पोस्टर वा'र 'बिहार में बहार' नहीं 'ठीके तो है नीतीश कुमार', RJD ने दिया ये जवाब, जानिए
Connect with us
leaderboard image

BIHAR

पोस्टर वा’र ‘बिहार में बहार’ नहीं ‘ठीके तो है नीतीश कुमार’, RJD ने दिया ये जवाब, जानिए

Santosh Chaudhary

Published

on

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में तो अभी वक्त है, लेकिन इसकी तैयारी शुरू हो चुकी है और इस बार जनता दल यूनाइटेड (JDU) और राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के बीच सीधी लड़ाई अभी से दिखने लगी है। दोनों दलों के बीच पोस्‍टर व स्‍लोगन की ल’ड़ाई शुरू हो चुकी है।

जेडीयू ने चुनावी तैयारी करते हुए अपना पहला पोस्टर जारी किया है जिसमें उसने पहले के चुनावी स्‍लोगन ‘बिहार में बहार…’ से अलग ‘क्यूं करे विचार, ठीके तो है नीतीश कुमार’ का नया स्लोगन जारी किया है। जेडीयू इसके जरिए यह संदेश देना चाहता है कि नीतीश कुमार का कोई विकल्प नहीं है। ऐसे में किसी दूसरे के लिए विचार क्यों किया जाए।

जेडीयू के इस स्‍लोगन के जवाब में आरजेडी ने भी अपना पोस्टर निकालकर स्लोगन दिया है। इसमें आरजेडी ने मौजूदा सरकार और सीएम नीतीश पर सीधा हमला बोला है। स्लोगन है- ‘क्यों ना करें विचार, बिहार है बीमार…’

एक तरफ जेडीयू का मानना है कि बिहार में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) का कोई विकल्प नही हैं। ऐसे में गांव के चौपालों पर जो आम बोलचाल की भाषा में चर्चा होती है, उसमें स्‍लोगन दिया गया है। इसमें यही उभर के सामने आता है- ‘क्यूं करे विचार, ठीके तो है नीतीश कुमार।’ स्‍लोगन जेडीयू के राष्ट्रीय सचिव उपेन्द्र कुमार सिंह ने दिया है, जिसे पार्टी कार्यालय के बाहर लगाया गया है।

दूसरी ओर आरजेडी ने बिहार सरकार और सीएम नीतीश कुमार की नाकामियों को उजागर किया है और अपने पोस्टर पर बिहार के नक्शे में चमकी बुखार, बाढ़, हत्या, सुखाड़, डकैती, अपहरण, लूट को दर्शाते हुए राज्‍य में कुव्यवस्था को दिखाया है।

बता दें कि बिहार के 2015 विधानसभा चुनाव में जेडीयू व आरजेडी साथ थे। तब ‘बिहार में बहार हो, नीतीशे कुमार हो ‘ का स्‍लोगन दिया गया था। यह स्‍लोगन बिहार में खूब चला था। इसे राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने गढ़ा था। उस वक्त नीतीश कुमार महागठबंधन (Grand Alliance) का चेहरा थे। आज दोनों दल एक-दूसरे के विरोध में हैं।

 

जेडीयू के पोस्टर पर आरजेडी ने कसा तंज

नीतीश कुमार अब भारतीय जनता पार्टी (BJP) के साथ मिलकर राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की सरकार चला रहे हैं। आरजेडी ने नीतीश कुमार पर तंज कसता हुआ स्‍लाेगन जारी किया है। आरजेडी नीतीश कुमार के विकल्प की बात तो नहीं करता, लेकिन यह जरूर कहता है कि बिहार में एके-47 की बहार है, जेल में जन्मदिन पार्टी गुलजार है फिर भी क्यूं न करें विचार। ठीके हैं, यानी बहुत ठीक नही हैं नीतीश कुमार।
आरजेडी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष शिवानंद तिवारी ने कहा है कि नीतीश की पार्टी के कुछ लोगों ने सत्ता की चाहत में पोस्‍टर लवाए हैं। आरजेडी विधायक और प्रवक्ता भाई वीरेंद्र का कहना है कि जेडीयू ने नीतीश कुमार को इस स्लोगन के जरिए एक कदम पीछे ही कर दिया है। यह जल्दीबाजी में दिया गया स्लोगन है, जिसमें बड़े ही ठंडे अंदाज में बताया गया है कि ठीक ही हैं नीतीश कुमार। उन्होंने कहा है कि बिहार में जो हालत हैं, जिस तरीके से कानून व्यवस्था का सवाल पैदा हो रहा है, उसमें ठीक ही है कैसे कहा जा सकता है। जिस राज्य में एके 47 की बहार हो, जहां जेल में कैदी बर्थ-डे पार्टी मना रहें हों। सीतामढ़ी में एक महिला पार्षद को फोन पर सत्ताधारी दल के नेता द्वारा धमकी दी जा रही हो, वहां सबकुछ कैसे ठीक हो सकता है।

Input : Dainik Jagran

 

BIHAR

श्रद्धांजलि: तब लालू ने कहा था- बिहार को भले ही बंधक रखना पड़े, वशिष्ठ बाबू का इलाज विदेश तक कराएंगे

Himanshu Raj

Published

on

देश-दुनिया में अपनी गणितीय प्रतिभा का लोहा मनवाने वाले महान गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह को स्वजन जब 1994 में मानसिक स्थिति खराब होने की हालत में छपरा के डोरीगंज बाजार से घर लाए थे तो तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद उनसे मिलने सदर प्रखंड अंतर्गत बसंतपुर आए थे। उनके घर के आंगन में लालू प्रसाद खाट पर बैठे, जबकि गणितज्ञ चौकी पर पेट के बल लेटे हुए थे। उनकी हालत को देखते हुए पूर्व मुख्यमंत्री इतने भावुक हो गए कि उन्होंने कहा कि बिहार को हमें भले ही बंधक रखना पड़े, हम महान गणितज्ञ का इलाज विदेश तक कराएंगे। लालू प्रसाद ने 1994 में ही वशिष्ठ बाबू को बेहतर इलाज के लिए बंगलुरू स्थित निमहंस अस्पताल में सरकारी खर्चे पर भर्ती कराया। जहां 1997 तक उनका इलाज चला। इससे उनकी स्थिति में सुधार हुआ। वहां से वे अपने गांव बसंतपुर लौट आए।

लालू सरकार ने भाई-भतीजे समेत पांच को दी थी नौकरी

तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद ने महान गणितज्ञ डॉक्टर वशिष्ठ नारायण ङ्क्षसह का इलाज तो कराया ही, उनके परिवार को मुफलिसी से उबारने के लिए उनके भाई हरिश्चंद्र नारायण ङ्क्षसह, भतीजे संतोष ङ्क्षसह और अशोक ङ्क्षसह के अलावा उन्हें खोजने वाले गांव के कमलेश राम और सुदामा राम को विभिन्न विभागों में नौकरी दी। भाई हरिश्चंद्र नारायण ङ्क्षसह स्थानीय समाहरणालय में है, भतीजा संतोष ङ्क्षसह अंचल कार्यालय पीरो तथा अशोक ङ्क्षसह पुलिस विभाग में कार्यरत हैं। ग्रामीण कमलेश राम को समाहरणालय और सुदामा राम को आपूर्ति विभाग में नौकरी मिली है। पांचों लोग आज भी सेवारत हैं।

 

तीन भाइयों में सबसे बड़े थे वशिष्ठ नारायण

डॉ. वशिष्ठ नारायण ङ्क्षसह अपने तीन भाइयों में सबसे बड़े थे। उनसे छोटे भाई अयोध्या प्रसाद ङ्क्षसह और तीसरे भाई हरिश्चंद्र नारायण ङ्क्षसह हैं। अयोध्या प्रसाद ङ्क्षसह के पटना स्थित आवास पर गणितज्ञ पिछले कई वर्षों से रह रहे थे, जहां उनका इलाज चल रहा था।

ट्रेन से खंडवा स्टेशन पर उतर हो गए थे गुमनाम

अपने पैतृक गांव बसंतपुर से मध्यप्रदेश में इलाज कराने के लिए छोटे भाई अयोध्या सिंह व अपनी पत्नी के साथ 1989 में ट्रेन से जा रहे वशिष्ठ बाबू रात में खंडवा स्टेशन पर उतर कर गुम हो गए थे। तब ट्रेन में उनके भाई व पत्नी की आंख लग गई थी। यात्रियों ने उन्होंने बताया था कि उनके साथ वाले खंडवा स्टेशन पर उतर गए थे। दोनों लौटकर खंडवा पहुंचे और खोजबीन की, परंतु कहीं उनका पता नहीं चला। उसी समय से वे गुमनाम की जिंदगी जी रहे थे। विक्षिप्त होने के बाद वे पांच वर्षों तक गुमनामी में रहे।

तब विक्षिप्त हालत में मिले थे गणितज्ञ

बसंतपुर के कमलेश राम और सुदामा राम को 1994 में छपरा जिले के डोरीगंज बाजार में विक्षिप्त हालत में वशिष्ठ बाबू मिले थे। दोनों युवकों ने उन्हें पहचान कर वहां के लोगों से उनकी देखभाल करते रहने की बात कही और फिर स्वजनों को लेकर दूसरे दिन डोरीगंज बाजार पहुंचे। फिर उन्हें घर लाया गया। तब देश में गुमनामी की ङ्क्षजदगी जी रहे इस महान गणितज्ञ की खबरें अखबार की सुर्खियां बनीं थीं। सुदामा के अनुसार वे अपनी बेटी की विदाई में पलंग समेत अन्य फर्नीचर की खरीदारी करने कमलेश के साथ डोरीगंज बाजार गए थे। वहां उनकी मुलाकात गांव के वैज्ञानिक चाचा यानी महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह से हुई थी।

Input: Jagran

Continue Reading

BIHAR

मिठनपुरा में फ्लावर मिल से एक ट्रक श’राब जब्त

Himanshu Raj

Published

on

मिठनपुरा थाना क्षेत्र के बेला लीची बगान इलाके में गुरुवार की रात पुलिस ने फ्लावर मिल के अंदर छा’पेमारी कर श’राब लदी एक ट्रक को जब्त किया है। इसके अलावा चार अन्य वाहन जब्त किए गए हैं। करीब पांच सौ से अधिक कार्टन श’राब की बताई जा रही है। इस दौरान दो कर्मियों को पुलिस ने हि’रासत में लिया है। उससे पूछताछ कर फ्लावर मिल मालिक व अन्य धं’धेबाजों के बारे में पता लगाया जा रहा है। एसएसपी जयंत कांत ने बताया कि एक ट्रक श’राब जब्त की गई है। मिलान किया जा रहा है।

बताया गया कि एसएसपी को गुप्त सूचना मिली कि फ्लावर मिल के अंदर से शराब का धंधा किया जा रहा है। सूचना के बाद खुद एसएसपी के नेतृत्व में विशेष टीम ने इलाके में नाकेबंदी कर मिल पर छापेमारी की। इस दौरान शराब लदी ट्रक को जब्त किया गया। छापेमारी में शामिल डीएसपी नगर रामनरेश पासवान ने बताया कि मिल के बोर्ड पर ठाकुर सेल्स एंड फूड .. लिखा पाया गया है। हिरासत में लिए गए कर्मियों से पूछताछ पर आगे की कार्रवाई की जा रही है। स्थानीय लोगों से पूछताछ में जानकारी मिली कि हर साल मिल पर लगा बोर्ड का नाम बदल दिया जाता है। काफी दिनों से वहां पर अवैध ढंग से शराब का धंधा हो रहा था। इसकी सूचना स्थानीय थाने को लोगों ने कई बार दी। लेकिन मिठनपुरा पुलिस ने छापेमारी नहीं की। नए एसएसपी के योगदान देने के बाद लोगों को उनपर विश्वास हुआ और गुप्त सूचना मिलने पर फौरन कार्रवाई की गई।

Input: Dainik Jagran

 

 

Continue Reading

BIHAR

प्रकाश पर्व : कंगन घाट पर बनेगी पांच हजार क्षमता वाली टेंट सिटी

Ravi Pratap

Published

on

गुरुनानक जी महाराज का 550वें प्रकाश गुरु पर्व 27 से 29 दिसंबर और गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज का 353वां प्रकाश पर्व समारोह 31 दिसंबर से दो जनवरी तक पटना एवं राजगीर में मनाया जायेगा. पर्यटन विभाग ने श्रद्धालुओं के लिए तैयारी राजगीर और पटना में शुरू कर दी है.

अधिकारियों के मुताबिक कंगन घाट पर पांच हजार श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए टेंट सिटी का निर्माण होगा, जहां देश-विदेश से आये लाखों श्रद्धालुओं के ठहरने की पूरी व्यवस्था होगी. प्रकाश पर्व में पटना और राजगीर आने के लिए भारत के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति एवं अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री को आमंत्रण पत्र भेजा जायेगा. गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से देश-विदेश के अनेक सिख धर्म गुरुओं को बुलाने की तैयारी की गयी है.

श्रद्धालुओं के लिए कंगन घाट में बनने वाली टेंट सिटी 25 दिसंबर से तीन जनवरी तक रहेगी. राजगीर में टेंट सिटी का निर्माण नहीं होगा.

पटना से राजगीर के लिए परिवहन विभाग 150 से अधिक बसें चलायेगा राजगीर और पटना में बनेगा हेलीपैड पार्किंग को जमीन होगी चिह्नित श्रद्धालुओं के लिए सुविधा के के लिए स्पेशल दो ट्रेनें चलाने पर भी रेल मंत्रालय को पत्र भेजा गया है

पटना आने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी नहीं हो. इसमें सभी विभाग मिलकर काम कर रहे हैं. कंगन घाट पर टेंट सिटी का निर्माण जल्द शुरू होगा. पटना से राजगीर जिन श्रद्धालुओं को जाना होगा, उनके लिए बस की व्यवस्था की गयी है.
कृष्ण कुमार ऋषि, मंत्री, पर्यटन विभाग

Input : Prabhat Khbar

Continue Reading
Advertisement
BIHAR10 mins ago

श्रद्धांजलि: तब लालू ने कहा था- बिहार को भले ही बंधक रखना पड़े, वशिष्ठ बाबू का इलाज विदेश तक कराएंगे

BIHAR18 mins ago

मिठनपुरा में फ्लावर मिल से एक ट्रक श’राब जब्त

BIHAR42 mins ago

प्रकाश पर्व : कंगन घाट पर बनेगी पांच हजार क्षमता वाली टेंट सिटी

BIHAR11 hours ago

डॉ. वशिष्ठ नारायण के निधन पर PM मोदी ने जताया शोक, कहा- देश ने खो दी विलक्षण प्रतिभा

TRENDING12 hours ago

लता मंगेशकर चौथे दिन भी आईसीयू में, हालत स्थिर; परिजन ने कहा-दुआओं के लिए शुक्रिया

BIHAR12 hours ago

रेड मारने गई बिहार पुलिस को उतारनी पड़ गई पैंट

MUZAFFARPUR13 hours ago

मुजफ्फरपुर प्लेटफार्म एक पर चलना दुश्वार, हर तरफ कब्जा

MUZAFFARPUR13 hours ago

ईमानदारी की दुकान चला रहे बच्चे

MUZAFFARPUR13 hours ago

मुजफ्फरपुर में 45 साल के बूढ़े आदमी के साथ लड़की का अ’श्लील वीडियो वायरल

vashishtha-narayan-singh
BIHAR15 hours ago

श्रद्धांजलि: 31 कंप्यूटर्स से भी तेज चलता था गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का दिमाग

INDIA4 weeks ago

तेजस एक्सप्रेस की रेल होस्टेस को कैसे परेशान कर रहे लोग?

BIHAR3 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

BIHAR3 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के नदीम का भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम में चयन, जश्न का माहौल

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के लाल शाहबाज नदीम का क्रिकेट देखेगा पूरा विश्‍व, भारतीय टीम में शामिल होने पर पिता ने कही बड़ी बात

BIHAR2 weeks ago

मदीना पर आस्‍था तो छठी मइया पर भी यकीन, 20 साल से व्रत कर रही ये मुस्लिम महिला

BIHAR2 weeks ago

प्रत्यक्ष देवता की अनूठी अराधना का पर्व है छठ व्रत, जानें अनूठी परंपरा के बारे में कुछ खास बातें

MUZAFFARPUR3 weeks ago

धौनी ने नदीम से मिलकर कहा, गेंदबाजी एक्शन ही तुम्हारी पहचान

BIHAR4 weeks ago

अगले 10 दिनों तक भगवानपुर – घोसवर रेल मार्ग रहेगी बाधित, जाने कौन कौन सी ट्रेनें रहेंगी रद्द

INDIA2 weeks ago

छठ पूजा के दौरान दिखी यमुना की ख’तरनाक तस्वीर, सोशल मीडिया पर यूरोप की नदियों से की गई तुलना

Trending

0Shares