UP में छठ पूजा की छुट्टी रद्द, मुम्बई में हो सकती है इस बार से सरकारी ‘छुट्टी’

0
4658

छठ पूजा में इस बार भी उत्तर प्रदेश की योगी सरकार सरकारी छुट्टी नहीं देने जा रही है। उत्तर प्रदेश सरकार के सरकारी वेबसाइट के अनुसार दीवाली की छुट्टी दी गई है लेकिन छठ पूजा की छुट्टी हटा दी गई है। जानकारों की माने तो योगी सरकार के इस निर्णय से लाखों छठ उपासकों को परेशानी हो सकती है। वहीं लाइव बिहार से विशेष बातचीत में कुछ महिलाओं ने कहा कि हम लोग छठ की पूजा करते हैं। अगर इस निर्णय पर पुर्नविचार नहीं किया गया तो सरकार के लिए चुनाव में परेशानी का सबब बन सकता है।

वर्ष 2017 में योगी सरकार ने महापुरुषों के नाम पर 15 छुट्टियों को किया था रद्द : प्रदेश सरकार ने 15 महापुरुषों की जयंती व बलिदान दिवस पर घोषित सार्वजनिक अवकाश रद्द कर दिया था। अब इनको सार्वजनिक अवकाश की सूची से हटाकर निर्बंधित अवकाश की सूची में शामिल कर लिया गया है। खास बात यह है कि ये सभी छुट्टियां सपा सरकार के समय घोषित की गई थीं।

रद्द की गई छुट्टियां : जननायक कर्पूरी ठाकुर जयंती, महर्षि कश्यप एवं निषादराज महाराजा गुहा जयंती, चेटीचंद, हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती अजमेरी गरीब नवाज का उर्स, चंद्रशेखर जयंती, परशुराम जयंती, लोक नायक महाराणा प्रताप जयंती, जमातउल विदा (अलविदा-रमजान का अंतिम शुक्रवार), विश्वकर्मा पूजा, महाराजा अग्रसेन जयंती, महर्षि वाल्मीकि जयंती, छठ पूजा पर्व, सरदार बल्लभ भाई पटेल एवं आचार्य नरेंद्र देव जयंती, ईद-ए-मिला दुन्नबी, चौधरी चरण सिंह जयंती।

मुम्बई में छठ पूजा पर होगी सरकारी छुट्टी, बिहारी कैंसर पीड़ितों के लिए बनेगा ‘बिहार’ भवन : महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने लोक आस्था के महापर्व छठ व्रतियों और श्रद्धालुओं की सुविधा को ध्यान में रखते हुए मुंबई में सरकार के स्तर पर छठ कमेटी गठित करने का एलान किया है। फडणवीस ने कहा कि हम चाहते हैं कि छठ पूजा में श्रद्धालुओं को किसी तरह की परेशानी ना हो। उन्होंने बिहार से कैंसर का इलाज कराने मुंबई जाने वाले बिहारियों के रहने के लिए विशेष भवन की व्यवस्था करने का भी भरोसा दिया।

ऐसी थी मुंबई की पहली छठ पूजा : फिल्म व संगीत सितारों की मौजूदगी, ताम-झाम, बड़े नाम, आलीशान मंच और लंबा-चौड़ा खर्च। मुंबई की मौजूदा सार्वजनिक छठ पूजा की शुरुआती छठपूजा से कोई तुलना नहीं की जा सकती। कैसा था महानगर में बसे बिहार, झारखंड और उत्तर भारत के लाखों प्रवासियों का पहला सार्वजनिक छठ? समाज के अग्रणियों से बातचीत कर विमल मिश्र ने इसकी टोह ली।

आज से 25 साल पहले तक मुंबई में छठ पर्व का वैसा रूप नहीं था जैसा आज है। छठ के दिन संध्या के अस्ताचलगामी और अगली सुबह के उदीयमान सूर्य के दर्शन-पूजन करने आए कुछ बिहारी परिवार जरूर जुहू बीच पर पूजा करने आया करते। जुहू की रेत पर उन दिनों लाइटिंग, पानी, महिलाओं के कपड़े बदलने, सुरक्षा और रात बिताने की कोई व्यवस्था नहीं थी। रात के घुप्प अंधेरे में असामाजिक तत्वों के आतंक से जी कांपता। मुंबई छठ उत्सव महासंघ के अध्यक्ष मोहन मिश्र को 1993 की छठ पूजा याद हो आई, जब बिहार से आई 80 वर्षीय मां सुमित्रा देवी की धर्मनिष्ठा ने उन्हें सार्वजनिक पूजा के लिए कुछ न्यूनतम इंतजाम के जुगाड़ के लिए बाध्य कर दिया।

Total 1 Votes
0

Tell us how can we improve this post?

+ = Verify Human or Spambot ?