Connect with us
leaderboard image

BIHAR

निर्भया को मिला न्याय, नवरुणा को कब?

Abhishek Ranjan

Published

on

निर्भया को आज न्याय मिल गया!

Image result for navruna case

पुरे 8 साल लगे। लंबी कानूनी प्रक्रिया चली। दोषियों ने बचने के लिए तमाम हथकंडे अपनाए। लेकिन अंततः दोषी नही बचे। दरिंदें फाँसी पर लटका दिए गए।

देश के बाकि लोगों की तरह संतोष हुआ- चलो, देश की एक बेटी को देरी से ही सही, न्याय तो मिला। मिलना भी चाहिए था। देश की राजधानी में जिस तरह एक बेटी की आबरु बेरहमी से दरिंदों ने लूटी, वह अकल्पनीय था। घटना ऐसी थी कि दानव भी सुनकर सहम जाए। पुरे देश ने एकजुटता दिखाई। शासन, प्रशासन पर दबाब बना। अपराधी पकड़े गए। लाख कोशिश हुई बचने और बचाने की, लेकिन सजा हुई। सजा न मिलती तो निराशा होती। अपराधियों के हौसले और बढ़ते।

लेकिन जिस समय निर्भया को मिले इंसाफ़ पर हम ख़ुश हो रहे है, देश की राजधानी से सैंकड़ों किलोमीटर दूर एक ऐसा परिवार है, जो 8 साल से अपनी बेटी के वापस लौटने की बात तो छोड़िये, उसके न्याय पाने की उम्मीद भी धीरे धीरे खत्म होता देख रहा है।
बात नवरुणा के माँ-बाप की हो रही है।

जिस समय देश एकजुट हो “जस्टिस फॉर निर्भया” के नारे लगाते गुस्से में सड़क पर था, उसी समय बिहार के मुजफ्फरपुर में नवरुणा के माँ-बाप चीख-चिल्ला रहे थे, लेकिन उनकी बात सुनने वाला इस देश की व्यवस्था में कोई नही था। आज भी न्याय की चौखट पर इंसाफ़ की गुहार लगाते ही वे दिख रहे है। वे बेबस है! लाचार है! बीमार है! फिर भी डटे है। लड़ रहे है। इस उम्मीद में कि एक दिन न्याय जरुर मिलेगा! वे आज पूछ रहे है, निर्भया को न्याय मिला, मेरी बेटी को न्याय कब मिलेगा!

नवरुणा की मां

मुजफ्फरपुर बिहार की रहने वाली 12 साल की नवरुणा! 7वीं में पढ़ती थी। कुछ बनने का सपना देखती थी। न कोई दुश्मन, न कोई झगड़ा। शहर के बीचोबीच माँ-बाप की ज़मीन थी। दरिंदों की उपसर नज़र लग गयी। भेंट बेटी चढ़ गयी। 18 सितंबर 2012 की रात खिड़की तोड़ उसे घर से उठा लिया गया। घटना का पता चलते ही पुलिस को तुरंत सूचना दी गयी। लेकिन एक महीने तक अपराधियों को पकड़ने की वजाए पुलिस नवरुणा के दोस्तों और घरवालों को ही परेशान करने में लगी रही। पुलिस तबतक सक्रिय नही हुई, जबतक नवरुणा के माँ-बाप ने आत्महत्या करने की कोशिश नही की। उस दौरान हर छोटे-बड़े अधिकारीयों, नेताओं के आगे गुहार लगाते रहे। सब भरोसा दिलाते रहे, लेकिन खानापूर्ति के अलावे कुछ नही हुआ।

Image result for navruna case

पहले बिहार पुलिस, बाद में बिहार की सीआईडी और अब बीते 6 वर्षों से सीबीआई नवरुणा केस की जाँच कर रही है, लेकिन आजतक पता नही चला उस अभागी बेटी के साथ हुआ क्या! हां एक बात का जरुर पता चला- नवरुणा के मौत की बनाई कहानी की। घर के पास हड्डी के टुकड़े फेंक पहले अपराधियों ने, फिर कागज़ का एक टुकड़ा दिखाकर सीबीआई ने बताया कि नवरुणा अब नही रही! लेकिन इस बात को मानने के लिए न तो माँ-बाप तैयार है, न उपलब्ध साक्ष्य इसे साबित करते है हड्डी नवरुणा की ही थी। हड्डी के टुकड़ों के साथ मिला वह खोपड़ी भी नष्ट कर दिया गया, जो एक महत्वपूर्ण सबूत हो सकता था। घटना के 8 साल बाद आज एक भी अपराधी जेल में नही है। न किसी पर कोई चार्जशिट दाखिल हुई। न जाँच पूरी हुई। इन 8 सालों में जो संदिग्ध पकड़े भी गए, वे सब आज़ाद है। उन्हें क्यों पकड़ा और फिर छोड़ा क्यों, समझ से परे है!

नवरूणा कांड

नवरुणा मामले में पुलिसिया कारवाई से निराश परिजनों को चुप रहने तो वही न्याय की आवाज़ उठाने वाले को पुलिस धमकाकर बात दबाने की कोशिश की। थक हारकर सुप्रीम गए। वहां से सीबीआई जाँच की मांग पूरी हुई। एक लंबी कानूनी लड़ाई के बाद 14 फ़रवरी 2014 से सीबीआई जाँच शुरु हुई। 25 नवंबर 2013 को अपने आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, जल्दी जाँच पूरा करें। जाँच जल्द पूरी होने और नवरुणा व न्याय मिलने का भरोसा जगा। लेकिन जब 2 साल बाद भी कुछ नही हुआ तो अवमानना की याचिका लेकर 2016 में सुप्रीम कोर्ट गया। तब से 9 बार सीबीआई को जाँच पूरी करने का समय मिला चूका है लेकिन जाँच पूरा नही हुआ। हमेशा जाँच पूरी करने के लिए 6 महीने तो कभी 3 महीने की मांग मांगी जाती है। कुछ घिसे पिटे बहाने बनाये जाते है… और कोर्ट समय दे देती है। इन शब्दों को लिखते समय यह जानकारी मिली कि सीबीआई जांच की अवधि 3 महीने और बढ़ाने के लिए 10 वीं बार फिर से कोर्ट में है।

Image result for navruna case

सुप्रीम कोर्ट जाने और सीबीआई जांच शुरु होने से लगा था अब देरी नही होगी। लेकिन बाद में लगा कुछ ज्यादा ही भरोसा देश की न्यायिक और जांच एजेंसी पर हम कर बैठे। कई बार लगता है अब कहाँ जाए! देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट में मामला चल रहा है। वही दूसरी ओर जाँच करने वाली संस्था सीबीआई है, जो देश की सबसे बड़ी जाँच एजेंसी है। सुप्रीम कोर्ट और सीबीआई से ऊपर तो कुछ है नही! किसके आगे गुहार लगाए!

नवरुणा का घर

लोग पूछते है- नवरुणा केस में न्याय मिलने में क्यों देरी हो रही है! क्या जबाब दिया जाए! लोगों की छोड़िये, सीबीआई के जांच अधिकारी भी जब पीड़ित परिवार और याचिकाकर्ता से ही सबूत ढूंडकर लाने की बात करते है तो मन गुस्सा और असहनीय पीड़ा से भर उठता है।

कई बार लगता है कि नवरुणा बंगाली परिवार से है इसलिए उसे न्याय नही मिल रहा। भाषाई और राजनीतिक रुप से अल्पसंख्यक इस गरीब बंगाली परिवार के पास भूमाफियाओं से लड़ने की ताकत ही नही है। अपराधियों के भय से समाज का खुला समर्थन भी नही है। लोग चाहते है कि न्याय मिले लेकिन ऐसे लोग इस पचड़े में उलझकर दुश्मनी मोल लेना नही चाहते है। बंगाली समाज की अपनी मज़बूरी है। वे ये बात बखूबी समझते है कि न तो वे किसी के वोट बैंक बनने लायक है, न ही उनके मुद्दे उठाने से किसी को कोई फायदा मिलने वाला है। शुरुआती दिनों में बंगाली समाज की ओर से खूब आवाज़े उठी. पटना के एक अंतर्राष्ट्रीय सेमीनार में नवरुणा के लिए प्रस्ताव भी पारित किये गए. लेकिन बाद में सब शांत हो गए। नवरुणा बिहार के किसी मुख्यधारा की राजनीति को प्रभावित करने वाली जातियों में से किसी एक की रहती तो ये मसला 8 साल बाद भी इस तरह उलझा नही रहता।

Image result for navruna case

इस बात का भी मलाल रहता है कि जैसे निर्भया और उसके न्याय के लिए लोगों ने एकजुटता दिखाई, नवरुणा के लिए वैसी कभी मजबूत, संगठित आवाज़ नही उठी। परिजनों और कुछ उत्साही युवाओं को छोड़ दे तो नवरुणा की फ़िक्र करने वाले लोग खुलकर बहुत कम दिखे। बात मुजफ्फरपुर की करे तो अग्रणी स्वाभिमान को छोड़े किसी भी संगठन ने इस केस को लगातार फ़ॉलो नही किया। कुछ लोगों ने राजनीतिक रोटियां सेंकने की कोशिश की। कुछ नेता नवरुणा के घर भी गए। बाद में वे भी नवरुणा केस को भूल गए। कथित सामाजिक कार्यकर्ताओं ने पाकिस्तान की मलाला के लिए शहर में खूब कैंडल मार्च निकाले, बीते 8 सालों में देश-दुनिया में हुए अपराधों पर खूब आउटरेज किया, न्याय की बड़ी बड़ी बातें की लेकिन बात जब भी नवरुणा की आई तो अधिकतर लोगों ने चुप्पी साधना ही उचित समझा।

नवरुणा की गुड़िया के साथ उनके पिता

नवरुणा के लिए लोगों की चुप्पी की वजह एक और भी है। इस केस के जिस तरह हाई-प्रोफाइल लोगों से जुड़े होने की बात सामने आती रही है, लोग खुलकर सामने आने की छोड़िये, बोलने से भी बचते रहे है। एक बार एक बड़े सामाजिक कार्यकर्त्ता से पूछा, “लोग बोलते क्यों नही?” जबाब मिला- “कही देखार न हो जाए, ए चलते प्रभावशाली लोग सोचई ह कि चुप्पे रहला में भलाई हौ!” इस चुप्पी का अर्थ मुजफ्फरपुर और बिहार में सभी समझते है। स्थानीय मीडिया और जागरुक नागरिकों के एक छोटे से वर्ग को छोड़ दे तो सभी ने इस बेटी को उसके हाल पर छोड़ दिया। न्याय पाने की लड़ाई में नवरुणा और उसका परिवार अकेला है। भय का ये माहौल है कि लोग उसके घर जाने से डरते है। परिवार सामाजिक बहिष्कार जैसी स्थिति में जी रहा है।
क्या नवरुणा को न्याय मिल सकेगा?

Image result for navruna case

बीते 8 सालों से इस केस के साथ जुड़ा हूँ। मन कहता है- प्रयास व्यर्थ नही जायेंगे। न्याय अवश्य मिलेगा। लेकिन दिमाग हमेशा संशय की स्थिति में रहता है। स्थिति देखकर कई बार लगता कि भ्रष्ट गठजोड़ की भेंट चढ़ी नवरुणा को देश की व्यवस्था न्याय नही दिला पाएगी। नवरुणा भी देश की उन हजारों अभागी बेटियों की सूचि में शामिल हो जायेगी, जिन्हें अपराधी निरकुंश शासक और आपराधिक मानसिकता के लोगों के संरक्षण में घर से उठा ले जाते है और बाद में वे महज मिसिंग लिस्ट में एक नाम भर रह जाते है।

निर्भया के न्याय मिलने के पीछे एक वजह यह भी है कि निर्भया केस के दोषी बेहद गरीब परिवार के थे। लेकिन नवरुणा में अबतक जो भी नाम चर्चा में सामने आये है, उसे सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई के वकील के शब्दों में कहे तो वे हाइली इन्फ्लूएंशियल यानी अत्यंत प्रभावशाली लोग है। क्या ये प्रभावशाली लोग न्याय मिलने देंगे?

घोर निराशा के बीच भी बार-बार ऐसी परिस्थितियां बनती है जब उम्मीद की किरण दिखाई देती है। शुरुआत के समय सीबीआई जाँच से जुड़े लोगों की बात याद आती है- देर होगा, लेकिन न्याय जरुर मिलेगा! परिजनों के विश्वास और उनके लड़ने का जज़्बा देखकर लगता है- संघर्ष जारी रहे तो न्याय एक दिन मिलेगा। कब? नही पता!

BIHAR

बिहार: मस्जिद से अस्पताल लाए गए धर्मगुरु कर रहे हैं गंदी हरकत, डॉक्टर-नर्स हैं परेशान

Muzaffarpur Now

Published

on

नालंदा । शेखपुरा के अहियापुर मस्जिद में मिले चार धर्म प्रचारकों की बेजा हरकतों से पावापुरी मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मी परेशान हो गए हैं। गुरुवार की रात में इन चारों को यहां आईसोलेशन सेंटर में लाया गया है, तबसे ये लोग हर आने-जाने वाले डॉक्टर व स्वास्थ्यकर्मी को गाली दे रहे हैं। उनसे खाने-पीने की आपत्तिजनक चीजें मांग रहे हैं। ये चारों 21 मार्च के पहले दिल्ली से लौटे हैं, परन्तु खुद को निजामुद्दीन तब्लीगी जमात से अलग बता रहे हैं।

बिहार: मस्जिद से अस्पताल लाए गए धर्मगुरु कर रहे हैं गंदी हरकत, डॉक्टर-नर्स हैं परेशान

शेखपुरा पुलिस इनकी हकीकत पता लगा रही है। इधर, खुद को स्कॉलर बताने वाले इन चार धर्म प्रचारकों के दुर्व्यवहार से रात भर में ही डॉक्टर व स्वास्थ्य कर्मी परेशान हो गए हैं। आज इनका सैम्पल कलेक्ट करके कोरोना संक्रमण की जांच के लिए पटना भेजा जाना है। विम्स के आईसोलेशन सेंटर के नोडल डॉक्टर पुरुषोत्तम ने कहा कि अगर ये लोग इसी तरह असहयोग करते रहे तो सैम्पल लेना भी सम्भव नहीं हो सकेगा। उन्होंने बताया कि इन लोगों की गंदी हरकत से अस्पताल के डॉक्टर और नर्स परेशान हैं।

डॉक्टर पुरुषोत्तम ने बताया कि बहुत मुश्किल से मस्जिद से निकाले गये चारों धर्म प्रचारकों में से एक का सैम्पल जांच के लिए लिया जा सका है और उसे पटना भेजा गया है। इस व्यक्ति को 102 डिग्री बुखार और सर्दी-खांसी है। शेष तीनों में कोरोना संक्रमण के प्रारंभिक लक्षण अभी तक नहीं मिले हैं।

गुरुवार को पुलिस ने मस्जिद से निकाल धर्मगुरुओं को कराया था भर्ती

गुरुवार को शेखपुरा नगर परिषद क्षेत्र के अहियापुर मोहल्ले के मस्जिद में रह रहे 4 धर्म प्रचारकों को पुलिस ने वहां से कोरन्टीन सेंटर बरबीघा अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया है और एक संदिग्ध कोरोनावायरस की संभावना पर सैंपल लेकर जांच के लिए पटना भेज दिया गया है।

हालांकि सोशल मीडिया पर तबलीगी जमात से चारों के जुड़े होने की अफवाह तेजी से दोपहर में फैली परंतु जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने इस अफवाह को फर्जी करार देते हुए इस पर रोक लगा दी ।

इस संबंध में जिलाधिकारी इनायत खान ने बताया कि मोहल्ले के लोगों ने से मिली सूचना में मस्जिद में चार लोगों के रहने की सूचना मिली जिसके बाद पुलिस के द्वारा सभी चारों को वहां से मेडिकल टीम के साथ लाया गया और चारों लोगों को बरबीघा रेफरल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया है।

उधर पुलिस अधीक्षक दयाशंकर ने बताया कि मस्जिद में 4 धर्म प्रचारक नालंदा नवादा इत्यादि जगहों से धर्म प्रचार करते हुए यहां रह रहे थे 21 मार्च से यह लोग यहीं रह रहे थे और स्थानीय लोगों की सूचना पर सभी को यहां से निकालकर आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। 4 लोगों में से एक बेगूसराय का रहने वाला है जबकि दो दरभंगा जिला का और एक उत्तर प्रदेश के लखनऊ का रहने वाला है।

सभी लोग दिल्ली से यहां आए हैं परंतु तबलीगी जमात निजामुद्दीन से संबंध नहीं है उन्होंने बताया कि इंटेलिजेंस ब्यूरो से मिली सूची में बिहार में 86 लोगों के तबलीगी जमात से आने की सूचना दी गई है। उनमें से इन चारों का नाम नहीं है। उधर इस संबंध में रेफरल अस्पताल बरबीघा के प्रशासनिक पदाधिकारी ने बताया कि चारों लोगों की जांच की गई है । सभी को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है ।

Input : Dainik Jagran

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading

BIHAR

PM मोदी की जनता से दीआ जलाने की अपील को RLSP नेता उपेंद्र कुशवाहा ने बताया बकवास

Santosh Chaudhary

Published

on

रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनता के नाम संदेश खत्म होते ही ट्वीट कर उनके संबोधन को बकवास बता दिया है। कुशवाहा ने कहा है कि रात में दीप और टॉर्च जलाने की बातें बकवास है। इससे कोरोना को क्या लेना देना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसकी जगह पर चिकित्सकों को सुविधा देने और देश में नए जांच केंद्र खोलने की बात करनी चाहिए थी। उन्हें अस्पतालों में इमरजेंसी सुविधाएं बढ़ाने पर भी ध्यान देना चाहिए। टॉर्च जलाने और दीप जलाने से ना तो लोगों में जागरूकता आएगी और ना ही कोरोना को भगाने का यह कोई तरीका है।

वहीं आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने पीएम मोदी के आज के भाषण को काफी निराशाजनक बताया और कहा कि पीएम मोदी को शब्दों का आडंबर रचने में महारथ हासिल है। उन्होंने यह भी कहा कि पीएम मोदी के पास गरीबों के लिए कोई योजना नहीं है।

शिवानंद तिवारी ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा,’ प्रधानमंत्री जी के भाषण ने बहुत निराश किया। इस भाषण में ठोस कुछ भी नहीं था। शब्दों का आडंबर रचने में हमारे प्रधानमंत्री जी को महारत हासिल है। आज के भाषण में प्रधानमंत्री जी ने उसी का प्रदर्शन किया। कहा जा सकता है कि देश ने आज प्रधानमंत्री जी का भाषण नहीं बल्कि उनका प्रलाप सुना। इस भाषण से स्पष्ट हो गया कि प्रधानमंत्री जी के पास इतनी बड़ी विपत्ति से लड़ने की न तो कोई दृष्टि है और न कोई योजना।’

पीएम मोदी की अपील

देशवासियों के लिए जारी वीडियो संदेश में पीएम मोदी ने कहा ‘इस रविवार यानी 5 अप्रैल को हम सबको मिलकर कोरोना के संकट के अंधकार को चुनौती देनी है। उसे प्रकाश की ताकत का परिचय कराना है। इस पांच अप्रैल को हमें 130 करोड़ देशवासियों की महाशक्ति का जागरण करना है। 130 करोड़ लोगों के महासंकल्प को नई ऊंचाइयों पर ले जाना है। 5 अप्रैल को रात नौ बजे आप सबके नौ मिनट चाहता हूं। पांच अप्रैल को रविवार को रात नौ बजे, घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे या बालकनी में खड़े रहकर नौ मिनट तक मोमबत्ती, दीया या टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं। उन्होंने आगे कहा कि और उस समय यदि घर की सभी लाइटें बंद करेंगे तो चारो तरफ जब हर व्यक्ति एक-एक दीया जलाएगा तब प्रकाश की उस महाशक्ति का ऐहसास होगा, जिसमें एक ही मकसद से हम सब लड़ रहे हैं, ये उजागर होगा।’

Input : Hindustan

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading

BIHAR

कोरोना संदिग्धों की स्क्रीनिंग के आदेश के बाद दरभंगा के डीएम को गो’ली मा’रने की ध’मकी, ईनाम की घोषणा

Ravi Pratap

Published

on

बिहार के दरभंगा जिले के जिलाधिकारी ड़ॉक्टर त्यागराजन एस एम को फेसबुक पर गो’ली मा’रने की ध’मकी दी गई है तथा गो’ली मा’रने वाले को दो लाख रुपये इनाम देने की घोषणा की गई है। दरभंगा जिलाधिकारी के आधिकारिक फेसबुक पेज पर गुरुवार को जिलाधिकारी ने राज्य के बाहर से आये व्यक्तियों की नगर में स्क्रीनिंग करने की बात कहते हुए लिखा था, “राज्य के बाहर से आये व्यक्तियों की शुक्रवार को नगर में स्क्रीनिंग की जायेगी।” जिलाधिकारी ने देशहित में लोंगो को जांच हेतु आगे आने की अपील की थी।

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

जिलाधिकारी दरभंगा के आधिकारिक पेज पर लिखा है, “कोरोना वायरस बीमारी को फैलने से रोकने हेतु संक्रमित संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान कर उनकी जांच की कार्रवाई करने हेतु आज (गुरुवार) नगर आयुक्त एवं वार्ड पार्षदों के साथ एक बैठक किया गया।”

आगे लिखा गया कि, “इस बैठक में राज्य के बाहर से यहां आकर रह रहे लोंगो की मेडिकल टीम के द्वारा कल (शुक्रवार) स्क्रीनिंग कराने का निर्णय लिया गया। पूरे जिला में संदिग्ध लोगो की तेजी से जाच की जा रही है।” इस पोस्ट के बाद कमेंट में कई लोगों ने डीएम के इस पहल की सराहना और स्वागत किया लेकिन एक व्यक्ति इसे आहत नजर आया।

मोहम्मद फैसल नाम के इस व्यक्ति ने जवाब देते हुए जिलाधिकारी को गोली मारने की धमकी दी। फैसल ने लिखा, “दरभंगा के डीएम को गोली मारने वाले को मै दो लाख रुपये दूंगा।” इस संबंध में जिलाधिकारी से बात करने की कोशिश की गई लेकिन संपर्क नहीं हो सका। हालांकि पुलिस सूत्रों के अनुसार, मामले की छानबीन की जा रही है।

Input : India News

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading
INDIA12 mins ago

बद्रीनाथ में बर्फबारी, इस बार डिजिटल दर्शन संभव

BIHAR12 hours ago

बिहार: मस्जिद से अस्पताल लाए गए धर्मगुरु कर रहे हैं गंदी हरकत, डॉक्टर-नर्स हैं परेशान

INDIA12 hours ago

लॉकडाउन : पुलिस कॉन्स्टेबल की बेटी का मार्मिक पत्र वायरल, आप भी सुनें बच्ची की जुबानी

TRENDING13 hours ago

लॉकडाउन में हुआ जुड़वा बच्चों का जन्म, नाम रखा कोविड व कोरोना

BIHAR14 hours ago

PM मोदी की जनता से दीआ जलाने की अपील को RLSP नेता उपेंद्र कुशवाहा ने बताया बकवास

INDIA15 hours ago

देश में दो दिनों में तब्‍लीगी जमात से संबंधित 647 मामलों में Covid-19 की पुष्टि: स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय

INDIA17 hours ago

बड़ी खबर-18 अप्रैल तक भारत में आ सकती है 5 मिनट में कोरोनो की जांच करने वाली किट

INDIA17 hours ago

भारत नहीं, कोरोना संकट में इस देश के लोग कर चुके हैं बालकनी से लाइटिंग

BIHAR18 hours ago

कोरोना संदिग्धों की स्क्रीनिंग के आदेश के बाद दरभंगा के डीएम को गो’ली मा’रने की ध’मकी, ईनाम की घोषणा

BIHAR19 hours ago

PM मोदी के प्रकाश संकल्प पर लालू के लाल की एडवाइस, आप लालटेन भी जला सकते हैं

BIHAR1 week ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA4 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

INDIA2 weeks ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA1 week ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR3 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR2 weeks ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

INDIA5 days ago

Lockdown के दौरान युवक ने फोन करके कहा 4 समोसे भिजवा दो, डीएम ने भिजवाए 4 समोसे और साफ कराई नाली

BIHAR1 week ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA4 days ago

COVID-19 के बीच सलमान खान के भतीजे की मौत, परिवार में शोक की लहर

BIHAR1 week ago

लॉकडाउन के बाद पैदल जयपुर से बिहार के लिए निकले 14 मजदूर, भूखे-प्यासे तीन दिन में जयपुर से आगरा पहुंचे

Trending