशियल फॉर एक्सीलेंस) स्टेट्स प्राप्त एमडीडीएम कॉलेज में बीएड की पढ़ाई का रास्ता साफ हो गया है। महंथ दर्शन दास महिला महाविद्यालय को एनसीटीई यानि राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद ने वर्ष 2018-20 से बीएड की पढ़ाई शुरू करने की अनुमति दे दी है। इस संबंध में काउंसिल ने कॉलेज को एलओआई (लेटर ऑफ इंटेंट) भेज दिया है। यह जानकारी कॉलेज की प्राचार्या डॉ. ममता रानी ने दी। उन्होंने बताया कि एनसीटीई ने दो यूनिट (100 सीटों) पर बीएड की पढ़ाई की मंजूरी दी है। इसको लेकर कॉलेज को एलओआई भेजकर सत्र 2018-20 से बीएड कोर्स शुरू करने की अनुमति दी है।

अब इसके लिए विवि को आगे की प्रक्रिया पूरी करने के लिए खिला जाएगा। इस बहुप्रतीक्षित कोर्स के शुरू होने से लड़कियों का काफी फायदा होगा। विवि के इकलौते अंगीभूत महिला कॉलेज को बीएड की पढ़ाई शुरू किए जाने की मंजूरी मिली है। प्रेस वार्ता के दौरान प्रशाखा पदाधिकारी विजय कुमार, विवेक रंजन अस्थाना और प्रभात कुमार मौजूद थे।

MDDM, Muzaffarpur

सत्र 2018-20 के तहत दो यूनिट में शुरू कराई जाएगी पढ़ाई 

बहुप्रतीक्षित कोर्स के शुरू होने से छात्राओं की पढ़ाई होगी आसान

बिहार विश्वविद्यालय का इकलौता अंगीभूत महिला कॉलेज है एमडीडीएम 

सितंबर में हुआ था निरीक्षण

सितंबर महीने में भुवनेश्वर से पहुंची दो सदस्यीय टीम ने कॉलेज की सुविधाओं का निरीक्षण कर इसकी रिपोर्ट एनसीटीई को सौंपी थी। टीम ने लैब, लाइब्रेरी, स्टाफ रूम, कॉमन रूम, क्लास रूम से लेकर जिम और स्पोर्ट्स की सुविधाओं की पड़ताल की थी। टीम में सुशांत राउल और बीरबल साहा मौजूद थे।

9 वर्ष के लंबे इंतजार के बाद मिली कामयाबी 

एमडीडीएम कॉलेज में बीएड की पढ़ाई के लिए 2008 से ही प्रयास किया जा रहा था। सारी प्रक्रिया पूरी हो गई थी। नामांकन के लिए आवेदन भी ले लिए गए। लेकिन अंतिम समय में एनसीटीई ने कोर्स को शुरू करने पर रोक लगा दी। इससे उत्तर बिहार के प्रीमियर महिला कॉलेज को झटका लगा था। प्राचार्या ने बताया कि आगे सेलेक्शन कमेटी का गठन और विवि की ओर से यूआर (यूनिवर्सिटी रिप्रेजेंटेटिव) तय किया जाएगा। इसके बाद नियुक्ति की प्रक्रिया होगी। तमाम जानकारी हार्ड कॉपी में एनसीटीई की भेजी जाएगी। एनसीटीई के गाइडलाइन के हिसाब से मान्यता हासिल होगा।

अभी 3 अंगीभूत कॉलेजों में होती है बीएड की पढ़ाई

बीआरए बिहार विवि के चौथे अंगीभूत कॉलेज में बीएड की पढ़ाई होगी। इससे पहले एलएन कॉलेज भगवानपुर, सीएन कॉलेज साहेबगंज और टीपी वर्मा कॉलेज नरकटियागंज ही विकल्प होता था। लेकिन अब शहर में छात्राओं और महिलाओं को एमडीडीएम में यह सुविधा मिलेगी।

Source : Dainik Bhaskar

 यह भी पढ़ें -» पटना स्टेशन स्थित हनुमान मंदिर, जानिए क्यों है इतना खास

यह भी पढ़ें :ट्रेन के लास्ट डिब्बे पर क्यों होता है ये निशान, कभी सोचा है आपने ?


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •