Connect with us

TRENDING

OIC में इजरायल को घेरने आए थे मुस्लिम देश पर आपस में ही भिड़ गए

Published

on

फिलिस्तीनियों पर इजरायल के हमले के खिलाफ इस्लामिक देशों के सबसे बड़े संगठन की बैठक रविवार को बुलाई गई. इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) में कुल 57 देश हैं. इस आपात बैठक में इजरायल की कड़ी आलोचना की गई और गाजा में तुरंत हमले रोकने की मांग की गई. हालांकि, इजरायल को लेकर इस्लामिक देशों की प्रतिक्रिया अलग-अलग थी और इसे लेकर उनके बीच के मतभेद बैठक में भी खुलकर सामने आए.

OIC meeting

पिछले साल, संयुक्त अरब अमीरात ने इजरायल के साथ रिश्ते सामान्य किए थे और उसके बाद बहरीन, मोरक्को और सूडान ने भी यूएई का अनुसरण किया था. वहीं, मिस्त्र और जॉर्डन ने भी इजरायल के साथ शांति समझौते किए थे. इस्लामिक सहयोग संगठन की बैठक में कई देशों के प्रतिनिधियों ने इजरायल से दोस्ती करने के कदम को गलत ठहराया.

Advertisement

ओआईसी में फिलिस्तीनियों के लिए अलग से राष्ट्र बनाने और पूर्वी यरुशलम को उसकी राजधानी बनाने की मांग एक बार फिर दोहराई गई. इससे पहले, सऊदी अरब ने अल-अक्सा मस्जिद में इजरायली सुरक्षा बलों की हिंसा और पूर्वी यरुशलम से फिलिस्तीनियों को उनके घरों से बेदखल करने की योजना की कड़ी निंदा की थी. सऊदी अरब के विदेश मंत्री प्रिंस फैसल बिन फरहन अल सउद ने ओआईसी बैठक में कहा कि वैश्विक समुदाय को दो राष्ट्र के सिद्धांत के आधार पर शांति समझौता करने और हिंसा रोकने के प्रयास करने चाहिए.

इजरायल के खिलाफ पाकिस्तान और तुर्की सबसे आक्रामक रुख अख्तियार किए हुए हैं. मलेशिया, इंडोनेशिया और ब्रुनेई ने भी रविवार को अलग से बयान जारी किया और संयुक्त राष्ट्र महासभा की आपात बैठक बुलाने की मांग की. हालांकि, इजरायल से रिश्ते बहाल करने वाले यूएई का रुख उतना कड़ा नहीं था. यूएई ने अपने बयान में पिछले साल अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नेतृत्व में हुए अब्राहम समझौते का हवाला देते हुए इजरायल से शांति बहाली और संघर्षविराम की अपील की.

Advertisement

OIC meeting

ओआईसी की बैठक में सदस्य देशों के विदेश मंत्री शामिल हुए लेकिन यूएई की तरफ से विदेश मंत्री की जगह एक जूनियर मंत्री को भेजा गया था. यूएई की अंतरराष्ट्रीय सहयोग मंत्री रईम अल-हाशिमी ने कहा, मध्य-पूर्व को अस्थिरता से बचाने के लिए तत्काल तनाव घटाने और संयम बरतने की आवश्यकता है.

इजरायल के खिलाफ बुलाई गई इस बैठक में सदस्य देश एक-दूसरे पर ही उंगली उठाते नजर आए. ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जवाद जरीफ ने कहा, आज फिलिस्तीनियों बच्चों का नरसंहार इजरायल के साथ रिश्ते सामान्य करने का ही नतीजा है. इजरायल की आपराधिक चरित्र की और नरसंहार करने वाली हुकूमत ने एक बार फिर से साबित कर दिया है कि उसके प्रति दोस्ताना रुख उसके अत्याचारों को और बढ़ाएगा.

Advertisement

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच साल 2014 के बाद से सबसे भयानक हिंसा देखने को मिली है. पिछले एक हफ्ते से इजरायली सुरक्षा बल और फिलिस्तीनी चरमपंथी गुट हमास के बीच संघर्ष छिड़ा हुआ है. इजरायल के हमले से गाजा में भयंकर तबाही हुई है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, गाजा में अब तक 188 फिलिस्तीनियों की जानें जा चुकी हैं जबकि 1230 लोग घायल हुए हैं. इजरायल में आठ लोग मारे गए हैं. अफगानिस्तान के विदेश मंत्री हनीफ अतमर ने कहा, फिलिस्तीनी लोगों की हालत आज इस्लामिक दुनिया का सबसे बड़ा घाव है.

तुर्की के विदेश मंत्री मेवलुत कावुसगोलु ने भी इजरायल के साथ रिश्ते बहाल करने वाले देशों की आलोचना में ईरान का साथ दिया. हालांकि, इजरायल के तुर्की के साथ राजनयिक संबंध कायम हैं.

Advertisement

palestine

तुर्की के विदेश मंत्री ने कहा, यहां कुछ लोग हैं जिन्होंने अपनी नैतिकता खो दी है और इजरायल के लिए अपना समर्थन दिया है. अगर हमारे अपने ही परिवार में आधे-अधूरे मन से बयान दिए जा रहे हैं तो हम दूसरों की आलोचना कैसे करें. हमारी बातों को फिर कौन गंभीरता से लेगा?

तुर्की के विदेश मंत्री ने फिलिस्तीनी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था बनाने की मांग की. उन्होंने कहा कि इजरायल को उसके युद्ध अपराधों के लिए दोषी ठहराया जाना चाहिए और इसमें अंतरराष्ट्रीय न्यायालय अहम भूमिका अदा कर सकता है. जरीफ ने भी इजरायल की कड़े शब्दों में आलोचना की. जरीफ ने इजरायल पर नरसंहार और मानवता के खिलाफ अपराध करने का आरोप लगाया.

Advertisement

जरीफ ने कहा, कोई इजरायल को लेकर गलती ना करे. इजरायल सिर्फ प्रतिरोध की भाषा ही समझता है और फिलिस्तीन के लोगों को अपनी सुरक्षा करने का पूरा अधिकार है.

Pakistan

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बैठक में मुस्लिम देशों से एकजुट होने की अपील की. कुरैशी ने कहा कि इजरायली हमलावरों और पीड़ित फिलिस्तीनियों को एक तराजू पर तोला जाना बिल्कुल गलत है. मुस्लिम देशों को फिलिस्तीनियों के लिए एकजुट होकर कदम उठाने चाहिए. कुरैशी ने कहा कि हर देश के इतिहास में एक निर्णायक फैसला होता है जिसे सदियों तक याद रखा जाता है और ये जरूरी है कि हम इतिहास में सही तरफ खड़े हों. कुरैशी ने कहा कि ये ऐसा ही एक ऐतिहासिक पल है और हमें इस अहम पड़ाव पर फिलिस्तीनियों को निराश नहीं करना चाहिए.

Advertisement

फिलिस्तीन के विदेश मंत्री रियाद अल-मलिकी ने इजरायल के साथ रिश्ते सामान्य करने वाले देशों की आलोचना की. उन्होंने बैठक में कहा, अरब और फिलिस्तीनियों की जमीन से इजरायल का कब्जा हटाए बिना उसके साथ रिश्ते बहाल करना उसके अपराधों में हिस्सेदार बनना है. इजरायल की औपनिवेशिक मानसिकता का खात्मा किया जाना चाहिए. इजरायल के साथ कई देशों के रिश्ते कायम होने से अरब दुनिया की भावनाओं और उसकी सोच पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

अरब देशों में इजरायल को लेकर मिली-जुली प्रतिक्रिया है. कतर के लोगों में हमास के नेता इस्माइल हनियेह के भाषण को सुनने के लिए काफी उत्सुकता थी. कतर के विदेश मंत्री और कुवैत के पार्लियामेंट स्पीकर ने हमास के नेता इस्माइल से बातचीत भी की है. जबकि इजरायल से रिश्ते बहाल करने वाले बहरीन और यूएई, क्षेत्र के बाकी मीडिया संस्थानों की तरह फिलिस्तीनियों और इजरायल के बीच छिड़े संघर्ष को बड़े पैमाने पर कवर नहीं कर रहा है.

Advertisement

हालांकि, इन देशों की जनता में भी असंतोष देखने को मिल रहा है. बहरीन में सिविल सोसायटी के सदस्यों ने किंगडम को पत्र लिखकर इजरायली राजदूत को निष्कासित करने की मांग की है. यूएई में प्रदर्शन करना गैर-कानूनी है लेकिन वहां के फिलिस्तीनी भी खामोशी से अपनी नाराजगी जाहिर कर रहे हैं. उन्हें अपना रेसिडेंसी परमिट खोने का भी डर है.

Source : Aaj Tak

Advertisement

TRENDING

संतरे के छिलकों से जॉर्डन के एक फूड आर्टिस्ट और आणविक गैस्ट्रोनोमिस्ट ने बनाया लक्जरी हैंडबैग

Published

on

जॉर्डन के एक फूड आर्टिस्ट और आणविक गैस्ट्रोनोमिस्ट, उमर सरतावी ने संतरे के छिलकों का इस्तेमाल करके एक लक्जरी हैंडबैग डिजाइन किया है. इस निर्माण के पीछे का विचार हाई-एंड लक्ज़री उत्पाद बनाना है जो पर्यावरण के अनुकूल भी हों. उमर ने एक वीडियो में सामान बनाने के लिए अपनाए जाने वाली प्रक्रिया के बारे में बताया. वह छिलके खरीदता है और दो सप्ताह तक विभिन्न चरणों के माध्यम से इसे संसाधित करना शुरू कर देता है. बाद में, वह अपने इच्छित डिज़ाइन के लिए डिजिटल फैब्रिकेशन नामक एक प्रक्रिया का उपयोग करता है और फिर लेजर का उपयोग करके इसे काट देता है.

 

View this post on Instagram

 

Advertisement

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

फूड आर्टिस्ट ने यह भी बताया कि उन्होंने ऑबर्जिन लेदर से फेस मास्क और टेंट भी डिजाइन किए हैं. ओमर ने बताया, कि “जिन चीजों पर मैं वर्तमान में काम कर रहा हूं, उनमें से एक है फलों और सब्जियों के चमड़े को नए तरीकों से संसाधित करना, पर्यावरण के अनुकूल सामग्री के रूप में उपयोग करना, इसे लक्जरी ब्रांडों में बदलना. हम उपलब्ध तकनीकों के माध्यम से आधुनिक डिजाइन के साथ असाधारण उत्पाद बना सकते हैं. मैं इसे फैशन, एक्सेसरीज, हाई-एंड बैग और फर्नीचर में इस्तेमाल कर रहा हूं.”

उमर ने लग्जरी हैंडबैग की कुछ तस्वीरें इंस्टाग्राम पर पोस्ट कीं और इसके निर्माण में उत्पाद की कुछ तस्वीरें भी शेयर कीं हैं.

Advertisement

 

View this post on Instagram

 

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

लोग इससे बहुत प्रभावित हुए और निर्माण के लिए जमकर तारीफ भी की. एक यूजर ने लिखा, “बहुत अच्छा और रचनात्मक,” दूसरे ने लिखा, “बहुत ही रोचक डिजाइन!”

Advertisement

 

View this post on Instagram

 

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

 

View this post on Instagram

 

Advertisement

A post shared by o m a r | ع م ر (@omar_sartawi)

Advertisement

Source : NDTV

Advertisement
Continue Reading

TRENDING

एक महिला ने दूसरी महिला को काटा, कुत्तों को लेकर हुई थी लड़ाई

Published

on

जर्मनी में एक बुजुर्ग महिला और डॉग ओनर के बीच, कुत्तों को लेकर लड़ाई हो गई. इस लड़ाई में बुजुर्ग महिला ने गुस्से में आकर डॉग ओनर को ही काट लिया. रिपोर्ट के अनुसार, घटना पूर्वी जर्मनी के थुरिंगजिया इलाके की है. यहां दो महिलाओं के बीच कुत्तों को अनुशासन सिखाने को लेकर कहासुनी हो गई थी.

Labrador retriever on a leash

‘DW’ की एक न्यूज के मुताबिक, बात बढ़ते-बढ़ते मारपीट तक पहुंच गई. लेकिन जिन कुत्तों को लेकर दोनों महिलाएं लड़ रही थीं, वो शांति से झगड़ा देखते रहे. पुलिस ने बताया कि यहां 27 साल की डॉग ओनर और 51 साल की एक महिला के बीच इसलिए लड़ाई हुई, क्योंकि बुजुर्ग महिला ने युवा महिला के कुत्तों को मारा था.

Advertisement

युवा महिला ने इसका विरोध किया. लेकिन बात मारपीट तक पहुंच गई. इसी बीच जब बुजुर्ग महिला नीचे जमीन पर गिर पड़ी, तो उसने डॉग ओनर के पैरों में दांत से काट लिया और वह जख्मी हो गई, जिसके बाद महिला को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया.

ये घटना इसलिए भी अजीब है क्योंकि आमतौर पर हम कुत्ते को ऐसे जानवर के तौर पर जानते हैं, जो अपने मालिक की जान बचाने के लिए, अपनी जान दांव पर लगा देता है. लेकिन यहां दोनों कुत्तों ने ऐसा कुछ नहीं किया. वे चुपचाप दोनों की लड़ाई देखते रहे.

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

वहीं, दूसरी तरफ कैलिफोर्निया की एक मॉडल ब्रुकलिन खौरी को उनके एक रिश्तेदार के पालतु कुत्ते पिट बुल ने काट लिया. इसके बाद उन्हें 3 करोड़ रुपये की सर्जरी करवानी पड़ गई. मॉडल ने बताया कि वह पिट बुल को प्यार कर रही थी. तभी कुत्ते ने अचानक से उनके चेहरे पर काट लिया. इससे उनकी नाक और होंठ का निचला हिस्सा जख्मी हो गया. हालांकि, डॉक्टरों ने कहा है कि आगे भी सर्जरी की ज़रूरत पड़ सकती है.

Source : Aaj Tak

Advertisement

Continue Reading

TRENDING

इस्लाम छोड़कर हिंदू बनेंगे फिल्म डायरेक्टर अली अकबर, बिपिन रावत पर कट्टरपंथियों के रवैये से हैं नाराज

Published

on

कोच्चि. फिल्म निर्माता अली अकबर ने अपनी पत्नी के साथ हिंदू धर्म अपनाने का फैसला किया. उन्होंने कहा है कि वे जनरल बिपिन रावत की मौत का अपमान करने वालों के चलते इस्लाम (Islam) छोड़ रहे हैं. कथित रूप से कई लोगों ने जनरल रावत की मौत से जुड़ी पोस्ट पर ‘स्माइली इमोटिकॉन’ का इस्तेमाल किया था. बुधवार को तमिलनाडु के कुनूर जिले में हुए एक हादसे में सैन्य अधिकारी समेत 13 लोगों की मौत हो गई थी.

Filmmaker Ali Akbar was hurt by those who laughed at CDS Rawat martyrdom will adopt Hindu religion - India Hindi News - CDS रावत की शहादत पर हंसने वालों से फिल्ममेकर अली

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अकबर का कहना है कि इस्लाम के शीर्ष नेताओं ने भी बहादुर सैन्य अधिकारी को अपमानित करने वाले ऐसे ‘राष्ट्र विरोधियों’ का विरोध नहीं किया. उन्होंने कहा कि वे इसे स्वीकार नहीं कर सकते. अकबर का कहना है कि उनका धर्म से भरोसा उठ गया है. उन्होंने बुधवार को इस संबंध में एक वीडियो फेसबुक पर भी साझा किया था.

Advertisement

Advertisement

फिल्म निर्माता ने कहा था, ‘आज मैं जन्म से मिले हुए पहनावे को उतार फेंक रहा हूं. आज से मैं मुस्लिम नहीं हूं, मैं एक भारतीय हूं. मेरा यह जवाब उन लोगों के लिए हैं, जिन्होंने भारत के खिलाफ हजारों स्माइलिंग इमोटिकॉन्स पोस्ट किए हैं.’ कई मुस्लिम यूजर्स ने उनकी इस पोस्ट का विरोध किया और उन्हें अपशब्द कहे. हालांकि, कई यूजर्स उनके समर्थन में भी आए. कुछ समय बाद फेसबुक से यह पोस्ट गायब हो गई थी.

एक अन्य पोस्ट में अकबर ने लिखा, ‘देश को उन लोगों की पहचान करनी चाहिए और सजा देनी चाहिए, जो सीडीएस की मौत पर हंस रहे हैं.’ टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में अकबर ने कहा कि सोशल मीडिया पर कई राष्ट्र विरोधी गतिविधियां होती हैं औऱ रावत की मौत पर हंसना इसका ताजा उदाहरण है. उन्होंने कहा, ‘ज्यादातर लोग जो स्माइलिंग इमोटिकॉन्स के साथ कमेंट कर रहे हैं और रावत की मौत की खबर पर जश्न मना रहे हैं, वे मुस्लिम हैं.’

Advertisement

उन्होंने आगे कहा, ‘उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि रावत ने पाकिस्तान और कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ कई कार्रवाई की. इन पोस्ट को देखने के बावजूद, जिनमें बहादुर सैन्य अधिकारी और देश का अपमान किया गया, किसी भी शीर्ष मुस्लिम नेता ने प्रतिक्रिया नहीं दी. मैं ऐसे धर्म का हिस्सा नहीं हो सकता.’

अकबर ने बताया कि वे और उनकी पत्नी हिंदू धर्म में परिवर्तन कर लेंगे और आधिकारिक रिकॉर्ड्स में धार्मिक जानकारी बदलने की प्रक्रिया शुरू करेंगे. उन्होंने कहा कि वे अपने दो बेटियों को धर्म बदलने के लिए मजबूर नहीं करेंगे. फिल्मनिर्माता ने कहा, ‘यह उनकी पसंद हैं और मैं उन्हें ही फैसला करने दूंगा.’ अकबर भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश समिति सदस्य थे. उन्होंने पार्टी नेतृत्व से मतभेदों के चलते अक्टूबर में पद से इस्तीफा दे दिया था.

Advertisement

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Continue Reading
BIHAR6 hours ago

जहरीली शराब से हुई मौतों पर CM नीतीश पर बरसे चिराग, कहा- शराबबंदी सरकार की विफलता

ASTROLOGY12 hours ago

खरमास खत्म, अब शादियां ही शादियां, जाने कब-कब है शुभ मुहूर्त

BIHAR14 hours ago

ट्रक चालक के प्यार में घर छोड़कर युवती छत्तीसगढ़ से पहुंच गई बिहार, पश्चिम में अनोखा मामला

JOBS2 days ago

गेटमैन के पदों पर भर्ती कर रहा इंडियन रेलवे, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

BIHAR3 days ago

दरभंगा-रोसड़ा एनएच के निर्माण को केंद्र की मंजूरी

BIHAR3 days ago

12 तो नहीं पर बिहार के बुजुर्ग ने कोरोना वैक्सीन की 8 डोज लगवाई, CoWIN की खामियां आईं सामने

BIHAR3 days ago

निर्वाचित महिला प्रतिनिधि सरकारी बैठकों में किसी और को नहीं भेज सकेंगी, पंचायती राज विभाग ने कसी नकेल

BIHAR3 days ago

विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा हुए कोरोना संक्रमित, पीए व अन्य भी पॉजिटिव

BIHAR3 days ago

रेल हादसाः बिहार के कई स्टेशनों से चढ़े थे यात्री, रेलवे ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

ganga-asnan
DHARM3 days ago

मकर संक्रांति से आरंभ होता है देवताओं का दिन व उत्तरायण

BIHAR3 days ago

रेल हादसाः बिहार के कई स्टेशनों से चढ़े थे यात्री, रेलवे ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर

BIHAR2 weeks ago

राजेंद्र नगर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का बदल जाएगा रूट!

INDIA4 weeks ago

खेसारी यादव और पवन सिंह के दंगल में कूदी अक्षरा सिंह, बोलीं- पैर की धूल बनने लायक भी नहीं हो

BIHAR3 weeks ago

27 दिसंबर से ही बदलने लगेगा सूबे का मौसम, बारिश के आसार

BIHAR6 days ago

आज से 17 तारीख तक आधा दर्जन ट्रेनें रद्द, कई गाड़ियों के रूट भी बदले गए

JOBS2 days ago

गेटमैन के पदों पर भर्ती कर रहा इंडियन रेलवे, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

INDIA4 weeks ago

एलआईसी हर साल देगी 40,000 रुपये, रोज दें 41 रुपये की प्रीमियम

OMG4 weeks ago

खाते में 32 लाख रुपए जमा कर भूल गई महिला, 5 साल बाद बैंक वालों ने फोन कर दिलाया याद

BIHAR2 weeks ago

बिहार में बनेंगे जलमार्ग, सड़कमार्ग और रेलमार्ग के जंक्शन

BIHAR4 weeks ago

अजब प्रेम की गजब कहानी: भाई को ही दिल दे बैठी तलाकशुदा महिला, गर्भवती होने पर युवक का शादी से इंकार

Trending