Connect with us

BIHAR

बिहार : आर्थिक रूप से कमजोर होनहार छात्रों को अपराधी बना रहा साल्वर गैंग

Published

on

बिहार की राजधानी पटना के छात्र बहुल मोहल्लों में साल्वर गैंग पूरे साल सक्रिय रहता है। आर्थिक रूप से कमजोर व होनहार बच्चों की जानकारी कोचिंग सेंटर के कर्मी व उसके दोस्तों से गिरोह तक पहुंचता है। गिरोह से जोडऩे के लिए उनकी काउंसिलिंग कराई जाती है। सबसे अधिक साल्वर पटना के महेंद्रू, बहादुरपुर, बाजार समिति और बोरिंग रोड स्थित लाज से ही पकड़े जाते रहे हैं। मेधावी छात्रों को झांसे में लेने के लिए पहले उन्हें कई तरह की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाती है। उन्हें एडवांस में रुपये देने के साथ ही पर्यटन स्थलों की सैर कराने का पूरा खर्च गिरोह उठाता है। उनका आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए उनके परिचित साल्वर से मिलाया जाता है। वह उन्हें पूरी प्रक्रिया की जानकारी देते हैं। साथ ही जोखिम कम होने का विश्वास दिलाया जाता है। कई सीनियर छात्रों के बारे में जानकारी दी जाती है कि वह पिछले कई सालों से दूसरे के स्थान पर परीक्षा में बैठते हैं। उन्हें क्या हुआ है? जो पकड़े जाते हैं, उनकी भी जानकारी दी जाती है। उनकी जमानत सहित तमाम खर्च गिरोह द्वारा उठाने की बात कही जाती है। उनसे बात भी कराई जाती है।

biology-by-tarun-sir

दिल्ली, राजस्थान, बेंगलुरु में बैठकर गिरोह चला रहा सरगना

सूत्रों की मानें तो साल्वर गिरोह के पीके उर्फ प्रेम कुमार उर्फ निलेश और फरार चल रहे अतुल दोनों पटना के रहने वाले हैं, लेकिन पिछले कई वर्षों से उनका दिल्ली, राजस्थान, बेंगलुरु और यूपी के शहरों में ठिकाना रहा है। वहां वे कोचिंग में पढऩे वाले ऐसे छात्रों की तलाश करते हैं, जो नीट को क्लियर नहीं कर सकते, लेकिन आर्थिक रूप से मजबूत होते हैं। गिरोह रकम के हिसाब से तय करता है किस छात्र को कितनी रैंक के बीच लाना है। एक हजार से 50 हजार रैंक के लिए 15 से 30 लाख रुपये तक की डिमांड होती है। एक हजार से कम रैंक के लिए एक करोड़ तक की बोली लगती है। इनमें ज्यादातर एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे छात्र ही साल्वर बनते हैं। पूरी प्रक्रिया के दौरान साल्वर गैंग सही अभ्यर्थी का मूल प्रमाण पत्र अपने पास रखता है।

पांच स्तर पर काम करता है गिरोह

गिरोह कई स्तर में बंटकर टास्क पूरा करता है। पांच स्तर पर पूरे साल प्रक्रिया चलती रहती है। परीक्षा से सालभर पहले ही साल्वर मिशन में जुट जाते हैं। पहला स्तर : सरगना के साथ उसके कुछ करीबी लोग शामिल होते हैं। ये नीट में रैंक दिलाने के लिए डील करते हैं और छात्रों की भी तलाश करते हैं। दूसरा स्तर : चुने गए छात्रों की जगह बैठने और उनके मिलते-जुलते चेहरे वाले साल्वर को सेट करते हैं। उनके रहने-खाने से लेकर सेंटर तक पहुंचाना उनकी जिम्मेदारी होती है। जरूरत पर काउंसिलिंग भी कराते हैं।

तीसरा स्तर : छात्र और साल्वर के फोटो की मिक्सिंग करने के साथ ही एडमिट कार्ड पर साल्वर का स्कैन फोटो चस्पा करवाया जाता है। अभ्यर्थी का फार्म भी यही भरवाते हैं। चौथा स्तर : इनके जिम्मे तकनीकी कार्य होते हैं। यह लेन-देन तय करता है। यहां तक कि परीक्षा से पहले किस छात्र को कहां भेजना है, इसकी जानकारी सिर्फ इन्हीं के पास होती है। पांचवां स्तर : कौन साल्वर कितनी बार सफल रहा, उनसे डील करने की जिम्मेदारी इनके पास ही होती है। भुगतान और पकड़े जाने पर जमानत दिलाने की व्यवस्था भी ये ही करते हैं।

Source : Dainik Jagran

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

BIHAR

मुकेश सहनी ने तेजस्वी को दी चुनौती, कहा- मछली पकड़ना है तो ब्रांडेड जूते उतार कर तालाब में उतरिये, फिर…

Published

on

बिहार विधानसभा के दो सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर प्रचार का सिलसिला जारी है. चुनाव प्रचार के बाबत बीते दिनों बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव तारापुर विधानसभा क्षेत्र पहुंचे थे, जहां उन्होंने नुक्कड़ सभाओं को संबोधित किया. साथ ही इस दौरान वे खेतों में घूमते व तालाब में मछली मारते दिखे. हालांकि, उनके मछली मारने पर विवाद शुरू हो गया है. सत्ता पक्ष के नेता उनके इस कार्य को लेकर हमलावर हैं और तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं.

ललन सिंह ने साधा निशाना

इसी क्रम में जेडीयू (JDU) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह  ने तेजस्वी पर निशाना साधा. बुधवार को उन्होंने ट्वीट कर कहा, ” पढ़ाई में कक्षा छोड़कर 9वीं फेल रहे वैसे ही जनता से मुंह चुराकर मछली पकड़ने का नाटक राजनीतिक अविश्वास सिद्ध होगा. 2020 में सरेआम मत्स्यजीवी समाज के नेता व वर्तमान कैबिनेट मंत्री मुकेश सहनी की बेइज्जती सबको याद है, ढ़ोंग मत करिए प्रवासी बाबू, लोग जागरूक हैं.”

तेजस्वी यादव ने किया पलटवार

इधर, ललन सिंह के वार पर पलटवार करते हुए तेजस्वी ने कहा, ” मत्स्यजीवी समाज को कम आत्मविश्वास वाला और मछली पकड़ने को हेय काम बताने वाले नीतीश कुमार के ‘राष्ट्रीय अध्यक्ष’ को पूरे मल्लाह समाज से माफी मांगनी चाहिए. ये जेडीयू-बीजेपी वाले अपनी सामंती सोच को बस किसी तरह दबा, छुपा कर बैठे हैं. रह-रहकर वंचितों के प्रति जहर इनके मुंह से निकलता ही रहता है.”

हालांकि, जब विवाद के बीच मुकेश सहनी का नाम आया तो वे चुप नहीं बैठे. उन्होंने 2020 की बात याद दिलाते हुए तेजस्वी यादव को खुले तौर पर चुनौती दे डाली. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ” तेजस्वी यादव मछली पकड़ने का इतना ही शौक है तो चमकदार कुर्ता-पैजामा, ब्रांडेड जूते उतारकर मेरे साथ तालाब में उतरिए, तब समझ में आएगा कि एक मछुआरे को मछली पकड़ने में कितना मेहनत लगता है. ख़ैर, मछुवारे समाज को 2020 में आपके द्वारा पीठ में भोंका ख़ंजर अच्छे से याद है.”

Source : ABP News

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

krishna-motors-muzaffarpur

Continue Reading

BIHAR

इतिहास : पीएम मोदी से लेकर आमिर खान तक, चिट्टी चोखा की फैन हैं बड़ी हस्तियां

Published

on

लिट्टी चोखा को बिहार का प्रमुख व्यंजन माना जाता है. लिट्टी एक आटे का गोला होता है जिसे जलते अलाव में सेका जाता है. लिट्टी के भीतर सत्तू का मसाला भी भरा जाता है. अगर चोखे की बात करें तो चोखा आग पर सेके गए आलू, बैंगन, टमाटर से बनाया जाता है.

लिट्टी चोखा सबसे आसानी से बनने वाले व्यंजनों में से एक है. ये बनाने में आसान होता है. बिहार के अलावा लिट्टी चोखा उत्तर प्रदेश के पुर्वांचल में भी फेंमस है. पुर्वांचल में बारिश होने के बाद अक्सर लोगों के घरों में लिट्टी चोखा बनाए जाता हैं. इस डिश को महिलाओं के अपेक्षा ज्यादात्तर पुरुष बनाते हैं.

History of Litti and Chokha: पीएम मोदी से लेकर आमिर खान तक, चिट्टी चोखा की फैन हैं बड़ी हस्तियां, जानिए इसका इतिहास

पीएम नरेंद्र मोदी और बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान सहित कई बड़ी हस्तियां इसका स्वाद चखने से खुद को रोक नहीं पाई हैं. तो आज आइए जानते हैं लिट्टी चोखे का इतिहास क्या है.

लिट्टी चोखे का इतिहास

लिट्टी चोखे का इतिहास मगध काल से जुड़ा हुआ है. मगध शासनकाल के दौरान लिट्टी चोखा प्रचलन में आया. चंद्रगुप्त मौर्य मगध के राजा थे जिनकी राजधानी पाटलीपुत्र (वर्तमान पटना) थी लेकिन उनका साम्राज्य अफगानिस्तान तक फैला था. इतिहासकारों के मुताबिक चंद्रगुप्त मौर्य के सैनिक युद्ध के दौरान अपने साथ लिट्टी चोखा रखते थे. 18वीं शताब्दी की कई किताबों के अनुसार लंबी दूरी तय करने वाले मुसाफिरों को मुख्य भोजन लिट्टी चोखा था.

302 ईसापूर्व में ग्रीक यात्री मेगस्थनीज भारत आया था. वह मगध साम्राज्य की भव्यवता को देखकर हैरान हो गया. उसने अपनी किताब में लिखा कि पाटलीपुत्र में 64 गेट, 570 टावर और ढेर सारे बाग-बगीचे हैं. इस राज्य महलों और मंदिरों से भरा हुआ है. मेगस्थीन ने आगे लिखा, ‘मैंने पूरब के एक भव्य शहर को देखा है. मैंने पर्सियन महलों को भी देखा है लेकिन यह शहर दुनिया के सबसे बड़े और खुबसुरत शहरों में से एक है’.

मुगल काल में लिट्टी चोखा

मुगल काल में लिट्टी चोखा के प्रमाण मिलते हैं लेकिन इस दौरान इसे खाने का तौर-तरीका बदल गया. मुगल काल में मांसाहारी खाने का प्रचलन ज्यादा था. इसलिए लिट्टी को शोरबा और पाया के साथ खाया जाने लगा. अंग्रेजों के वक्त लिट्टी को करी के साथ खाया जाने लगा. वक्त के साथ लिट्टी चोखा के साथ कई तरह के नए प्रयोग किए गए.

krishna-motors-muzaffarpur

आंदोलनकारियों का व्यंजन

लिट्टी चोखा के फेंमस होने का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अंग्रेजों से लड़ाई के दौरान स्वतंत्रता सैनानी अपने साथ लिट्टी चोखा लेकर चलते थे. इस व्यजंन की खास बात यह है कि यह जल्दी खराब नहीं होता है इसके अलावा इसे बनाना काफी आसान होता है और यह काफी हेल्दी होता है.

साल 1857 के विद्रोह के दौरान तात्या तौपे और रानी लक्ष्मी बाई के सैनिक बाटी या लिट्टी को पंसद करते थे क्योंकि इसके लिए ज्यादा सामान की जरुरत नहीं थी और इसे पकाना आसान था.

आज लिट्टी चोखा की पॉपुलैरिटी का आलम ऐसा है कि जो भी बिहार जाता है वो खुद को लिट्टी चोखा खाने से नहीं रोक पाता है.

Source : ABP News

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

Continue Reading

BIHAR

दरभंगा एयरपोर्ट पर अगले दो-तीन महीने में मौसम खड़ी कर सकती मुश्किलें

Published

on

देश के अन्य महानगरों के एयरपोर्ट की तुलना में दरभंगा एयरपोर्ट की बढ़ती लोकप्रियता यात्रियों की आवाजाही को लेकर चर्चा में है। दरभंगा एयरपोर्ट को आल वेदर एयरपोर्ट बनाने की कवायद भी की जा रही है। लेकिन, इसमें हो रही देरी के कारण जिस रफ्तार से यात्रियों की संख्या आम दिनों में होती है, वो बारिश या फिर ठंड के दिनों में उतनी ही तेजी से घटने लगती है। कारण, दरभंगा एयरपोर्ट पर आइएलएस (इंस्टूमेंटल लैंड‍िंंग सिस्टम) का नहीं होना है।

आइएलएस सिस्टम होने से लो विजिवलिटी में भी विमानों की लैंड‍िंग और टेक आफ हो सकती है। फिलहाल इस सुविधा नहीं होने के कारण दरभंगा एयरपोर्ट पर बारिश और घने कोहरे में विमानों की रफ्तार पर ब्रेक लग जाता है। फ्लाइटें रद होने लगती है या फिर देरी से विमानों की आवाजाही होती है। इन दिनों जिले में भारी बारिश की चेतावनी का अलर्ट जारी कर दिया गया है। सोमवार से ही जिले में भारी बारिश हो रही है। इसका असर आम जनजीवन के साथ विमान सेवा भी दिखता है। ऊपर से ठंड का मौसम आ रहा है। सो, कोहरे के कारण विमान सेवा प्रभावित होने की प्रबल संभावना है। अगले दो से तीन महीने कोहरे की वजह से विमान सेवा प्रभावित हो सकती है।

शुरुआती दौर में जब दरभंगा एयरपोर्ट से विमानों का संचालन किया गया था, उस वक्त महज तीन फ्लाइटें उड़ान भरा करती थी। इनमें दरभंगा से दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरू की सेवा शामिल थी। लेकिन, यात्रियों की बढ़ती भीड़ और मांग को देखते हुए सेवा प्रदात्ता कंपनी ने अन्य महानगरों के लिए इसे विस्तारित किया। उसके बाद दूसरी सेवा प्रदात्ता कंपनी इंडिगो ने यहां से अपनी विमान सेवा शुरू की। तीन विमानों के साथ शुरू हुआ हवाई सेवा की संख्या अब 18 तक पहुंच गई है। इधर, सरकार ने भी दरभंगा एयरपोर्ट की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए इसे अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस करने का फैसला लिया। इसे कैबिनेट की मंजूरी भी मिल गई है। बावजूद इसमें अभी वक्त लगेगा।

वर्ष 2022 के अंत तक शुरू हो सकती नए सिविल एनक्लेव निर्माण की प्रक्रिया

दरभंगा एयरपोर्ट के नए सिविल एनक्लेव व रनवे विस्तार को राज्य सरकार की हरी झंडी मिलने के बाद उम्मीदों को पंख लग गए है। लेकिन, इससे कम से कम आठ महीने का वक्त लगेगा। जानकार बतातें है कि कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद भी प्रक्रिया शुरू होने में कम से कम सात से आठ महीने का वैधानिक समय लगेगा। कारण, पहले सामाजिक आर्थिक सर्वेक्षण की प्रक्रिया होगी। इसमें कम से कम छह महीने का वक्त लगेगा। इसके बाद जिला स्तर पर गठित कमेटी रिपोर्ट का रिव्यू करेेगी, जिसमें कम से कम दो महीने का वक्त लगेगा। इसके बाद निर्माण की प्रक्रिया शुरू होगी।

Source : Dainik Jagran

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

krishna-motors-muzaffarpur

Continue Reading
WORLD4 hours ago

सूअर की किडनी को मानव शरीर से जोड़ा, करने लगी काम, वैज्ञानिकों का सबसे बड़ा चमत्कार

INDIA4 hours ago

मुस्लिम में निकाह एक कॉन्ट्रैक्ट है, हिंदू विवाह के तरह संस्कार नहीं- कर्नाटक हाईकोर्ट

BIHAR5 hours ago

मुकेश सहनी ने तेजस्वी को दी चुनौती, कहा- मछली पकड़ना है तो ब्रांडेड जूते उतार कर तालाब में उतरिये, फिर…

BIHAR8 hours ago

इतिहास : पीएम मोदी से लेकर आमिर खान तक, चिट्टी चोखा की फैन हैं बड़ी हस्तियां

BIHAR8 hours ago

दरभंगा एयरपोर्ट पर अगले दो-तीन महीने में मौसम खड़ी कर सकती मुश्किलें

BIHAR8 hours ago

नेपाल में लगातार बारिश से कोसी आक्रामक, 43 फाटक खोलने के बाद अलर्ट पर प्रशासन

INDIA8 hours ago

आर्यन खान को कोर्ट से झटका, तीनों आरोपियों की जमानत याचिका खारिज

ramnath-kovind-nitish-kumar
BIHAR10 hours ago

बिहार विधानसभा भवन शताब्‍दी समारोह के लिए पटना पहुंचे राष्‍ट्रपति रामनाथ काेविंद

VIRAL11 hours ago

मौसम का हाल बताते-बताते न्यूज चैनल पर चलने लगा अश्लील वीडियो, बेखबर एंकर पढ़ती रही खबर

BIHAR11 hours ago

बिहार के भाजपा विधायक हरिभूषण ने दिया बड़ा बयान-जल्‍द होगी एक और एयरस्‍ट्राइक

BIHAR4 weeks ago

बिहार: पिता की थी छोटी सी खैनी की दुकान, ट्यूशन पढ़ा करते थे पढ़ाई, अब UPSC में पाई दूसरी बार सफलता

BIHAR3 weeks ago

घर तक आती थी ट्रेन और निजी प्लेन, दरभंगा महराज के राज- ठाठ की कहानी –

BIHAR3 weeks ago

खुशखबरी: पटना चिड़‍ियाघर में आज से नहीं लगेगा प्रवेश शुल्‍क

BIHAR3 weeks ago

नई सौगात भागलपुर, बक्‍सर, दरभंगा, हाजीपुर और सिवान को होगा फायदा – पांच नए हाइवे का होगा ऐलान

BIHAR3 weeks ago

जल्द बंद होगा बरौनी और कांटी थर्मल पावर स्टेशन, दोनो थर्मल पावर से बिहार को मिल रही है 330 मेगावाट बिजली

BIHAR4 weeks ago

बिहार में अब बिल्कुल अलग अंदाज में मिलेगा बिजली के बकाया बिल का रिमाइंडर

BIHAR4 weeks ago

बिहार के सभी घरों में नजर आएंगे स्मार्ट प्रीपेड मीटर

INDIA4 weeks ago

यू ही नहीं बिहार को कहा जाता आई.ए.एस फैक्ट्री कटिहार का शुभम बना UPSC टॉपर

BIHAR3 weeks ago

पारले जी बिस्कुट नहीं खाने से होगी अनहोनी, अफ़वाह के बाद बिस्कुट आउट ऑफ स्टॉक

BIHAR3 weeks ago

बिहार के 8 जिलों में कल से शुरू होगा बालू खनन, उचित कीमत पर मिलेगा बालू

Trending