Connect with us

VIRAL

‘बोल न आंटी आऊं क्या’ गाने वाले लड़के ने बजाई पाकिस्तान की पूंगी, खुद बोले पाक के मंत्री..

Published

on

न्यूजीलैंड की टीम पाकिस्तान दौरे पर आई थी 3 वनडे और 5 T20 मुकाबले खेलने. लेकिन सुरक्षा वजहों से वो ये दौरा बीच में ही छोड़कर चली गई. इस घटना के बाद पाकिस्तान की फजीहत पूरी दुनिया में हुई. और, अब वो जो कर रहा है उस पर खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे वाली कहावत बिल्कुल सटीक बैठ रही है. वहां के क्रिकेट दिग्गज T20 वर्ल्ड कप में न्यूजीलैंड को देख लेने की बात कह रहे हैं तो राजनीति के गलियारे में बैठे लोगों का बयान और भी ज्यादा हास्यास्पद है. अब पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी को ही ले लीजिए. उन्होंने पाक-न्यूजीलैंड सीरीज रद्द होने की जो वजह बताई है, उसके बाद तो न सिर्फ सोशल मीडिया पर पाकिस्तान की और किरकिरी हुई बल्कि ट्विटर पर ओम प्रकाश मिश्रा भी ट्रेंड करने लगा.

पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने प्रेस कॉन्फ्रेंस लगाकर उसमें सीरीज रद्द होने के पीछे भारत का हाथ बताया. उनके मुताबिक, भारत से न्यूजीलैंड को धमकी भरे ईमेल भेजे गए, जिसके चलते उन्हें पाकिस्तान का दौरा रद्द करना पड़ा. फवाद चौधरी के अनुसार ये धमकी भरा ईमेल भेजने के लिए जिस डिवाइस का इस्तेमाल किया गया था, उसके मालिक ओम प्रकाश मिश्रा थे, जो मुंबई में रहते हैं. अब भई पाकिस्तान के मंत्री का इतना कहना था कि सोशल मीडिया पर मीम्स की बाढ़ सी आ गई. पाकिस्तान की तो इज्जत उछली ही साथ ही ओम प्रकाश मिश्रा भी सुर्खियों में आ गए.

Advertisement

Advertisement

ये ओम प्रकाश मिश्रा हैं कौन, जिनका जिक्र पाकिस्तान के मंत्री ने अपने बयान में किया है, अब जरा वो भी जान लीजिए. दरअसल, वो लड़का एक रैपर है, जिसने साल 2017 में ‘बोल ना आंटी आऊं क्या, घंटी मैं बजाऊं क्या’ गाकर सोशल मीडिया में खूब सुर्खिया बटोरी थीं.

Advertisement

Advertisement

इधर पाकिस्तानी मंत्री की ओर से ओम प्रकाश मिश्रा का नाम लिए जाने के बाद सोशल मीडिया यूजर्स ये सोचकर परेशान हैं कि आखिर वो कैसे सीरीज रद्द करा सकता है. सभी अपने अपने मिजाज से इस मसले पर अब चुटकी ले रहे हैं. एक यूजर ने ओम प्रकाश मिश्रा की तुलना लोकप्रिय शो ‘पिकी ब्‍लाइंडर्स’ के माफिया से की. तो ऑस्‍ट्रेलिया के क्रिकेट पत्रकार डेनिस फ्रीडमैन ने कहा कि, ‘ पहले तो मुझे लगा कि ये लोग व्यंग्यकार हैं, फिर तुरंत ही मुझे एहसास हुआ कि वे मंत्री हैं.’

ओम प्रकाश मिश्रा की उसके बेतुके रैप को लेकर आलोचना होती रही है, जिस वजह से वो सुर्खियों में रहता था. लेकिन, इस बार उसके सुर्खियों में छाने की वजह वो खुद नहीं बल्कि पाकिस्तान है.

Advertisement

हेलो! मुजफ्फरपुर नाउ के साथ यूट्यूब पर जुड़े, कोई टैक्स नहीं चुकाना पड़ेगा 😊 लिंक 👏

biology-by-tarun-sir

Advertisement
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

VIRAL

फिल्मी रेस्क्यू: 16 किमी बही, 16 घंटे पानी में गुजारे, नाव में बैठी वह भी पलट गई, फिर भी बची जिंदगी

Published

on

साहस हो तो मौत को भी मात दी जा सकती है, यह साबित कर दिखाया है, मध्य प्रदेश के विदिशा जिले की सोनम दांगी ने। सोनम पूरी रात नदी में लहरों से जूझती रही। दूसरे दिन उन्हें नदी से निकाले जाते समय रेस्क्यू टीम की नाव पलट जाने से वह दोबारा बह गई। 16 किमी दूर तक बहने के दौरान उन्हें एक लकड़ी का सहारा मिला। वह कहती हैं कि मुसीबत की इस घड़ी में वह ईश्वर के साथ अपने इकलौते 12 वर्षीय बेटे को याद करती रही। बेटे की याद ने उन्हें जिंदगी के लिए संघर्ष करने की ताकत दी। आखिर में वह जिंदगी की जंग जीत गई।

ऐसे हुआ हादसा

Advertisement

रेस्क्यू दल का नेतृत्व करने वाले जिला होमगार्ड के कमांडेंट शशिधर पिल्लई ने बताया कि गुरुवार की शाम जिले के गंजबासौदा निवासी कल्लू दांगी अपनी बहन सोनम को मोटरसाइकिल पर बैठाकर पडरिया गांव (सोनम की ससुराल) से अपने घर आ रहे थे। रास्ते में बेतवा नदी के बर्रीघाट पुल पर उनकी मोटरसाइकिल फिसल गई। इस दौरान सोनम नदी में जा गिरी। कल्लू उनको बचाने के लिए नदी में कूदे, मगर बचा नहीं सके। अंधेरा हो जाने के कारण बचाव अभियान भी नहीं चलाया जा सका। इस दौरान सोनम करीब आठ किमी बहते हुए सिंरोज रोड स्थित निर्माणाधीन पुल के पास पहुंच गई। सोनम ने बताया कि भारी बारिश हो रही थी। बिजली कड़क रही थी। लेकिन, मुझे अपने बेटे का चेहरा याद आ रहा था। मैंने खुद को हिम्मत दी कि मुझे अपने बच्चे के लिए जीना है। इसी सोच के साथ मैंने निर्माणाधीन पुल के पिलर के सरिया को पकड़ लिया और सारी रात ऐसे ही गुजार दी।

ऐसे बची जान

Advertisement

शुक्रवार तड़के पांच सदस्यीय दल ने बचाव अभियान शुरू किया। एक घंटे के भीतर ही नदी में उनको खोज लिया गया। दल ने उनको निकाला और लाइफ जैकेट पहनाकर नाव में बैठाया। इसी दौरान नदी का बहाव तेज होने के कारण नाव पलट गई। दल के सदस्य तैराक होने के कारण किनारे पर पहुंच गए, लेकिन वह नदी में बहती चली गई। इस बार उनको एक लकड़ी का सहारा मिला। पिल्लई ने बताया कि सोनम जब दोबारा बह गईं तो करीब तीन घंटे तक स्थानीय प्रशासन की मदद से उनकी खोजबीन चलती रही। सुबह करीब आठ बजे ग्राम राजखेड़ा के पास ग्रामीणों को वह दिखाई दी। स्थानीय युवाओं ने नदी में उतरकर उनको बचा लिया। उन्होंने करीब 16 घंटे तक जिंदगी के लिए संघर्ष किया।

Source : Dainik Jagran

Advertisement

Continue Reading

VIRAL

उम्र- 3 साल, रिकॉर्ड- 5 मिनट में क्यूब सॉल्विंग, भारत की बेटी का कमाल

Published

on

अमूमन 2 या 3 साल के बच्चे से आप क्या उम्मीद कर सकते हैं. यही कि वह ठीक से चले दौड़े, बात करे. लेकिन आज हम आपको एक ऐसे लिटिल मास्टर की कहानी बता रहे हैं जो 3 साल की उम्र में अपने नाम पर रिकॉर्ड दर्ज करा चुकी है.

दिल्ली के विवेक विहार की रहने वाली दिविशा विशाल भंसाली ने 3 साल की उम्र में यंगेस्ट क्यूब सॉल्वर का अवार्ड अपने नाम किया है. इसमें उन्होंने थ्री लेयर्ड , टू वे और प्राइमेक्स क्यूब को सुलझा कर यंगेस्ट क्यूब सॉल्वर बन गई हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि दिविशा ने यह रिकॉर्ड केवल 5 मिनट में बनाया है. इंडियन क्यूब एसोसिएशन के मुताबिक इससे पहले जिस बच्चे ने रिकॉर्ड बनाया था उसने लगभग 3 घंटे का समय लिया था लेकिन दिविशा ने मात्र पांच मिनट में कैसा कर सबको हैरान कर दिया है.

Advertisement

दिविशा की मां आरती बताती हैं कि उन्हें खुद को क्यूब सॉल्व करने का पहले से ही शौक था. वह चाहती थीं कि उनकी बेटी शुरुआत से ही शार्प रहे इसलिए उन्होंने उसे 2 साल की उम्र से ही पढ़ाई के बेसिक सिखाना शुरू कर दिया था. आरती बताती हैं कि 1 दिन पढ़ते-पढ़ते दिविशा ने जब क्यूब को टटोला तब उसकी रुचि बढ़ती गई. बस इसी के बाद दिविशा की मां को ख्याल आया कि वह अपनी बेटी को भी क्यूब सॉल्विंग के गुर सिखाएंगी. वे बताती हैं कि उन्होंने महज 40 दिन में इसे क्यूब सिखाया और आज परिणाम आपके सामने हैं.

दिविशा के पिता विशाल भंसाली बताते हैं कि यह क्यूब सॉल्व करना कोई आम बात नहीं है. इसमें 20 मैथमेटिकल कैलकुलेशंस लगते हैं. इसीलिए किसी आम इंसान के लिए इसे 5 मिनट में सॉल्व कर देना बेहद कठिन है. विशाल बताते हैं कि उन्हें अपनी बेटी पर बहुत गर्व है कि उन्होंने सबसे कम समय में इतनी कम उम्र में यह रिकॉर्ड अपने नाम पर दर्ज करवाया है.

Advertisement

Source : Aaj Tak

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading

VIRAL

रक्षाबंधन पर अनोखी तस्वीर, बहन ने शहीद भाई की प्रतिमा पर राखी बांधी

Published

on

राजस्थान में भाई की कलाई पर राखी बांधती एक बहन की तस्वीर वायरल हो गई. दरअसल बहन ने देश के लिए शहीद होने वाले अपने भाई को राखी बांधी थी, जिसे वेदांत बिड़ला ने सोशल मीडिया पर शेयर की, जिसके बाद ये फोटो वायरल हो गई.

वेदांत बिड़ला ने लिंक्डइन पर शहीद भाई को राखी बांधने की फोटो एक पोस्ट के साथ शेयर की थी. लेकिन, भाई कोई जवाब नहीं देता. राजस्थान में लगी ये मूर्ति शहीद गणपत राम कदवास की मूर्ति है, जो एक बहादुर थे, जिन्होंने जम्मू और कश्मीर में दुश्मनों से लड़ते हुए अपनी जान दे दी. वेदांत बिड़ला ने लिखा कि शहीद भाई की प्रतिमा की कलाई राखी बांधते हुए और रक्षा के सार का सम्मान करते हुए देखा जा सकता है.

Advertisement

जोधपुर के खुदियाला में लगी है मूर्ति

बिड़ला ने लिखा, “यह वही है जो भारत को अविश्वसनीय बनाता है. दुख और गर्व का क्षण. भाई को खोने का दुख और गर्व है कि उन्होंने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया. वह रक्षा बंधन के रूप में भावनात्मक अशांति से गुजर रही होगी, वह अपने भाई की कलाई पर राखी नहीं बांध पाएगी. इसलिए वह इसे उनकी मूर्ति पर बांधती है. शहीद गणपत राम कदवासरा जोधपुर के ओसियां इलाके के खुदियाला गांव के रहने वाले थे. वह जाट रेजीमेंट से थे. गणपत राम 24 सितंबर 2017 को जम्मू-कश्मीर में दुश्मनों से लड़ते हुए शहीद हो गए.”

Advertisement

800 किमी से आती है बहन

उनकी पोस्ट ने कई लोगों के दिल को छुआ. देश को बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डालने के लिए सेना के जवानों को धन्यवाद दिया. ऐसे ही राजस्थान के फतेहपुर में एक बहन अपने शहीद भाई की प्रतिमा को राखी बांधने के लिए 800 किमी की यात्रा करके हर साल आती है. शहीद भाई धर्मवीर सिंह शेखावत की प्रतिमा को राखी बांधने के लिए उसकी बहन उषा कंवर अहमदाबाद से इतना लंबा सफर करती है. बता दें की धर्मवीर सिंह कश्मीर के लाल चौक में तैनात थे, जहां साल 2005 में हुए आंतकी हमले में वो शहीद हो गए थे.

Advertisement

Source : Aaj Tak

nps-builders

Genius-Classes

Advertisement
Continue Reading
INDIA2 mins ago

लाल किले पर देश ने बनाया नया रिकॉर्ड, पहली बार मेड इन इंडिया तोप ने दी सलामी

BIHAR18 mins ago

मुजफ्फरपुर में तैनात दो पुलिस पदाधिकारी को राष्ट्रपति पुलिस मेडल सम्मान

INDIA19 hours ago

मूसेवाला के पिता बोले- मेरे बेटे की हत्या के पीछे कुछ सिंगर और सफेदपोश, जल्द करूंगा खुलासा

INDIA20 hours ago

तलाक पर कोर्ट में समझौता, बाहर निकलते ही पत्नी की गला रेतकर हत्या की, बच्ची पर भी किया हमला

BIHAR20 hours ago

पत्नी को गैर की बाहों में देखा तो पति ने कर दी हत्या, लिखा- इसका यही अंजाम होता है

BIHAR20 hours ago

समस्तीपुर : पिस्टल से केक काटा, ड्रोन से खिंचाई फोटो,गर्लफ्रेंड से रिश्ता टूटने पर मनी ब्रेकअप पार्टी

INDIA22 hours ago

असम के मुख्यमंत्री ने आमिर खान से राज्य का दौरा स्थगित करने का आग्रह किया

BIHAR22 hours ago

नीतीश कुमार ने भले तोड़ा हो भाजपा से गठबंधन, हरिवंश नहीं देंगे इस्तीफा; बने रहेंगे राज्यसभा के उपसभापति

MUZAFFARPUR1 day ago

महिला सिपाही कविता की गर्दन की हड्डी टूटी, गले पर गहरा निशान

INDIA1 day ago

शेयर मार्केट किंग राकेश झुनझुनवाला का निधन, 62 साल की उम्र में ली आखिरी सांस #RakeshJhunjhunwala

job-alert
BIHAR2 weeks ago

बिहार: मैट्रिक व इंटर पास महिलाएं हो जाएं तैयार, जल्द होगी 30 हजार कोऑर्डिनेटर की बहाली

BIHAR4 weeks ago

बिहार में तेल कंपनियों ने जारी की पेट्रोल-डीजल की नई दरें

BIHAR2 weeks ago

बीपीएससी 66वीं रिजल्ट : वैशाली के सुधीर बने टॉपर ; टॉप 10 में मुजफ्फरपुर के आयुष भी शामिल

BIHAR1 week ago

एक साल में चार नौकरी, फिर शादी के 30वें दिन ही BPSC क्लियर कर गई बहू

BUSINESS2 weeks ago

पैसों की जरूरत हो तो लोन की जगह लें ये सुविधा; होगा बड़ा फायदा

BIHAR1 week ago

ग्राहक बन रेड लाइट एरिया में पहुंची पुलिस, मिली कॉलेज की लड़किया

BIHAR4 weeks ago

बिहार : अब शिकायत करें, 3 से 30 दिनों के भीतर सड़क की मरम्मत हाेगी

INDIA2 weeks ago

बुढ़ापे का सहारा है यह योजना, हर दिन लगाएं बस 50 रुपये और जुटाएं ₹35 लाख फंड

BIHAR2 weeks ago

बीपीएससी 66 वीं के रिजल्ट में परफेक्शन आईएएस के 131 अभ्यर्थी सफल..

BIHAR4 weeks ago

सात समुंदर पार कर इंग्लैंड से सुल्तानगंज गंगा घाट पहुंची भोलेनाथ की दीवानी रेबेका

Trending