इसी जगह पर हुई थी भगवान शिव और देवी पार्वती की शादी, आज भी मौजूद हैं 6 निशानियां
Connect with us
leaderboard image

RELIGION

इसी जगह पर हुई थी भगवान शिव और देवी पार्वती की शादी, आज भी मौजूद हैं 6 निशानियां

Santosh Chaudhary

Published

on

लोकमान्यातओं के अनुसार, भगवान शिव और देवी पार्वती का विवाह उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में हुआ था। रुद्रप्रयाग ज‌िले में मौजूद त्रियुगी नारायण मंदिर में शिव पार्वती का विवाह हुआ था।

Temple where lord shiv married to parvati

इस गांव में भगवान व‌िष्‍णु और देवी लक्ष्मी का एक मंद‌िर है, ज‌िसे श‌िव पार्वती के व‌िवाह स्‍थल के रूप में जाना जाता है। इस मंद‌िर के परिसर में ऐसे कई चीजें आज भी मौजूद हैं, ज‌िनका संबंध श‌िव-पार्वती के व‌िवाह से माना जाता हैं।

Image result for इसी जगह पर हुई थी भगवान शिव और देवी पार्वती की शादी, आज भी मौजूद हैं 6 निशानियां

श‌िव-पार्वती के व‌िवाह में भगवान व‌िष्‍णु ने देवी पार्वती के भाई की भूम‌िका न‌िभाई थी। भगवान व‌िष्‍णु ने उन सभी रीत‌ियों को न‌िभाया जो एक भाई अपनी बहन के व‌िवाह में करता है। कहते हैं इसी कुंड में स्नान करके भगवान व‌िष्‍णु ने व‌िवाह संस्कार में भाग ल‌िया था।

यह है वह स्‍थान जहां पर भगवान श‌िव और पार्वती व‌िवाह के समय बैठे थे। इसी स्‍थान पर ब्रह्मा जी ने भगवान श‌िव और देवी पार्वती का व‌िवाह करवाया था।

 

भगवान श‌िव को व‌िवाह में एक गाय म‌िली थी। माना जाता है कि यह वह स्तंभ है, जिस पर उस गाय को बांधा गया था।

 

श‌िव पार्वती के व‌िवाह में ब्रह्माजी पुरोह‌ित बने थे। व‌िवाह में शाम‌िल होने पहले ब्रह्माजी ने ज‌िस कुंड में स्‍नान क‌िया था वह ब्रह्मकुंड यह है। तीर्थयात्री इस कुंड में स्नान करके ब्रह्माजी का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं।

 

त्रियुगी नारायण मंद‌िर की इस अखंड धुन‌ी के चारों ओर भगवान श‌िव ने पार्वती के संग फेरे ल‌िए थे। आज भी इस कुंड में अग्न‌ि को जीव‌ित रखा गया है। मंद‌िर में प्रसाद रूप में लकड़‌ियां भी चढ़ाई जाती है। श्रद्धालु इस प‌व‌ित्र अग्न‌ि कुंड की राख अपने घर ले जाते हैं। कहते हैं यह राख वैवाह‌िक जीवन में आने वाली सभी परेशान‌ियों को दूर करती है।

 

MUZAFFARPUR

खोदाई में पत्थर से निकले ‘लाल द्रव’ ने डाल दी थी बाबा गरीबनाथ मंदिर की नींव

Santosh Chaudhary

Published

on

baba-garibntah

सावन के प्रत्येक शुक्रवार को पहलेजा घाट से हजारों कांवरियों के कदम बाबा गरीबनाथ मंदिर की ओर बढ़ते हैं। करीब 77 किमी की दूरी तय कर बाबा के दरबार में पहुंचने वाली आस्था के ये कदम साल दर साल बढ़ते जा रहे। कभी पारिवारिक रहा यह मंदिर अब बड़ा धाम बन चुका है।

गरीबों के तारणहार बाबा गरीबनाथ को लेकर मंदिर के प्रशासक व मुख्य पुजारी पंडित विनय पाठक कहते हैं- कभी यह इलाका जंगल था। दो सौ वर्ष पहले जमींदार रहे मदन मोहन मिश्र की जमीन नीलाम की गई। इसे शहर के चचान परिवार ने खरीदी। इसके बाद जंगल की सफाई की जाने लगी। जंगल में सात पीपल के पेड़ भी थे। छह के बाद मजदूरों ने सातवें पेड़ के पास खोदाई शुरू की। इस दौरान कुल्हाड़ी का वार एक पत्थर पर पड़ा। फिर क्या था उस पत्थर से ‘लाल द्रव’ का फव्वारा फूट पड़ा। खोदाई रोक दी गई। कहा जाता है कि बाद में चचान परिवार ने सात धूर जमीन को घेरकर पूजा-पाठ आरंभ कराई। बाद में पत्थर को दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए खोदाई की गई। मगर, जैसे-जैसे खोदाई की गई, पत्थर फैलता गया। अंतत: इसे यहीं छोड़ पूजा-पाठ जारी रहा। आज भी पीपल का पेड़ यहां है। साथ ही शिवलिंग पर कटे का निशान भी।

..और बाबा कहलाने लगे गरीबनाथ: मुख्य पुजारी कहते हैं कि इलाके के एक व्यापारी के मुंशी इस मंदिर में रोज पूजा करते थे। उनकी एक बेटी थी। जिसकी शादी कम उम्र में हो गई थी। उसके गवना (द्विरागमन) का समय आने पर मुंशी के पास देने को कुछ नहीं था। उन्होंने घर व जमीन बेचने का निर्णय लिया। जमीन रजिस्ट्री करने जाने से पहले वे नित्य की तरह पूजा करने आए। मगर, उदासी चेहरे पर थी। वहां एक बालक ने उदासी का कारण पूछा। रजिस्ट्री के लिए जाने के समय टोकने को अपशकुन मान मुंशी बौखला गए। कहते हैं कि मुंशी का रूप धारण कर एक बैलगाड़ी में गवना के सारे सामान लेकर महादेव उनके घर पहुंच गए, वहां उन्होंने मुंशी की पत्नी को हुक्का बनाकर रखने की बात कही और निकल गए। इधर, मुंशी ने घर पहुंचने पर सामान देखा तो समझते देर नहीं लगी। बोल पड़े, मंदिर में मिला ब्राrाण लड़का कोई और नहीं, साक्षात गरीब के नाथ महादेव थे।

baba-garibntah

1950 के दशक में चढ़ा पहला कांवर, हर साल जलाभिषेक

धीरे-धीरे बाबा गरीबनाथ की प्रसिद्धि फैलने लगी। लोगों की मन्नतें पूरी होने लगीं। इसी कड़ी में सरैयागंज के कुछ लोगों ने वर्ष 1950 के आसपास पहलेजा से जल लेकर पहला कांवर चढ़ाया। तबसे यह प्रथा चली आ रही। आज सावन में आठ से दस लाख श्रद्धालु यहां जलाभिषेक करते हैं।

सवा करोड़ हुई न्यास समिति की सालाना आय

वर्ष 2006 में मंदिर का अधिग्रहण किया गया। बाबा गरीबनाथ न्यास समिति बनी। प्रसिद्धि के साथ मंदिर की समृद्धि भी बढ़ी। परिसर अब चार कट्ठे में विस्तार पा चुका है। वहीं बाबा गरीबनाथ न्यास समिति की सालाना आमदनी सवा करोड़ हो गई। अचल संपत्ति के रूप में दादर में 19 कट्ठा जमीन है। नाम के अनुरूप यह समिति गरीबों की सेवा भी करती है। डे केयर सेंटर में आयुर्वेद व होम्योपैथ का निशुल्क इलाज होता है। समय-समय पर यह समिति दिव्यांग, गरीबों की मदद के लिए कार्यक्रमों का आयोजन भी करती है।

Input : Dainik Jagran

 

 

Continue Reading

RELIGION

सावन में करें शनिदेव को प्रसन्न, करियर-नौकरी-धन में होगा लाभ

Santosh Chaudhary

Published

on

सावन में शनिदेव की आराधना इसलिए भी बेहद खास हो जाती है क्योंकि सावन में अगर शनिदेव की पूजा-उपासना की जाए तो साल भर शनिदेव की आराधना करने की जरूरत नहीं पड़ती.

संपत शनिवार यानी सावन के शनिवार में की गई शनि की पूजा अद्भुत फल देती है. जिस तरह नाम से ही साफ हो जाता है संपत मलतब संपत्ति. शनिदेव की आराधना से सावन में धन संपत्ति का वरदान भी मिल सकता है. सावन में शनिदेव की आराधना इसलिए भी बेहद खास हो जाती है क्योंकि सावन में अगर शनिदेव की पूजा-उपासना की जाए तो साल भर शनिदेव की आराधना करने की जरूरत नहीं पड़ती.

साल के बाकी महीनों में शनिदेव की कृपा पाना जितना मुश्किल होता है. उतनी ही आसानी से संपत शनिवार को पूजा करके शनिदेव को ना केवल प्रसन्न किया जा सकता है. बल्कि करियर, नौकरी, धन संपदा का वरदान भी मिल सकता है. आइए आपको बताते हैं कि सावन के शनिवार में शनि की पूजा किस तरह से की जाए.

सावन में शनिदेव को करें प्रसन्न-

– शनिदेव की विशेष पूजा शाम के समय करें

– शाम को पहले शिवजी के मंत्र जपें

– इसके बाद शनिदेव के मन्त्रों का जाप करें

– पीपल की 3 बार परिक्रमा करते हुए उसके तने में काला धागा लपेटें

– पीपल के वृक्ष के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलायें

– रोजगार और करियर की समस्याओं से मुक्ति की प्रार्थना करें,

– महादेव और शनिदेव से धन-संपत्ति का आशीर्वाद मांगे

सावन में शनिदेव की पूजा से पूरे साल का फल मिलता है. संपत शनिवार को धन संपत्ति का विशेष वरदान मिलता है. शनिदेव ना सिर्फ कष्टों को दूर करते हैं बल्कि जीवन को मंगलमय भी कर देते हैं

आप भी सावन में शनिदेव की विशेष कृपा पा सकते हैं. पूरे साल भर तक शनिदेव का आशीर्वाद पा सकते हैं. तो इस सावन संपत शनिवार को शनि की पूजा उपासना जरूर करिएगा. शनिदेव आप पर और आपके पूरे परिवार पर अपनी कृपा जरूर बरसाएंगे.

Continue Reading

RELIGION

सावन में कांवड़ उठाने का महत्व, इन नियमों की न करें अनदेखी

Santosh Chaudhary

Published

on

सावन में भगवान शिव ने विष्पान किया था और उस विष की ज्वाला को शांत करने के लिए भक्त, भगवान को जल अर्पित करते हैं. कांवड़ के जल से भगवान शिव का अभिषेक करने से तमाम समस्याएं दूर होती हैं.

कांवड़ में जल भरकर शिवलिंग या ज्योतिर्लिंग पर चढाने की परंपरा होती है. सावन में भगवान शिव ने विष्पान किया था और उस विष की ज्वाला को शांत करने के लिए भक्त, भगवान को जल अर्पित करते हैं. कांवड़ के जल से भगवान शिव का अभिषेक करने से तमाम समस्याएं दूर होती हैं और तमाम मनोकामनाएं पूरी होती हैं. जो लोग भी कांवर से भगवान शिव को नियमानुसार जल अर्पित करते हैं, उनको मृत्यु का भय नहीं होता.

कांवड़ उठाने के नियम क्या हैं?-

– किसी पवित्र नदी से जल भरकर शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए. गंगा नदी का जल सर्वश्रेष्ठ है.

– कांवड़ के जल को भूमि पर नहीं रखना चाहिए.

– जो लोग भी कांवड़ उठाते हैं , ऐसे लोग एक समय भोजन करते हैं , तथा शिव मंत्र का जाप करते रहते हैं.

– कांवड़ उठाने वाले व्यक्ति के घर में भी सात्विक भोजन बनना चाहिए.

– भगवा वस्त्र धारण कर कांवड़ उठाना चाहिए ताकि ऊर्जा का स्तर संतुलित रहे और शक्ति बनी रहे.

– अगर कांवड़ उठाने वाले व्यक्ति का स्वास्थ्य बीच में ख़राब हो जाय तो कोई और भी उसकी जगह कांवड़ उठा सकता है.

घर पर ही कांवड़ यात्रा का लाभ कैसे उठाएं?-

– लोटे में जल भरकर या गंगाजल भरकर शिवमंदिर की 27 बार परिक्रमा करें

– इसके बाद वही जल शिवलिंग पर अर्पित कर दें

– ध्यान रक्खें कि आप नंगे पैर रहें और पीले या नारंगी रंग का वस्त्र धारण करें

– लोटे में थोडा सा बचा हुआ जल रक्खें और घर के कोने कोने में छिड़क दें

– अगर ये प्रक्रिया सोमवार को करें तो सर्वोत्तम फल प्राप्त होगा.

Input : Ajj Tak

Continue Reading
Advertisement
BIHAR25 mins ago

विदेशी भाषा की पढ़ाई करनी हो तो आइए दरभंगा, जारी हो गया है शिड्यूल

BIHAR1 hour ago

अनंत सिंह ने वीडियो जारी कर कहा, हम भागे नहीं हैं, 3-4 दिन में कर देंगे सरेंडर

MUZAFFARPUR2 hours ago

विभिन्न जिले के लोगों का आस्था का केंद्र, रामदयालु स्थित मां मनोकामना देवी मंदिर

TRENDING12 hours ago

Google में ‘भिखारी’ टाइप करने पर फिर दिख रहे पाकिस्तान के पीएम इमरान खान

BIHAR13 hours ago

जानिए बिहार में क्यों है AK-47अपराधियों का हैे स्टेटस सिंबल

INDIA14 hours ago

आपका ATM कार्ड बुरे वक्त में देगा साथ, मिल जाएंगे 10 लाख रुपए

MUZAFFARPUR15 hours ago

होटल द रॉयल फुलार में हैदराबादी फूड फेस्टिवल का हुआ आयाेजन

MUZAFFARPUR15 hours ago

6 महीनें बाद भी नींद से नहीं जागा बिजली विभाग, अप्रिय घटना की प्रतिक्षा में हैं क्या ?

BIHAR16 hours ago

बिहार शिक्षा विभाग की वेबसाइट हुई हैक लिखा- Love you Pakistan, मचा हड़कम्‍प

MUZAFFARPUR20 hours ago

मुजफ्फरपुर में तिरहुत नहर का बांध टूटा, सैकड़ों घरों में घुसा पानी, लोगों में दहशत

BIHAR3 weeks ago

बिहार में अब नहीं चलेगा पक’ड़़उआ ब्याह, कोर्ट ने इंजीनियर की शादी कर दी कैंसिल

INDIA4 weeks ago

UGC ने इन 23 यूनिवर्सिटी को फर्जी घोषित किया, देखें लिस्ट

BIHAR4 weeks ago

मधुबनी में आसमान से गिरा पत्थर पहुंचा पटना, सीएम नीतीश ने बड़े ही करीब से देखा-परखा

BIHAR3 days ago

मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह के घर से AK-47 बरामद

INDIA4 weeks ago

राखी से ठीक एक माह पहले बहन ने भाई को दिया जिंदगी का तोहफा

BIHAR6 days ago

न्यूजीलैंड वित्त मंत्रालय में विश्लेषक बनीं मुजफ्फरपुर की बेटी शेफालिका, गांव में खुशी की लहर

INDIA4 weeks ago

साक्षी मिश्रा ने बनाया नया इंस्टा अकाउंट, खुद को बताया अभि की टाइग्रेस, भाई के लिए रक्षाबंधन की पोस्ट

MUZAFFARPUR4 weeks ago

आधुनिक तकनीक से टंकी की सफाई अब अपने शहर में भी

MUZAFFARPUR3 weeks ago

बाल-बाल ब’चे DGP गुप्तेश्वर पाण्डेय, बस ने मारी टक्क’र

INDIA14 hours ago

आपका ATM कार्ड बुरे वक्त में देगा साथ, मिल जाएंगे 10 लाख रुपए

Trending

0Shares