Connect with us
leaderboard image

INDIA

निर्भया के चारों दो’षियों को 22 जनवरी की सुबह दी जाएगी फां’सी, डे’थ वा’रंट जारी

Santosh Chaudhary

Published

on

निर्भया गैं’गरे’प के दो’षियों के खि’लाफ पटियाला हाउस कोर्ट  ने मंगलवार शाम 4 बजकर 45 मिनट पर डे’थ वा’रंट जारी कर दिया है. मुकेश, पवन, विनय और अक्षय की फां’सी के लिए 22 जनवरी की तारीख मुकर्रर की गई है. कोर्ट ने कहा कि इस बीच चाहें तो बचे हुए का’नूनी विकल्प का इस्तेमाल कर सकते हैं. चारों दो’षियों को बुधवार यानी 22 जनवरी सुबह 7 बजे फां’सी दी जाएगी. आज सुनवाई के दौरान सबसे पहले वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग से तिहाड़ के जे’ल नंबर 4 से विनय को पेश किया गया. वहीं, जे’ल नंबर 2 से अक्षय, मुकेश और पवन को पेश किया गया. सुनवाई के दौरान मीडिया को कोर्ट रूम से बाहर भेज दिया गया.

अदालत के फैसले के बाद दोषियों के वकील एपी सिंह का कहना है कि हम सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर करेंगे.

न्याय व्यवस्था में विश्वास बढ़ेगा
वहीं, कोर्ट से न्याय मिलने के बाद पीड़िता की मां ने कहा, ‘मेरी बेटी को न्याय मिला है. 4 दोषियों की सजा देश की महिलाओं को सशक्त बनाएगी. इस फैसले से न्यायिक प्रणाली में लोगों का विश्वास मजबूत होगा.’

अपराधियों में डर पैदा होगा
वहीं, निर्भया के पिता ने कहा, ”मैं अदालत के फैसले से खुश हूं. दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी दी जाएगी. इस फैसले से ऐसे अपराध करने वाले लोगों में डर पैदा होगा.”

दरअसल, इससे पहले कोर्ट ने अभियोजन, निर्भया के माता-पिता के वकील और बचाव पक्ष के वकीलों को सुनने के बाद मामले पर अपना फैसला दोपहर 3.30 बजे तक सुरक्षित रख लिया था. अदालत को ये तय करना है कि आज डेथ वारंट जारी किया जाए या दोषियों को क्‍यूरेटिव याचिका दाखिल करने के लिए समय दिया जाए.

14 दिन का समय मिलेगा
इससे पहले तिहाड़ जेल प्रशासन ने अदालत में स्‍टेटस रिपोर्ट दायर की थी. सरकारी वकील की तरफ से अदालत में बताया गया कि दोषियों की कोई दया याचिका लंबित नहीं है. दोषियों की पुनर्विचार याचिका खारिज हो चुकी है. डेथ वारंट जारी करना मामले का अंत नहीं होगा, क्‍योंकि उसके बाद कानूनी प्रकिया के मुताबिक अन्‍य कानूनी विकल्‍पों पर विचार करने के लिए 14 दिन का मौका उनको मिलेगा.

वहीं, निर्भया के परिजनों के वकील ने कहा कि डेथ वारंट जारी करने में कोई बाधा नहीं है. लिहाजा वारंट जारी किया जाना चाहिए और विकल्‍पों के लिए 14 दिनों की समससीमा का भी अनुपालन किया जाना चाहिए. लेकिन हमारी मांग है कि डेथ वारंट जारी किया जाए.

जज ने सवाल पूछा कि दया याचिका दायर करने के लिए समयसीमा क्‍या है? इस पर सरकारी वकील ने कहा कि उचित और निर्धारित समय 7 दिन है. एमिकस क्‍यूरी ने कहा कि मुझे मुकेश द्वारा पेंटिंग्स दिखाया गई थी. मुझे मेडिकल हिस्‍ट्री के कुछ दस्तावेज़ दिखाए गए थे. मुझे सभी दस्तावेजों को ध्‍यान से पढ़ना होगा, क्‍योंकि मुझे मुकेश और विनय का प्रतिनिधित्व करने के लिए अदालत द्वारा प्रभार दिया गया है.

पिछली सुनवाई में अदालत ने जेल अधिकारियों को निर्देश दिया था कि वह मामले के चारों दोषियों को नए सिरे से नोटिस जारी करें और उन्हें एक हफ्ते के भीतर यह बताने के लिए कहें कि क्या वे राष्ट्रपति के सामने फांसी की सजा के खिलाफ दया याचिका दायर कर रहे हैं या नहीं. दरअसल, निर्भया की मां ने निर्भया गैंगरेप के दोषियों को जल्द फांसी दिए जाने की मांग करती याचिका दायर की हुई थी.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका 18 दिसंबर ख़ारिज होने के बाद उसी दिन निर्भया की मां की याचिका पर दिल्ली की पटियाला हाउस ट्रायल कोर्ट में सुनवाई हुई थी. ट्रायल कोर्ट ने जेल प्रशासन को आदेश दिया था कि वह दोषियों को नोटिस जारी कर उनसे पूछे कि पुनर्विचार याचिकाओं के ख़ारिज होने के बाद वह अब अपने बचाव में क्या क़ानूनी रास्ता अपनायेंगे और कितने दिन में.

निर्भया की मां ने ट्रायल कोर्ट यानि निचली अदालत से दोषियों को फांसी पर लटकाने के लिए ब्लैक वारंट जारी करने का गुहार लगाई है. ब्लैक वारंट वही निचली अदालत, सेशन कोर्ट जारी करती है जिसमें मामले की ट्रायल हुई है. तिहाड़ जेल प्रशासन ने चारों दोषियों को बुधवार को नोटिस जारी कर दिया था जिसमें उन्हें राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर करने के लिए 7 दिन को मोहलत दी गई.

यह नोटिस दिल्ली जेल नियम 837 के तहत जारी किया गया है जिसमें दोषियों को नोटिस मिलने के बाद सात दिनों की मोहलत मिलती है राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर करने के लिए. इस बीच अगर दया याचिका दायर नहीं होती है तो जेल प्रशासन दोषियों के ख़िलाफ़ आगे की कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है. ट्रायल कोर्ट में अगली सुनवाई 7 जनवरी को होगी.

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को मामले के एक दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका ख़ारिज कर दी थी जबकि अन्य तीन दोषियों की पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट पहले ही ख़ारिज कर चुका है. इस तरह चारों दोषियों की पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट में ख़ारिज हो गई.

INDIA

लॉकडाउन के दौरान घर लौट रही छात्रा के साथ दस लड़कों ने किया गैंगरेप

Ravi Pratap

Published

on

झारखंड के दुमका जिले में 16 वर्षीया किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म का मामला प्रकाश में आया है। मामले में पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर उनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी है। हालांकि ख़बर लिखे जाने तक एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी थी।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के चलते प्रधानमंत्री के आह्वान पर बीते 22 मार्च को एक दिन के ‘जनता कर्फ़्यू’ के दौरान ही झारखंड सरकार ने राज्य स्तर पर 31 मार्च तक के लॉकडाउन की घोषणा कर दी। इसी के चलते दुमका के एक गर्ल्स कॉलेज के हॉस्टल में बैठी एक छात्रा (16 साल) ने 24 मार्च को दिन में ही घर निकलने की तैयारी शुरू कर दी। आपको मालूम है कि 24 मार्च की रात से तो पूरे देश में ही लॉकडाउन हो गया।

आवागमन की सुविधा कम होने की वजह से वह शाम तक घर नहीं पहुंची। घर पहुंचने के लिए एक दोस्त से मदद मांगी। वह उसे घर पहुंचाने के बदले जंगल ले गया और फिर गले के पास चाकू रख दस लड़कों ने इस छात्रा के साथ गैंगरेप किया।

मामले में एफआईआर दर्ज करा दी गई है। घायल छात्रा का इलाज दुमका सदर अस्पताल में चल रहा है। पुलिस को दी गई लिखित शिकायत में छात्रा ने बताया कि 24 मार्च को दोपहर तीन बजे वह हॉस्टल से अपनी दो दोस्तों के साथ घर जाने को निकली। हॉस्टल से उसके घर की दूरी 45 किलोमीटर है। घर लौटने की जानकारी उसने अपने परिजनों को भी दे दी थी।

उसकी दोस्त उसे कारूडीह मोड़ के पास उतार कर पाकुड़ जिले की तरफ, अपने घर के लिए चली गई। शाम 4.30 बजे तक उसने अपने घरवालों का इंतजार किया, लेकिन तब तक उसे लेने कोई आया नहीं था।

जंगली इलाका होने की वजह से वह सड़क किनारे के गांव गरियापानी चली गई और वहीं परिजनों का इंतजार करने लगी। इधर अंधेरा होने लगा था। जल्दी घर पहुंचने के लिए छात्रा ने अपने एक दोस्त विक्की उर्फ प्रसन्नजीत हांसदा को फोन कर बुलाया। थोड़ी देर बाद विक्की अपने एक दोस्त के साथ बाइक पर पहुंचा। और छात्रा को लेकर उसके घर की ओर चल पड़ा।

रास्ते में विक्की ने जंगल की तरफ बाइक मोड़ दी। आपत्ति जताने पर उसने कहा कि लॉकडाउन होने की वजह से रास्ते में पुलिस चेक कर रही है, इसलिए जंगल के रास्ते से जाएंगे। जंगल घुसते ही उसने शौच करने की बात कह, बाइक रोक दी। कुछ देर बाद पहुंचा और फिर अपने दोस्त के साथ मिलकर छात्रा के साथ रेप किया। इस बीच वह चिल्लाती रही।

इधर चिल्लाने के दौरान ही मुंह पर कपड़ा बांधे आठ और लड़के पहुंचे। छात्रा के गले पर चाकू रख, सबने बारी-बारी से उसके साथ रेप किया। इस दौरान मारपीट भी की और किसी को बताने पर जान से मारने की धमकी दी।

रेंगते हुए जंगल से बाहर निकली छात्रा

घटना के बाद छात्रा बेहोश हो गई। उसे मरा समझ कर लड़के वहां से भाग गए। रातभर बेहोशी के हालात में जंगल में ही पड़ी रही। सुबह 25 मार्च को रेंगते हुए सड़क किनारे पहुंची। ग्रामीणों ने देखा तो छात्रा के भाई को फोन पर पूरी जानकारी दी। फिर परिजन उसे घर ले गए। सूचना मिलने के बाद गोपीकांदर थाना की पुलिस पीड़िता के घर पहुंची और फिर इलाज के लिए उसे दुमका सदर अस्पताल ले गए।

दुमका एसपी वाइएस रमेश ने बताया, ‘मामले में एक नामजद और नौ अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। उन्होंने यह भी कहा कि इस मामले में भी रामगढ़ गैंगरेप की तरह की कार्रवाई होगी।’

जानकारी के मुताबिक इससे पहले दुमका में ही पांच फरवरी को एक छह साल की बच्ची के साथ उसके चाचा ने और दो अन्य लोगों रेप किया था। दो दिन बाद बच्ची की लाश मिली थी। मामले में 25 दिन बाद फैसला आया था। लगातार चार दिन सुनवाई हुई। दो मार्च को देर रात कोर्ट खोला गया और तीन की सुबह फैसला सुनाया गई। दोषियों को फांसी की सज़ा दी गई।

वहीं खूंटी में एक लड़की के साथ दस लड़के एक महीने तक गैंगरेप करते रहे। इस दौरान उसके साथ 30 बार गैंगरेप हुआ। बीते साल नवंबर माह में रांची में लॉ यूनिवर्सीटी की छात्रा के साथ 12 लड़कों ने गैंगरेप किया था। आरोपियों को दोषी ठहराया गया और सभी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है।

Input : Live Hindustan

Continue Reading

INDIA

BJP का बड़ा ऐलान-पार्टी सांसद देंगे एक करोड़, विधायक 1 महीने का वेतन करेंगे दान

Santosh Chaudhary

Published

on

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से लड़ाई में देश अपनी पूरी ताकत से लगा हुआ है. लोग अपनी सैलरी और जरूरत का सामान दान कर रहे हैं. अब इसी कड़ी में बीजेपी ने बड़ा ऐलान किया है. पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा है कि पार्टी के सभी एमएलए और सांसद अपने एक महीने का मानदेय या वेतन कोरोना वायरस के खिलाफ लडाई के लिए दान देंगे. सांसद और विधायक जरूरतमंदों की मदद और वायरस की रोकथाम के लिए केंद्रीय राहत कोष में दान देंगे.

जेपी नड्डा ने कहा, सभी भाजपा सांसद कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों में मदद करने के लिए अपनी सांसद निधि से एक करोड रुपए केंद्रीय सहायता कोष में देंगे.

Continue Reading

INDIA

कोरोना से लड़ने व लोगों की मदद के लिए आगे आया किन्नर समाज

Ravi Pratap

Published

on

कोरोना वायरस जैसी महामारी पूरे विश्व में हाहाकार मचा रखा है। हर व्यक्ति अपने अपने तरीके से इस आपातकाल की स्थिति में लोगों की मदद करने में अपना योगदान दे रहा है। जिसकी जैसी सामर्थ है वह अपनी सामर्थ्य के अनुसार लोगों की निस्वार्थ भाव से सेवा कर रहा है।

किन्नर समाज के लोगों ने महामारी से बचाव के लिए मास्क बांटे और अपना योगदान देश के लिए समर्पित किया। कोई भूखे को खाना खिला रहा है तो कोई लोगों की मदद मास्क और सेनेटाइजर निशुल्क बांटकर अपने आप को देश के लिए समर्पित कर रहा है। एक समाज के लोगों को जिस नजरिए से देखा जाता है वह समाज आज हर व्यक्ति के साथ कंधे से कंधा मिलाकर साथ चल रहा है और इस विषम परिस्थिति में लोगों की सहायता कर रहा है। किन्नर समाज के लोग जगह-जगह जाकर अपने कर्तव्य का पालन मास्क बांटकर कर रहे हैं और साथ ही लोगों को जागरूक भी कर रहे हैं कि वह लोग जरूरी काम के लिए ही घर से बाहर निकले।

किन्नर समाज के लोग रास्ते में लोगों को रोककर मानसिक बांटते नजर आए तो दूसरी ओर बसों में यात्रा कर रहे लोगों को भी किन्नर समाज के लोगों ने मास्क देकर जागरूक किया। किन्नर समाज के लोगों का कहना है कि 21 दिनों तक लॉक डाउन पूरे देश भर में हुआ है और हमने भी यह सोचा के सब लोग अपने अपने तरीके से हर कोई एक-दूसरे की सहायता कर रहा है तो हम भी लोगों को मास्क बांट कर एक दूसरे का सहयोग करें। इस संकट की घड़ी में सभी को एक साथ मिलकर देश के प्रति योगदान देना चाहिए।

Continue Reading
INDIA47 mins ago

लॉकडाउन के दौरान घर लौट रही छात्रा के साथ दस लड़कों ने किया गैंगरेप

BIHAR2 hours ago

मजदूरों के लिए योगी ने भिजवाईं 1000 बसें, पर नीतीश ने कर दिया मना, बोले- ‘पीएम का लॉकडाउन फेल हो जाएगा’

WORLD2 hours ago

Xiaomi ने लॉन्च की दो सस्ती इलेक्ट्रिक स्कूटर, एक बार चार्ज होकर चलेगी 70 किलोमीटर

INDIA2 hours ago

BJP का बड़ा ऐलान-पार्टी सांसद देंगे एक करोड़, विधायक 1 महीने का वेतन करेंगे दान

INDIA2 hours ago

कोरोना से लड़ने व लोगों की मदद के लिए आगे आया किन्नर समाज

BIHAR3 hours ago

कालाबाजारी व लॉक डाउन तोड़नेवालों के खिलाफ स्पीडी ट्रायल: DGP

INDIA3 hours ago

गृह मंत्रालय का राज्‍यों को निर्देश- मजदूरों, बेघरों को मुहैया कराएं भोजन और दवा

BIHAR3 hours ago

नियोजित शिक्षकों के लिए पसीजा नीतीश सरकार का दिल, हड़ताली शिक्षकों को मिलेगा जनवरी तक का वेतन

TECH3 hours ago

Corona Kavach App: सरकार का ऐसा मोबाइल एप जो कोरोना पॉजिटिव एरिया वालों से अलर्ट करेगा

INDIA4 hours ago

गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए क्वारंटाइन से फरार हो गया कोरोना संदिग्ध

BIHAR23 hours ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA3 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

INDIA6 days ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA1 day ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR2 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR1 week ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

BIHAR3 weeks ago

बड़ी खुशखबरी: बिहार में घरेलू गैस की अब नहीं होगी किल्लत, बांका में नया प्लांट शुरू

BIHAR3 days ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA3 weeks ago

आज होगी देश की सबसे महंगी शादी, 500 पंडित पढ़ेंगे मंत्र

BIHAR4 days ago

लॉकडाउन के बाद पैदल जयपुर से बिहार के लिए निकले 14 मजदूर, भूखे-प्यासे तीन दिन में जयपुर से आगरा पहुंचे

Trending