Connect with us
leaderboard image

MUZAFFARPUR

महेन्दर मिसिर ने गीतों से उभारा शोषित महिलाओं का दर्द

Ravi Pratap

Published

on

अभिषेक प्रियदर्शी: भोजपुरी जगत को पुरबी धुन का उपहार देने वाले पंडित महेन्दर मिसिर का मुजफ्फरपुर से बड़ा गहरा नाता रहा है। शहर में चतुर्भुज स्थान इलाके से उनका लंबे समय तक ताल्लुक रहा है। यहां की गायिकाओं  व नर्तकियों के साथ उनका काफी समय गुजरा है। उस जमाने में मुजफ्फरपुर की प्रसिद्ध गायिका व नर्तकी की बेटी ढेलाबाई को अगवा कर छपरा पहुंचाने में उनकी भूमिका की चर्चा होती है। अंग्रेजी हुकूमत की जड़े हिलाने में महेन्दर मिसिर का अहम योगदान है। वे चोरी-छिपे नोट छापकर भारत की आजादी के लिए संघर्षरत क्रांतिकारियों को आर्थिक सहयोग करते थे। इसी आरोप में छह अप्रैल 1924 में उन्हें गोपीचंद ऊर्फ जटाधारी प्रसाद की निशानदेही पर गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तारी के वक्त पंडित जी ने एक गाना गाया- ‘पाकल-पाकल पनवा खियवले रे गोपीचनवा, पिरितिया लगाके भेजवले जेलखानवा’। लोक कलाकार सुनील कुमार बताते हैं कि महेन्दर मिसिर के लिखे गीतों को गाकर तवायफें स्वतंत्रता आंदोलन में मदद करती थीं। वे शोषित महिलाओं के दर्द को गीतों  से उभारते थे। आज भोजपुरी कलाकार उनके गीत गाकर प्रसिद्धि को प्राप्त कर रहे हैं। नई पीढ़ी को उस महान विभूति के बारे में बताना चाहिए। इसके लिए सरकारी प्रयास के साथ-साथ समाजिक सांस्कृतिक गतिविधियों की जरूरत है।

xxx

लोक कलाकार प्रेम रंजन ने बताया कि महेन्दर मिसिर अपने गीतों में अपने नाम का जिक्र जरूर करते थे। उनका एक गीत ‘नोटवा जे छापी गिनियां भजवल हो महेन्दर मसिर, ब्रिटिश के कइल हलकान हो महेन्दर मिसिर’ बड़ा प्रसिद्ध है। उनकी कुछ रचनाओं का प्रकाशन बाकी है। मिसिर जी ने जेल में ही ‘अपूर्व रामायण’ की रचना की थी। इसके प्रकाशन के लिए बहुत प्रयास हुआ। अगर उनकी रचनाएं जनता के सामने आएंगी तो यह उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

ठुमरी टप्पा, कजरी, दादरा, खेमटा पर था जबरदस्त अधिकार

पंडित महेन्दर मिसिर का जन्म सारण जिला के जलालपुर प्रखंड के मिश्रवलिया गांव में 16 मार्च 1886 को हुआ था। कलकत्ता, बनारस, मुजफ्फरपुर आदि जगह की कई तवायफें उनको अपना गुरु मानती थीं। इनके लिखे कई गीतों को उनके कोठों पर सजी महफिलों में गाया जाता था। पुरबी की परंपरा पहले भी दिखी है। लेकिन इसकी प्रसिद्धि महेन्दर मिसिर से ही हुई। रामबाग में निराला निकेतन के पास रहने वाले संगीत गुरु नंदलाल मिश्रा बताते हैं कि मिसिर जी हारमोनियम, तबला, झाल, पखावज, मृदंग, बांसुरी पर अद्भुत अधिकार रखते थे। ठुमरी टप्पा, गजल, कजरी, दादरा, खेमटा जैसी गायकी और अन्य कई शास्त्रीय शैलियों पर भी उनका जबरदस्त अधिकार था।

MUZAFFARPUR

लॉक डाउन में फंस गई है 1300 एमफिल छात्रों की परीक्षा

Avatar

Published

on

बिहार विश्वविद्यालय के 1300 एमफिल छात्रों की परीक्षा लॉक डॉउन के कारण फंस गई है। छात्रों की परीक्षा पर 23 मार्च को राजभवन में होने वाले कुल पदों की बैठक में चर्चा होनी थी मगर लॉक डॉउन के कारण वह बैठक नहीं हो सकी।

बीएड की भी 1500 छात्रों की परीक्षा अटक गई

एमफिल के अलावा बीएड की भी 1500 छात्रों की परीक्षा की फाइल लॉक डाउन में अटक गई है। बिहार विश्वविद्यालय में एमपी में दाखिला लेने वाले छात्र वर्ष 2017 से ही परीक्षा की प्रतीक्षा कर रहे हैं बिहार विश्वविद्यालय में वर्ष 2015 में ही विवि के डिस्टेंस में एमफिल कोर्स की शुरुआत हुई थी लेकिन रेगुलेशन नहीं होने से 1 वर्ष बाद ही कोर्स बंद कर दिया गया और दाखिला लेने वाले छात्र सड़क पर आ गए।

2019 में एमफिल को विश्वविद्यालय ने रेगुलर मोड में कर दिया और इसी हिसाब से इसका रेगुलेशन तैयार किया।

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर से संदिग्ध की पटना के पीएमसीएच में मौत

Ravi Pratap

Published

on

मेंहदी हसन चौक स्थित एक निजी अस्पातल से रेफर किए गए संदिग्ध मरीज की गुरुवार को पटना स्थित पीएमसीएच के कोरोना आइसोलेशन वार्ड में मौत हो गई। मौत के बाद उसके खून का सैंपल जांच के लिए आरएमआरआई भेजा गया है। देर रात तक रिपोर्ट आने की पुष्टि पीएमसीएच और मुजफ्फरपुर जिला प्रशासन ने नहीं की है। मौत की खबर आने के बाद इस अस्पताल में भर्ती मरीजों,डाक्टरों और अन्य कर्मियों की बेचैनी बढ़ गई है। दूसरी ओर मोतीपुर के कोरोना लक्षण से मृत युवक का गुरुवार देर रात भी पोस्टमार्टम नहीं किया जा सका। मौत के बाद बुधवार को ही इस व्यक्ति का सैंपल लेकर जांच के आररएमआरआई भेजा गया है। उसकी जांच रिपेार्ट का भी इंतजार किया जा रहा है।

बुधवार की शाम मुजफ्फरपुर के बहलखाना निवासी मो इस्माइल को गंभीर स्थिति में मेंहदीहसन चौक स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां के डॉक्टरों ने कोरोना के लक्षण होने की बात कहते हुए उसे पीएमसीएच रेफर कर दिया था। अस्पताल सूत्रों के अनुसार इस्माइल इसके पहले कई अस्पताल जा चुका था मगर सबने भर्ती करने से इंकार कर दिया था। बाद में यहां उसका इलाज किया गया । मगर स्थिति गंभीर होते देख उसे पटना रेफर कर दिया गया जहां गुरुवार को उसकी मौत हो गई। कोरोना आइसोलेशन वार्ड में मौत होने के कारण मृतक के परिजनों और उसके आसपास की बेचैनी भी बढ़ी हुई है। साथ ही अस्पताल प्रबंधन की परेशानी भी बढ़ गई है। इस संबंध में डीएम डा.चन्द्रशेखर सिंह ने बताया कि अभी उनके पास उसकी कोई रिपोर्ट नहीं आई है। पॉजिटिव होने पर तुरंत जिला प्रशासन को जानकारी दी जाएगी। उसके बाद सभी जरूरी कदम उठाए जाएंगे।

दूसरी ओर मोतीपुर के एक संदिग्ध युवक की मौत बुधवार को बैरिया स्थित एक निजी अस्पताल में हो गई थी। इस युवक में भी कोरोना के लक्षण मिले थे। जांच रिपोर्ट आने तक एसकेएमसीएच प्रबंधन ने पोस्टमार्टम करने से इंकार कर दिया था। रिपोर्ट आने के इंतजार में गुरुवार को भी लाश पोस्टमार्टम हाउस में रखी रही। इस बारे में अधीक्षक डॉ. एसके शाही ने बताया कि अभी जब तक सैंपल की रिपोर्ट नहीं आएगी तब तक पोस्टमार्टम नहीं होगा।

हाउस में सैंपल लिया गया। इस सैंपल को गुरुवार को आरएमआरआई जांच के लिए भेजा गया। दूसरी ओर शव का अभी कानूनी प्रावधानों के कारण पोस्टामार्टम नहीं हो सका है। अभी शव को पोस्टमार्टम हाउस में रखा गया है। आरएमआई पटना के लैब रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। प्रशासनिक अधिकारी से लेकर एसकेएमसीएच प्रशासन ने आरएमआरआई पटना से आग्रह किया है कि देर शाम तक रिपोर्ट दी जाए। सैंपल की रिपोर्ट आने व जिला प्रशासन के आदेश पर उसका पोस्टमार्टम होगा।

इसका अभी इंतजार किया जा रहा है। दूसरी ओर मेहदी हसन चौक पर भर्ती संदिग्ध मरीज को पटना रेफर कर दिया गया है। एसीएमओ डॉ. विनय कुमार शर्मा ने बताया कि उसका इलाज हो जा रहा है। वहीं पर उसका सैंपल भी लिया गया है। अब तक उसके परिजनों से संपर्क नहीं हो सका है। संपर्क करने की कोशिश हो रही है। वहां से रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

Input : Live Hindustan

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading

MUZAFFARPUR

एमआईटी मुजफ्फरपुर के पूर्ववर्ती छात्र ओपी सिंह बने ओएनजीसी में डायरेक्टर

Ravi Pratap

Published

on

एमआईटी के पूर्ववर्ती छात्र ओम प्रकाश सिंह ओएनजीसी (ऑएल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन लिमिटेड) के डायरेक्टर बने हैं। उन्होंने एमआईटी में 1982 बैच से मैकेनिकल ब्रांच से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। वे मूल रूप से छपरा के निवासी हैं। उन्हें ओएनजीसी में टेक्निकल फील्ड एंड सर्विसेस का डायरेक्टर बनाया गया है। उन्होंने पदभार संभाल भी लिया है।

ओम प्रकाश सिंह की इस उपलब्धि से एमआईटी के छात्रों व शिक्षकों में जबर्दस्त उत्साह है। उनका कहना है कि यह श्री सिंह के साथ एमआईटी के लिए भी बड़ी उपलब्धि है। ओएनजीसी में नवीन चंद्र पांडेय की जगह ओपी सिंह को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है। ओएनजीसी की ओर से कहा गया है कि उनके पास मैकेनिकल इंजीनियरिंग का 32 वर्षों का अनुभव है। इनके ऐतिहासिक ट्रैक रिकॉर्ड और बेहतर नेतृत्व क्षमता को देखते हुए उन्हें यह जिम्मेवारी सौंपी गई है।

ओपी सिंह के पास उद्योग और वैश्विक जानकारी भी है। कई विषम परिस्थितियों में उन्होंने अपनी कुशलता का परिचय दिया है। उनकी इस उपलब्धि पर एमआईटी के प्राचार्य डॉ. जेएन झा सहित अन्य शिक्षकों ने बधाई दी है। प्राचार्य ने कहा कि यह एमआईटी के लिए भी उपलब्धि है। छात्रों को उनकी सफलता से प्रेरणा लेनी चाहिए। वहीं कॉलेज के एलुमिनी मीट एसोसिएशन के लिए भी इसे बेहतर माना जा रहा है।

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading
MUZAFFARPUR12 mins ago

लॉक डाउन में फंस गई है 1300 एमफिल छात्रों की परीक्षा

BIHAR31 mins ago

बिहार में 6 अप्रैल तक तापमान में गिरावट, कई जगहों पर बारिश की संभावना

MUZAFFARPUR1 hour ago

मुजफ्फरपुर से संदिग्ध की पटना के पीएमसीएच में मौत

MUZAFFARPUR2 hours ago

एमआईटी मुजफ्फरपुर के पूर्ववर्ती छात्र ओपी सिंह बने ओएनजीसी में डायरेक्टर

INDIA2 hours ago

कोरोना से निपटने के लिए किसान ने एक एकड़ जमीन दान देने का किया ऐलान

BIHAR2 hours ago

लॉकडाउन में कुछ सरकारी अधिकारियों की कट रही चांदी, मोबाइल स्विच ऑफ कर सरकारी कामों से बना ली दूरी

MUZAFFARPUR2 hours ago

मुजफ्फरपुर : राशन-किरासन हड़पने वालों के खिलाफ 22 FIR , 35 राशन दुकानों के लाइसेंस रद्द

BIHAR2 hours ago

लॉकडाउन : बिहार राज्यकर्मियों के वेतन, पेंशन में कोई कटौती नहीं- सुशील मोदी

BIHAR2 hours ago

बिहार : ऑब्जर्वेशन में भेजे गए 439 नए संदिग्ध, मुंगेर में सबसे अधिक पॉजिटिव केस

MUZAFFARPUR3 hours ago

जहां-तहां थूकने पर अब लगेगा 200 रुपए जुर्माना

BIHAR1 week ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA4 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

INDIA2 weeks ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA1 week ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR3 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR2 weeks ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

INDIA5 days ago

Lockdown के दौरान युवक ने फोन करके कहा 4 समोसे भिजवा दो, डीएम ने भिजवाए 4 समोसे और साफ कराई नाली

BIHAR1 week ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA4 days ago

COVID-19 के बीच सलमान खान के भतीजे की मौत, परिवार में शोक की लहर

BIHAR1 week ago

लॉकडाउन के बाद पैदल जयपुर से बिहार के लिए निकले 14 मजदूर, भूखे-प्यासे तीन दिन में जयपुर से आगरा पहुंचे

Trending