Connect with us
leaderboard image

INDIA

करेंसी, कोरोना और डिजिटल इंडिया – अंशुमन की कलम से

Muzaffarpur Now

Published

on

वर्ष 2019 के अंत तक किसी ने सोचा भी न होगा की 2020 के प्रथम तिमाही में ही विश्व में एक ऐसा संकट खड़ा हो जायेगा जो किसी आ’तंकवाद या दो देश या देशों की लड़ाई, या क्षेत्रीय या जातीय या म’जहबी लड़ा’ई के कारण नहीं बल्कि एक ऐसे अति सूक्ष्म विषाणु के कारण होगा जो दुनिया के सबसे मज़बूत देशों और लोगों तक को घुटने पे ला पटकेगा, हलाकि आधुनिक सभ्यता ने कई सारी बी’मारियां तो देखि हैं मगर फिर भी स्वास्थ, खास कर जन-स्वास्थ तथा सामुदायिक चिकित्सा उसमे भी निरोधात्मक चिकित्सा पे न तो ज्यादातर लोग बात करना चाहते हैं, न ही कभी ये चुनावों या जन सरोकार का मुद्दा बनता है और न सरकारें इस्पे अधिक खर्च (जो की वाकई में खर्च नहीं निवेश होता) करना चाहती हैं, जिसका नतीजा आज वैश्विक अर्थव्यवस्था प्रतिदिन अरबों के घाटे के रूप में झेल रही है जिसका प्रभाव अमीर-गरीब सब पर होना हैं।

हालांकि इतने दिनों में अबतक आप ये तो जान ही गए होंगे की कोविड19 बीमारी जो की नावेल कोरोना वायरस से फैलती है और इसके संचार का मुख्य माध्यम खांसते/छींकते/बोलते समय हमारे नाक या मुँह से निकलने वाले अति सूक्ष्म बूंदों के या तो सामने वाले व्यक्ति के आँख/नाक/मुँह में सीधे चले जाने या फिर उन बूंदों का उसके हांथो या किसी अन्य वस्तु पर परने तथा फिर गंदे हांथों या वस्तु का हमारे आँख/नाक/मुँह के संपर्क में आने पर होता है । चुकि अबतक इस बीमारी का कोई कारगर इलाज या बचाव हेतु भी कोई टिका तैयार नहीं हो सका है अतः इससे बचाव का एकमात्र तरीका है इसके संक्रमण से बचना जिसमे की अपने हांथों को साबुन से धोना या फिर किसी अन्य ऐसे सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करना जो की वायरस को निष्क्रिय करने में कारगर हो तथा अपने आँख, नाक एवं मुँह को इस प्रकार ढक के रखना की किसी भी संभावित संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने पर कोई भी ड्रॉपलेट हमारे इन हिस्सों से अंदर प्रवेश न कर सके या सबसे अच्छा ऐसे व्यक्ति/सामूहिक स्थान से दूर रहना।

वायरस संक्रमण तथा करेंसी नोट/सिक्कों का संबंध :

निर्जीव वस्तु जिन्हे हम फोमाइट भी कहते हैं उनपे कोई भी जीवाणु या विषाणु कई बार अलग अलग माध्यम से आ कर चिपक जाता है और कुछ घंटों से लेकर कई दिनों तक जीवित/सक्रिय अवस्था में चिपका रह सकता है जिससे उस वस्तु को फिर से कोई छुए तो वह जीवाणु/विषाणु उस छूने वाले सतह से चिपक जाता है और फिर वह जहाँ-जहाँ स्पर्श होगा वह वह फैलता जाता है ।हालांकि ये अबतक ये तय नहीं हो पाया है की नावेल कोरोना वायरस कितने तापमान में किस प्रकार के निर्जीव सतह पर कितने देर सक्रिय अवस्था में रह सकता है, मगर ये अवधि कुछ घंटों से लेकर कुछ हफ्ते तक की हो सकती है। हालांकि लोग कई बार कई प्रकार के सतह को छूने के बाद हांथों को साबुन या सैनिटाइज़र से साफ़ तो कर लेते हैं या ऐसी सतहों (जैसे की दरवाजे की कुण्डी या हैंडल, सार्वजानिक नालों के हैंडल , बस या कार का हैंडल , लिफ्ट के बटन इत्यादि )को छूने से है बचते हैं परन्तु न के बराबर लोग सिक्कों या नोटों को छूने से मना करते है या उसके बाद हांथों को सही ढंग से साफ़ करते हैं , अब ज़रा सोंचिये की करेंसी नोट/सिक्का (जो की किसी भी मुल्क का हो सकता है ) कितने तेजी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति या एक स्थान से दूसरे स्थान जा सकता है ?

तो एक उदहारण लेते हैं :

व्यक्ति “क” जो की कोरोना वायरस से ग्रसित है छींकता है और छींकते वक़्त मुँह पे रुमाल भी रखता है परन्तु वह रुमाल वह जिस पॉकेट में रखता है उसी में उसने सौ रुपये का नोट रखा होता है और वह देश के उत्तरी छोड़ के राज्य के एक एयरपोर्ट से बाहर निकलता है तथा उसे टैक्सी ड्राइवर को देता है जो की स्वस्थ है, टैक्सी ड्राइवर नोट छूता है और अनजाने में अपने चेहरे को छूता है तथा दूसरा व्यक्ति “ख” उसके टैक्सी से वापस एयरपोर्ट जाता है तथा छुट्टे के तौर पर टैक्सी ड्राइवर “ख” को वही सौ का नोट देता है, “ख” आराम से नोट लेता है सामान उठाता है, अपने प्लेन में आकर बैठता है जो की देश के सुदूर दक्षिणी राज्य जा रहा होता है तथा बैठने के बाद वह हांथो को सैनिटाइज भी करता है, यात्रा के बाद वह प्लेन से उतर कर घर जाता है और अपने काम वाली को पगार देता है जिसमे वही सौ का नोट है, काम वाली अपने घर जाते वक्त उस नोट से सब्जी, सब्जी वाला उस नोट से चाय, चाय वाला दूध और दूध वाला टैक्सी लेता है और एक दिन में नोट एक हाँथ से दूसरे हाँथ एक जगह से दूसरे जगह घूम रहा होता है और उस नोट के साथ-साथ उसपे बैठे जीवाणु और विषाणु भी।

अब ज़रा सोंचिये की यदि व्यक्ति “क” ने सौ रुपये के नोट के जगह क्यू.आर. कोड या ऐसे ही किसी अन्य माध्यम से पैसे दिए होते तो क्या बेहतर नहीं होता ?

अतः कृपया हांथों को मिलाने के जगह नमस्ते करने की या अपने हांथो को साफ़ और चेहरे ढंकने की आदत या भीड़ भार से दूर रहने की आदत ही न अपनाएं , इनके साथ साथ ही साफ़ हांथों से चीजों को छूने एवं चीजों (चाहे वो कितनी ही कीमती क्यू न हो) यदि उसे एक से अधिक लोग छूने वाले हैं या छुए हैं तो छूने से पहले एवं उसके बाद भी हांथों को अच्छे तरीके से साफ़ कर लें एवं कोशिश करें की ज्यादा से ज्यादा लेन देन अथवा अन्य कार्य भी डिजिटल माध्यम से ही करें।

मानवता की इस लड़ाई में सब मिल कर आगे बढ़ें और हर तरह से तैयार रहें।

Courtesy : Anshuman

 

 

INDIA

Coronavirus को लेकर सरकार अब और सख्त, नियम तोड़ने पर 6 महीने की जेल और जुर्माने की सजा

Santosh Chaudhary

Published

on

कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर सरकार अब और भी ज्यादा सख्त होती दिखाई दे रही है. कानून की धज्जियां उड़ा कर होम क्वॉरेंटाइन (Home quarantine) को तोड़ने वाले लोगों को कानूनी कार्रवाई के तहत 6 महीने की जेल या जुर्माना या दोनों हो सकते हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय (Health ministry) ने लोगों से अपील की है कि वे दिए गए दिशा निर्देशों, सलाहों और सुरक्षा के नियमों का सख्ती से पालन करें.

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा हमने राज्यों को कानून के कड़े नियमों का पालन करने का अधिकार दिया है ताकि लोग होम क्वॉरेंटाइन को ना तोड़े और बीमारी ना फैलाएं. उन्होंने कहा कि इस संक्रामक बीमारी को फैलने से रोकने के लिए, होम क्वॉरेंटाइन का ध्यान रखकर सामाजिक संतुलन बनाए रखना बहुत जरूरी है.

महामारी रोग अधिनियम की धारा 10 और आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 10 के अनुसार राज्यों को यह अधिकार है कि वे नियम को तोड़ने वालों पर दंडात्मक कार्रवाई के तहत 6 महीने की जेल या 1000 रुपये जुर्माना या दोनों दंड लगा सकते हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बार फिर राज्यों से इन नियमों को लागू करने के लिए कहा है, जबकि इन कानूनों के कड़े नियमों को केंद्र पहले ही लागू कर चुका है.

अभी हाल में कुछ ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां लोग आइसोलेशन (Isolation) से भाग गए हैं या होम क्वॉरेंटाइन का पालन नहीं किया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने सूचना दी है कि शुक्रवार तक देश में covid-19 (Corona virus) के 223 मामले सामने आ चुके हैं. इसके अलावा जो लोग कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों के संपर्क में आए हैं, ऐसे 6,700 लोगों को कड़ी निगरानी में रखा गया है, जबकि अन्य 1.12 लाख लोग समाज की निगरानी में हैं. भारत में अब तक 15,000 से ज्यादा नमूनों का टेस्ट किया जा चुका है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा “सामाजिक गड़बड़ी है, कोरोना वायरस के मामलों में बहुत तेजी से वृद्धि हुई है, इसलिए सामाजिक संचार या प्रसार को रोकना बहुत जरूरी है.”

उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोई भी प्रश्न पूछने के लिए टोल फ्री नंबर 1075 का इस्तेमाल करें. उन्होंने लोगों से यह भी कहा कि जरूरी चीजों की कोई कमी नहीं होगी. राज्यों के काम करने की ताकत को बढ़ाने के लिए केंद्र की टीमों को राज्यों में भेजा गया है.

Input : TV9 BharatVarsh

Continue Reading

INDIA

COVID-19: मुश्किल में कनिका कपूर, प्रोटोकॉल तोड़ने के मामले में लखनऊ पुलिस ने दर्ज की FIR

Santosh Chaudhary

Published

on

लखनऊ. कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद अब बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. कनिका कपूर के प्रोटोकॉल तोड़ने के मामले में अब लखनऊ पुलिस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. बताया जा रहा है कि लखनऊ के जिला मजिस्ट्रेट के आदेश के बाद पुलिस ने उन पर मामला दर्ज किया है. बताया जा रहा है कि इसमें उनकी गिरफ्तारी भी हो सकती है. गौरतलब है कि लंदन से लौटने के बाद कनिका ने लगातार लोगों से संपर्क बनाए रखा था और उन्होंने इस दौरान कुछ पार्टियों में भी शिरकत की थी. इन पार्टियों में देश की कई दिग्गज हस्तियां भी मौजूद थीं. इसमें केंद्रीय व राज्य मंत्री के साथ ही राजस्‍थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके बेटे व सांसद दुष्यंत सिंह भी मौजूद थे.

स्वास्‍थ्य मंत्री ने कहा था- होगी कार्रवाई

यूपी के स्वास्‍थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने इससे पहले कहा था कि कनिका कपूर ने विदेश से आने के बाद प्रोटोकॉल तोड़ा है. वह बिना किसी को सूचित किए कई जगह पर गई हैं. ऐसे में उन पर जरूर कार्रवाई की जाएगी. दरअसल विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना वायरस को महामारी घोषित किये जाने के बाद यह सभी नागरिकों की जिम्मेदारी है कि वे प्रोटोकॉल का पालन करें और विदेश से आने के बाद खुद को क्वारंटाइन करने के साथ ही किसी भी तरह के लक्षण मिलने पर स्वास्‍थ्य विभाग से संपर्क करें. लेकिन कनिका ने ऐसा नहीं किया. वहीं स्वास्‍थ्य विभाग के सचिव ने भी कनिका के खिलाफ कार्रवाई के संकेत दिए हैं.

तीन किलोमीटर का इलाका करवाया खाली

यह मामला सामने आने के बाद जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने आदेश दिया है कि कनिका कपूर के घर महानगर से तीन किलोमीटर के इलाके को खाली करवा दिया जाए. इसके मद्देनजर विकास नगर, खुर्रमनगर और अलीगंज के कुछ इलाकों को खाली करवाया जा रहा है.

 

 

Continue Reading

INDIA

जनता कर्फ्यू के दौरान 22 मार्च को देशभर में नहीं चलेगी पैसेंजर ट्रेनें

Santosh Chaudhary

Published

on

देश में बढ़ते कोरोना वायरस के प्रकोप से बचने के लिए तमाम उपाय किए जा रहे हैं। अब रेलवे ने बड़ा फैसला लेते हुए 22 मार्च को देशभर में सभी पैसेंजर ट्रेनों के अावागमन पर रोक लगा दी है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा घोषित जनता कर्फ्यू के मद्देनजर देश में शनिवार मध्यरात्रि से रविवार रात दस बजे के बीच किसी भी स्टेशन से कोई पैसेंजर ट्रेन सफर शुरू नहीं करेगी। सभी उपनगरीय ट्रेन सेवाएं भी बहुत कम कर दी जाएंगी।

देश में कोरोना वायरस के हालात को देखते हुए रविवार (22 मार्च) को घोषित जनता कर्फ्यू का ट्रेनों की आवाजाही पर भी असर पड़ेगा। सूत्रों के मुताबिक शनिवार रात 12 बजे से रविवार रात 10 बजे तक कोई भी यात्री ट्रेन सफर शुरू नहीं करेगी। वहीं मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें रविवार तड़के चार बजे थम जाएंगी।

90 ट्रेनें रद

वही, रेलवे ने यात्रियों की कम संख्या और कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर 20 से 31 मार्च के बीच चलने वाली 90 ट्रेनें शुक्रवार (20 मार्च) को रद्द कर दी हैं। इसके साथ ही रद की गईं ट्रेनों की संख्या बढ़कर 245 हो गई है। इससे पहले बृहस्पतिवार (19 मार्च) को रेलवे ने 84 ट्रेंने रद करते हुए कहा था कि कोरोना वायरस के चलते 155 ट्रेनें रद की जा चुकी हैं।

बताया जा रहा है कि जिन लोगों ने इन ट्रेनों में टिकट बुक कराए थे, उन्हें व्यक्तिगत रूप से इसकी जानकारी दी जा रही है। इन ट्रेनों में टिकट रद होने का कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। यात्रियों को पूरा पैसा वापस मिलेगा।सामाजिक दूरी सुनिश्चित करना जरूरी है।

Input : Dainik Jagran

Continue Reading
corona-ghar-par-raho-na
BIHAR1 hour ago

जानिए कल आपके बीच कौन-कौन रहेंगे लाइव मुजफ्फरपुर नाउ पर

BIHAR3 hours ago

CoronaVirus: बिहार सरकार का बड़ा फैसला, 31 मार्च तक सभी बस सेवाएं, होटल-रेस्टोरेंट किए गए बंद

MUZAFFARPUR6 hours ago

बैंक लूट के पैसे के बटवारे के विवाद को लेकर हुई शिवम कि निर्मम हत्या

INDIA9 hours ago

Coronavirus को लेकर सरकार अब और सख्त, नियम तोड़ने पर 6 महीने की जेल और जुर्माने की सजा

BIHAR9 hours ago

कनिका कपूर के खिलाफ मुजफ्फरपुर के कोर्ट में याचिका दर्ज, 31 मार्च को सुनवाई

MUZAFFARPUR11 hours ago

मुजफ्फरपुर में अपराधी बेलगाम ; हत्या के बाद बर्बरता पूर्वक निकाला आंत

BIHAR13 hours ago

पीएम नरेंद्र मोदी ने किया बिहार की जनता को नमन, कहा- अभी से कर ली ‘जनता कर्फ्यू’ की तैयारी

BIHAR14 hours ago

भक्त और भगवान के बीच अब ऑनलाइन कनेक्शन

BIHAR14 hours ago

बिहार में दस पैसे प्रति यूनिट सस्ती हुई बिजली, मीटर रेंट भी खत्म

BIHAR22 hours ago

आज शयन आरती के बाद बंद हो जाएगा बाबा गरीबनाथ धाम का पट

BIHAR4 weeks ago

बिहार में 6 लोगों का म’र्डर, 24 घंटे के अंदर अ’पराधियों ने 12 लोगों को मा’री गो’ली

cheating-on-first-day-of-haryana-board-exam
INDIA2 weeks ago

बिहार तो बेवजह बदनाम है… हरियाणा बोर्ड परीक्षा में शिखर पर नकल

BIHAR5 days ago

जूली को लाने सात समंदर पार पहुंचे लवगुरु मटुकनाथ, बोले- जल्द ही होंगे साथ

INDIA4 weeks ago

दं’गा’ईयों को दे’खते ही गो’ली मा’रने के आ’देश, ला’उडस्प’कर से पु’लिस कर रही ऐ’लान

MUZAFFARPUR4 weeks ago

बदहाली के दिनों में मुजफ्फरपुर रहते थे, महान फ़िल्म निर्माता और अभिनेता – राज कपूर

INDIA4 weeks ago

दिल्ली हिं’सा के दौरान फाय’रिंग करने वाले उप’द्रवी शा’हरुख को पु’लिस ने किया गिर’फ्तार

BIHAR4 weeks ago

आम्रपाली दुबे को होली में लग रहा है देवर से डर, र‍िलीज होते ही छाया गाना

BIHAR4 weeks ago

पहले दिन से हीं दरभंगा में एम्स और एयरपोर्ट की स्थापना मेरी ज़िद : सीएम नितीश कुमार

BIHAR2 weeks ago

बड़ी खुशखबरी: बिहार में घरेलू गैस की अब नहीं होगी किल्लत, बांका में नया प्लांट शुरू

BIHAR4 days ago

बिहार में 81 एक्सप्रेस और 32 पैसेंजर ट्रेनें दो सप्ताह के लिए रद्द, देखें लिस्ट

Trending