Connect with us

TRENDING

‘पाताल लोक’ की कहानी हो गई सच! दिल्ली पुलिस का कॉन्स्टेबल UPSC क्रैक कर बना ACP

Published

on

नई दिल्ली: आम तौर पर फिल्मों में दिखाई जाने वाली बातों का सच्चाई से कम ही वास्ता होता है, लेकिन कई बार फिल्मों में दिखाई गई बातें सच भी हो जाती हैं। इस बार भी कुछ ऐसा ही हुआ है, दिल्ली पुलिस से प्रभावित Amazon की वेब सीरीज में जिस तरह से एक छोटे रैंक वाला पुलिसकर्मी सिविल सेवा परीक्षा पास करके IPS बनता है, उसी तरह दिल्ली पुलिस में 11 साल पहले हेड कॉन्स्टेबल के तौर पर भर्ती होने वाले फिरोज आलम सिविल सेवा परीक्षा पास कर IPS बने और अब दिल्ली पुलिस में ही ACP के तौर पर नियुक्त हुए हैं।

दिल्ली पुलिस में DCP के पद पर तैनात IPS हरेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि फिरोज आलम दिल्ली पुलिस में ACP के तौर पर नियुक्त होने जा रहे हैं और उनका प्रशिक्षण शुरू हो चुका है। फिरोज आलम ने पिछले साल IAS का एग्जाम पास किया था और उस समय वे दिल्ली पुलिस पीसीआर यूनिट में तैनात थे। सिविल सेवा परीक्षा में उनको 645वां रैंक मिली थी।

फोरोज ने जब सिविल सेवा परीक्षा पास की थी तो उन्होंने बताया था कि वे अपने अधिकारियों की कार्यशैली को देखकर इतना प्रभावित हुए कि उनके जैसा बनने का मन बना लिया और पुलिस की नौकरी के साथ UPSC की तैयारी भी शुरू कर दी। उन्होंने बताया था कि परीक्षा के लिए उन्हें दिल्ली पुलिस में अपने साथ काम करने वाले सहकर्मियों का काफी सहयोग मिला था।

फिरोज ने करीब 10 साल पहले दिल्ली पुलिस में कॉन्स्टेबल के तौर पर भर्ती होकर पुलिस में अपना करियर शुरू किया था, उस समय उन्होंने सिर्फ 12वीं तक की पढ़ाई की थी लेकिन बाद में पुलिस में रहते उन्होंने पत्राचार माध्यम के जरिए ग्रेजुएशन तथा पोस्ट ग्रेजुएशन किया।

ग्रेजुएशन के बाद उन्होने UPSC परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी लेकिन शुरुआती 2 अटेंप्ट में उनका प्री भी क्वॉलिफाई नहीं हुआ था, लेकिन इसके बाद उन्होंने लगातार 4 बार मेन परीक्षा में भाग लिया और अंत में परीक्षा पास भी की।

Amazon की वेबसीरीज में भी मुख्य किरदार इंस्पेक्टर हाथी राम चौधरी का एक सहयोगी पुलिस कर्मी इमरान अंसारी होता है जो पुलिस की नौकरी के साथ-साथ UPSC परीक्षा की भी तैयारी करता है और अंत में IPS बनता है।

Source : India TV

TRENDING

आज हिंदी दिवस : जब अंग्रेजी वाले सवाल पर नीरज चोपड़ा के जवाब से गूंजा भाषा का गौरव

Published

on

एक मीडिया बातचीत चल रही है. सामने नीरज चोपड़ा बैठे हैं. ओलंपिक में सोना जीतने के बाद वह नई सनसनी बने हुए हैं. सवाल उनसे ही होने हैं. सिलसिला शुरू होता है. एक रिपोर्टर की आवाज आती है. I Want to Ask…. अभी ये बात पूरी भी नहीं हो पाती है कि नीरज चोपड़ा की आवाज गूंजने लगती है. भाई, भाई भाई… हिंदी (Hindi) में पूछ ल्यो… हिंदी में जवाब दे लूंगा…

ये एक बात हिंदी भाषा की आंखों में खुशी भर देती है. उसका सिर ऊंचा कर देती है और जिस दामन को लोग पुराना मानने लगे हैं उसे फिर से उजला बना देती है. मजे की बात देखिए कि इसकी चर्चा ही नहीं है कि नीरज को इंग्लिश समझ में नहीं आती या फिर इसे बोलने में वह असहज होते हैं. बस मंच से उनकी इस गुजारिश को तुरंत मान लिया जाता है और सवालों की भाषा सेकेंड से भी कम समय में बदल जाती है. इंग्लिश वाली गिटर-पिटर को छोड़कर ठहराव और संजीदगी के साथ सवाल हिंदी में हो जाते हैं.

advertise-with-muzaffarpur-now

आजादी के बाद से ही हम हिंदुस्तानियों की दिक्कत रही है कि हम दिखावे में बहुत रहे हैं. ये दिखावा हमारे रहन-सहन में तो सबसे पहले आया. एक बारगी यहां तक तो ठीक भी रहा, लेकिन इसके बाद इसका सबसे अधिक असर हमारी भाषा पर पड़ा. लॉर्ड मैकाले की बाबू बनाने वाली शिक्षा पद्धति इसके लिए जितनी जिम्मेदार है, अंग्रेजीदां जैसा दिखने का हमारा लालच भी इसके लिए उतना ही जिम्मेदार है.

कई सालों तक आलम ये रहा कि हम भाषाई दोहरेपन में फंसे रहे. हिंदी भले ही मातृभाषा बनी रही, लेकिन हमारा लालच यही रहा कि हम अंग्रेजों जैसे दिखें. उनके जैसे दिखने को मार्केट में शालीन बताकर बेचा गया. पैसे वाले लोगों ने इसे खरीदा और यहीं से मध्यम वर्ग में एक दबाव आया कि वो भी ऐसा ही करे.

दरअसल, मध्यम वर्ग का व्यक्ति समाज का वो हिस्सा है, जो अपनी जिंदगी में हर चीज थोड़ी-थोड़ी कर लेना चाहता है. कई मामलों में वो उच्च वर्ग के आसपास जैसा दिखने की कोशिश करता नजर आता है. आज भले ही लोगों ने असलियत की ओर लौटना शुरू कर दिया है, लेकिन बीसवीं सदी के आखिरी दो और 21वीं सदी का पहला दशक ऐसी ही आपाधापी का रहा. इसी आपाधापी को भीष्म साहनी ने बहुत पहले अपनी एक कहानी ‘अहम् ब्रह्मास्मि’ में सामने रखा था.

कहानी का किरदार भाटिया, खुद तो भारतीयता को लेकर नाक-मुंह बनाता है और अंग्रेजों के मुंह से सुनकर उसी बात की प्रशंसा करता है. यही स्थिति हम सभी की हो चली है. इस स्थिति में ऐसे लोग भी शामिल हैं, जो बच्चों पर अपनी अधूरी महत्वाकांक्षा थोपते हैं. वह तो नहीं कर पाए, लेकिन उनके बच्चे अंग्रेजी में टिपिर-टिपिर करें. भारतीय घरों में इसके बड़े आसान उदाहरण मिल जाएंगे.

May be an image of 1 person, standing, footwear and outdoors

लोग अपने घुटनों चल रहे बच्चों से बोलते दिखते हैं, कम हियर, बेटा, गौ माता को काऊ, वो देखो बफेलो, अरे डॉगी आ गया. ब्रेकफास्ट, लंच, डिनर, स्पून. ये सारे शब्द बचपन से ही उनकी जिंदगी का हिस्सा बन रहे हैं. इसमें कोई बुराई नहीं है, लेकिन दुखद है कि आप इसके जरिए खुद को शालीन या कथित तौर पर एडवांस बनता हुआ दिखने की झूठी कोशिश कर रहे हैं और बाज भी नहीं आ रहे हैं. फिर हिंदी दिवस वाले एक दिन हिंदी को जबरन ही या तो कमजोर मानेंगे या जरूरत से ज्यादा ही मजबूत बताएंगे.

नीरज चोपड़ा ने ये साबित कर दिया है कि भाषा सिर्फ बात कहने-सुनने और समझने का जरिया है. उसका काबिलियत से कोई लेना-देना नहीं है. बहुत से खिलाड़ियों-अभिनेताओं (हरभजन सिंह, सहवाग, आयुष्मान खुराना, कपिल शर्मा) ने इसे साबित भी किया है. इसके बावजूद जो भी ये नहीं समझ पा रहे हैं, नीरज चोपड़ा उन्हें रोक रहे हैं. वह समाज के नए स्थापित आदर्श हैं. कम से कम उनकी बात तो सुनिए.

Source : Zee News

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading

TRENDING

दामाद ने सास की हत्या कर शव के साथ की बर्बरता, प्राइवेट पार्ट में डाला बांस

Published

on

मुंबई के विले पार्ले से हैरान कर देने वाली एक घटना सामने आई है जिसमें एक दामाद ने अपनी सास की हत्या कर उसके प्राइवेट पार्ट में बांस डाल दिया। आरोपी दामाद को 14 सितंबर तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। पुलिस के अनुसार, “उसने सास के सिर पर टाइलों से हमला करने और चाकू से वार करने के बाद, आरोपी ने उसके प्राइवेट पार्ट में एक बांस डाल दिया और एक आंतरिक अंग को बाहर निकाल दिया। हमने छह दिन पहले आईपीसी की धारा 377 (अप्राकृतिक अपराध) को जोड़कर मामला दर्ज किया था।”

घटना विले पार्ले (पूर्व) की है जहां महिला अपनी बेटी के साथ रहती थी। तीन साल से चेन स्नेचिंग की घटना में पहले से ही जेल में बंद आरोपी को 1 सितंबर को रिहा किया गया था। जेल से छूटने के बाद, आरोपी अपनी पत्नी से मिलने गया और उसने देखा कि उसने किसी और से शादी कर ली है और वह गर्भवती है।

आदमी ने अपनी पत्नी से अपने नए पति को छोड़ने के लिए कहा। हालांकि, अगले दिन जब वह उससे मिलने गया तो वह उस जगह से चली गई थी। उसने अपनी सास से उसके ठिकाने का पता लगाने की कोशिश की, जिसने उसे कोई भी जानकारी देने से इनकार कर दिया। आरोपी ने अपनी सास के साथ मारपीट की और कई बार चाकू से वार किया। उसे एक दिन बाद पुणे से गिरफ्तार किया गया था।

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading

TRENDING

दिल्लीः सब्जी मंडी इलाके में तीन मंजिला इमारत गिरी, कई लोगों के दबे होने की आशंका

Published

on

देश की राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली के सब्जी मंडी इलाके  में तीन मंजिला इमारत ढहने का मामला सामने आया है. जबकि इस हादसे में कई लोगों के हताहत होने की आशंका है. सूचना मिलने के बाद दिल्‍ली पुलिस  मौके पर पहुंच गयी है. दिल्‍ली पुलिस के मुताबिक, राहत और बचाव कार्य जारी है. वहीं, अब तक एक घायल को मलबे से निकाला गया है, जिसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे अस्‍पताल भेजा गया है.

नॉर्थ दिल्ली के सब्जी मंडी इलाके में तीन मंजिला इमारत गिरने की घटना सामने आई है.

वहीं, हादसे की वजह से आसपास के इलाके में हड़कंप मच गया है. इस वक्‍त मौके पर पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ काफी संख्‍या में स्‍थानीय लोग मौजूद हैं. जानकारी के मुताबिक, इस हादसे की सूचना नगर निगम को भी दी गई है. इसके अलावा मौके पर दमकल की कई गाडियां मौजूद हैं. पुलिस ने कहा कि अब तक एक घायल को रेस्‍क्‍यू किया गया है, लेकिन मलबे में कई और लोग दबे हो सकते हैं. हम आसपास के लोगों से जानकारी जुटा रहे हैं.

दिल्‍ली पुलिस के मुताबिक, बिल्डिंग में निर्माण कार्य चल रहा था. वहीं, जिस समय हादसा हुआ, उस समय अंदर कई मजदूर थे. वहीं, बिल्डिंग के संकरी गलियों में होने के कारण दमकल विभाग को भारी मशीनरी के परिवहन ले जाने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है. जबकि रेस्क्यू ऑपरेशन फिलहाल मैनुअली चलाया जा रहा है.

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Continue Reading
INDIA14 mins ago

देश की न्याय व्यवस्था पर CJI एनवी रमना का बड़ा बयान, कहा – अदालतों में अब भी गुलामी के दौर वाला अंग्रेजी सिस्टम जारी

BIHAR1 hour ago

बिहारवासियों के लिए खुशखबरी! पहला लिफ्ट वाला ओवरब्रिज बनकर तैयार

DHARM3 hours ago

पितृ पक्ष कल से, श्रद्ध कर्म से पूरे होते मनोरथ

MUZAFFARPUR3 hours ago

मुजफ्फरपुर के पताही से विमान सेवा शुरू करने की कोशिश तेज

BIHAR3 hours ago

हाेटल पनाश में एंकर से सामूहिक दुष्कर्म का केस दर्ज, आरोपी फरार

BIHAR13 hours ago

राजद सरकार में मंत्री रहे ददन पहलवान की 68 लाख की संपत्ति जब्त

BIHAR15 hours ago

विवादों में बिहार का वैक्सीनेशन रिकॉर्ड, मृतक के नाम सर्टिफिकेट जारी करने का दावा

BIHAR16 hours ago

बिहार में फिर से चलाने जा रही 12 जोड़ी पैसेंजर ट्रेन, देखिए यहां लिस्ट

BIHAR17 hours ago

PM मोदी भगवान का दूसरा रूप, वे ही भारत के ‘भाग्य विधाता’ : केंद्रीय मंत्री पशुपति पारस

BIHAR17 hours ago

पटना में बेखौफ बदमाश, जिम ट्रेनर को मारी गोली, हथियार लहराते अपराधी फरार

INDIA2 weeks ago

सिद्धार्थ शुक्ला पंचतत्व में विलीन, कांपते हाथों से मां ने दी जिगर के टुकड़े को मुखाग्नि

TRENDING4 weeks ago

सूप बनाने के लिए काटा था कोबरा, 20 मिनट बाद कटे फन ने डसा, शेफ की मौत

BIHAR4 weeks ago

बिहार : 12 साल की बुआ को 13 साल के भतीजे से हुआ प्यार, छह साल इंतजार के बाद मंदिर में रचाई शादी

VIRAL3 weeks ago

जिधर देखो उधर 500-2000 रुपये… रेलवे ट्रैक पर मिले नोटों के बंडल

BIHAR4 weeks ago

बिहार; बेटी से इश्क करने पर प्रेमी को काट कर बोरे में भरा, परिजनों ने अपनी लड़की को भी नहीं छोड़ा

BIHAR1 day ago

बिहार : भांजी पर आया मामा का दिल, पत्नी और बेटे को छोड़कर हुआ फरार, दो सालों से चल रहा था प्रेम प्रसंग

TRENDING4 weeks ago

सेक्स के दौरान युवक ने प्राइवेट पार्ट पर लगाया फेविक्विक, हुई मौत

BIHAR3 weeks ago

SMA बीमारी से जूझ रहे अयांश के मामले में नया मोड़, पिता आलोक सिंह पहुंचे सलाखों के पीछे

INDIA4 days ago

अगर इन 3 बैंकों में है आपका भी अकाउंट तो 1 अक्टूबर से नहीं चलेगी पुरानी चेकबुक

INDIA4 days ago

रिवॉल्वर लेकर वीडियो बनाने वाली लेडी कांस्टेबल को विभाग को देने होंगे 1.82 लाख रुपए

Trending