पुराने समय में एक किसान की फसल बार-बार बर्बाद हो रही थी। उसे समझ नहीं आ रहा था कि ऐसा क्यों हो रहा है। बहुत सोचने के बाद उसे याद आया कि उसके खेत में सांप का एक बिल है, लेकिन उसने कभी भी नाग देवता की पूजा नहीं की। शायद इसी वजह से हर साल उसकी फसल खराब हो रही है।

» किसान ने नाग देवता से क्षमा मांगी और उनके लिए एक कटोरा दूध रोज रखने का संकल्प कर लिया। उस शाम खेत में एक कटोरा दूध रख दिया। किसान जब सुबह कटोरा लेने गया तो उसने देखा कि कटोरे के नीचे सोने का एक सिक्का रखा हुआ है। किसान सिक्का पाकर बहुत खुश हुआ। इसके बाद किसान रोज शाम को दूध रखता और सुबह उसे एक सोने का सिक्का मिल जाता।

» कुछ दिन बाद किसान को कहीं बाहर जाना था। उसने अपने बेटे से कहा कि आज शाम को तुम नाग देवता के लिए दूध रख आना, सुबह कटोरा और सिक्का ले आना। बेटे ने कहा कि ठीक है, आज मैं चले जाऊंगा।

Digita Media, Social Media, Advertisement, Bihar, Muzaffarpur

» शाम को बेटा दूध रख आया। सुबह जब वह कटोरा लेने गया तो उसने सोचा कि सांप बहुत कंजूस है, उसके पास बहुत सारे सिक्के हैं, लेकिन वह रोज एक ही देता है। क्यों न मैं सांप को मार दूं और उसके बिल से सारे सिक्के निकाल लूं। ऐसा सोचकर उसने एक डंडे से सांप को मारने की कोशिश की, लेकिन सांप बच गया। सांप ने खुद की रक्षा के लिए किसान के बेटे को डंस लिया और वह उसी समय मर गया।

कथा की सीख

» इस कथा की सीख यही है कि हमें किसी भी स्थिति में लालच नहीं करना चाहिए। किसान के बेटे ने लालच में खुद के प्राण गंवा दिए। लालच की वजह से किसी भी व्यक्ति का जीवन बर्बाद हो सकता है। इस बुराई से सभी को बचना चाहिए।

Input : Dainik Bhaskar

Total 0 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?