तेजस एक्सप्रेस की रेल होस्टेस को कैसे परेशान कर रहे लोग?
Connect with us
leaderboard image

INDIA

तेजस एक्सप्रेस की रेल होस्टेस को कैसे परेशान कर रहे लोग?

Muzaffarpur Now

Published

on

विमान तो नहीं, लेकिन पटरियों पर होस्टेस बनकर जैनम खातून का सपना पूरा हो गया। जैनम ने तीन दिन पहले ही कॉरपोरेट सेक्टर की देश की पहली ट्रेन आइआरसीटीसी तेजस एक्सप्रेस में रेल होस्टेस के रूप में अपनी सेवाएं शुरू की हैं। हालांकि विमान की अपेक्षा ट्रेन में होस्टेस के रूप में जॉब करना एक चुनौती भी है।

यहां यात्री न केवल सीट पर लगे कॉलिंग बटन को दबाकर होस्टेस को अकारण बुलाते हैं। वहीं उनका वीडियो तक तैयार कर लेते हैं। बिना पूछे सेल्फी तो ऐसे लेते हैं, जैसे यह सामान्य बात हो, लेकिन यह होस्टेस ही हैं जो असहजता का भाव भी मुस्कान से छिपा ले जाती हैं।

दरअसल, देश की सबसे आधुनिक सुविधाओं वाली तेजस एक्सप्रेस यात्रियों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गई है। तेजस में 20 रेल होस्टेस की कमान एक कैप्टन के हाथ होती है। जो सुबह लखनऊ से रवाना होकर दोपहर को नई दिल्ली से फिर इसी ट्रेन से आती हैं। इस दौरान 18 घंटे की सर्विस यह ट्रेन होस्टेस देती हैं। अगले दिन इनको विश्राम दिया जाता है। निजी इंस्टीट्यूट से एविएशन हॉस्पिटेलिटी और कस्टमर सर्विस में डिप्लोमा लेने वाली यह होस्टेस यात्रियों को नाश्ता और डिनर परोसती हैं।

सुबह 6:10 बजे लखनऊ से ट्रेन के छूटने से पहले 6:05 बजे तक हर गेट पर एक ट्रेन होस्टेस यात्रियों का हाथ जोड़कर स्वागत करती है। जबकि दूसरी होस्टेस यात्रियों की सीट पर समाचार पत्र उपलब्ध कराती है। ट्रेन छूटने के अंतिम पांच मिनट में बाहर गेट पर खड़ी होस्टेस भी भीतर आ जाती है और फिर यात्रियों के लिए पानी व वेलकम ड्रिंक की तैयारी करती है।

कैप्टन की अहम जिम्मेदारी : गुरुवार सुबह नई दिल्ली रवाना हुई तेजस की कैप्टन शुभांगी श्रीवास्तव कहती हैं कि यात्रा शुरू होने से पहले सभी तैयारियों की जांच की जाती है। यह ट्रेन नारी सशक्तीकरण की मिसाल है। हालांकि हालात चाहे जो भी हो हमको धैर्य रखना पड़ता है। यात्रियों में सुविधाओं के साथ ट्रेन की होस्टेस के साथ तस्वीरों खींचने को लेकर उत्साह बना रहता है। तमाम यात्री तो कई बार क्रू सदस्यों का मोबाइल नंबर तक मांगते हैं।

Input : Dainik Jagran

(हम ज्यादा दिन WhatsApp पर आपके साथ नहीं रह पाएंगे. ये सर्विस अब बंद होने वाली है. लेकिन हम आपको आगे भी नए प्लेटफॉर्म Telegram पर न्यूज अपडेट भेजते रहेंगे. इसलिए अब हमारे Telegram चैनल को सब्सक्राइब कीजिए)

INDIA

UPSC सिविल सेवा परीक्षा 2020 के उम्मीदवारों के लिए बुरी खबर, वैकेंसी हो सकती है कम

Santosh Chaudhary

Published

on

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे लाखों युवाओं के लिए बुरी खबर। इस बार यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा नोटिफिकेशन ( UPSC Civil Services Notification 2020 ) में वैकेंसी की संख्या कम हो सकती है। इस बात की काफी संभावना है कि करीब 100 वैकेंसी कम हो जाए। इसकी वजह यह है कि रेलवे ने यूपीएससी से अपने ग्रुप ए अफसरों की भर्ती का अनुरोध वापस ले लिया है। रेलवे भर्ती बोर्ड ( RRB ) ने संघ लोक सेवा आयोग ( यूपीएससी ) को विभिन्न कैडरों में ग्रुप ए अफसरों ( Group A officers ) की भर्ती का अनुरोध पत्र भेजा था। लेकिन अब अनुरोध पत्र रेलवे से वापस ले लिया है। अधिकारियों ने बुधवार को ये जानकारी दी।

Image result for upsc

सिविल सेवा कैडर के अधिकारियों ने अपनी वरिष्ठता खोने और करियर की संभावनाओं के मद्देनजर चिंता जाहिर करते हुए विरोध जताया था।

9 जनवरी को लिखे पत्र में रेलवे बोर्ड ने कहा है कि कैबिनेट ने कैडर ( 9 सेवाओं – IRSE, IRSME, IRSEE, IRSS, IRTS, IRAS, IRPS RPF ) को मर्ज करने का फैसला लिया है। इस फैसले के बाद अब यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा और यूपीएससी इंजीनियरिंग सर्विसेज एग्जामिनेशन के जरिए रेलवे सेवाओं से जुड़ी ये रिक्तियां नहीं निकाली जाएंगी। इन्हें वापस ले लिया गया है।

कैबिनेट ने आठ सेवाओं का विलय कर उन्हें भारतीय रेलवे प्रबंधन सेवा (आईआरएमएस) बना दिया है। इसके बाद रेल मंत्रालय ने यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा और यूपीएससी इंजीनियरिंग सर्विसेज एग्जाम के जरिए इंडियन रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स सर्विसेज (आईआरपीएफएस, पहले आरपीएफ के तौर पर जाना जाता था) को छोड़कर अन्य सेवाओं के लिए रिक्तियों का अनुरोध वापस ले लिया है।

पत्र में UPSC और DoPT (कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग) से इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई के लिए कहा गया है।

वर्तमान में मैकेनिकल, सिविल और अन्य इंजीनियरिंग सेवाओं के टेक्निकल कर्मियों की भर्ती इंजीनियरिंग सर्विसेज परीक्षा से होती है जबकि नॉन टेक्निकल पदों पर भर्तियां सिविल सेवा परीक्षा के जरिए होती है।

UPSC Civil Services Exam 2020

संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) सिविल सेवा परीक्षा का नोटिफिकेशन 12 फरवरी को जारी होगा। सिविल सेवा परीक्षा 2020 के लिए 3 मार्च तक आवेदन स्वीकार किए जाएंगे।  सिविल सेवा की प्रारंभिक परीक्षा 31 मई को होगी। मेंस का आयोजन 18 सितंबर से होगी।

हर वर्ष यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा तीन चरणों — प्रारंभिक, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार– में आयोजित की जाती है। इसके जरिए इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज (आईएएस), भारतीय पुलिस सर्विसेज (आईपीएस) और भारतीय फॉरेन सर्विसेज (आईएफएस), रेलवे ग्रुप ए (इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस), इंडियन पोस्टल सर्विसेज, भारतीय डाक सेवा, इंडियन ट्रेड सर्विसेज सहित अन्य सेवाओं के लिए चयन किया जाता है।

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के जरिए भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस), भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) और भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) सहित अन्य सेवाओं के लिए चयन किया जाता है। इंडियन फॉरेस्ट सर्विसेज का सेलेक्शन भी सिविल सर्विस एग्जाम के साथ साथ होता है। आईएफएस मेन एग्जाम के लिए सेलेक्शन यूपीएससी सिविल सर्विस प्रीलिम्स ( UPSC Civil Services prelims ) के जरिए ही होता है।

यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के सभी आवेदकों को सबसे पहले प्रीलिम्स एग्जाम में बैठना होता है। इसमें पास होने वाले उम्मीदवारों को मेन्स एग्जाम में बैठने के लिए बुलाया जाता है। मेन्स में जो पास होता है वह इंटरव्यू (पर्सनैलिटी टेस्ट) तक पहुंचता है। फाइनल मेरिट लिस्ट इंटरव्यू और मेन्स एग्जाम में प्रदर्शन के आधार पर बनती है। मेन्स एग्जाम 1750 मार्क्स और इंटरव्यू 275 मार्क्स का होता है।

(इनपुट न्यूज एजेंसी PTI से)

Continue Reading

INDIA

दीपिका पादुकोण की जेएनयू विजिट पर कंगना रनौत का जवाब, ‘मैं टुकड़े टुकड़े गैंग का सपोर्ट नहीं करती’

Santosh Chaudhary

Published

on

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को उनकी फिल्म और फैशन के साथ साथ अपनी बेबाक राय के लिए भी जाना जाता है। अक्सर कंगना रनौत बॉलीवुड से लेकर सामाजिक मुद्दों पर अपनी राय रखती हैं। हाल ही में कंगना रनौत ने एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की जेएनयू विजिट पर बात की, जो कुछ दिन पहले टीवी चैनलों पर चर्चा का विषय बन गया था।

स्पॉटब्वॉय को दिए एक इंटरव्यू में दीपिका पादुकोण को लेकर कंगना रनौत ने कहा कि दीपिका जानती हैं कि वो क्या कर रही हैं और वो किन लोगों के साथ खड़ी हैं। साथ ही उन्होंने कहा, ‘दीपिका अपने लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल कर रही हैं और कंगना का ये अधिकार नहीं है कि वो दीपिका के इस कदम पर अपनी राय ना दे।’

हालांकि, कंगना ने कहा कि वो ‘टुकड़े टुकड़े गैंग’ के पीछे नहीं खड़ी हैं। साथ ही कंगना ने कहा, ‘मैं उस किसी भी गैंग का समर्थन नहीं करती, जो देश को टुकड़ों में बांटते हैं। मैं उन लोगों को शक्ति नहीं देती हूं, जो जवानों के शहीद होने पर जश्न मनाते हैं। मैं उन लोगों का साथ नहीं देना चाहती। इसलिए मैं वो कह सकती हूं, जो मैं चाहती हूं, लेकिन किसी और पर कमेंट नहीं करना चाहती।’

साथ ही कंगना ने दीपिका की फिल्म छपाक का सोशल मीडिया पर बहिष्कार करने को लेकर कहा कि इससे फिल्म पर असर नहीं पड़ता और फिल्म अच्छी होती है तो जरूर चलती है। बता दें कंगना रनौत इससे पहले भी जेएनयू को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी थी और जेएनयू के खिलाफ आवाज उठाई थी। याद दिला दें कि दीपिका पादुकोण जेएनयू में हुई हिंसा के बाद विरोध कर रहे छात्रों का समर्थन करने गई थीं।

Continue Reading

INDIA

निर्भया के दोषी विनय ने जेल के टॉयलेट में फंदा लगाकर जान देने की कोशिश की

Santosh Chaudhary

Published

on

कड़ी सुरक्षा और सीसीटीवी कैमरे की निगरानी के बावजूद निर्भया के दोषी विनय शर्मा ने तिहाड़ जेल में फंदा लगाकर जान देने की कोशिश की। जेल सूत्राें और विनय के वकील एपी सिंह ने दावा किया कि यह घटना बुधवार सुबह की है। सुरक्षाकर्मियों ने समय रहते उसे बचा लिया। हालांकि, जेल महानिदेशक संदीप गोयल ने ऐसी किसी घटना से इनकार किया है।

सूत्रों के अनुसार विनय को जेल के मेडिकल इंस्पेक्शन रूम में 24 घंटे डाॅक्टराें की निगरानी में रखा गया। उधर, जेल सूत्रों का कहना है कि इस घटना के बाद गुरुवार काे विनय और जेल नंबर 2 में बंद मुकेश, अक्षय और पवन को जेल नंबर 3 में फांसी घर के पास हाई सिक्योरिटी सेल में शिफ्ट कर दिया गया। यह आदेश 9 जनवरी का था, लेकिन अब तक लागू नहीं हुआ था। सूत्रों के अनुसार दोषी फांसी टलवाने के लिए खुद पर केस दर्ज करवाने की कोशिश में हैं। यह घटना उस नजरिये से भी देखी जा रही है।

5-6 फीट की ऊंचाई पर ही था फंदा, इसलिए बचा

विनय जेल नंबर चार के सिंगल कमरे में बंद था। उसकी कोठरी और शौचालय के बीच सिर्फ एक पर्दा है। शौचालय में लोहे का छोटा सा खूंटीनुमा टुकड़ा लगा है। बुधवार सुबह 9 से 10 बजे के बीच उसने कपड़ाें और गमछे से फंदा बनाकर उसमें फंसाया और गले में बांधकर लटकने की कोशिश की। फंदा 5-6 फीट की ऊंचाई पर ही होने के कारण वह लटक नहीं पाया। इसी दौरान किसी कैदी ने सुरक्षाकर्मियों को सूचना दे दी।

Input : Dainik Bhaskar

Continue Reading
Advertisement
BIHAR3 hours ago

मानव श्रृंखला के खिलाफ जनहित याचिका खारिज, कोर्ट ने कहा- इसमें शामिल होना अनिवार्य नहीं है

RELIGION3 hours ago

गौतम बुद्ध ने शिष्यों के सामने एक रस्सी में तीन गांठ लगा दीं और पूछा कि इन गांठों को कैसे खोल सकते हैं?

RELIGION4 hours ago

साईं बाबा के दर्शन के लिए जाना चाहते हैं शिरडी तो पहले यहां पढ़ लें पूरी जानकारी

INDIA4 hours ago

UPSC सिविल सेवा परीक्षा 2020 के उम्मीदवारों के लिए बुरी खबर, वैकेंसी हो सकती है कम

BIHAR12 hours ago

15 हेलीकाप्टर से होगी मानव श्रृंखला की फोटो व वीडियोग्राफी

INDIA12 hours ago

दीपिका पादुकोण की जेएनयू विजिट पर कंगना रनौत का जवाब, ‘मैं टुकड़े टुकड़े गैंग का सपोर्ट नहीं करती’

RELIGION14 hours ago

कालभैरव अष्टमी अाज, नारद पुराण के अनुसार काल भैरव पूजा से दूर होती हैं तकलीफ

BIHAR15 hours ago

देश में पहला: पटना एयरपोर्ट पर खुला एयर एंबुलेंस काउंटर, जब चाहें बुक कराएं

SPORTS15 hours ago

संन्यास की अटकलों की बीच धोनी ने नेट्स में किया जमकर अभ्यास

BIHAR15 hours ago

पटना : महावीर मंदिर का अब होगा LIVE दर्शन, राज्यपाल फागू चौहान करेंगे शुरूआत

BIHAR2 weeks ago

लंबे समय बाद नए लुक में नजर आए तेज प्रताप, पत्‍नी ऐश्‍वर्या के मायके जाने के बाद कटवाए बाल

INDIA6 days ago

बिहार के लोगों ने दीपिका पादुकोन को नकारा, पटना में छपाक देखने पहुंचे मात्र तीन लोग

INDIA1 week ago

निर्भया के चारों दो’षियों को 22 जनवरी की सुबह दी जाएगी फां’सी, डे’थ वा’रंट जारी

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर के एक साधारण किसान का पुत्र बना Air Force में Flying Officer, ग्रामीण युवाओं के सपनों को लगे पंख

MUZAFFARPUR2 weeks ago

गाय ने दो मुंह व चार आंख वाली बछिया को जन्म दिया

MUZAFFARPUR4 weeks ago

ठंड को लेकर मुजफ्फरपुर डीएम ने जिले के सभी स्कूल के लिए जारी किया आदेश

BIHAR1 week ago

BPSC Civil Services की परीक्षा देनी है तो ध्‍यान दें, अब पहले से कठिन हो जाएगा पाठ्यक्रम

BIHAR1 week ago

दुखद : वर्ष 2019 की इंटर स्टेट टाॅपर रोहिणी की दिल्ली में ट्रेन से क’ट कर मौ’त

MUZAFFARPUR5 days ago

मुजफ्फरपुर में दम्पति की ह’त्या मामला, साहेबगंज थाना इलाके से पकड़ा गया ह’त्यारा

BIHAR3 weeks ago

दरभंगा, मधुबनी, बेतिया के ऐसे नाम, जिन्होंने इस साल बड़ी उपलब्धि अपने नाम की

Trending

0Shares