Connect with us

MUZAFFARPUR

पल में उजड़ गया परिवार : गायघाट में दो बच्चों की हत्या कर पिता ने की आत्महत्या

Published

on

बेनीबाद के बलहा में दो बच्चों की हत्या व पिता की खुदकुशी की घटना का सुसाइड नोट व वीडियो वायरल हो रहा है। मरने से पहले दीपक राय ने घटना के लिए पत्नी व ससुराल पक्ष के लोगों को जिम्मेवार बताया है। तात्कालिक कारण दीपक के ससुराल में सोमवार को स्थानीय पुलिस की मौजूदगी में हुई पंचायत को बताया जा रहा है जिसमें फरमान सुनाया गया था कि बच्चों की कस्टडी मायके में रह रही पत्नी को दी जाएगी। मंगलवार को पुलिस के साथ ससुराल वाले बच्चों को लेने आने वाले थे। इस फैसले से आहत दीपक ने अपने बच्चों के साथ खुद को खत्म कर लिया।

बताया गया कि ससुराल से लौटने के बाद दीपक रात में अपने बच्चों को लेकर कमरे में बंद हो गया। घर के दूसरे कमरों में उसकी मां व भाभी सो रही थी। रात में बच्चों की हत्या के बाद उसने फांसी लगाली। घटना को लेकर परिवार के लोग ससुराल में हुई पंचायत में दीपक को जलील करने व उससे जबरन बांड बनवाकर बच्चों को छीनने की कोशिश के कारण घटना होने का आरोप लगाया है। उसकी मां व दूसरे रिश्तेदारों ने पुलिस को मौखिल बयान दिया है। इसमें कई आरोप लगाए गए हैं।

Advertisement

इधर, कमतौल थानाध्यक्ष सरवर आलम ने बताया कि पारिवारिक विवाद की सूचना मिलने पर हरिहरपुर गांव में दारोगा मंजीत सिंह को भेजा गया था। उन्होंने दोनों परिवारों के लोगों को समझा-बुझाकर मामला सुलझा लेने की बात कही थी। बांड बनवाने की जानकारी उनको नहीं है।

वीडियो वायरल

Advertisement

तनाव बढ़ने से मनुष्य अवसाद में जा रहा

Advertisement

आज समाज व परिवार का नियंत्रण लोगों पर नहीं है। आदमी तनाव में है, लेकिन तनाव को वह बता नहीं पा रहा है। परिवार भी लोगों को सपोर्ट नहीं कर रहा है। इससे भी तनाव बढ़ रहा है। तनाव बढ़ने से मनुष्य अवसाद में जा रहा है। लोगों की आकांक्षाएं भी बढ़ गई हैं। संतोष कम हुआ है। परिवार की जो भूमिका होनी चाहिए थी, वह अब नहीं है। लोग मोबाइल में ही व्यस्त रहते हैं। -प्रो. रंजना सिन्हा, अध्यक्ष, समाज शास्त्रत्त् विभाग, बिहार विवि

समाज व परिवार को नहीं मिल रहा सहारा

Advertisement

परिवार का सपोर्ट खत्म हो गया है। संयुक्त परिवार टूटने से तनाव को खत्म करने के उपाय अब नहीं हैं। इसलिए लोग अवसाद में जा रहे हैं। समाज का सपोर्ट भी व्यक्ति को नहीं मिल रहा है। इसलिए मानसिक अवसाद बढ़ रहे हैं। एकल परिवार में मानसिक दवाब को खत्म करने का कोई उपाय नहीं है। लोग तनाव होने पर निराश हो रहे हैं। अति निराशा होने पर ही कोई मौत को गले लगाता है। पारिवारिक संरचना भी खत्म हो रही है। -डॉ. संजय कुमार, मनोचिकित्सक

सुसाइड नोट

Advertisement

क्योंकि मरा आदमी दलील नहीं देता…

सुसाइड नोट में दीपक ने लिखा है कि ‘हमको इस समय जितना समक्ष आया लिख दिए हैं, क्योंकि मरा हुआ आदमी दलील नहीं देता। उसने आठ पन्नों का सुसाइड नोट लिखा है। इसमें ससुराल वालों को मौत के लिए जिम्मेवार बताया है। पत्नी को मानसिक रूप से बीमार भी बताया है। ससुर, सास, पत्नी की बहन, उसकी बेटी, चाचा, प्रेमी को सजा दिलाने की मांग की है।

Advertisement

पीजी पास, कुछ दिनों से था बेरोजगार

बताया गया है कि दीपक राय मिथिला विश्वविद्यालय से पीजी किया था। पूर्व में एक निजी कंपनी में काम भी किया था। लेकिन इधर कुछ महीनों से घर पर बेरोजगार बैठा हुआ था। पत्नी के मायके चले जाने के बाद दोनों बच्चे पिता के साथ ही रह रहे थे। घटना की सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने तीनों शव का पोस्टमार्टम करवा कर परिजनो को सौंप दिया।

Advertisement

JAWA-MUZAFFARPUR BIHAR

अंतिम वीडियो में मां व भाई से मांगी माफी

सुसाइड से पहले दीपक ने वीडियो बनाया। इसमें उसने मां व भाई से माफी मांगी। इसके अलावा सुसाइड नोट में उसने राशन वाले, सब्जी वाले अन्य ग्रामीणों के बकाया का जिक्र किया है व बड़े भाई से सभी को चुकता कर देने की गुहार लगायी है। दो तीन वीडियो भी बनाया है जिसमे वह मां व बड़े भाई को कोई सुख नहीं देने पर अफसोश व माफ कर देने की बात कह रहा है।

Advertisement

घबराएं नहीं बल्कि इन उपायों पर दें ध्यान

● किसी भी तरह की समस्या आए तो उसे साझा करें।

Advertisement

● परिवार में आपस में बात करने से कई समस्या का समाधान हो जाता है।

● आर्थिक रूप से कमजोर हैं तो कई रोजगार है, जिसे आप कर सकते हैं। कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता।

Advertisement

● अपने दिल और दिमाग पर डिप्रेशन को हावी नहीं होने दें।

● डिप्रेशन हो तो मनोचिकित्सक से जरूर मिलें।

Advertisement

● परिवार या रिश्तेदार से मिलते-जुलते रहें।

● रिश्तेदार में जिसके नजदीक हो, उससे अपनी बातें साझा करें।

Advertisement

धैर्य और हिम्मत की कमी से जिंदगी हार रहे लोग

पटना। हर समस्या का समाधान है, लेकिन कई लोग समस्या का समाधान करने की अपेक्षा समस्या को बड़ा बना लेते हैं। उन्हें लगता है कि इस समस्या का कोई समाधान नहीं है। इसका असर उनके दिल और दिमाग दोनों पर होने लगता है। इससे उनके अंदर ही अंदर धैर्य और हिम्मत की कमी होने लगती है। इस बीच परिवारिक सहयोग नहीं मिलने से सामूहिक आत्महत्या जैसी घटना को अंजाम दिया जाता है। क्लीनिकल मनोवैज्ञानिक समिधा तिवारी ने बताया कि लोगों में अब धैर्य और हिम्मत की कमी होती जा रही है।

Advertisement

सुसाइड नोट में लिखा उलझे रिंश्तों का किस्सा

बेनीबाद के बलहा की घटना के बाद मिले सुसाइड नोट रिश्तों की दरकती कड़ियां बयां कर रही हैं। इसमें कौन दोषी है और कौन निर्दोष यह बताना मुश्किल हो रहा है। इस प्रकार की उलझने क्यों पैदा की गई। किस हालता में यह परिस्थितियां बनी। पुलिस भी सुसाइड नोट में लिखे रिश्तों की कड़ियों को जोड़ने में जुट गयी है। एक ओर दीपक और बबिता के रिश्तों को जोड़ने के लिए दो-दो बार बॉन्ड भी बने। लेकिन, इससे दोनों के उलझन भरी रिश्तों को बचा नहीं सकी। जिंदगी से जाते-जाते दीपक बड़े भाई से आग्रह भी कर गया कि वह बबिता और अन्य को सजा जरूर दिलवाये। वहीं, बड़े भाई और अपनी मां के लिए कुछ नहीं कर सका।

Advertisement

Source : Hindustan

(मुजफ्फरपुर नाउ के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Advertisement

krishna-motors-muzaffarpur

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

MUZAFFARPUR

सकरा में तीन दिवसीय प्राण-प्रतिष्ठा महायज्ञ शुरू

Published

on

सकरा प्रखंड के जगदीशपुर बघनगरी पंचायत के सरैया गांव में सोमवार को काली मंदिर प्राण पतिष्ठा महायज्ञ कलश यात्रा के साथ शुरू हो गया। इस अवसर पर हाथी,घोड़े व गाजे-बाजे के साथ 551 कन्याओं के साथ हजारों की संख्या में महिला व पुरुष श्रद्धालू शामिल हुये। यज्ञ स्थल से निकली कलश यात्रा भरथीपुर, लकठा होते हुये संतोष भारती मंदिर पहुँची। वैदिक मंत्रोच्चार से आचार्य पंडित मनोज झा ने विधिवत पूजा पाठ कराया।

मुख्य अजीमान सतेन्द्र प्रसाद सिंह व शंकर प्रसाद सिंह ने बताया की 7 जुलाई तक प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम है। उन्होंने बताया कि 5 जुलाई को संध्या 8:00 बजे से मुजफ्फरपुर से आए महाकाल जागरण टीम के द्वारा जागरण का आयोजन किया किया गया है। वही यज्ञ के दूसरे दिन भी मधुवनी से आये रूद्र जागरण का आयोजन किया गया है। उन्होने बताया की यज्ञ के अंतिम दिन शांतिकुंज हरिद्वार से आए लोगो के द्वारा संगीतमय प्रवचन एवं दीप महायज्ञ के साथ यज्ञ का समापन समारोह किया जायेगा।

Advertisement

योगनारायण सिंह, राकेश, सिंह ललन सिंह, अमरेश सिंह उर्फ रमन जी, विनोद सिंह, जय प्रकाश सिंह, सतेन्द्र सिंह, प्रभाकर कुमार सिंह,शशि रंजन सिंह कीर्ति, रुपेश कुमार, राजन कुमार, सुनील कुमार सिलवर्धन सिंह, चिरंजीवि कुमार, नितिन कुमार, हर्ष वर्धन आदि कार्यकर्ता सक्रिय है।

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर शहर पांच फीडर के 30 मोहल्ले में चार घंटे तक बंद रहेगी बिजली

Published

on

शहर के चार फीडरों में सोमवार को एक से चार घंटे तक बिजली कटौती होगी। श्रावणी मेला के लिए 11 केवी लाइन शिफ्टिंग व मेनटेनेंस के लिए शटडाउन लिया गया है। मिली जानकारी के अनुसार 11 केवी केंद्रीय विद्यालय फीडर में सुबह नौ से 10 बजे तक बिजली नहीं रहेगी। इससे मिश्रा टोला, रीडर क्वार्टर, लॉ कॉलेज, सुधा डेयरी में बिजली नहीं रहेगी।

11 केवी आम गोला फीडर में सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक बिजली नहीं रहेगी। इससे आम गोला, पड़ाव पोखर, मुक्तिनाथ मंदिर, अघोरिया बाजार, जेनिथ पंप, ब्रज बिहारी गली में बिजली नहीं रहेगी। 11 केवी ओरिएंट क्लब फीडर में सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक बिजली नहीं रहेगी। इसके कारण बीके राय गली, रंग बिरंग, गंडक कॉलोनी, प्रोफेसर कॉलोनी, कलमबाग रोड, रिलायंस पेट्रोल पंप में बिजली कटी रहेगी।

Advertisement

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

11 केवी नीम चौक फीडर में सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक बिजली बंद रहेगी। इससे नीम चौक, जकारिया कॉलोनी, न्यू मस्जिद, सादपुरा, किला, शंकरपुरी, पड़ाव पोखर में बिजली बंद रहेगी। 11 केवी जिला स्कूल फीडर में सुबह सात से 10 बजे तक बिजली नहीं रहेगी। आरसीडी द्वारा 11 केवी तार शिफ्ट करने के लिए शटडाउन लिया गया है जिससे खादी भंडार इलाके में बिजली संकट रहेगी। इधर, 33 केवी मिस्कॉट फीडर में सुबह सात से नौ बजे तक बिजली नहीं रहेगी। इससे मिस्कॉट पीएसएस के संबंधित सभी एरिया बंद रहेगा।

Source: Hindustan

Advertisement

nps-builders

Genius-Classes

Continue Reading

MUZAFFARPUR

आपके प्रिय कालेज ने पूरे किए 123 वर्ष, 72 छात्र व पांच प्राध्यापकों से मुजफ्फरपुर में शुरू हुआ था सफर

Published

on

अब न लंगट सिंह हैं और न उनकी मिट्टी की नश्वर काया…पर यह लंगट सिंह महाविद्यालय (एलएस कालेज) मजबूत स्तंभ-सा खड़ा है। यहां जबतक शिक्षक-शिक्षार्थी सत्य धर्म का, पवित्र चिंतन, मनन करते रहेंगे, अपने आचरण में उन सपनों को ढालेंगे, वातावरण में बाबू लंगट सिंह का जीवन संगीत गूंजता ही रहेगा। ये पंक्तियां बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के अवकाश प्राप्त रीडर डा. सुरेंद्रनाथ दीक्षित ने अपनी पुस्तक बिहार रत्न बाबू लंगट सिंह और कालेज की विकास यात्रा में लिखी हैं। उन्होंने पुस्तक में बताया है कि कालेज की स्थापना तीन जुलाई 1899 में होने के प्रथम दो वर्षों में 72 विद्यार्थी और पांच प्राध्यापक ही थे। स्थापना काल के चार-पांच वर्ष बाद यहां विद्यार्थियों की संख्या बढ़कर 150 हो चली थी। वर्तमान में यह वटवृक्ष हो चुका है। अभी करीब 10 हजार विद्यार्थी और एक सौ प्राध्यापक इस कालेज में हैं।

May be an image of 4 people and text that says "CONIA OLASSIO Inan ICONIC SUSHIL Kuлma CLASSES BEWTHTHE BEST TO BE THE BEST XI & XII JEE (MAIN+ADV.)/ MEDICAL TARGETING IIT-JEE/NEET 2023? START YOUR PREPARATION WITH MOST DEDICATED FACULTY TEAM OF PATNA Mentor Bh -16,150,262i (Adv.) MATHEMATICS CHEMISTRY PHYSICS BIOLOGY Dilip kumar IITian Sushil Kumar IITian Saurav Kumar Pratik Ratna (Ex-Faculty-A (B.Teh M.Tech Madras) (B.Tech, Dhanbad) CUCET Experience years Experience years Experience years ADMISSION OPEN Batch Starting From 5" JULY 2022 Call: 7903993958 8651259660 3"d Floor, Above Apple Store, Ashoka Tower, Near Lalita Hotel, East Boring Canal Road, Patna 01"

umanag-utsav-banquet-hall-in-muzaffarpur-bihar

शुरू में सिर्फ इंटर कला स्तर की पढ़ाई वाले इस कालेज में अब कला, वाणिज्य और विज्ञान संकाय के साथ ही दर्जनभर वोकेशनल कोर्स भी संचालित हो रहे हैं। नैक से ग्रेड ए प्राप्त करने वाला यह बीआरए बिहार विश्वविद्यालय का इकलौता कालेज भी है। प्राचार्य डा.ओमप्रकाश राय बताते हैं कि कालेज अपनी पुरानी विरासत को प्राप्त करने के लिए प्रयास कर रहा है। यहां के छात्र-शिक्षक देशभर में परचम लहरा रहे हैं।

Advertisement

nps-builders

आजादी के आंदोलन में राजनीति का मुख्य गढ़ रहा

आजादी के आंदोलन में एलएस कालेज राजनीति का मुख्य गढ़ हुआ करता था। 1942 में अगस्त क्रांति से ठीक एक महीने पूर्व यहां आइईएस डा.हरिचांद प्राचार्य बनकर आए थे। उस समय कालेज में अनेक छात्र-छात्राआं ने देशभक्ति के उदात्त भवों से प्रेरित होकर अगस्त क्रांति की उफनती ज्वालाओं में खुद को झोंक दिया था। इसी आंदोलन से निकलने के बाद वे प्रदेश और देश के नेता भी बने। तिरहुत प्रक्षेत्र के श्याम नंदन मिश्र, रामसागर शाही, रामदेव वर्मा, ललितेश्वर प्रसाद शाही, त्रिवेणी प्रसाद ङ्क्षसह व भुवनेश्वर चौधरी के नाम उल्लेखनीय हैं। देश की आजादी से लेकर पुनर्निर्माण तक में इनकी भूमिका रही। 1942 में ही देशभर में शुरू हुए भारत छोड़ो आंदोलन में यहां के विद्यार्थियों ने बड़ी भूमिका निभाई थी। कालेज से आंदोलनकारियों के जुड़ाव की जानकारी मिलने के बाद ब्रिटिश सरकार ने कालेज के ड्यूक और लंगट छात्रावास को खाली करवाकर यहां गोरी फौज का अस्थायी आवास बना दिया था।

Advertisement

Source: Dainik Jagran

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading
MUZAFFARPUR17 mins ago

सकरा में तीन दिवसीय प्राण-प्रतिष्ठा महायज्ञ शुरू

BIHAR2 hours ago

पेट्रोल डीजल के दामों में फिर बढ़ोतरी, टंकी फुल कराने से पहले चेक करें रेट

BIHAR3 hours ago

बिहार में सभी राशनकार्डधारियों को आयुष्मान भारत की तर्ज पर इलाज की सुविधा मिलेगी

BIHAR3 hours ago

समर्थन मांगने आज बिहार पहुंचेंगी राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू

BIHAR3 hours ago

बिहार-बंगाल के बीच 17 मार्गों पर चलेंगी बसें

BIHAR3 hours ago

मुश्किल में फंसे लोगों तक 20 मिनट में पहुंचेगी बिहार पुलिस

BIHAR3 hours ago

अंचल अधिकारी गलत जमाबंदी कैसे कर रहे, जांच कराइए : मुख्यमंत्री

BIHAR3 hours ago

बिहार में 10 नए स्टेट हाईवे का निर्माण का रास्ता साफ

BIHAR11 hours ago

लालू यादव की तबीयत अब कैसी है, तेजस्वी ने बताया हेल्थ अपडेट

BIHAR11 hours ago

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का हाल जानने चिराग पासवान और जीतन राम मांझी पहुंचे अस्पताल

TECH2 weeks ago

अब केवल 19 रुपये में महीने भर एक्टिव रहेगा सिम

BIHAR6 days ago

विधवा बहू की ससुरालवालों ने कराई दूसरी शादी, पिता बन कर ससुर ने किया कन्यादान

INDIA15 hours ago

IAS अतहर की होने वाली वाइफ हैं इतनी स्टाइलिश, फैशन के मामले में हीरोइनों को भी देती हैं मात!

BIHAR1 week ago

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद से मदद मांगना बिहार के बीमार शिक्षक को पड़ा महंगा

BIHAR4 weeks ago

गांधी सेतु का दूसरा लेन लोगों के लिए खुला, अब फर्राटा भर सकेंगे वाहन, नहीं लगेगा लंबा जाम

MUZAFFARPUR5 days ago

मुजफ्फरपुर: पुलिस चौकी के पास सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, अड्डे से आती थी रोने की आवाज

BIHAR4 weeks ago

समस्तीपुर के आलोक कुमार चौधरी बने एसबीआई के एमडी, मुजफ्फरपुर से भी कनेक्शन

BIHAR3 weeks ago

बिहार : पिता की मृत्यु हुई तो बेटे ने श्राद्ध भोज के बजाय गांव के लिए बनवाया पुल

JOBS4 weeks ago

IBPS ने निकाली बंपर बहाली; क्लर्क, PO समेत अन्य पदों पर निकली वैकेंसी, आज से आवेदन शुरू

BIHAR2 weeks ago

बिहार का थानेदार नेपाल में गिरफ्तार; एसपी बोले- इंस्पेक्टर छुट्टी लेकर गया था

Trending