ट्रैफिक रूल्स का झोल : बिहार में तीन नाबालिगों का 81,500 रुपये का काटा चालान
Connect with us
leaderboard image

BIHAR

ट्रैफिक रूल्स का झोल : बिहार में तीन नाबालिगों का 81,500 रुपये का काटा चालान

Santosh Chaudhary

Published

on

सहरसा : गुरुवार को तीन अलग-अलग जगहों से तीन नाबालिगों को वाहन चलाने के जुर्म में पकड़े जाने पर कुल 81 हजार पांच सौ रुपये का चालान काटा गया. मोटरयान निरीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बनगांव थाने के पास एक नाबालिग को बाइक चलाते पकड़ा. उससे नाबालिग के तहत 25 हजार व अन्य आरोप में 15 सौ रुपये यानी कुल 26 हजार पांच सौ रुपये का जुर्माना वसूला गया. गुरुवार की शाम सदर थाना गेट पर डीटीओ राकेश कुमार, एमवीआइ एसके सिंह व यातायात प्रभारी नागेंद्र राम के नेतृत्व में हुई वाहन जांच में एक नाबालिग को वाहन चलाते पकड़ा गया.

उस पर भी 27 हजार पांच सौ का जुर्माना किया गया. वहीं शंकर चौक पर ट्रैफिक जवान को स्कूटी सवार नाबालिग द्वारा धक्का मारने व जवान के जख्मी होने के बाद उस पर भी 27 हजार पांच सौ का जुर्माना किया गया. एमवीआइ श्री सिंह ने बताया कि कुल 81 हजार पांच सौ जुर्माना किया गया है. वाहन जांच जारी है. हालांकि उन्होंने नाबालिगों के नाम व पता बताने से इन्कार कर दिया.

पटना में पांच दिनों में वसूले गये 13 लाख, आज से चलेगा विशेष अभियान

पटना : एक सितंबर से नया मोटर वाहन अधिनियम लागू होने के बाद पांच दिनों में पटना में 1259 वाहनों से 13.13 लाख रुपये का जुर्माना वसूला गया है. वहीं, इसे सख्ती लागू करवाने के लिए शुक्रवार से एक सप्ताह का विशेष अभियान शुरू होगा.

इसमें 200 अतिरिक्त पुलिसकर्मियों को शहर के अलग-अलग प्वाइंट पर समूह में तैनात किया जायेगा. उनके साथ हैंड हेल्ड डिवाइस लिये चार-पांच अधिकारी भी रहेंगे, तो वाहनों को चेक करेंगे. पहले यह गुरुवार से ही शुरू होनेवाला था, लेकिन फोर्स नहीं मिलने के कारण एक दिन देर से शुरू होगा.

1 सितंबर 174 1.49
2 सितंबर 255 2.29
3 सितंबर 300 3.76
4 सितंबर 252 3.22
5 सितंबर 278 2.37
कुल 1259 13.13

गडकरी बोले- नियमों का पालन कराने के लिए बढ़ाया गया जुर्माना

नयी दिल्ली : नये ट्रैफिक रूल्स को लेकर मचे हंगामे के बीच सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को कहा कि यातायात नियमों के उल्लंघन पर जुर्माने में भारी वृद्धि का फैसला कानून का पालन अनिवार्य बनाने के लिए किया गया है. सरकार का मकसद लोगों पर ज्यादा जुर्माना लगाना बिल्कुल नहीं है. हम चाहते हैं कि दुर्घटनाएं कम हों, ताकि लोगों की जान बच सके. देश में हर साल पांच लाख सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, जिनमें डेढ़ लाख लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती है.

दरअसल, इस महीने से जुर्माने की रकम 30 गुना तक बढ़ने और सजा की अवधि में भी इजाफे का नया नियम लागू किये जाने पर कोहराम मचा हुआ है. सोशल मीडिया पर तरह-तरह के मीम्स डाल कर कानून का विरोध किया जा रहा है. वहीं पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, राजस्थान, मध्य प्रदेश के साथ गुजरात ने भी बढ़ी हुई दर पर जुर्माना वसूलने से इंकार कर दिया है. एक कार्यक्रम में गडकरी ने कहा कि बहुत से ऐसे लोग हैं, जिनके लिए कड़े जुर्माने के बिना ट्रैफिक रूल कोई मायने नहीं रखता है.

जुर्माना बढ़ाने का फैसला काफी सोच-समझकर और विभिन्न पक्षों से सलाह लेकर लागू किया गया है. यदि लोग कानून का पालन करेंगे, तो उन पर कोई जुर्माना नहीं लगेगा. सरकार इन जुर्मानों से कमाई करना नहीं चाहती है. अब तक यातायात नियमों का बहुत कम पालन होता रहा है.

पेट्रोल-डीजल वाहन बैन करने का इरादा नहीं

गडकरी ने कहा कि सरकार की पेट्रोल और डीजल वाहनों पर प्रतिबंध लगाने की कोई योजना नहीं है. उन्होंने कहा कि ऐसी बातें चल रही हैं कि सरकार पेट्रोल और डीजल वाहनों पर प्रतिबंध लगा देगी. मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है. हम ऐसा कुछ नहीं करने जा रहे हैं. गडकरी ने यह बात सियाम के सालाना कन्वेंशन में कहीं.

मोटर व्हीकल रूल्स: डीएल-आरसी नहीं दिखाने पर तत्काल चालान नहीं काट सकती ट्रैफिक पुलिस

अगर आप ट्रैफिक पुलिस के मांगने पर फौरन रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी), इंश्योरेंस सर्टिफिकेट, पॉल्यूशन अंडर कंट्रोल सर्टिफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस (डीएल) और परमिट सर्टिफिकेट नहीं दिखाते हैं, तो यह जुर्म नहीं है. सेंट्रल मोटर व्हीकल रूल्स के नियम 139 में प्रावधान किया गया है कि वाहन चालक को दस्तावेजों को पेश करने के लिए 15 दिन का समय दिया जायेगा. ट्रैफिक पुलिस तत्काल उसका चालान नहीं काट सकती है. हालांकि, चालक को 15 दिन के अंदर इन दस्तावेजों को संबंधित ट्रैफिक पुलिस या अधिकारी को दिखाना होगा.

35 हजार का चालान कटा, तो छोड़ गया बुलेट

फरीदाबाद में एक बुलेट सवार का 35 हजार रुपये का चालान हुआ. युवक ने रुपये नहीं दिये और बुलेट मौके पर छोड़ कर चला गया. 35 हजार का चालान फरीदाबाद में अब तक पुलिस कार्रवाई में सबसे बड़ा चालान है.

इ-रिक्शा चालक पर लगा 27 हजार का जुर्माना

दिल्ली के एक इ-रिक्शा चालक पर कोर्ट ने 27 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है. ट्रैफिक पुलिस ने मायापुरी सर्कल में इ-रिक्शा चालक के खिलाफ कार्रवाई करते हुए चालान काटा था. इ-रिक्शा चालक बिना रजिस्ट्रेशन के वाहन चला रहा था.

Input : Prabhat Khabar

BIHAR

मुज़फ़्फ़रपुर : नाबालिग से सामू’हिक दु’ष्कर्म के बाद आरो’पी घूम रहे खुलेआम ; पु’लिस पर लगे गंभीर आरोप

Himanshu Raj

Published

on

मुजफ्फरपुर ज़िले के हथौड़ी थाना क्षेत्र में 14 साल की नाबालिग से गैंगरेप का मामला दर्ज किया गया, लेकिन घटना के चार महीने बीत जाने के बाद भी नाबालिग लड़की का अपहरण कर गैंग रेप करने वाले आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर हैं. आरोप यह भी है कि अपहरण और गैंग रेप के इस सनसनीखेज मामले में पीड़ित की ठीक ढंग से मेडिकल जांच तक नहीं करवायी गयी. पीड़ित ने मेडिकल जांच नहीं कराने और कोर्ट में सही बयान नहीं देने के लिए दबाव बनाने का आरोप पुलिस पर लगाया है. आलम ये है कि पीड़ित परिवार घर बेचकर गांव छोड़ने को मजबूर हो रहा है.

आरोप है कि हथौड़ी थाना क्षेत्र के अल्पसंख्यक बहुल गांव में एक दूसरे समुदाय की 14 साल की नाबालिग लड़की का अपहरण तीन लड़कों ने कर लिया. इसी साल 17 जुलाई को लड़की का अपहरण उस समय किया गया जब वह गांव के बगल के हाई स्कूल में पढ़ने गई थी. गांव के मो आरिफ और दो नाबालिग लड़के के साथ पांच लोगों पर अपहरण का आरोप लगा है.

अपहरण के 12 दिन बाद यानि 29 जुलाई को नाबालिग लड़की को एक नाबालिग आरोपी के साथ लखनऊ स्टेशन पर देखा गया. बाद में लड़की को एक संस्था के हवाले किया गया.जहां से हथौड़ी पुलिस और परिवार वालों के साथ बच्ची को मुजफ्फरपुर लाया गया.

पीड़िता के अनुसार लखनऊ में बंद कमरे में उसके साथ मो आरिफ और एक नाबालिग आरोपी ने लगातार दुष्कर्म किया. उसने बताया कि इन दोनों ने ये काम इसलिए किया कि एक नाबालिग लड़के से उसकी दोस्ती थी. पीड़ित लड़की के अनुसार उसकी इसी दोस्ती का बदला लेने के लिए गांव के दोनों युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया.

पीड़ित के अनुसार उसे बेहोश कर अपहरण किया गया था. और कई दिनों तक दुष्कर्म भी खाना में नशीला पदार्थ मिलाने के बाद करता था. बरामदगी के बाद पीड़िता को धमकी देकर सही बयान कोर्ट में देने से रोका.

पीड़ित कहती है कि उसके दोस्त ने 28 जुलाई को लखनऊ पहुंचकर दोनों युवकों के चंगुल से बचाकर लाया. हलांकि पीड़ित लड़की बार-बार दोहरा रही है कि अपहरण करने में उसका मित्र भी शामिल था. लेकिन दोनों युवकों के कई दिनों तक दुष्कर्म करने के बाद वह लखनऊ पहुंचा था.

आरोप है कि गैंगरेप करने वाले युवकों ने पीड़िता को इस कदर धमकाया कि वह मुजफ्फरपुर आने के बाद कोर्ट में दिये 164 के बयान में तीनों लड़कों पर अपहरण करने की बात तो बताई, लेकिन दुष्कर्म किये जाने की बात नहीं बताई.

उसने यह भी आरोप लगाया है कि गैंगरेप करने वाले अपराधी ही नहीं बल्कि नाबालिग को लखनऊ से बरामद करने गई पुलिस ने भी मेडिकल जांच नहीं कराने का दबाव बनाया. वह कहती है कि मुजफ्फरपुर के सदर अस्पताल में पीड़िता के निजी अंगों की जांच भी नहीं कराई गई.

आरोप है कि पुलिस ने यह कहकर दबाव बाया कि दुष्कर्म की बात जांच में पुष्टि होने पर पीड़ित परिवार की परेशानी बढ़ जायेगी. इतना ही नहीं मेडिकल बोर्ड में नाबालिग की उम्र 19 से 20 बताई गई जबकि स्कूल में नाबालिग की उम्र 16 जुलाई 2005 दर्ज है. यानि इस साल जुलाई माह में ही पीड़िता 14 साल की हुई है.

जुलाई में नाबालिग के साथ हुई घिनौनी घटना के बाद भी सभी आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर है. पुलिस अधिकारियों के अनुसंधान में अपहरण की घटना को सत्य बताकर 5 आरोपियों में से पीड़िता द्वारा बताये गये तीन आरोपियों की गिरफ्तारी का आदेश दिया गया है, लेकिन तीनों आरोपी घटना के बाद भी खुलेआम घूम रहा है .

पुलिस अनुसंधान में यह बताया कि नाबालिग का अपहरण शादी की नीयत से किया गया था.लेकिन नाबालिग का दिया गया बयान काफी गंभीर है.उसने बताया कि उसके साथ लखनऊ में मो आरिफ और एक नाबालिग ने कई दिनों तक दुष्कर्म किया.वही मेडिकल जांच नहीं कराने और कोर्ट में सही बयान नहीं देने के लिए आरोपियों से लेकर पुलिस तक ने दबाव बनाया.

पीड़ित के पिता का आरोप है कि बेटी के साथ गैंगरेप की घटना में धमकी देने वाले शख्स के ही निकट के संबंधी घटना को अंजाम दिया है. अस्पताल से लेकर पुलिस तक भी मामले को दबाने के लिए भी मो मोमताज ही दौड़-धूप कर रहा है.

पीड़ित के परिवार गांव छोड़ने का लिया निर्णय

नाबालिग बेटी के साथ गैंगरेप की घटना के बाद पूरा परिवार टूट चुका है. दिल्ली में ऑटो चलाने वाले पीड़ित के पिता पूरे मामले में सनसनीखेज आरोप लगा रहे हैं. पिता का कहना है कि गांव में उनके घर के आगे कुछ साल पहले अवैध बूचड़खाना था. जिसकी शिकायत पुलिस में उन्होंने की थी. इस बात को लेकर सामने का पड़ोसी मो मोमताज नाराज हुआ था और लगातार धमकी भी देता रहता था.

बहरहाल समाज और पुलिस दोनों ही ओर से परेशान किए जाने के बाद अल्पसंख्यक बहुल गांव में रह रहा पीड़ित परिवार बेटी के साथ घटी घटना से इतना टूट चुका है कि गांव में पैतृक संपत्ति को औने-पौने कीमत में बेचकर जाने का निर्णय कर चुका है.

पीड़ित परिवार अपना घर बेचकर गांव छोड़ने को मजबूर है

पीड़ित के पिता का कहना है कि अवैध बूचड़खाना चलाने वाले मो मुमताज के आतंक की वजह से एक साल पहले ही गांव की संपत्ति का सौदा कर लिया था.लेकिन बेटी के साथ घटी घटना और पुलिस द्वारा कारवाई नहीं किये जाने से जल्द ही उनका परिवार गांव को छोड़ देगा.

इस मामले में पीड़ित परिवार लगातार एसएसपी से लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तक से गुहार लगा चुका है. लेकिन आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने से परिवार टूट चुका है. केस को कमजोर करने वाले लोगों के खिलाफ भी पीड़ित परिवार जांच की मांग कर रहा है.

Report by Abhay Raj

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर: प्रेम प्रसंग को लेकर रण क्षेत्र में तब्दील हुआ शहर का एक प्रतिष्ठित मैनेजमेंट कॉलेज

Ravi Pratap

Published

on

मुज़फ़्फ़रपुर ज़िले के भगवानपुर स्थित एक मैनेजमेंट कॉलेज में प्रेम प्रसंग को लेकर दो गुटों के बीच जमकर मारपीट हुई.पूरा कॉलेज परिषर रण क्षेत्र में तब्दील हो गया ल.इस दौरान छात्र छात्राओं के बीच अफरा तफरी का माहौल बन गया.सूचना मिलने के बाद सदर थाना व QRT की टीम मौके पर पहुँची.विवाद को शांत कराते हुए दो छात्रों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया.

आज (गुरुवार) दोपहर करीब 1 बजे कॉलेज परिषर में दो गुटों के बीच जमकर मारपीट होने लगा.एक गुट के छात्र कॉलेज के गेट पर जमकर पथराव किया.वही कॉलेज परिषर में घुस कर तोड़फोड़ करना चाहा. लेकिन कॉलेज प्रसाशन ने तत्परता दिखाते हुए छात्रों को बाहर खदेड़ दिया.साथ ही पुलिस को सूचना दिया.सूचना के बाद सदर थाना पुलिस व QRT की टीम मौके पर पहुँची. उपद्रवियों को वहां से खदेड़ा.

आज (गुरुवार) दोपहर करीब 1 बजे कॉलेज परिषर में दो गुटों के बीच जमकर मारपीट होने लगा.एक गुट के छात्र कॉलेज के गेट पर जमकर पथराव किया.वही कॉलेज परिषर में घुस कर तोड़फोड़ करना चाहा. लेकिन कॉलेज प्रसाशन ने तत्परता दिखाते हुए छात्रों को बाहर खदेड़ दिया.साथ ही पुलिस को सूचना दिया.सूचना के बाद सदर थाना पुलिस व QRT की टीम मौके पर पहुँची. उपद्रवियों को वहां से खदेड़ा.

साथ ही मौके से दो छात्रों को हिरासत में ले लिया. हिरासत में लिए छात्रों की पहचान हर्षित कुमार व सुदामा कुमार के रूप में हुई है.बता दे कि हर्षित उसी कॉलेज में पढ़ता है.वही सुदामा बिहार विश्वविद्यालय का छात्र है.पुलिस दोनों को थाना पर ला कर पूछताछ कर रही है.

पूरे मामले पर कॉलेज प्रशासन ने बताया कि कॉलेज के छात्र व बाहरी लड़को के बीच विवाद हुआ था.बाहर से कॉलेज गेट व परिषर में पथराव भी किया गया है.विवाद का कारण स्पष्ट
नही हुआ है.मामले का पता किया जा रहा है.

Report : अभय राज

 

Continue Reading

BIHAR

मुजफ्फरपुर के मुशहरी मे जल-नल योजना की राशि का गबन

Himanshu Raj

Published

on

मुजफ्फरपुर के मुशहरी प्रखंड के राधानगर उर्फ मुशहरी पंचायत के सात नम्बर वार्ड मे मुख्यमंत्री के सात निश्चय योजना के जल-नल योजना मे जम के लूट हो रही ।
पंचायत के सात नम्बर वार्ड मे योजना की पूरी राशी की निकासी वार्ड और वार्ड सचिव द्वारा आठ महिने पहले ही कर लिया गया और काम अधुरा है काम पुरा नहीं करवाया गया , तो आखिर पैसा गया कहां?

स्थानीय ग्रामीणो ने नाम नहीं बताने के शर्त पे बताया की उनलोगो को शंका है की सात नम्बर के वार्ड ने पैसे की निकासी कर अपना घर बनवा लिया जबकी ये राशी सात निश्चय के महत्वपूर्ण योजना जल-नल योजना मे ग्रामीणो के घर घर पानी पहुंचाना था , स्थानीय लोगो मे ईस बात को लेकर काफी आक्रोश है । सबसे बडी़ बात है की प्रखंड विकास पदाधिकारी के नाक के नीचे ये खेल हो रहा है ।उक्त वार्ड की दुरी मुशहरी प्रखंड से चंद मिनटो की है।
प्रखंड विकास पदाधिकारी से जब ईस मामले के बारे पूछा गया तो उन्होंने जांच करवाने की बात कही अब देखना है की क्या कारवाई होती है ।

Report By: Abhay Raj

Continue Reading
Advertisement
BIHAR4 hours ago

मुज़फ़्फ़रपुर : नाबालिग से सामू’हिक दु’ष्कर्म के बाद आरो’पी घूम रहे खुलेआम ; पु’लिस पर लगे गंभीर आरोप

MUZAFFARPUR4 hours ago

मुजफ्फरपुर: प्रेम प्रसंग को लेकर रण क्षेत्र में तब्दील हुआ शहर का एक प्रतिष्ठित मैनेजमेंट कॉलेज

BIHAR4 hours ago

मुजफ्फरपुर के मुशहरी मे जल-नल योजना की राशि का गबन

RELIGION6 hours ago

मुसलमानों का ऐलान..राम मंदिर निर्माण के लिए देंगे 5 लाख रुपए

RELIGION6 hours ago

अयोध्या से जनकपुर तक निकाली जाएगी राम बारात..PM मोदी और योगी हो सकते हैं शामिल

BIHAR7 hours ago

गजब! अधिकारी दो साल से जे’ल में बंद और उनके हस्ताक्षर से बैंक से निकली राशि

TRENDING7 hours ago

फीस जमा करने के लिए पापा ने बेच दी गांव की जमीन, बेटे ने IPS बनकर नाम कर द‍िया ऊंचा

EDUCATION7 hours ago

गुड न्यूज! इंजीनियरिंग MTec और PhD के स्टूडेंट्स की स्कॉलरशिप बढ़ी

RELIGION7 hours ago

ज्वाला देवी : यहां गिरी थी सती की जी’भ, बिना घी और तेल डाले जलती हैं 9 ज्वालाएं

HEALTH7 hours ago

आपका बच्चा डॉक्टर, इंजीनियर या फिर बनेगा सामान्य इंसान, अब DNA से ही हो जाएगा क्लीयर

MUZAFFARPUR5 days ago

मुजफ्फरपुर का थानेदार नामी गुं’डा के साथ मनाता है जन्मदिन! केक काटते हुए सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल…खाक होगा क्रा’इम कंट्रोल?

INDIA5 days ago

आ गया ‘मिर्ज़ापुर 2’ का टीजर, पंकज त्रिपाठी ने इंस्टाग्राम पर किया शेयर

BIHAR4 weeks ago

27 अक्टूबर से पटना से पहली बार 57 फ्लाइट, दिल्ली के लिए 25, ट्रेनों की संख्या से भी दाेगुनी

tharki-proffesor
MUZAFFARPUR6 days ago

खुलासा: कोचिंग आने वाली हर छात्रा को आजमाता था मुजफ्फरपुर का ‘पा’पी प्रोफेसर’, भेजा गया जे’ल

BIHAR3 weeks ago

पंकज त्रिपाठी ने माता पिता के साथ मनाई प्री दिवाली, एक ही दिन में वापस शूटिंग पर लौटे

JOBS4 days ago

भर्ती : 12वीं पास के लिए CISF में नौकरी, 300 जीडी हेड कांस्टेबल पदों के लिए करें आवेदन

BIHAR15 hours ago

18 प्रश्नों पर कैंडिडेट्स ने जताई थी आपत्ति, BPSC रद कर सकता है 10 प्रश्न, जानिए

BIHAR4 days ago

जिसकी मौ’त में 23 लोग जेल में, वह जिंदा लौटा

MUZAFFARPUR5 days ago

कुंवारी मां बनी कटरा की पी’ड़िता से दु’ष्क’र्म का आ’रोपी माैलवी गि’रफ्तार

BIHAR2 days ago

तो क्या बंद हो जाएगा ‘कौन बनेगा करोड़पति’, पटना HC में शो पर रोक के लिए दर्ज हुई है याचिका

Trending

0Shares