प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा पटना और मुज़फ़्फ़रपुर में वायु प्रदूषित होने के मामले सख्ती दिखाते हुए बिहार के सामान्य प्रशासन विभाग के अवर सचिव सह पब्लिक ग्रीवांस अधिकारी आमिर सुबहानी को मुजफ्फरपुर की एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) 463 माइक्रोग्राम प्रतिघन मीटर और पटना की एयर क्वालिटी इंडेक्स 455 माइक्रोग्राम प्रतिघन यानि इन दोनों जिलो में एयर क्वालिटी मानक क्षमता से अधिक होने की जांच के लिए मामले को भेज दिया है।

Pic by Madhab Kumar

दोनों जिलो में एयर गुणवत्ता मानक क्षमता से अधिक होने के लिए जिले के जिलाधिकारी, नगर निगम आयुक्त और प्रदूषणनियंत्रण बोर्ड परिषद पूर्णतः दोषी बताते हुए लोक चेतना दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता सह सामाजिक कार्यकर्ता शकिन्द्र कुमार यादव ने उन पर कार्रवाई की मांग प्रधानमंत्री से की है। जिसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा बिहार के सामान्य प्रशासन विभाग के अवर सचिव सह पब्लिक ग्रीवांस अधिकारी को जांच हेतु भेज दिया गया है। उन्होंने दोनों जिला पटना और मुज़फ़्फ़रपुर के डीएम, नगर आयुक्त और प्रदूषण नियंत्रण परिषद को मुख्य रूप से जिम्मेदार ठहराया और कहा कि उन्होंने समय रहते इन सभी सक्षम अधिकारियों के द्वारा वायु प्रदूषण रोकने संबंधित किसी भी प्रकार की सार्थक पहल नहीं की जिस कारण ये खतरनाक स्थिति जिले में पैदा हो जाने पर कार्रवाई की मांग की थी।

Pic by Madhab Kumar

विदित हो कि मुजफ्फरपुर नाउ पोर्टल पर खबर चलने के बाद उन्होंने ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से कार्रवाई की मांग थी जिसके बाद यह प्रक्रिया शुरू हुई है।