दारोगा पर गोली चलानेवाला बिट्टू सीरियल लुटेरा

0
36
Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सुपारी में मोटी राशि लेकर पटना के फतुहा थानाध्यक्ष नसीम अहमद की हत्या की नीयत से गोली चलाने वाले कोल्हुआ पैंगबरपुर का बिट्टू कुमार उर्फ राजा सीरियल लुटेरा है। उसी ने अपने साथियों के साथ कांटी थाना क्षेत्र में एनएच पर कई राहगीरों को एक साथ लूटा। पुलिस ने कांटी थाना क्षेत्र के कोठिया मध्य विद्यालय के निकट महिला समूह एवं अन्य लोगों को लूटने की योजना बनाते हुए गिरफ्तार किया है। साथ में उसके तीन साथी भी पकड़े गए हैं। इसमें कांटी थाना क्षेत्र का कोठिया निवासी आमोद सहनी, नगर थाना क्षेत्र का सिकंदरपुर कुंडल निवासी चंदन कुमार व कोल्हुआ पैगंबरपुर का चंदन चौधरी शामिल हैं। उसके पास से 7.65 बोर की देसी पिस्तौल व एक गोली, 0.315 बोर के तीन देसी कट्टे व चार जिंदा गोली तथा चार मोबाइल बरामद किए गए। इसकी जानकारी अपने कार्यालय कक्ष में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में वरीय पुलिस अधीक्षक विवेक कुमार ने दी।

Cambridge Montessori, School, Muzaffarpur

बिट्टू सुपारी किलर का काम भी करता है। नगर थाना में तत्कालीन दारोगा व स्थानांतरित होने के बाद पटना के फतुहा थानाध्यक्ष के रूप में पदस्थापित दारोगा नसीम अहमद की हत्या की सुपारी ली थी। यह सौदा सात लाख रुपये में तय हुई थी। इसमें अकेले बिट्टू ने साढ़े तीन लाख सुपारी ली थी। सुपारी लेने के बाद उसने फतुहा पहुंच कर नसीम अहमद पर गोली भी चलाई, हालांकि निशाना चूक जाने के कारण उसका मकसद पूरा नहीं हो पाया। उसे तब गिरफ्तार किया गया था। इस मामले में वह जमानत पर जेल से बाहर निकला था। यह सुपारी उसे किसने दी, इसका खुलासा नहीं हो पाया है। आशंका है कि इसके पीछे एक व्यवसायी था, जिसके विरुद्ध नसीम अहमद ने बड़ी कार्रवाई की थी।

बिट्टू व उसके साथी कांटी थाना क्षेत्र में एनएच पर एक साथ कई राहगीरों से सीरियल लूट को अंजाम देकर दहशत फैला दी थी। अहियापुर के संगम घाट से लेकर कांटी-मोतीपुर तक वह लूट व छिनतई की घटना को अंजाम देता था। उसके पांच साथी पहले पकड़े जा चुके हैं। बिट्टू व उसके साथियों ने इस साल कई खिलाफ अपराध का लंबा इतिहास है। 23 व 25 नवंबर एवं 2 दिसंबर को अहियापुर थाना क्षेत्र के संगम घाट में बाइक व रुपये लूटने, एक व 8 दिसंबर को काटी फोरलेन पर सीरियल लूट,12 दिसंबर को कांटी थाना के कोठिया में एक बाइक सवार से 72 हजार रुपये लूट, 18 दिसंबर को कांटी ओवर ब्रिज से लेकर मोतीपुर पुलिस निरीक्षक अंचल कार्यालय तक 12-134 राहगीरों से लूटपाट में उसकी संलिप्तता रही है। 20 दिसंबर को कांटी के सहबाजपुर बगीचा में छापेमारी के दौरान वह भाग निकला था।

बिट्टू व उसके गिरोह के सदस्यों को पकड़ने के लिए एसएसपी विवेक कुमार के निर्देश पर सिटी एसपी उपेंद्रनाथ वर्मा व डीएसपी पश्चिमी कृष्णमुरारी प्रसाद के नेतृत्व में टीम गठित की गई थी। इसमें कांटी थानाध्यक्ष रघुनाथ प्रसाद व पुलिस अवर निरीक्षक रविशंकर सिंह शामिल थे। लगातार छापेमारी व गिरोह की ट्रैकिंग के बाद टीम को यह सफलता मिली है।

Source : Dainik Jagran

यह भी पढ़ें -» बिहार के लिए खुशखबरी : मुजफ्फरपुर में अगले वर्ष से हवाई सेवा

यह भी पढ़ें -» खुदीराम बोस की जीवनी – जरुर पढ़े और शेयर करे


Share Now
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •