Connect with us
leaderboard image

WORLD

WHO चीफ बोले- कोरोना वायरस की तेजी से बढ़ रही रफ्तार, फुटबॉल की इस टेक्निक से रोक सकते हैं प्रसार

Santosh Chaudhary

Published

on

जेनेवा.विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने सोमवार को आगाह किया कि कोविड-19 महामारी स्पष्ट तौर पर ‘तेज गति से फैल रही है’. हालांकि, संगठन ने कहा कि प्रकोप के ‘इस रुख को बदलना ‘ संभव है. संगठन के प्रमुख टेड्रॉस गेब्रयासस ( Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने पत्रकारों से कहा, ‘ महामारी तेज हो रही है.’ उन्होंने कहा, ‘पहले मामले से 100,000 मामले तक पहुंचने में 11 दिन लगे, दूसरे 100,000 मामले पहुंचने में भी 11 दिन लगे और तीसरे 100,000 मामले सिर्फ चार दिनों में सामने आए. हालांकि उन्होंने ये भी कहा, ‘हम असहाय नहीं हैं. हम इस महामारी पर जीत हासिल कर सकते हैं.’

टेड्रोस ने कहा, ‘हम असहाय नहीं हैं. हम इस महामारी के लक्षण को बदल सकते हैं.’ एक मिश्रित दृष्टिकोण का आह्वान करते हुए टेड्रोस ने कोरोना के खिलाफ कार्रवाई को फुटबॉल मैच से जोड़ा. फीफा और (डब्ल्यूएचओ) ने विश्व-प्रसिद्ध फुटबालरों के नेतृत्व में कोरोना वायरस के खिलाफ एक नया जागरूकता अभियान शुरू किया है. इस अभियान के जरिए दुनिया भर के लोगों से बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए पांच प्रमुख चरणों का पालन करने का आह्वान किया गया है.

अगर अस्वस्थ महसूस कर रहे हैं तो घर में रहें

इस अभियान का नाम ‘पास द मैसेज टू किक आउट कोरोना वायरस (कोरोना वायरस को हराने के लिए संदेश फैलाये) है, जिसमें डब्ल्यूएचओ के मार्गदर्शन में लोगों को लोगों के स्वास्थ्य के लिए पांच प्रमुख चरणों को बढ़ावा दिया जा रहा है. इसमें हाथ धोना, खांसने से जुड़ा शिष्टाचार, चेहरे को छूने से बचना, शारीरिक दूरी और अगर अस्वस्थ महसूस कर रहे हैं तो घर में रहना शामिल है.

इस वीडियो अभियान को 13 भाषाओं में तैयार किया गया है, जिसमें 28 खिलाड़ियों में पूर्व भारतीय कप्तान छेत्री, अर्जेंटीना के सुपरस्टार लियोनेल मेसी के अलावा फिलिप लाहम, इकर कैसिलास और कार्ल्स पुयोल जैसे विश्व कप विजेता खिलाड़ी शामिल हैं.

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. टी.ए. घेब्रेसस ने स्विट्जरलैंड के जिनेवा में डब्ल्यूएचओ मुख्यालय से अभियान की शुरुआत में कहा, ‘फीफा और उसके अध्यक्ष जियान्नी इन्फेंटिनो शुरू से ही इस महामारी के खिलाफ संदेश देने में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं.’

इन्फेंटिनो ने कहा, ‘हमें कोरोनो वायरस का मुकाबला करने के लिए टीम वर्क की आवश्यकता है. फीफा ने डब्ल्यूएचओ के साथ मिलकर यह काम किया है क्योंकि स्वास्थ्य पहले आता है. मैं दुनिया भर के फुटबाल समुदाय का आह्वान करता हूं कि इस अभियान को आगे बढ़ाने और संदेश को प्रसारित करने में हमारा साथ दें.’ इस दौरान WHO चीफ ने कहा कि ‘फुटबॉल मैच को सिर्फ डिफेंड कर के नहीं जीता जा सकता है बल्कि अटैक भी करना होगा.’

टेड्रोस ने कहा, ‘लोगों को घर पर रहने और अन्य शारीरिक दूरी बनाये रखनी होगी यह वायरस के प्रसार को धीमा करने और समय हासिल करने का महत्वपूर्ण तरीका है, लेकिन वे रक्षात्मक उपाय हैं जो हमें जीतने में मदद नहीं करेंगे.’ उन्होंने कहा ‘जीतने के लिए, हमें आक्रामक और लक रणनीति के साथ वायरस पर हमला करने की आवश्यकता है. हर संदिग्ध मामले का परीक्षण, अलग-थलग करना और हर पुष्ट मामले की देखभाल करना और हर करीबी संपर्क का पता लगाना और आइसोलेट करना हमारी प्राथमिकता में शामिल होना चाहिए.’

कई देश अधिक आक्रामक उपाय करने के लिए संघर्ष कर रहे

इस दौरान डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने स्वीकार किया कि संसाधनों की कमी और परीक्षणों तक पहुंच के कारण कई देश अधिक आक्रामक उपाय करने के लिए संघर्ष कर रहे है. टेड्रोस ने COVID -19 के उपचार के लिए एक वैक्सीन और दवाओं को खोजने के लिए अनुसंधान और विकास में लगाए जा रहे उर्जा की प्रशंसा की.

हालांकि उन्होंने कहा कि ‘वर्तमान में कोई इलाज नहीं है जो Covid​-19 के खिलाफ प्रभावी साबित हुआ है. उन्होंने उन दवाओं के इस्तेमाल से चेताया जो बीमारी के खिलाफ काम नहीं कर रहीं. उन्होंने कहा कि ‘बिना सही साक्ष्य के बिना परीक्षण वाली दवाओं का इस्तेमाल करने से झूठी उम्मीदें जग सकती हैं और यह लाभ के बजाए ज्यादा नुकसान कर सकती हैं और आवश्यक दवाओं की कमी हो सकती है जिनकी जरूरत अन्य बीमारियों के उपचार में होती हैं.’ अन्य बातों के अलावा, देश नए कोरोनोवायरस के खिलाफ उपचार के रूप में एंटीमाइरियल दवाओं का उपयोग कर रहे हैं.

Input : News18

WORLD

UK PM बोरिस जॉनसन की हालत बिगड़ी, सांस लेने में दिक्‍कत के बाद आईसीयू में किया गया शिफ्ट

Santosh Chaudhary

Published

on

ब्रिटेन के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन की हालत बिगड़ने के बाद उन्‍हें इंटेंसिव केयर यूनिट में शिफ्ट किया गया है। जॉनसन के कार्यालय ने यह जानकारी दी। पीएमओ से मिली जानकारी के मुताबिक पीएम को हर बेहतर इलाज मुहैया करवाया जा रहा है। उन्‍हें आईसीयू में शिफ्ट करने की जानकारी महारानी को भी दे दी गई है। आपको बता दें कि उन्‍हें रविवार शाम को सेंट थॉमस अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। बीबीसी के मुताबिक जॉनसन को सांस में लेने की तकलीफ के चलते ये कदम उठाया गया है। आईसीयू में शिफ्ट करने से पहले सोमवाद दोपहर को उन्‍हें ऑक्‍सीजन लगाई गई थी। हालांकि एक सुखद खबर ये है कि उन्‍हें वेंटिलेटर नहीं लगाया गया है।

डॉक्‍टरों के मुताबिक वो होश में हैं लेकिन उनकी हालत दोपहर बाद से ठीक नहीं है। उनके मुताबिक एहतियात के तौर पर जॉनसन को आईसीयू में शिफ्ट किया गया है। हालांकि डॉक्‍टरों ने इस बात से भी इनकार नहीं किया है कि जरूरत पड़ने पर उन्‍हें वेंटिलेटर पर भी रखा जा सकता है।

गौरतलब है कि जॉनसन 27 मार्च को कोरोनो वायरस के लक्षणों से संक्रमित पाए गए थे। जॉनसन ने खुद ट्वीट करते हुए इस बात की जानकारी दी थी। इसमें उन्‍होंने कहा था कि उनका कोरोना टेस्‍ट पॉजीटिव आया है और वो खुद को दूसरों से अलग कर रहे हैं। उन्‍होंने ये भी कहा था कि वे इस दौरान वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए देश का नेतृत्‍व करता रहूंगा। गौरतलब है कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। पूरी दुनिया में जहां अब तक इसके 1346566 मामले सामने आ चुके हैं वहीं अकेले ब्रिटेन में इसके अब तक 51608 मामले सामने आए हैं। ब्रिटेन में अब तक इसकी वजह से 5373 लोगों की जान भी जा चुकी है।

उनकी गैर मौजूदगी में सारी जिम्‍मेदारी विदेश सचिव डॉमिनिक राब को दी गई है। पीएमओ के मुताबिक जॉनसन ने विदेश सचिव डॉमिनिक राब को जहां आवश्यक हो प्रतिनियुक्ति करने के लिए भी कहा है। राब ने इसके बाद कोवि;-19 को लेकर जो बैठक की उसमें उन्‍होंने कि हम सभी में काम को अंजाम देने की बेहतर टीम भावना है। उन्‍होंने बैठक में ये भी कहा कि जो कुछ प्‍लान और निर्णय जॉनसन की तरफ से लिए गए हैं उन्‍हें जल्‍द से जल्‍द अमल में लाया जाएगा।

उन्‍होंने कहा कि इस वक्‍त पूरा देश एक बुरे दौर से गुजर रहा है। ये देश के सामने सबसे बड़ा संकट है। सांसद सर केयर स्‍टार्मर ने जॉनसन को आईसीयू में शिफ्ट होने को एक बुरी खबर बताया है। उन्‍होंने कहा कि पूरा देश इस वक्‍त जॉनसन और उनके परिवार के साथ है और उनके जल्‍द स्‍वस्‍थ होकर घर वापसी की दुआ कर रहा है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने भी जॉनसन के जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना की है। उन्‍होंने कहा कि हर अमेरिकी उनके लिए जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना कर रहा है। उन्‍होंने ये भी कहा कि जॉनसन उनके बहुत अच्‍छे मित्र हैं। साथ ही वो काफी मजबूत भी हैं। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन दस दिन पहले रुटिन चेकअप के लिए अस्‍पताल ले जाया गया था। उस वक्‍त उन्‍हें तेज बुखार और खांसी थी। आईसीयू में शिफ्ट करने से पहले जॉनसन ने एक ट्वीट भी किया था।

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading

WORLD

दुनिया भर में मुसलमानों पर हुए जुल्म के चलते आया कोरोना वायरस- हिजबुल चीफ सैयद सलाहुद्दीन

Santosh Chaudhary

Published

on

hizbul-mujahideen-syed-salahuddin

नई दिल्ली. आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन के चीफ सैयद सलाहुद्दीन ((Syed Salauddin) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) को धर्म से जोड़ दिया है. उसने कहा है कि कोरोनो वायरस दुनिया में इसलिए आया क्योंकि हर जगह मुसममानों पर जुल्म किया जा रहा है. सलाहुद्दीन ने यह भी कहा कि अब ये बीमारी ऐसे लोगों को अपना शिकार बनाएगी, जिसने दुनिया भर में मुसलमानों को परेशान किया है. इस खतरनाक आतंकी ने अपना ऑडियो मैसेज जारी किया है. 5 मिनट के इस ऑडियो में उसने दुनिया के कई नेताओं को धमकी भी दी है.

दुनिया भर में मुसलमानों पर हुए जुल्म के चलते आया कोरोना वायरस- हिजबुल चीफ सैयद सलाहुद्दीन

‘मुसलमानों पर जुल्म का नतीजा’

सलाहुद्दीन ने कहा, ‘कोरोना वायरस एक ऐसी बीमारी है, जिसका कोई इलाज नहीं है. साइंस भी इसके आगे फेल हो रही है और इस बीमारी का मुख्य कारण है मुसलमानों पर दुनिया भर में ज्यादती. उन पर जुल्म ढाए गए हैं. रोहिंग्या मुसलमान, फिलिस्तीन और कश्मीरियों पर जो जुल्म हुए हैं उस वजह से इस बीमारी ने इनको जकड़ा है. कुछ मुसलमान सरकारें अय्याशी में अपने दीन को भूल गई थी वो भी कसूरवार हैं.’

‘अल्लाह बचाएंगे’

सलाहुद्दीन ने कहा कि इस बीमारी से एहतियात बरतनी चाहिए, लेकिन अल्लाह सबसे बड़ा है. भारत में जो कश्मीरियों पर पीएम मोदी जुल्म ढा रहे हैं अब इस बीमारी से वो भी नहीं बच पाएंगे. दुनिया भर में इस बीमारी ने पांव पसार लिए हैं हमें इस घड़ी में एहतियात बरतनी है और अल्लाह पर भरोसा करना है.

कौन है सलाहुद्दीन?

सैयद मोहम्मद युसूफ शाह को आमतौर पर सैयद सलाहुद्दीन के नाम से जाना जाता है. आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का मुखिया रहते हुए उसने कश्मीर घाटी से कई ऑपरेशन को अंजाम दिया है. सलाहुद्दीन का परिवार घाटी में आराम की जिंदगी गुजार रहा है. उसके तीन बच्चे राज्य सरकार की अच्छी नौकरियां कर रहे हैं. वो खुद पाकिस्तान में सुरक्षित घर में रहते हैं. वो कश्मीर के युवाओं को वो लगातार भारत के खिलाफ भडक़ाता और उकसाता रहता है.

Input : News18

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading

WORLD

कोरोना वायरस से अमेरिका में हाहाकार! ट्रंप ने पीएम मोदी से मांगी ये खास दवा, कहा- मैं खुद भी खाऊंगा

Santosh Chaudhary

Published

on

वॉशिंगटन. दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) ने तबाही मचा रखी है. इस वायरस से अब तक 63 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है. 11 लाख से ज्यादा लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में आ चुके हैं. अमेरिका में 24 घंटे में कोरोना वायरस से 1480 लोगों ने जान गंवाई है. लोगों की जान बचाना इस वक्त ट्रंप सरकार की बड़ी चुनौती है. इस बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की. इस दौरान ट्रंप ने पीएम मोदी से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन टेबलेट्स की सप्लाई की गुजारिश की है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं भी इसे (दवा को) ले सकता हूं, मुझे डॉक्टरों से इस बारे में बात करनी होगी.

दरअसल, कोरोना वायरस से लड़ने में मदद करने वाली मलेरिया की दवा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) के निर्यात पर भारत सरकार ने रोक लगा दी है. सरकार का कहना है कि इस दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए तत्काल प्रभाव से इस पर रोक लगाना जरूरी है. ऐसे में अमेरिका समेत अन्य देशों में इस टेबलेट की मांग बढ़ गई है.

क्या है हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन?

ये दवा एंटी मलेरिया ड्रग क्लोरोक्वीन से अलग दवा है. यह एक टेबलेट है जिसका उपयोग ऑटोइम्यून रोगों जैसे कि संधिशोथ (Arthritis) के इलाज में किया जाता है, लेकिन इसे कोरोना से बचाव में इस्तेमाल किये जाने की बात भी सामने आई है.

इस दवा का खास असर SARS-CoV-2 पर पड़ता है. यह वही वायरस है जो COVID-2 का कारण बनता है. ये भी बता दें कि इसी आर्टिकल के हवाले से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 21 मार्च वाला ट्विट किया था.

इस बात की शुरुआत तब हुई जब 19 मार्च को द लैंसेट ग्लोबल हेल्थ में लिखे एक आर्टिकल में इस दवा के फायदे और बीमारियों से लड़ने की क्षमता के बारे में बताया गया. इस आर्टिकल मे इस बता पर जोर दिया गया कि यह दवा कोरोनोवायरस के खिलाफ एंटी-वायरल तरीके से काम करती है.

कोरोना से मिलकर लड़ेंगे भारत-अमेरिका

कोरोना वायरस महामारी से पैदा हुई स्थिति से निपटने के लिए पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत-अमेरिका साझेदारी की पूरी ताकत का उपयोग करने का संकल्प लिया. मोदी ने इस बातचीत के बारे में ट्वीट कर कहा, ‘राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ टेलीफोन पर विस्तृत चर्चा हुई. हमारी चर्चा काफी अच्छी रही और हमने कोविड-19 से निपटने में भारत-अमेरिका साझेदारी की पूरी ताकत का उपयोग करने पर सहमति व्यक्त की.

अब कोविड-19 की जांच, इलाज मुफ्त

उधर, राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (एनएचए) ने शनिवार को कहा कि आयुष्मान भारत के लाभार्थियों के लिए निजी प्रयोगशालाओं(लैब) और पैनल वाले अस्पतालों में ‘कोविड-19’ की जांच और इलाज निशुल्क होंगे. राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना को लागू करने वाले एनएचए ने कहा कि इससे कोरोना वायरस महामारी से निपटने में देश की क्षमता बढ़ेगी.

एनएचए ने एक बयान में कहा, ‘सरकारी केंद्रों में कोविड-19 संक्रमण का पता लगाने के लिये जांच और उपचार पहले से ही मुफ्त में उपलब्ध है. अब स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत पात्र 50 करोड़ से ज्यादा लोग प्राइवेट लैब के माध्यम से जांच तथा पैनल वाले अस्पतालों में इलाज का लाभ भी उठा सकेंगे.’

एनएचए ने कहा कि आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत पैनल वाले अस्पताल अपने अधिकृत जांच केंद्रों का इस्तेमाल कर सकते हैं या किसी अधिकृत जांच केंद्र को इसके लिए जोड़ सकते हैं.

Input : News18

fight-against-covid-19-by-muzaffarpur-now

Continue Reading
INDIA27 mins ago

देशभर में संक्रमित मरीजों की संख्या 4281 हुई, अब तक 111 लोगों की मौत

INDIA33 mins ago

कोरोना: समस्याओं से अधिक चुनौतियां

MUZAFFARPUR58 mins ago

भगवान श्रीराम के खिलाफ अमर्यादित वीडियो वायरल करने वाला गिरफ्तार; समाज ने ही किया बहिष्कृत

BIHAR1 hour ago

बाहर फंसे अप्रवासी बिहारियों के खाते में भेजे 10.35 करोड़

BIHAR1 hour ago

लॉकडाउन : अब तक 9000 से अधिक वाहन जब्त, 445 लोग हुए गिरफ्तार

BIHAR3 hours ago

बिहार: सात साल से था जेल में बंद, परिवार ने सोचा मर गया है बेटा, Corona ने ऐसे मिलवाया

BIHAR3 hours ago

गांवों की चहल-पहल पर भारी पड़ा लॉकडाउन, लेकिन अनुशासन देखने लायक

WORLD4 hours ago

UK PM बोरिस जॉनसन की हालत बिगड़ी, सांस लेने में दिक्‍कत के बाद आईसीयू में किया गया शिफ्ट

BIHAR4 hours ago

कोरोना से जिंदगी की जंग जीतकर NMCH से डिस्चार्ज हुए सिवान के चार मरीज, बिहार में कोई नया केस भी नहीं

MUZAFFARPUR14 hours ago

बरुराज में हथियार के साथ 5 अपराधी गिरफ्तार, लूटी गई बाइक, मोबाइल समेत अन्य समान बरामद

INDIA3 days ago

गृह मंत्रालय का बड़ा फैसला, अब लॉकडाउन के दौरान मिलेगी ये छूट, देखें लिस्ट

BIHAR2 weeks ago

स्पाइसजेट का सरकार को प्रस्ताव, दिल्ली-मुंबई से बिहार के मजदूरों को ‘घर’ पहुंचाने के लिए हम तैयार

INDIA2 weeks ago

PM मोदी को पटना के बेटे ने दिए 100 करोड़ रुपये, कहा – और देंगे, थाली भी बजाई

INDIA2 weeks ago

पूरी हुई जनता की डिमांड, कल से दोबारा देख सकेंगे रामानंद सागर की ‘रामायण’

BIHAR2 days ago

बिहार में शुरू हुआ कोरोना का चेन ब्रेक, थर्ड स्टेज का खतरा भी कमा

BIHAR3 weeks ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

BIHAR3 weeks ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

INDIA1 week ago

Lockdown के दौरान युवक ने फोन करके कहा 4 समोसे भिजवा दो, डीएम ने भिजवाए 4 समोसे और साफ कराई नाली

BIHAR2 weeks ago

अब नहीं सचेत हुए बिहार वाले तो, अपनों की लाशें उठाने को रहें तैयार

INDIA1 week ago

COVID-19 के बीच सलमान खान के भतीजे की मौत, परिवार में शोक की लहर

Trending