पूरे देश में एक जैसा होगा लाइसेंस, राज्य नहीं कर पाएंगे कोई बदलाव
Connect with us
leaderboard image

INDIA

पूरे देश में एक जैसा होगा लाइसेंस, राज्य नहीं कर पाएंगे कोई बदलाव

Santosh Chaudhary

Published

on

केंद्र सरकार सड़कों पर गाड़ी और ड्राइवर की पहचान को आसान बनाने के लिए लगातार कार्य कर रही है। इसके लिए पूरे देश में एक समान ड्राइविंग लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी) का नियम बनाया गया है। यह नया नियम 1 अक्टूबर 2019 से पूरे देश में लागू हो जाएगा। यानी 1 अक्टूबर 2019 के बाद पूरे देश में जारी होने वाले ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी एकसमान होंगे। यह जानकारी सड़क परिवहन एवं राममार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने सोमवार को संसद में दी।

स्मार्ट होगा ड्राइविंग लाइसेंस

नितिन गडकरी की ओर से राज्यसभा में दी गई जानकारी के अनुसार नया ड्राइविंग लाइसेंस बिना चिप वाला लेमिनेटिड कार्य या फिर स्मार्ट कार्ड के रूप में जारी किया जाएगा। इन स्मार्ट ड्राइविंग ड्राइविंग लाइसेंस माइक्रोचिप और क्यूआर कोड होंगे, जिसमें आपकी यातायात नियमों के उल्लंघन संबधी सभी जानकारियां होंगी। इसको लेकर सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से 1 मार्च 2019 को नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया गया है।

पूरे देश में एक समान होगा फॉर्मेट

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय की ओर से जारी नोटिफिकेशन के अनुसार 1 अक्टूबर 2019 से पूरे देश में एक ही फॉर्मेट में ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी जारी की जाएंगी। इसमें सामने की ओर चिप और पीछे की ओर क्यूआर कोड होगा। इस चिप और बार कोड में लाइसेंस होल्डर और वाहन की समस्त जानकारी होगी। क्यूआर कोड की मदद से केंद्रीय ऑनलाइन डेटाबेस से ड्राइवर या वाहन का पूरा रिकॉर्ड एक डिवाइस के जरिए पढ़ा जा सकेगा।

फॉन्ट और रंग भी होगा एकसमान

नोटिफिकेशन के अनुसार, 1 अक्टूबर 2019 से जारी होने वाले ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी का रंग भी एक समान होगा। नोटिफिकेशन में ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी पर दर्ज की जाने वाली जानकारी के फॉन्ट भी तय कर दिए गए हैं।

Input : Dainik Bhaskar

INDIA

इन दो एप में रखें अपने वाहन के कागजात, पुलिस नहीं काटेगी चालान

Santosh Chaudhary

Published

on

वाहन चालकों को अब ड्राइविंग लाइसेंस तथा वाहन से संबंधित अन्य दस्तावेजों की मूल प्रति साथ लेकर चलने की जरूरत नहीं होगी। वाहन चालक इन दस्तावेजों को डिजिलॉकर एप या एम-परिवहन एप में डाउनलोड कर सकते हैं जिन्हें उन्हें पूरी तरह वैध माना जाएगा। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने ड्राइविंग लाइसेंस, पंजीकरण प्रमाण पत्र तथा परिवहन संबंधी अन्य दस्तावेज इलेक्ट्रॉनिक रूप में स्वीकार करने के लिए विस्तृत मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी कर दी है। केंद्रीय मोटर वाहन नियमों में संशोधन के बाद पंजीकरण प्रमाण पत्र, बीमा, फिटनेस तथा परमिट, ड्राइविंग लाइसेंस, प्रदूषण प्रमाण पत्र और अन्य प्रासंगिक दस्तावेजों की मूल प्रति को वाहन चालकों के लिए अनिवार्य किया गया था।

एप में डाउनलोड दस्तावेज ही होंगे मान्य

सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 के प्रावधानों के अनुसार मूल दस्तावेजों को इलेक्ट्रॉनिक दस्तावेजों के अनुरूप कानूनी रूप से मान्य बनाने के लिए उपर्युक्त दस्तावेज डिजिलॉकर या एम-परिवहन एप पर उपलब्ध हैं। इन दस्तावेजों को एप में डाउनलोड करने के बाद इन्हें मान्य माना जाएगा। एम-परिवहन मोबाइल एप सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय द्वारा एनआईसी के माध्यम से उपलब्ध कराया जा रहा है। ड्राइविंग लाइसेंस/वाहन से संबंधित पंजीकरण संख्या मोबाइल एप में इंटर करने पर वास्तविक समय में आरसी, डीएल, फिटनेस वैधता, बीमा वैधता और परमिट वैधता की विस्तृत जानकारी उपलब्ध होगी। नए वाहनों के बीमा तथा वाहन बीमा के नवीकरण से संबंधित डाटा ई-चालान एप पर केवल नियम लागू करने वाले अधिकारियों को ही उपलब्ध होंगे।

एजेंसियां ई-चालान एप से कर सकती हैं सत्यापन

मंत्रालय द्वारा जारी एसओपी के अनुसार कोई व्यक्ति डिजिलॉकर एप या एम-परिवहन एप के जरिए दस्तावेजों और अन्य सूचनाओं को अधिकारी को दिखा सकता है। इन एप के माध्यम से ड्राइविंग लाइसेंस और पंजीकरण प्रमाण पत्र डाउनलोड किए जा सकते हैं और मोबाइल उपकरणों में संरक्षित रखे जा सकते हैं। इंटरनेट कनेक्टिविटी से एम-परिवहन एप के माध्यम से ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन से संबंधित जानकारी देखी जा सकती है। नियम लागू करने वाली एजेंसियां साथ-साथ ई-चालान के माध्यम से ब्यौरा देख सकती हैं। ई-चालान एप में वाहन तथा लाइसेंस की स्थिति का ऑनलाइन सत्यापन करने के लिए डाटा होता है। इस प्लेटफार्म पर एम-परिवहन क्यूआर कोड का ऑफलाइन सत्यापन भी उपलब्ध है। इसके लिए सामान्य एंड्रायड मोबाइल एप का इस्तेमाल किया जा सकता है।

मूल दस्तावेज साथ लेकर चलने की जरूरत नहीं

इससे नियम लागू करने वाली एजेंसियों को भी आसानी होगी क्योंकि उन्हें भौतिक रूप से किसी दस्तावेज को नहीं देखना पड़ेगा और उनके कार्यालयों को कोई रिकार्ड रखने की आवश्यकता नहीं होगी। इसके अलावा नागरिकों को भी अपने साथ मूल दस्तावेज लेकर चलने की जरूरत नहीं होगी। इससे पारदर्शी और उत्तरदायी प्रणाली से वाहन तथा यातायात अधिकारियों और नागरिकों को उल्लंघन की ताजा स्थिति की जानकारी भी मिलेगी।

Input : Dainik Bhaskar

Continue Reading

INDIA

Chandrayaan-2: लैंडर विक्रम से उम्‍मीदें खत्‍म, ISRO प्रमुख ने बताया अगला प्‍लान

Santosh Chaudhary

Published

on

इसरो प्रमुख के. शिवन ने शनिवार को बताया कि चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर अच्‍छी तरह से काम कर रहा है। ऑर्बिटर में आठ इंस्‍ट्रूमेंट होते हैं जो सटीकता से काम कर रहे हैं। उन्‍होंने परोक्ष रूप से यह भी साफ कर दिया कि अब लैंडर विक्रम से उम्‍मीदें खत्‍म हो गई हैं। उन्‍होंने आगे कहा कि हम लैंडर विक्रम के साथ संपर्क स्थापित नहीं कर पा रहे हैं। हमारी अगली प्राथमिकता गगनयान मिशन है।

छा जाएगा अंधेरा

चंद्रमा पर दिन ढलने के साथ ही शनिवार को रात का अंधेरा छा जाएगा और इसके साथ ही लैंडर का जीवन खत्म हो जाएगा। चंद्रमा की सतह पर लैंडर विक्रम की जिंदगी सिर्फ एक चंद्र दिवस (पृथ्वी के 14 दिन के बराबर) थी। बीते सात सितंबर को चंद्रमा की सतह पर लैंडिंग से महज 2.1 किलोमीटर पहले ही इसका धरती पर स्‍थापित केंद्र से संपर्क टूट गया था।

लैंडर विक्रम से उम्‍मीदें खत्‍म

इसरो ने कहा था कि चंद्रमा पर रात होने के बाद लैंडर में लगी बैटरी चार्ज नहीं हो सकेगी और एकबार स्‍लीप मूड में जाने के बाद यह दोबारा सक्रिय नहीं हो सकेगा। दोबारा संपर्क स्‍थापित होने के लिए 14 दिन बेहद अहम मानें जा रहे थे। इसलिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने उम्‍मीद नहीं छोड़ी थी और वे लगातार लैं‍डर विक्रम से संपर्क स्थापित करने की कोशिशों में जुटे थे। लेकिन अब इसरो चीफ ने साफ कर दिया है कि अंतिम दिन भी लैंडर विक्रम से संपर्क स्‍थापित नहीं हो पाया है।

खराब हो जाएंगे लैंडर के उपकरण

कारण यह है कि इसके बाद चांद के दक्षिणी ध्रुव पर रात हो जाएगी। यहां रात के दौरान तापमान बहुत नीचे चला जाता है। कई बार तापमान शून्य से 200 डिग्री नीचे तक चला जाता है। लैंडर और उसके अंदर फंसे रोवर पर जो वैज्ञानिक उपकरण लगे हैं, उन्हें इतने कम तापमान पर काम करने लायक नहीं बनाया गया है। इस तापमान तक आते-आते कई उपकरण हमेशा के लिए खराब हो जाएंगे। चांद के दिन और रात धरती के 14-14 दिन के बराबर होते हैं।

बता दें कि भारत के मिशन चंद्रयान-1 से चंद्रमा पर पानी की मौजूदगी का पता चला था। अब चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से कई उम्‍मीदें हैं। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि चंद्रमा पर हीलियम-3, प्लैटिनम और पैलेडियम जैसे मूल्यवान पदार्थ हो सकते हैं। वैज्ञानिकों की मानें तो ऑर्बिटर पहले से निर्धारित एक साल की तुलना में सात साल तक चांद की परिक्रमा करके प्रयोगों को अंजाम देता रहेगा।

Input : Dainik Jagran

 

Continue Reading

INDIA

पतंजलि दूध के 20 हजार एक्सपायरी पैकेट बरामद, तारीख बदलते मिले दुकान के कर्मचारी

Santosh Chaudhary

Published

on

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पतंजलि दूध के एक्सपायर्ड पैकटों पर नई तारीख लिखने के गोरखधंधे का भंडाफोड़ हुआ है। फूड एंड ड्रग विभाग की टीम ने एक दुकान पर छापा मारकर पतंजलि ब्रांड दूध के एक्सपायर्ड हो चुके 20 हजार पैकेट जब्त किए। छापे की भनक लगने के बाद दुकान संचालक फरार हो गया। दुकान संचालक की जहां तलाश की जा रही है। वहीं शुक्रवार को रायपुर पहुंची पतंजलि की टीम भी संचालक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएगी।

प्रदेश में एक्सपायरी डेट के दूध पैकेट पर नई तारीख दर्ज करने का पहला मामला

प्रदेश में मिलावटी दूध कई बार पकड़ा गया है, लेकिन एक्सपायरी डेट मिटाकर नई लिखने का यह पहला कारनामा खुला है। पैकेट में जून तक की एक्सपायरी डेट दर्ज है। ड्रग कंट्रोलर टीम को गुरुवार को शिकायत मिली कि बोरियाकला के शदाणी मार्केट की एक दुकान पर इस तरह की धोखाधड़ी चल रही है। इसके बाद टीम ने दुकान पर शाम को छापा मारा। उस वक्त दुकान नंबर एफ-57 भीतर से बंद थी। कर्मचारियों ने काफी देर तक दुकान नहीं खोली। दबाव बढ़ाने पर दुकान खोली गई।

अफसर भीतर गए तो दूध के हजारों पैकेट बिखरे हुए थे। मौके पर दुकान के कर्मचारियों को दूध पैकेट पर तारीख और नंबर मिटाकर नया लिखते हुए पकड़ा गया। दुकान किसी धृतलहरे नाम के व्यक्ति की बताई गई। छापेमार दस्ते ने उसे बुलाया लेकिन वह नहीं आया, तब एक्सपायर्ड दूध जब्त कर दुकान सील कर दी गई। इस मामले में शुक्रवार को दुकानदार की तलाश की जाएगी और यह पता लगाया जाएगा कि एक्सपायर्ड दूध कहां सप्लाई किया जाना था। वहीं पतंजलि की टीम भी पहुंच गई है और मामले की जानकारी जुटा रही है।

थिनर से पैकेट पर तारीख मिटाकर, मुहर से करते थे प्रिंट

फूड एंड ड्रग विभाग की टीम मौके पर पहुंची तो पता चला कि दुकान में काम कर रहे कर्मचारी दूध के एक्सपायर्ड हो चुके पैकेट पर लिखी तारीख को थिनर से मिटाते थे। इसके बाद उन्होंने प्रिंट के अनुसार ही मिलती-जुलती मुहर बनवा रखी थी। इसके जरिए ही नई तारीख दर्ज की जाती। हालांकि ओरिजनर और मुहर की प्रिंट में अक्षरों व संख्या की मोटाई का अंतर रहता। बताया जा रहा है कि दुकान संचालक ने सिर्फ इस काम के लिए ही कई कर्मचारियों को रखा हुआ था।

छापे में यह बात साफ हो गई है कि एक्सपायरी डेट मिटाकर नई लिखी जा रही थी। जल्दी ही पता लगा लेंगे कि इस तरह का घातक दूध कहां भेजा जाने वाला था। डॉ. राजेश शुक्ला, असिस्टेंट कमिश्नर फूड छग

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
Advertisement
INDIA54 mins ago

इन दो एप में रखें अपने वाहन के कागजात, पुलिस नहीं काटेगी चालान

MUZAFFARPUR1 hour ago

पंचायत में भ्रष्टा’चार मिटाने के गुर सिखने अन्ना हजारे के पास पहुंचा रामपुर दयाल का धीरज

MUZAFFARPUR2 hours ago

सकरा में अ’पराधियों कि गो’ली से घा’यल हवलदार मलेश्वर राम ने तो’ड़ा द’म

BIHAR3 hours ago

बिहार विधानसभा की पांच सीटों पर उपचुनाव की घोषणा, 21 अक्टूबर को होगी वोटिंग

BIHAR3 hours ago

बिहार के एक ऐसे CM जो जमीन पर कंबल बिछाकर अफसरों के साथ निपटाते थे फाइल

MUZAFFARPUR4 hours ago

मुजफ्फरपुर में पुलि’सकर्मी को मा’री गो’ली, लू’ट ले गए का’र्रबाइन

INDIA4 hours ago

Chandrayaan-2: लैंडर विक्रम से उम्‍मीदें खत्‍म, ISRO प्रमुख ने बताया अगला प्‍लान

BIHAR6 hours ago

बिहार: ब्रह्रपुत्र मेल में लगी भी’षण आ’ग, यात्रियों के बीच मची अफ’रातफरी, देखें Video

BIHAR7 hours ago

बिहार: अहले सुबह ब’म वि’स्फोट से द’हला गांव, कई मौ’तों से सि’हर उठे लोग, देखें VIDEO

TRENDING7 hours ago

KBC 11: सोनाक्षी सिन्हा को नहीं पता, रामायण में हनुमान जी संजीवनी बूटी किसके लिए लेकर आए थे, जमकर हुई ट्रोल!

INDIA2 weeks ago

New MV Act के भारी चालान से बचा सकता है आपका स्मार्ट फोन, जानिए- कैसे

BIHAR2 weeks ago

ट्रैफिक फाइन-DL व RC नहीं दिखाने पर तत्काल नहीं कट सकता चालान, जानिए नियम

BIHAR1 week ago

UP-दिल्ली-बिहार समेत देश भर के लोगों को DL-RC में अपडेट करनी होगी ये जानकारी

Uncategorized2 weeks ago

Jio Fiber Plans हुए लॉन्च, जानें कैसे आपकी जिंदगी और घर खर्च पर पड़ेगा इसका असर

BIHAR1 week ago

KBC सीजन 11 का पहला करोड़पति बना बिहार का लाल, जहानाबाद के सनोज राज ने रचा इतिहास

BIHAR2 weeks ago

बिहार पु’लिस का आदेश – चप्पल पहनकर बाइक चलाई तो एक हजार जु’र्माना

OMG1 week ago

दिल्ली में कटा ‘भगवान राम’ का 1.41 लाख का चालान, कोर्ट में जाकर भरा

MUZAFFARPUR2 weeks ago

मुजफ्फरपुर में पु’लिस पर ह’मला: ASI समेत 3 पुलिसकर्मी हुए ज’ख्मी

BIHAR3 weeks ago

370 इफ़ेक्ट: बिहारी लड़कों ने कश्मीरी लड़कियों से रचाई शादी, सुपौल लाते ही लग गया थाने का चक्कर

BIHAR2 weeks ago

10 दिन पहले 56 हजार में खरीदी थी स्कूटी, 42 हजार का आया चा’लान

Trending