Connect with us

BIHAR

खाक से फलक तक : 18 साल की उम्र में घर से भागे, मजदूरी की, और अब हैं बिहार के मंत्री

Muzaffarpur Now

Published

on

ये कहानी है एक मजदूर के मंत्री बनने की. जिंदगी इत्तेफाक है. कल भी थी, आज भी है. न जाने कितने किस्से मशहूर हैं. कोई घर से भाग गया और कुछ साल बाद कामयाब इंसान बन गया. दुनिया में लाखों लोग मेहनत करते हैं. लेकिन कामयाबी चंद लोगों को ही मिलती है. वक्त के इसी मरहले पर मेहनत को किस्मत की दरकार होती है. कोई गैरराजनीति आदमी दो साल पहले राजनीतिक पार्टी बनाए और इतने कम समय में ही बिहार सरकार का मंत्री बन जाए तो इसे क्या कहेंगे? मेहनत की दरख्त पर किस्मत की बेल शायद ही ऐसी परवान चढ़ती है. फिल्मी दुनिया से आने वाले मुकेश सहनी की कहानी भी बिल्कुल फिल्मों की तरह है. वो 18 साल की उम्र में घर (दरभंगा) से मुंबई भागे थे. फिर मायानगरी में जो कुछ भी हुआ वह किसी फिल्म की पटकथा की तरह ही नाटकीय है.

मुकेश पहुंचे मायानगरी

दरभंगा के गौरा बौराम में रहने वाले मुकेश सहनी तब स्कूल में पढ़ते थे. तकरीबन 18 साल की उमर थी. मुकेश सहनी के एक जिगरी दोस्त को घर से भाग कर कुछ करने की सूझी. उसने मुकेश सहनी को अपने दिल की बात बताई. उन्होंने घर से भगाने के बारे में पहले से कुछ सोचा नहीं था. लेकिन यार के इसरार पर मुकेश भी घर से भागने को राजी हो गए. घर से भाग कर दरभंगा रेलवे स्टेशन पहुंचे. जो पहली ट्रेन आई वह पवन एक्सप्रेस थी, जो मुंबई जा रही थी. घर के लोगों कहीं खबर न लग जाए इसलिए पहली ट्रेन में बैठने का फैसला हुआ. मुकेश सहनी अपने दोस्त के साथ ट्रेन में सवार हुए और जा पहुंचे मुंबई. उनके गांव के कुछ लोग पहले से मुंबई में छोटे-मोटे काम कर रहे थे. कुछ दिन गांव के लोगों के पास रहे. उनकी मदद से पास ही एक दुकान में काम मिल गया. दुकान का नाम था नॉवल्टी स्टोर. पगार तय हुई 900 रुपये महीना. रोटी का इंतजाम हुआ तो मुकेश मेहनत से काम करने लगे. नॉवल्टी स्टोर के बिल्कुल बगल में एक फोटो फ्रेम की दुकान थी.

शीशा तराशते-तराशते खुद को तराश लिया

फोटो फ्रेम की दुकान के मालिक मस्तमौला थे. जब तबीयत होती काम करते, नहीं तो दुकान बंद कर कहीं चले जाते. उसके बावजूद उनका इलाके में बड़ा नाम था. शीशा काटने और उसे नए-नए शेप देने में उनका कोई जवाब नहीं था. दुकान बंद भी रहती तो लोग इंतजार करते लेकिन फोटो फ्रेम उन्हीं से कराते. मुकेश सहनी की जल्द ही फोटो फ्रेम वाले दुकानदार से दोस्ती हो गई. जब नॉवल्टी में ग्राहक नहीं होते, तो वो फोटो फ्रेम की दुकान पर चले जाते. देखते-देखते मुकेश सहनी भी शीशा काटना सीख गए. कुछ दिनों में वो इतने पारंगत हो गए कि अपने उस्ताद को टक्कर देने लगे. मुकेश सहनी के हुनर को देख कर फोटो फ्रेम करने वाला दुकानदार बहुत प्रभावित हुआ. उसकी दुकान पर फिल्मों के आर्ट डायरेक्टर के एजेंट आया करते थे. फिल्मों पर सेट बनाने के लिए वैसे कारीगर की जरूरत होती थी जो करीने से और तेजी से अगल-अलग शेप में शीशा काट सकें. उस समय फिल्म देवदास की शूटिंग चल रही थी. संजयलीला भंसाली की इस फिल्म के आर्ट डायरेक्टर थे नितिन देसाई. नितिन देसाई मशहूर आर्ट डायरेक्टर थे, जो कई हिट फिल्मों के सेट डिजाइन कर चुके थे. एक दिन नितिन देसाई का एक मुलाजिम फोटो फ्रेम करने वाले दुकानदार के पास पहुंचा. उसने शीशा काटने वाले कुछ कारीगरों के बारे में पूछा. दुकानदार ने मुकेश सहनी को बुलाया. दोनों की बात कराई. मेहनताना तय हुआ पांच सौ रुपये रोजाना. कहां महीने के 900 रुपये और कहां पांच सौ रुपये रोज. मुकेश सहनी ने नॉवल्टी का काम छोड़ दिया. इस तरह वो पहुंच गए फिल्म देवदास के सेट पर. ये सन 2000 की बात है.

मुकेश की मायानगरी में इंट्री

मुकेश सहनी के शब्दों में, मैं एक लेबर के रूप में फिल्म देवदास के सेट पर पहुंचा था. काम था सेट को डिजाइन करने के लिए शीशा काटना. मुकेश सहनी में एक जबर्दस्त खूबी है. किसी काम को देख कर तुरंत सीख जाना. मुकेश सहनी ने एक मजदूर के रूप में काम शुरू किया था. लेकिन उन्होंने अपने काम में इतनी नफासत दिखाई कि एक महीने में ही तरक्की हो गई. उन्हें जो भी काम मिलता उसे तय समय से पहले पूरा कर लेते. इसका असर ये हुआ कि नितिन देसाई मुकेश सहनी को नाम से जानने लगे.

काम के बदौलत जमा लिया अपने नाम का सिक्का

मुकेश सहनी ने काम का सिक्का जमा लिया तो उन्हें सेट डिजाइन प्रोजेक्ट का इंचार्ज बना दिया गया. अब मुकेश सहनी के लिए काम नशा बन गया. इसकी गूंज संजय लीला भंसाली तक पहुंची. काम देख कर यह नामचीन फिल्म मेकर भी प्रभावित हुए बिना नहीं रह सका. अब तो हालत ये हो गई कि संजय लीला भंसाली या नितिन देसाई मुकेश सहनी को नाम से बुलाते और कहते कि अमुक काम कल तक कर देना है. अगले दिन काम रेडी होता. दो महीने में ही मुकेश सहनी की कायापलट हो गई. उन्होंने सेट डिजाइन का काम भी सीख लिया. फिर संजयलीला भंसाली ने उन्हें सेट डिजाइन का पूरा कॉन्ट्रैक्ट ही दे दिया. फिल्म देवदास बनते-बनते मुकेश सहनी सेट डिजाइन की सभी बारीकियां दिमाग में उतार चुके थे.

फिल्म सिटी में मिला नाम, दाम और प्यार

अपने काम की बदौलत मुकेश सहनी बड़े-बड़े फिल्म प्रोडक्शन हाउस के लिए अपरिहार्य हो गए. इसकी बदौलत नाम और पैसा खूब कमाया. शाहरुख खान और ऐश्वर्या राय जैसे सितारों के साथ जब अपनी तस्वीर देखते तो फूले नहीं समाते. जब वो नॉवल्टी स्टोर में काम करते थे तब कई बार फिल्म सिटी घूमने की बात सोची थी. वहां से फिल्म सिटी की दूरी करीब दो किलोमीटर ही थी. लेकिन जब वो फिल्म सिटी के गेट पर पहुंचते वहां का गार्ड उन्हें भगा देता था. किस्मत की बात देखिए कि उसी फिल्म सिटी में उन्हें नाम, दाम और बड़े-बड़े फिल्मी सितारों का प्यार मिला. घर से भागने के बाद मुकेश सहनी करीब नौ साल तक मुंबई में जमे रहे. तब तक वो एक कामयाब कारोबारी बन चुके थे.

शुरू हुआ मुंबई से पटना आना-जाना

2010 में उनके मन में विचार आया कि अब कुछ सामाजिक कार्य भी करना चाहिए. उन्होंने अपने स्वजातीय निषाद समुदाय को आगे बढ़ाने का बीड़ा उठाया. उन्होंने ‘सहनी समाज कल्याण संस्थान’ की स्थापना की. दो ऑफिस खुले. एक दरभंगा में और एक पटना में. मुकेश सहनी मुंबई से पटना आने जाने लगे. उन्होंने अपने समाज के होनहार छात्रों को पढ़ाने पर ध्यान दिया. फिर उन्होंने ‘निषाद विकास संघ’ बनाया.

बड़े सम्मेलन का आइडिया

2013 में उनके समाज के कुछ लोगों ने सलाह दी कि अगर एक बड़ा सम्मेलन किया जाए तो अच्छा संदेश जाएगा. मुकेश सहनी फिल्मी दुनिया में रहने के कारण पब्लिसिटी और प्रोमोशन का महत्त्व को जानते थे. दरभंगा के राज मैदान में सम्मेलन हुआ. मंच का भव्य सेट बना. खूब प्रचार-प्रसार हुआ. जिलास्तर के सम्मेलन में ही करीब 75 हजार लोग जुट गए. लोगों में इस बात की चर्चा होने लगी कि एक मछुआरा का बेटा है जो मुंबई में बड़ा आदमी बन गया है. यहीं से आस के पंछी ने उड़ान भरी.

सन ऑफ मल्लाह के रूप में सामने आए

इस सभा में मुकेश सहनी ने खुद को पहली बार ‘सन ऑफ मल्लाह’ (सन ऑफ सरदार की तर्ज पर) के रूप में पेश किया. वो निषाद समुदाय के नेता के रूप में उभरने लगे. (मुकेश सहनी का दावा है कि निषाद समुदाय की 22 उपजातियां हैं जिनकी आबादी करीब 15 फीसदी है.) 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने भाजपा के लिए प्रचार किया. फिर वो महागठबंधन में आ गए. 2018 में विकासशील इनसान पार्टी बनाई. 2019 के लोकसभा चुनाव में खगड़िया से महागठबंधन के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा. लेकिन हार गए. उनकी पार्टी के दो अन्य उम्मदवारों की भी हार हुई. हार ने मुकेश सहनी को हाशिये पर डाल दिया.

2020 के चुनाव में पलटी किस्मत

2020 के चुनाव में फिर उनकी किस्मत पलटी. तेजस्वी यादव से खफा मुकेश सहनी ने ऐन चुनाव के समय महागठबंधन को अलविदा कह दिया. आखिरी वक्त में एनडीए में पनाह मिली. वो खुद तो चुनाव हार गए लेकिन उनकी पार्टी के चार विधायकों ने मौके को बहुत खास बना दिया. किस्मत की मेहरबानी देखिए कि चुनाव हारने के बाद भी मुकेश सहनी मंत्री पद पाने में कामयाब रहे.

Source : News18  ASHOK KUMAR SHARMA

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर में रोनोजीत के हत्यारे को फांसी देने की मांग लेकर नगर विधायक व हजारों की संख्या में निकाला गया कैंडल मार्च

Ravi Pratap

Published

on

मुज़फ़्फ़रपुर जिले के ही करजा थाना क्षेत्र स्थित पकरी गांव में बीते दिनों पुलिसिया कार्रवाई से बेखौफ होकर जिम संचालक रोनोजीत उर्फ जॉन की हत्या कर दिया गया, जिस घटना को लेकर आज हत्यारे को फांसी देने की मांग को लेकर सैकड़ों की संख्या में युवाओं ने खुदीराम बोस स्मारक स्थल से सरैयागंज टावर, कल्याणी चौक होते हुए मोतीझील ओवर ब्रिज पर लाकर समापन किया।

वही इस कैंडल मार्च मे लग रहे नारो को बुलंद करने के लिए शामिल हुए मुज़फ़्फ़रपुर के नगर विधायक विजेंद्र चौधरी और पत्रकारों से वार्तालाप करते हुए बताया कि रोनोजीत उर्फ जॉन बहुत ही अच्छे व्यक्ति थे जिनकी हत्या कर दी गई, जिसके हत्यारे को फाँसी दिया जाए

और उनकी जिले में अच्छी जगह पर प्रतिमा लगाया जाए,

साथ ही साथ उनके परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दिया जाए

वही इस कार्यक्रम में शामिल रहे कार्यक्रम के नेतृत्व कर्ता दीपक कुमार एवं रितेश कुमार पासवान, सोनू कुमार, छात्र राजद के प्रधान महासचिव चंदन यादव, युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष मोहम्मद सद्दाम हुसैन, छात्र राजद नेता प्रिंस मंसूरी समेत अन्य सैकड़ों युवा।

बाइट विजेन्द्र चौधरी विधायक नगर मुज़फ़्फ़रपुर

rama-hardware-muzaffarpur

Continue Reading

BIHAR

शिक्षक अभ्यर्थियों से मिले तेजस्वी, पुलिस लाठीचार्ज की बात सुन सीधे डीजीपी को लगा दिया फोन

Ravi Pratap

Published

on

पटना के इको पार्क में इकट्ठा हुए शिक्षक अभ्यर्थियों से तेजस्वी यादव ने मुलाकात की. गर्दनीबाग धरना स्थल से पुलिस ने इन्हें पीट पीटकर भगा दिया था. पुलिस की लाठी चार्ज में दर्जनों अभ्यर्थी घायल हो गए हैं. जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिसिया लाठीचार्ज में घायल अभ्यर्थियों ने तेजस्वी को पूरी बात बतायी.

नेता प्रतिपक्ष ने सभी अभ्यर्थियों की बातों को बड़े ही गौर से सुना. एक दिव्यांग की ओर से इशारा करते हुए कहा कि ‘का हो तोहरो मार पड़ल बा’ अगर मेरी सरकार होती 10 लाख लोगों को रोजगार दे दिया गया होता. उनकी इस बात पर अभ्यर्थियों ने हामी भरते हुए कहा कि अब आप ही से हम लोगों को उम्मीद है.

मौके से ही तेजस्वी ने डीजीपी और एसएसपी और डीएम को फोन लगाया. उन्होंने डीजीपी से बात कर पूरे मामले की जानकारी दी, साथ ही दोषी पुलिसवालों पर कार्रवाई करने की मांग की. वहीं डीएम और एसएसपी से भी बात करते हुए अभ्यर्थियों की मांग पर गौर करने का निर्देश दिया.

अभ्यर्थियों की बातों को सुनने के बाद उन्होंंने नीतीश सरकार को जनविरोधी करार देते हुए कहा कि इस सरकार से सभी वर्ग के लोग नाखुश है. अगर कोई अपनी बातों को शांति ढंग से सरकार तक पहुंचाना चाहता है तो उसपर लाठियां बरसायी जाती है. यह सरकार निरकुंश हो गयी है.

बता दें कि मंगलवार को पटना के गर्दनीबाग में धरने पर बैठे शिक्षक अभ्यर्थियों को पुलिस ने खदेड़ खदेड़ कर पीटा. जबरन उन्हें धरना स्थल से खदेड़ दिया गया. पुलिस की इस बर्बरतापूर्ण कार्रवाई में कई अभ्यर्थी बुरी तरह से घायल हो गए हैं. घायलों में महिला और पुरूष अभ्यर्थी शामिल है. सभी घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Input: Live Cities

rama-hardware-muzaffarpur

Continue Reading

BIHAR

बिहार में पंचायत चुनाव से पहले मुखिया सरपंच को आयोग का झटका! जानें राज्य आयोग का फैसला

Ravi Pratap

Published

on

बिहार में पंचायत चुनाव के ऐलान से पहले राज्य में मुखिया और सरपंच को बड़ा झटका लगा है. राज्य आयोग ने मतदान केंद्रों की सूची बनाने को लेकर अधिसूचना जारी की है. अधिसूचना में कहा गया है कि सभी मतदान केंद्र की सूची और निरीक्षण करने का जिम्मा प्रखंड विकास पदाधिकारी का होगा. मतदान केंद्रों का फाइनल लिस्ट आयोग के सहमति से ही प्रकाशित किया जा सकता है.

राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक बिहार में अप्रैल और मई में पंचायत चुनाव हो सकता है. चुनाव से पहले सभी जिले में अधिकृत अधिकारियों को मतदान केंद्र का जायजा लेना है. अधिकारी मतदान केंद्र की लिस्ट जिला निर्वाचन पदाधिकारी को सौंपेंगे, जिसे आयोग की सहमति से प्रकाशित किया जा सकता है.

नोटिफिकेशन में बताया गया है कि वर्तमान मुखिया के घर से 100 मीटर की दूरी पर केंद्र नहीं बनाया जा सकता है. ऐसा होने पर अधिकृत अधिकारी जिम्मेदार होंगे. बिहार में होली के बाद कभी भी पंचायत इलेक्शन का ऐलान किया जा सकता है.

वहीं बिहार निर्वाचन आयोग के निर्देश के बाद सूबे की सभी 8387 ग्राम पंचायतों में मतदाता सूची के ड्राफ्ट का प्रकाशन मंगलवार को कर दिया जायेगा. राज्य निर्वाचन आयोग ने सोमवार को सभी जिलाधिकारियों के साथ मतदाता सूची के प्रारूप प्रकाशन को लेकर बातचीत की. साथ ही जिन जिलों में मतदाता सूची के प्रकाशन में किसी तरह की परेशानी थी, तो उसे दूर करा दिया है.

Input: Prabhat Khabar

rama-hardware-muzaffarpur

Continue Reading
MUZAFFARPUR4 hours ago

मुजफ्फरपुर में रोनोजीत के हत्यारे को फांसी देने की मांग लेकर नगर विधायक व हजारों की संख्या में निकाला गया कैंडल मार्च

BIHAR5 hours ago

शिक्षक अभ्यर्थियों से मिले तेजस्वी, पुलिस लाठीचार्ज की बात सुन सीधे डीजीपी को लगा दिया फोन

BIHAR10 hours ago

बिहार में पंचायत चुनाव से पहले मुखिया सरपंच को आयोग का झटका! जानें राज्य आयोग का फैसला

INDIA10 hours ago

सर्दी से बचने को कमरे में जलाई थी अंगीठी, मौत की नींद सोया पूरा परिवार

BIHAR10 hours ago

मिलिए अजय कुमार से इंजीनियरिंग की नौकरी छोड़ गांव के बच्चों को दे रहे निशुल्क शिक्षा

BIHAR11 hours ago

दशमेश पिता गुरु गोविंद सिंह जी के जयंती पर पटना साहिब पहुंचे CM नीतीश, गुरुद्वारे में टेका मत्था

MUZAFFARPUR11 hours ago

जाप सुप्रीमो पप्पू यादव का सीएम नीतीश पर तंज, सूबे में नमक महंगा व खून सस्ता

BIHAR11 hours ago

CM नीतीश पर चिराग का नया हमला, कहा- गृह मंत्रालय अपने पास रखकर भी अपराध नहीं रोक पा रहे मुख्‍यमंत्री

INDIA11 hours ago

अगर 1 घंटे में निपटा दी इस रेस्टोरेंट की ‘बुलेट थाली’ तो ईनाम में मिलेगी रॉयल एनफील्ड

BIHAR11 hours ago

बिहार बोर्ड मैट्रिक इंटर परीक्षा 2021 : एडमिट कार्ड खोने पर भी दे सकेंगे परीक्षा

INDIA2 weeks ago

लड़कियों के लिए मिसाल हैं ये महिला IAS, अपनी हाइट को नहीं बनने दिया बाधा

TRENDING2 days ago

WagonR का Limousine अवतार! तस्वीरों में देखिए एक मैकेनिक का शाहकार

INDIA5 days ago

इंग्लिश मीडियम बहू और हिंदी मीडियम सास के रिश्‍तेे में यूं आ रही दरार, पहुंच रहे थाने तक

TRENDING2 weeks ago

12 लीटर सोडा, 40 बोतल बीयर रोज: 412 किलो के शख्स ने दुनिया को कहा अलविदा

JOBS3 weeks ago

डाक विभाग ने निकाली है बंपर भर्तियां, 10वीं पास करें आवेदन, जानें फॉर्म भरने का तरीका

BIHAR3 weeks ago

29 IAS, 38 IPS की ट्रांसफर-पोस्टिंग: 12 DM बदले, चंद्रशेखर सिंह पटना के नए DM बने; 13 SP बदले, लिपि सिंह को सहरसा SP बनाया गया

TRENDING5 days ago

‘दोस्त’ ने किया बेइज्जत: ‘कंगाल’ पाकिस्तान का यात्री विमान मलेशिया ने किया जब्त, उतारे गये यात्री

MUZAFFARPUR3 weeks ago

निगम में शामिल होंगे शहर से सटे 32 गांव, 49 से बढ़ कर हाे सकते हैं अब 76 वार्ड

BIHAR5 days ago

बिहार: अब सभी जिलों में चलेगी BSRTC की बस, पटना से काठमांडू, जनकपुर व भूटान सीमा तक मिलेगी सर्विस

BIHAR3 weeks ago

तो इसलिए हैं पंजाब के किसान सड़कों पर, बिहार के किसानों के मुकाबले कमाते हैं पांच गुना ज्यादा

Trending