बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट : इस बार तीनों संकायों से कुल 79.76 फीसदी छात्र हुए पास
Connect with us
leaderboard image

BIHAR

बिहार बोर्ड इंटरमीडिएट : इस बार तीनों संकायों से कुल 79.76 फीसदी छात्र हुए पास

Santosh Chaudhary

Published

on

इस बार बिहार बोर्ड की 12 वीं की परीक्षा के तीनों संकायों का रिजल्ट जारी कर दिया गया है। पिछली बार से इस बार नतीजे बेहतर हुए हैं।

इस बार 79.76 परीक्षार्थियों ने सफलता हासिल की है। इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा में तेरह लाख 15 हजार छात्रों ने फॉर्म भरा था इसमें 79.6% छात्र पास हुए। आर्ट्स संकाय में कुल 77.53 %, कॉमर्स संकाय में 93.02% और साइंस में 81.20% छात्रों ने सफलता पाई है।

बिहार इंटरमीडियट साइंस संकाय की परीक्षा में रोहिणी प्रकाश और पवन कुमार टॉपर बने हैं, दोनों छात्रों को इंटर साइंस में कुल 473 अंक मिले हैं, रोहिणी नालंदा की रहने वाली हैं  और पवन कुमार अरवल के रहने वाले हैं।

इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा, 2019 का परीक्षाफल, जो आज अपराह्न 1:00 बजे जारी किया जाना था, अब उसे आज अपराह्न 2:30 बजे के बाद जारी किया गया।  शिक्षा विभाग के अपर सचिव आरके महाजन औऱ बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने संयुक्त रूप से जारी किया।

रिजल्ट जारी करने से पहले रिजल्ट का काफी संजीदगी से पुनर्मूल्यांकन किया गया, खासकर टॉपर्स लिस्ट की अच्छी तरह जांच की गई। यही वजह है कि रिजल्ट का समय बढ़ा दिया गया। बोर्ड किसी भी तरह का विवाद नहीं चाहता।

शिक्षा विभाग के अध्यक्ष आनन्द किशोर ने जानकारी दी कि समय में थोड़ा बदलाव किया गया है। उन्होंने बताया कि शिक्षा विभाग के अपर सचिव की उपस्थिति में इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा, 2019 के परीक्षाफल की  पराह्न 2:30 बजे के बाद घोषणा की जाएगी।

आज दिन के 2.30 बजे के बाद शिक्षा विभाग के अपर सचिव और बिहार बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर रिजल्ट को बोर्ड की वेबसाइट पर जारी किया। बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि साइंस, आर्ट्स और कॉमर्स तीनों स्ट्रीम के रिजल्‍ट एक साथ जारी किए गए।

इस बार BSEB 12th Result 2019 for Arts, Science and Commerce streams के 13 लाख से ज्यादा परीक्षार्थियों ने 38 जिलों के 1339 केंद्रों पर इंटरमीडिएट की परीक्षा दी थी और अब उनके इंतजार की घड़ियां खत्म होने वाली हैं। इस बार पहली बार बिहार बोर्ड नेे इंटर की परीक्षा का रिजल्ट अॉनलाइन जारी किया है।

बिहार बोर्ड ने इसी साल BSEB ERP नामक सिस्टम लॉन्च किया था, जिसके चलते बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB) रिजल्ट इस बार समय पर घोषित कर सका है।

Input : DainkD jagran

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

BIHAR

अनंत सिंह को पकड़ने के लिए नहीं, दबाव बनाने के लिए की गयी थी छापेमारी।

Ravi Pratap

Published

on

अनंत सिंह का साम्राज्य ढ़हने की मुनादी करने से पहले थोडा़ पीछे मुड़कर देख लीजिए! बिहार की सत्ता भले ही बदलती रही है,लेकिन अनंत का रूतबा नहीं बदला है। लालूराज में उनकी चलती थी। लेकिन नीतीशराज में तो वे हवा में उड़ने लगे। धन-संपत्ति के साथ उनका रसूख बढा़ और हनक भी बढी़। हनक ऐसी कि अनंत से पंगा लेने पर नीतीशराज में मंत्री रहीं एक कद्दावर महिला नेता को पार्टी तक छोड़नी पडी़। लेकिन अनंत का कुछ नहीं बिगडा़।

सत्ता के भीतर अनंत की पैठ की चर्चा करते हुए एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा,’ मुझे अच्छी तरह याद है! नीतीश सरकार में मंत्री वह महिला नेता पुलिस की मदद मांग रही थीं। वह इतनी आतंकित थीं कि फोन पर अपनी बात कहते-कहते रोने लगीं! यह हालत उस महिला कि थी जो खुद मंत्री थीं। उनके पिता देश के मशहूर नेता रहे हैं। एक सीनियर नौकरशाह उनके पति हैं। उनके रिश्तेदार जज और नामी वकील हैं। इतना कुछ होते हुए उस महिला नेता को अपनी ही पार्टी के बाहुबली विधायक अनंत सिंह के आगे हथियार डालने पडे़! बाद में पार्टी भी छोड़नी पडी़।

एक रिटायर्ड पुलिस अफसर ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा, ‘दरअसल सरकार अनंत सिंह को केवल झुकाना चाहती है।अनंत जैसे लोगों को बचाये रखने में फायदा ही फायदा है। अगर ऐसा नहीं है तो दो दर्जन से अधिक संगीन मामलों में आरोपित अनंत को किसी एक मामले में भी सजा क्यों नहीं हुई? जबकि नीतीशराज में 90 हजार आरोपितों को सजा दिलाने के दावे किये जाते हैं। जब शहाबुद्दीन को सजा हो सकती है तो अनंत को भी सलाखों के पीछे होना चाहिए था।

अनंत की गिरफ्तारी के लिए शनिवार की देर रात पटना में उनके आवास पर पुलिस की छापेमारी पर सवाल खडे़ करते हुए पटना में एस एस पी रह चुके एक पुलिस अफसर ने कहा, जिस पुलिस टीम को अनंत के गांव लदमा के उनके घर में AK47 और हैंड ग्रेनेड की भनक लग गयी थी, उसे अनंत के पटना में होने, न होने की सूचना कैसे नहीं थी? अनंत सरकारी आवास में नहीं थे और पुलिस छापेमारी करने पहुंच गयी। कहा जा सकता है कि चाहे तो पुलिस का सूचना तंत्र फेल हो गया या पुलिस ने केवल दिखावे की कार्रवाई की। छापेमारी के ठीक चार-पांच घंटे के भीतर अनंत सिंह ने जो वीडियो जारी किया, उससे तो पुलिस की ही किरकिरी हुई है।

अनंत सिंह की पहुंच और रसूख की चर्चा करते हुए जेडीयू के एक नेता ने कहा, अनंत के बडे़ भाई दिवंगत दिलीप सिंह 1990 में निर्दलीय विधायक चुने गये थे। वह 1995 में भी चुने गये। लालू प्रसाद ने उनको मंत्री बनाया था। 2002 में चुनाव हारने पर लालू ने उनको 2003 में एमएलसी बनवा दिया। उनके एम एल सी रहते अनंत ने 2005 में मोकामा से निर्दलीय चुनाव लडा़ और जीत गये। 2006 में दिलीप सिंह की मौत के बाद अनंत सिंह अपने ‘भाई की छाया’ से बाहर आ गये! अगला विधानसभा चुनाव,2010 में अनंत ने जेडीयू उम्मीदवार के तौर पर जीता! 2015 में उनको टिकट नहीं मिला तो वे फिर निर्दलीय जीत कर विधानसभा पहुंच गये। जाहिर है, सत्ता बदली लेकिन अनंतका रूतबा नहीं बदला। अनंत सत्ता की जरूरत है, यह बार-बार साबित हुआ है।

Input : Before Print

Continue Reading

MUZAFFARPUR

मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन पर पानी के जगह बिकती है शराब

Ravi Pratap

Published

on

मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या 1 पर आईआरसीटीसी के वेंडरों द्वारा पानी के जगह शराब बेची जा रही थी.पुलिस को गुप्त जानकारी मिलने के बाद छापेमारी कर वेंडर को गिरफ्तार कर लिया गया.और कई शराब की बोतलो को भी जप्त कि गई।

रेलवे स्टेशनो पर यात्रियों की प्यास बुझाने के लिए सरकार द्वारा निजी संस्थाओं के माध्यम से मिनरल वाटर की व्यवस्था की गई है.ताकि लोगो तक सस्ती दरों में शुद्ध पानी मिल सके.वही रेल पुलिस और रेलवे के वरीय अधिकारियों के नाक के नीचे शराब माफियाओं द्वारा शराब के बिक्री का खेल किया जा रहा था.पानी के मशीन के एक ओर रेलवे के वरीय अधिकारी की कार्यालय है.वही दूसरी ओर आरपीएफ की पोस्ट है.इन दोनों के बीच खुलेआम आईआरसीटीसी के वेंडर के द्वारा शराब का कारोबार किया जा रहा था.जिसकी सूचना जीआरपी को मिली और कार्यवाई के दौरान शराब की कई बोतले मिली.साथ ही आरोपी वेंडर को गिरफ्तार कर लिया गया.

रेल एसपी अशोक कुमार सिंह ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि रेलवे स्टेशन के प्लेट फॉर्म संख्या-1 पर वाटर वेंडिंग मशीन के ऑपरेटर के द्वारा शराब का कारोबार किया जा रहा है.गुप्त सूचना के आधार पर आज उक्त जगह पर छापेमारी की गई.छापेमारी के दौरान वाटर वेंडिंग मशीन में रखे विदेशी शराब को जप्त कर लिया गया है.साथ ही वेंडिंग मशीन के ऑपरेटर विनोद सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया गया है.साथ ही उक्त वाटर वेंडिंग मशीन को सील कर दिया गया है.वही संबंधित विभाग को भी इस मामले के बारे में चिट्ठी लिखी जाएगी।

रिपोर्ट : अभय राज

Continue Reading

MUZAFFARPUR

दामोदरपुर बवाल के ढाई दर्जन आरोपित गांव छोड़ फरार

Ravi Pratap

Published

on

दामोदरपुर बवाल के करीब ढाई दर्जन आरोपित गांव छोड़कर फरार हैं। गिरफ्तारी से बचने के लिए इनमें से कुछ दूसरे प्रदेश तो कई अपने रिश्तेदारों के घर में शरण लिए हैं। कांटी पुलिस के अलावा विशेष टीम इनकी तलाश में जुटी है। पुलिस कई दफा फरार आरोपितों और इनके रिश्तेदारों के घरों पर भी दबिश दे चुकी है, लेकिन गिरफ्त में नहीं आ रहे हैं।

इधर, दामोदरपुर, ईदगाह चौक व शुभंकरपुर आदि इलाके में स्थिति सामान्य हो रही है। बीते दिनों के अपेक्षा रविवार को ईदगाह चौक और दामोदरपुर में दुकानें खुली। स्थानीय लोगों ने भी दैनिक उपयोग के सामान की खरीदारी की। वहीं दोबारा तनाव न उपजे, इसे लेकर पूर्व से चिह्नित सभी पोस्ट पर पुलिस, सीआईएटी के जवान और रैफ की टीम कैंप कर रही हैं। संवेदनशील इलाके में बारी-बारी से पेट्रोलिंग भी कर रही है। पुलिस के वरीय अधिकारी भी औचक जांच और निरीक्षण कर रहे हैं।

अज्ञात आरोपितों को चिह्नित करने में जुटी पुलिस :
तनाव व तोड़फोड़ के दोनों पक्ष से करीब ढाई सौ अज्ञात को भी आरोपित किया गया था। पुलिस सबका सत्यापन करने में जुटी है। अधिकारियों का कहना है कि फोटो और वीडियो फुटेज से अज्ञात आरोपितों की पहचान की जा रही है। जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।

व्हाट्सएप व फेसबुक के एडमिन को नोटिस :

बीते 12 अगस्त को कांटी थाना के दामोदरपुर में दो पक्षों में जमकर बवाल हुआ था। तोड़फोड़ व पुलिस पर पत्थरबाजी हुई थी। साथ ही कुछ लोगों ने इसे लेकर व्हाट्सएप और फेसबुक पर भड़काऊ पोस्ट किया था। इसे लेकर अपर थानेदार ने आईटी एक्ट में एफआईआर की थी।

इसमें व्हाट्सएप व फेसबुक एडमिन को आरोपित किया था। इस संबंध में पुलिस एडमिन की गिरफ्तारी से पहले पूछताछ करना चहती है। इसे लेकर उनलोगों को नोटिस भेजी गई है। इसमें कई राजनीतिक संगठन से भी जुड़े लोग शामिल हैं।

दामोदरपुर की स्थिति नियंत्रण में है। शांति बनी हुई है। पुलिस कैंप कर रही है। फरार आरोपितों के लिए छापेमारी जारी है। सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट करने वाले एडमिन को नोटिस भेजा गया है। पूछताछ के बाद इनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Input : Live Hindustan

Continue Reading
Advertisement
BIHAR6 hours ago

अनंत सिंह को पकड़ने के लिए नहीं, दबाव बनाने के लिए की गयी थी छापेमारी।

MUZAFFARPUR7 hours ago

मुजफ्फरपुर रेलवे स्टेशन पर पानी के जगह बिकती है शराब

MUZAFFARPUR8 hours ago

दामोदरपुर बवाल के ढाई दर्जन आरोपित गांव छोड़ फरार

INDIA10 hours ago

अब झारखंड की किराना दुकानों में भी श’राब बेचने का प्रस्ताव

BIHAR10 hours ago

मुजफ्फरपुर से पूर्व मुख्यमंत्री डाॅ.जगन्नाथ मिश्रा का था गहरा जुड़ाव

MUZAFFARPUR11 hours ago

मुजफ्फरपुर में पेट्रोल पंप कर्मी से दिनदहाड़े 3.75 लाख की लूट

BIHAR11 hours ago

22 साल का दूल्हा और 50 साल की दुल्हन, जानिये अजब प्रेम की गजब कहानी

MUZAFFARPUR14 hours ago

इंडियन आइडल के स्टूडियो राउंड में पहुंची मुजफ्फरपुर की बेटी रूपम रम्या

BIHAR15 hours ago

राजकीय सम्मान के साथ होगा जगन्नाथ मिश्रा का अंतिम संस्कार, बिहार में तीन दिन के राजकीय शोक

BIHAR17 hours ago

बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा का निधन, दिल्ली में ली अंतिम सांस

BIHAR3 weeks ago

बिहार में अब नहीं चलेगा पक’ड़़उआ ब्याह, कोर्ट ने इंजीनियर की शादी कर दी कैंसिल

INDIA4 weeks ago

UGC ने इन 23 यूनिवर्सिटी को फर्जी घोषित किया, देखें लिस्ट

BIHAR3 days ago

मोकामा के बाहुबली विधायक अनंत सिंह के घर से AK-47 बरामद

BIHAR4 weeks ago

मधुबनी में आसमान से गिरा पत्थर पहुंचा पटना, सीएम नीतीश ने बड़े ही करीब से देखा-परखा

INDIA1 day ago

आपका ATM कार्ड बुरे वक्त में देगा साथ, मिल जाएंगे 10 लाख रुपए

INDIA4 weeks ago

राखी से ठीक एक माह पहले बहन ने भाई को दिया जिंदगी का तोहफा

BIHAR7 days ago

न्यूजीलैंड वित्त मंत्रालय में विश्लेषक बनीं मुजफ्फरपुर की बेटी शेफालिका, गांव में खुशी की लहर

INDIA4 weeks ago

साक्षी मिश्रा ने बनाया नया इंस्टा अकाउंट, खुद को बताया अभि की टाइग्रेस, भाई के लिए रक्षाबंधन की पोस्ट

BIHAR11 hours ago

22 साल का दूल्हा और 50 साल की दुल्हन, जानिये अजब प्रेम की गजब कहानी

MUZAFFARPUR3 weeks ago

बाल-बाल ब’चे DGP गुप्तेश्वर पाण्डेय, बस ने मारी टक्क’र

Trending

0Shares