Connect with us

BIHAR

असम के कामख्‍या धाम से पहुंचकर थावे आई थीं मां दुर्गा, यहां आने वाली की हर मनोकामना होती है पूर्ण

Published

on

बिहार में नए साल की खुशियां मनाने के लिए लोग पर्यटन स्‍थलों के अलावा मंदिरों में जाना अधिक पसंद करता है। राज्‍य के कुछ प्रमुख मंदिरों में पहली जनवरी को श्रद्धालुओं का उत्‍साह देखते ही बनता है। ऐसे देवस्‍थलों में गोपालगंज का थावे मंदिर खास अहमियत रखता है। यहां बिहार ही नहीं, उत्‍तर प्रदेश के कई जिलों से भी लोग दर्शन-पूजन के लिए पहुंचते हैं। थावे में मां दुर्गा का मंदिर है, जहां नवरात्र में खूब भीड़ उमड़ती है। इसके साथ पहली जनवरी के मौके पर भी यहां श्रद्धालुओं का आगमन अधिक होता है। मान्यता है कि यहां आने वाले श्रद्धालुओं की मां सभी मनोकामनाएं पूरा करती हैं।

Thawe Mata Mandir

सिंहासिनी भवानी, थावे भवानी और रहषु भवानी है मां का नाम

Advertisement

गोपालगंज जिला मुख्यालय से करीब छह किलोमीटर दूर सिवान जाने वाले मार्ग पर थावे नाम का एक स्थान है, जहां दुर्गामंदिर थावे वाली का एक प्राचीन मंदिर है। मां थावे वाली को सिंहासिनी भवानी, थावे भवानी और रहषु भवानी के नाम से भक्त पुकारते हैं। ऐसे सालों भर मां के भक्त आते हैं, परंतु शारदीय नवरात्र और चैत्र नवरात्र के समय यहां श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगती है।

Durga Mata Temple, Thawe, Gopalganj, Bihar – Gyani Mudra

असम के प्रसिद्ध शक्तिपीठ कामख्‍या धाम से जोड़ा जाता है नाता

Advertisement

मान्यता है कि यहां मां अपने भक्त रहषु के बुलावे पर असम के कामख्या स्थान से चलकर यहां पहुची थीं। कहा जाता है कि मां कामाख्या से चलकर कोलकाता (काली के रूप में दक्षिणेश्वर में प्रतिष्ठित), पटना में पटन देवी के नाम से जानी गई, आमी (छपरा जिला में मां दुर्गा का एक प्रसिद्ध स्थान), घोड़ाघाट होते हुए थावे पहुची थीं और रहषु के मस्तक को विभाजित करते हुए साक्षात दर्शन दी थीं। इस मंदिर के पीछे एक प्राचीन कहानी है।

रहषु से मिलने बाघ पर सवार होकर आती थीं मां दुर्गा

Advertisement

जनश्रुतियों के मुताबिक चेरो बंश के मनन सिंह थावे में राजा थे। वे अपने आपको मां दुर्गा का सबसे बड़ा भक्त मानते थे। उनके शासनकाल में राज्य में अकाल पड़ गया और लोग खाने को तरसने लगे। तब थावे में मां कामख्या देवी का एक सच्चा भक्त रहषु रहता था। कथा के अनुसार रहषु मां की कृपा से दिन में कतरा (घास) काटता था। लोक कथाओं में कहा जाता है कि रात में देवी मां सात बाघों पर सवार होकर आती थीं। बाघ ही रहषु के धान की दंवरी करते थे, जिससे मक्सरा धान का चावल निकलता था। अगले दिन सारा चावल इकट्ठा करके जनता जनार्दन में बांट दिया जाता था। इस बात की जानकारी राजा को मिली, परंतु राजा को विश्वास नहीं हुआ।

Thawe temple of Bihar gopalganj Maa Durga. – ashish1998blog

कोलकाता, पटना और आमी होते हुए थावे पहुंची थीं मां

Advertisement

राजा ने महामंत्री और सेना को आदेश दिया कि रहषु को बंदी बनाकर दरवार में हाजिर किया जाए। रहषु को दरबार में पेश किया गया। राजा ने रहषु को ढोंगी बताते हुए मां को बुलाने को कहा। राजा जिद्दी थे। रहषु ने कई बार राजा से प्रार्थना की अगर देवी मां यहां आएंगी तो राज्य बर्बाद हो जायेगा, परंतु राजा नहीं माने। रहषु की प्रार्थना पर मां कोलकाता, पटना, आमी और घोड़ा घाट होते हुए यहां पहुंची। राजा के सभी भवन गिर गए। देवी मां ने रहषु भक्त का मस्तक फाड़ कर अपने दाहिने हाथ का कंगन दिखा दिया। इसी के साथ राजा-रानी समेत पूरा परिवार खत्म हो गया।

देवी मंदिर से कुछ ही दूरी पर है रहषु भगत का मंदिर

Advertisement

मां ने जहां दर्शन दिया, वहां एक भव्य मंदिर है तथा कुछ ही दूरी पर रहषु भगत का भी मंदिर है। मान्यता है कि जो लोग मां के दर्शन के लिए आते हैं, वे रहषु भगत के मंदिर भी जरूर जाते हैं। मंदिर के आसपास के लोगों के अनुसार यहां के लोग किसी भी शुभ कार्य के पूर्व और उसके पूर्ण हो जाने के बाद यहां आना नहीं भूलते। यहां मां के भक्त प्रसाद के रूप में नारियल, पेड़ा और चुनरी चढ़ाते हैं।

तीन तरफ से जंगलों से घिरा हुआ था मंदिर

Advertisement

मंदिर का गर्भ गृह बहुत पुराना है। तीन तरफ से जंगलों से घिरे इस मंदिर के गर्भ गृह में कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है। नवरात्र की सप्तमी को मां दुर्गा की विशेष पूजा की जाती है। इस दिन भक्त मंदिर में काफी संख्या में पहुंचते हैं। इस मंदिर की दूरी गोपालगंज से छह किलोमीटर है। राष्‍ट्रीय राजमार्ग 85 के किनारे स्थित मंदिर सिवान जिला मुख्यालय से 28 किलोमीटर दूर है। सिवान थावे से कई सवारी गाड़ियां आती है, जबकि थावे जंकशन से एक किलोमीटर की दूरी पर मंदिर है। थावे जंकशन से मंदिर जाने के लिए ई-रिक्शा मौजूद रहता है। यहां तक कि थावे बस स्टैंड से मंदिर जाने के लिए सवारी हमेशा मौजूद रहती है।

सोमवार और शुक्रवार को अधिक होती है भीड़

Advertisement

वर्तमान में खरमास चढ़ने के कारण दुर्गामंदिर में श्रद्धालुओं का आना कम हो गया है, लेकिन सोमवार और शुक्रवार के दिन खरमास में श्रद्धालु पूजा करने के लिए पहुंच रहे हैं। ऐसे तो कुछ न कुछ तो श्रद्धालु पूजा करने के लिए प्रतिदिन आ रहे हैं। खरमास के चलते यहां सगाई और विवाह का कार्यक्रम बंद है। मंदिर परिसर में हमेशा ही मांगलिक कार्यक्रम होते रहते हैं। मंदिर परिसर के इर्द-गिर्द मांगलिक कार्यक्रम करने के लिए गेस्ट हाउस भी बने हुए हैं।

Source : Dainik Jagran

Advertisement

telegram-muzaffarpur-now

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

MUZAFFARPUR

दुनिया की ताकतवर महिलाओं में शामिल हुई मुजफ्फरपुर की बेटी रेणु पासवान

Published

on

कभी मैट्रिक के बाद तय अपनी शादी के खिलाफ आवाज उठाने वाली मुजफ्फरपुर की बेटी आज दुनिया की हजारों महिलाओं की आवाज बन चुकी हैं। बाल विवाह के खिलाफ घर छोड़ने वाली रेणु पासवान 135 देशों की 100 ताकतवर महिलाओं में शुमार हो गयी हैं। इन्हें मई के पहले सप्ताह में जी-100 समूह का स्टेट चेयरपर्सन बनाया गया है। रेणु बिहार से पहली महिला हैं, जिन्हें इसमें शामिल किया गया है।

nps-builders

मिठनपुरा निवासी नागेंद्र पासवान की बेटी रेणु शुरू से जिद की पक्की थी। घर-समाज के लोग कहते कि मैट्रिक कर लिया, अब शादी नहीं तो और क्या करोगी। मगर रेणु अपने समुदाय की अन्य लड़कियों की तरह जिंदगी नहीं जीना चाहती थी। उसे बदलना और बदलाव लाना था। उन्होंने बताया कि उनके दोनों भाई दिव्यांग हैं, फिर भी अपने लक्ष्य से कभी नहीं डिगी। समुदाय की सोच के खिलाफ जाने पर नाते-रिश्तदारों के ताने भी सुने, लेकिन पढ़ाई जारी रखी। बेंगलुरु से बायोटेक्नोलॉजी किया। 2008 में पुणे आई और एमबीए किया। इस दौरान लंबा संघर्ष किया। प्लेसमेंट हुआ और 10 साल जॉब किया।

Advertisement

लैंगिक समानता पर लिखी किताब ने दिलाई अंतरराष्ट्रीय पहचान

रेणु ने बताया कि 2018-19 के बीच लैंगिक समानता पर लिखी मेरी तीन किताबें आईं, जिसके बाद अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनी ही नहीं, बदली भी। इसमें मैंने अपने संघर्ष को भी उजागर किया है। बताया है कि कैसे जब दूसरे राज्यों में गई तो ट्रेन की सीट के नीचे सोना पड़ा। लोगों ने कहा कि वंचित समुदाय का टाइटल चेंज कर लो। मगर मैंने कहा ना टाइटल बदलूंगी और ना खुद को। बस पहचान बदलूंगी, ताकि हमारा समाज बदले। रेणु की इसी जिद के कारण ग्लोबल स्तर पर यूएनए की ओर से वर्ष 2020 में ‘शी द चेंज’ का टाइटल मिला। कई अंतरराष्ट्रीय अवार्ड पा चुकीं रेणु अब सूबे की ग्रामीण महिलाओं की आवाज बनेंगी।

Advertisement

जेंडर एडवोकेटर के तौर पर महिलाओं के लिए काम

रेणु ने बताया कि जी-100 से अलग-अलग सशक्त महिलाएं जुड़ी हैं। इंटरप्रेन्योर से लेकर इन्वेर्स्टस तक। इसका फायदा हर तबके की महिलाओं तक पहुंचाना है। ऐसी महिलाएं, जो अपने काम में कमबैक करना चाहती हैं या जो पीड़ित हैं या जिन्हें रास्ता नहीं मिल रहा। जी 100 समूह से पद्मश्री कल्पना सरोज, नूरिया मारीन, लिसा समेत कई राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय हस्तियां जुड़ी हैं। रेणु ने बताया कि जेंडर एडवोकेटर के तौर पर काम कर रही हूं। लैंगिक असमानता की शिकार महिलाओं को अलग-अलग बिजनेस से जुड़ी महिलाओं का सहयोग मिलेगा।

Advertisement

क्या है जी-100

जी 100 एक इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म है, जो महिलाओं के सशक्तीकरण पर काम करता है। इसमें अलग-अलग क्षेत्र से जुड़ीं 135 देशों की महिला लीडर हैं, जो अलग-अलग देशों की महिलाओं के लिए मिलकर काम करती हैं। इससे आज एक मिलियन से अधिक महिलाएं जुड़ी हुई हैं।

Advertisement

Source: Live Hindustan Anamika

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Continue Reading

MUZAFFARPUR

कांटी बिजली घर से अब नहीं मिलेगी मुफ्त फ्लाई ऐश, नीलामी होगी

Published

on

 कांटी बिजली घर (केबीयूएनएल) अपनी आय बढ़ाने के लिए फ्लाई ऐश की नीलामी करेगा। अब फ्लाई ऐश के मुफ्त वितरण पर रोक लगा दी गई है। पहली बार 14 जून को ऑनलाइन नीलामी की जाएगी। इसमें शामिल होने के लिए कांटी बिजली घर के फ्लाई ऐश ब्रांच के एजीएम दीपक नाथ ने उत्तर बिहार के फ्लाई ऐश ईंट फैक्ट्री के संचालकों व ठेकेदारों को पत्र लिखा है। केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय, एनटीपीसी व एनजीटी के दिशा-निर्देश पर कांटी बिजली घर पहली बार फ्लाई ऐश की नीलामी करने जा रहा है। इससे प्राप्त होनेवाली आय को फ्लाई ऐश के प्रबंधन में खर्च किया जाएगा। नीलामी के जरिये 25 हजार मीट्रिक टन ड्राई फ्लाई ऐश ठेकेदारों व उद्यमियों को बेची जाएगी। पूर्व से ईंट फैक्ट्री संचालकों को प्रतिमाह 350 मीट्रिक टन फ्लाई ऐश नि:शुल्क दी जाती थी, लेकिन अब रोक लगा दी गई है। इसपर फ्लाई ऐश ईंट फैक्ट्री के संचालकों ने आपत्ति जताई है। उन्होंने बताया कि एनजीटी के निर्देश पर कांटी बिजली घर की ओर से फ्लाई ऐश नि: शुल्क मिलती रही है। अब नीलामी प्रक्रिया में शामिल होने के लिए पैसा खर्च करना पड़ेगा।

nps-builders

19 ठेकेदार व ईंट फैक्ट्री संचालक होंगे शामिल

Advertisement

सरकारी उपक्रमों को छोड़कर उत्तर बिहार के 19 ठेकेदार व ईंट फैक्ट्री संचालक नीलामी प्रक्रिया में शामिल होंगे। ये सभी केबीयूएनएल से पंजीकृत हैं। इसमें से कई वेंडर का काम करते हैं। ये केबीयूएनएल से प्राप्त फ्लाई ऐश दूसरे को आपूर्ति करते हैं। पर्यावरण संरक्षण के लिए एनजीटी की ओर से फ्लाई ऐश के तत्वरित निष्पादन के निर्देशों के बाद केबीयूएनएल ने नीलामी प्रक्रिया शुरू की है।

एनटीपीसी के निर्देश पर फ्लाई ऐश की नीलामी की जा रही है। इससे प्राप्त आय को फ्लाई ऐश के बेहतर प्रबंधन पर खर्च किया जाएगा। -अतुल पाराशर, पीआरओ, केबीयूएनएल

Advertisement

Source : Hindustan

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Advertisement
Continue Reading

BIHAR

पटना पहुंचे लालू यादव की गाड़ी समर्थकों की भीड़ में फंसी, तेज प्रताप को जोड़ना पड़ा हाथ

Published

on

राष्‍ट्रीय जनता दल अध्यक्ष बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव बुधवार देर शाम दिल्‍ली से पटना पहुंच गए। लालू के साथ बेटी मीसा भारती भी पहुंचीं। लालू की अगवानी के लिए पटना हवाई अड्डे पर पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों का हुजूम उमड़ा रहा। कार्यकर्ताओं की भीड़ को देखते हुए मीसा भारती अलग गाड़ी से मां राबड़ी देवी के आवास पहुंचीं।

nps-builders

लालू प्रसाद यादव बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के साथ अलग गाड़ी से 10 सर्कुलर रोड पहुंचे। पत्रकारों ने इस दौरान लालू के सामने कई सवाल उछाले लेकिन उन्होंने किसी का जवाब नहीं दिया। लालू ऐसे समय पहुंचे हैं जब राज्यसभा के लिए प्रत्याशियों का चयन होना है और जातीय जनगणना को लेकर सियासत गरमाई हुई है।

Advertisement

लालू प्रसाद यादव के पटना आगमन की खबरें पहले ही पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को मिल गई थी। ऐसे में पटना हवाई अड्डे पर पार्टी नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों का हुजूम उमड़ आया था। भीड़ का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मौके पर तैनात पुलिसबल को उन्‍हें संभालने में मशक्कत करनी पड़ी। यहां तक की लालू की गाड़ी निकालने पर परेशानी होने लगी। तेज प्रताप यादव को हाथ जोड़कर पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों से रास्‍ता देने की अपील करते हुए देखा गया। हर कोई लालू यादव की एक झलक पाना चाहता था।

मीसा भारती बोलीं, आज नहीं तो कल हमारी सरकार बनेगी

Advertisement

लालू भले ही कुछ नहीं बोले लेकिन मीसा ने बड़ा बयान दिया है। मीसा ने कहा कि बिहार में आज नहीं तो कल हमारी सरकार बनेगी। राज्‍यसभा की उम्‍मीदवारी और नामांकन को लेकर पूछे गए सवाल पर मीसा ने कहा कि जब वह पर्चा दाखिल करेंगी तो इस बारे में जानकारी देंगी। जातिगत जनगणना पर मीसा भारती ने कहा कि वह पिता संग अभी पटना आई हैं। इस पर बहुत जल्‍द जानकारी दी जाएगी।

Source : Live Hindustan

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

Continue Reading
MUZAFFARPUR1 hour ago

दुनिया की ताकतवर महिलाओं में शामिल हुई मुजफ्फरपुर की बेटी रेणु पासवान

MUZAFFARPUR1 hour ago

कांटी बिजली घर से अब नहीं मिलेगी मुफ्त फ्लाई ऐश, नीलामी होगी

BIHAR2 hours ago

पटना पहुंचे लालू यादव की गाड़ी समर्थकों की भीड़ में फंसी, तेज प्रताप को जोड़ना पड़ा हाथ

VIRAL9 hours ago

अमेजन पर 26 हज़ार रुपये में बिकी प्लास्टिक की बाल्टी, लोग बोले- किडनी बेचकर खरीदें क्या

BIHAR9 hours ago

इंजीनियरिंग कॉलेजों में शिक्षक-कर्मियों की नियुक्ति जल्द : सीएम नीतीश

MUZAFFARPUR9 hours ago

आचार संहिता उल्लंघन के दो अलग-अलग मामलों में सांसद अजय निषाद पर आरोप गठित

BIHAR9 hours ago

बिहार विधान परिषद की 7 सीटों के लिए 20 जून को होगी वोटिंग, नामांकन 2 जून से

SPORTS9 hours ago

लखनऊ IPL से बाहर, रोमांचक मैच में बेंगलुरु ने हराया, क्वालिफायर में राजस्थान से भिड़ेगी RCB

INDIA11 hours ago

सिम कार्ड खरीदना अब नहीं होगा आसान, सरकार ने जारी किए नए नियम

MUZAFFARPUR12 hours ago

सरकारी योजनाओं की हकीकत देखने आज प्रखंड से पंचायत तक पहुंचे डीएम सहित सभी अधिकारी

BIHAR3 weeks ago

बिहार में अनोखी शादी: 36 इंच का दूल्हा, 34 इंच की दुल्हन…इस शादी में बिन बुलाए पहुंच गए हजारों लोग

BIHAR3 weeks ago

बिहार : शादी के 42 साल बाद अपनी दुल्हन लेने पहुंचा दूल्हा, 8 बेटी-बेटे भी बने ‘बाराती’

VIRAL2 weeks ago

तस्वीर ने आंखों को किया नम, इस मां को हर कोई कर रहा है सलाम

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर के तीन प्रखंडों से होकर गुजरेगा रिंग रोड

BIHAR1 week ago

पटना एनआईटी पासआउट गौरव आनंद निकला बीपीएससी पेपर लीक का मास्टरमाइंड, पटना में बना रखा था कंट्रोल रूम

BIHAR3 weeks ago

बिहार : ड्राइवर की नौकरी करने वाला शख्‍स रातोंरात बना करोड़पति, Dream-11 में ₹59 लगाकर जीते ₹2 करोड़

BIHAR3 weeks ago

समस्तीपुर : पापा रोज मेरे साथ करते हैं गंदी हरकतें, मां से कहती तो मुझे ही दोषी बताती… बेटी ने बताई टीचर पिता की दरिंदगी

MUZAFFARPUR4 weeks ago

मुजफ्फरपुर डीएम स्कूल पहुँच बने शिक्षक, बच्चियों का फर्राटेदार जवाब सुन बोले- बच्चियां किसी से कम नहीं

BIHAR4 weeks ago

भोजपुरी सुपरस्टार पवन सिंह लेने जा रहे तलाक, पत्नी का आरोप- कराया दो बार अबॉर्शन, किया प्रताड़‍ित

BIHAR7 days ago

बिहार के स्कूलों में गर्मी की छुट्टी घोषित, 23 दिनों तक बंद रहेंगे सभी प्राइवेट व सरकारी स्कूल

Trending